Sponser

Search

Winter Clothing

Wednesday, January 31, 2018

धीरे चाल से निकट लाइन चल की ड्रिल करवाई

पिछले पोस्ट में हमने "धीरे चाल से खुली लाइन चल " की ड्रिल करवाई के बारे में जानकारी प्राप्त की थी ! इस पोस्ट में हम "धीरे  चाल से   निकट लाइन चल (Dhire chaal se nikat line chal)" के ड्रिल करवाई के बारेमे जानकारी प्राप्त करेंगे !


इस पोस्ट को अच्छी तरह से समझने के लिए हमने हमने इस पोस्ट  को निम्न भागो में बाँट दिया है !
जरुर पढ़े: धीरे कदम ताल , थम और आगे बढ़ की ड्रिल की करवाई करने का तरीका !


  1. धीरे चाल से  निकट लाइन की जरुरत  (Dhire chaal se  nikat line ki jarurat)
  2. धीरे चाल से  निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड (Dhire chaal se  nikat line ki word of command)
  3. धीरे चाल से खुली लाइन और निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Dhire chaal se  nikat line ki word of command par karwai)
1. धीरे चाल से खुली लाइन और निकट लाइन की जरुरत  (Dhire chaal se  nikat line ki jarurat): जब बड़ी बड़ी परेड धीरे चाल से निकट कलम में मंच से गुजरती है तो पॉइंट ई  पर निकट  लाइन की करवाई करती है !
जरुर पढ़े: गार्ड मौन्टिंग का ड्रिल भाग -I
2.धीरे चाल से खुली लाइन और निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड (Dhire chaal se  nikat line ki word of command):जब वर्ड ऑफ़ कमांड सामने से धीरे चल बढ़ो स्क्वाड निकट  लाइन चल , चेक अप बाएँ स्टाम्प शूट बढ़ो थम एक दो ! जैसे थे !

जरुर पढ़े: गार्ड मौंटिंग ड्रिल  भाग -II
3.धीरे चाल से  निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Dhire chaal se  nikat line ki word of command par karwai):यह करवाई भी ठीक खुली लाइन चल की तरह ही होती है  जैसे हम धीरे चल से खुली लाइन की करवाई करते है !धीरे चाल से वर्ड ऑफ़ कमांड मिलता है स्क्वाड निकट  लाइन चल  , यह वर्ड ऑफ़ कमांड उस समय मिलता है जब की दाहिना पांव , बाएँ पांव को क्रॉस कर रहा हो  या बाएँ पांव जमीं पर हो तो इस वर्ड ऑफ़ कमांड पर दाहिने पांव को 30 इंच आगे लाकर और बाएँ पांव से कदम ताल शुरू करें करे! मध्य लाइन दो कदम ताल करके बाएँ पांव से धीरे चल की करवाई करती है और अगली लाइन  चार कदम ताल कर के  धीरे चाल की करवाई करती है ! पिछली  लाइन लगातार मार्च करती रहते है !

जरुर पढ़े: ड्रिल के उद्देश्य और फायदे
इस प्रकार से धीरे चाल से निकट  लाइन की ड्रिल करवाई करते है ! उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉगको सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें भी पढ़े :
  1. पुलिस फाॅर्स में सिविल ड्रेस के बारे गाइड लाइन है?
  2. राइफल ड्रिल में लगा संगीन और उतार संक की जरुरत और करवाई
  3. राइफल ड्रिल में सावधान की करवाई और वर्ड ऑफ़ कमांड
  4. राइफल के साथ विश्राम कैसे होते है ? और उसका कमांड यवम करवाई 
  5. राइफल ड्रिल समतोल शास्त्र और बाजु शास्त्र तथा उस पोजीशन में देखने वाली बाते
  6. राइफल के साथ बगल शास्त्र और बगल शास्त्र में देखनेवाली बाते
  7. राइफल ड्रिल बगल शास्त्र से बाजु शस्त्र की करवाई तथा पोजीशन में देखनेवाली बाते
  8. सलामी श्स्त्रकी करवाई और सलामी शास्त्र पोजीशन में देखनेवाली बाते
  9. सलामी शास्त्र से बाजु शास्त्र की करवाई तथा बाजु शास्त्र पोजीशन में देखने वाली बाते
  10. भूमि शास्त्र की करवाई और भूमि शास्त्र पोजीशन में देखनेवाली बाते



Monday, January 29, 2018

धीरे चाल से खुली लाइन चल की ड्रिल करवाई

पिछले पोस्ट में हमने "तेज चाल से धीरे चाल में आ " की ड्रिल करवाई के बारे में जानकारी प्राप्त की थी ! इस पोस्ट में हम "धीरे  चाल से  खुली लाइन  चल " के ड्रिल करवाई के बारेमे जानकारी प्राप्त करेंगे !


इस पोस्ट को अच्छी तरह से समझने के लिए हमने इस पोस्ट  को निम्न भागो में बाँट दिया है !

जरुर पढ़े: 4 स्टेप्स के तेज चाल से दाहिने मुड करवाई पूरा करना
  1. धीरे चाल से खुली लाइन की जरुरत  (Dhire chaal se khuli line  ki jarurat)
  2. धीरे चाल से खुली लाइन और निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड (Dhire chaal se khuli line  ki word of command)
  3. धीरे चाल से खुली लाइन और निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Dhire chaal se khuli line  ki word of command par karwai)



1. धीरे चाल से खुली लाइन  की जरुरत  (Dhire chaal se khuli line  ki jarurat): जब बड़ी बड़ी परेड धीरे चाल से निकट कलम में मंच से गुजरती है तो पॉइंट बी पर खुली लाइन की करवाई करती है !

2.धीरे चाल से खुली लाइन और निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड (Dhire chaal se khuli line  ki word of command):जब वर्ड ऑफ़ कमांड सामने से धीरे चल बढ़ो स्क्वाड खुली लाइन चेक अप बाएँ स्टाम्प शूट बढ़ो थम एक दो ! जैसे थे !


जरुर पढ़े:5 स्टेप्स में तेज चाल से पीछे मुड की पूरी करवाई

3.धीरे चाल से खुली लाइन और निकट लाइन की वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Dhire chaal se khuli line  ki word of command par karwai):धीरे चाल से वर्ड ऑफ़ कमांड मिलता है स्क्वाड खुली लाइन , यह वर्ड ऑफ़ कमांड उस समय मिलता है जब की दाहिना पांव , बाएँ पांव को क्रॉस कर रहा हो  या बाएँ पांव जमीं पर हो तो इस वर्ड ऑफ़ कमांड पर दाहिने पांव को 30 इंच आगे लाकर और बाएँ पांव से कदम ताल शुरू करें करे! मध्य लाइन दो कदम ताल करके बाएँ पांव से धीरे चल की करवाई करती है और पिछली लाइन चार कदम ताल कर के  धीरे चाल की करवाई करती है ! अगली लाइन लगातार मार्च करती रहते है !


जरुर पढ़े:खड़े खड़े सलूट का तरीका और जरुरत

इस प्रकार से धीरे चाल से खुली लाइन की ड्रिल करवाई करते है ! उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉगको सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें भी पढ़े :

  1. 2 स्टेप्स में खड़े खड़े दाहिने सलूट की करवाई की तरीके
  2.  2 स्टेप्स में खड़े खड़े बाएँ सलूट की करवाई का तरीका
  3. विशार्जन , लाइन तोड़, और स्वस्थान का ड्रिल करवाई
  4. धीरे चाल से सामने सलूट की जरुरत और करवाई
  5. 4 स्टेप्स में धीरे चल से दाहिने दाहिने सलूट की करवाई और जरुरत
  6. 4 स्टेप्स में धीरे चल से बाएँ सलूट के ड्रिल और कमांड
  7. "परेड पर(getting on parade) " जरुरत और करवाई
  8. परेड मार्च पास्ट का कमांड और मार्च पास्ट परेड करने का तरीका
  9. 7 स्टेप्स में पत्र के साथ सामने सलूट की पूरी करवाई करने का तरीका



Sunday, January 21, 2018

नम्बर 77 ग्रेनेड के बेसिक डाटा तथा उसका इस्तेमाल

पिछले पोस्ट में हमने ग्लोक पिस्टल के बारे में जनकारी प्राप्त किये इस पोस्ट में हम नम्बर -77 ग्रेनेड के बारे में जानकारी प्राप्त करेगे और नम्बर 77 ग्रेनेड के बेसिक डाटा तथा उसके इस्तेमाल(No-77 Grenade ke Basic data aur No 77 grenade ka use ) के बारे में जानेगे !


इस पोस्ट को अच्छी तरह से समझने के लिए हमने हमने इस पोस्ट  को निम्न भागो में बाँट दिया है !
  1. नम्बर 77 ग्रेनेड का इतिहास और इस्तेमाल (No-77 Grenade ka history aur use)
  2. नम्बर 77 ग्रेनेड का बेसिक डाटा(No 77 grenade ka basic data ) 
जरुर पढ़े: ग्रेनेड के हमला से बचाव और ग्रेनेड फेकने का तरीका !

1. नम्बर 77 ग्रेनेड का इतिहास और इस्तेमाल (No-77 Grenade ka history aur use): नम्बर 77 ग्रेनेड का इस्तेमाल  1943 के शुरू के दिनों में सुरु हुवा ! यह एक  छोटा सा सफ़ेद फास्फोरस का डिबिया था जिसे सुरु सुरु में यह सोच कर बनाया गया की इस का इस्तेमाल सिग्नल और धुवा का स्क्रीन बनाने में किया जायेगा ! लेकिंन  दुसरे सफ़ेद फास्फोरस के ग्रेनेड  की तरह इसका भी इस्तेमाल एंटी पर्सनल इन्सेनडरी वेपन की तरह होने लगा !

जरुर पढ़े: नॉ-36 ग्रेनेड का खोलना जोड़ना और ग्रेनेड की चाल

यह ग्रेनेड में 8 औंस सफ़ेद फास्फोरस भरा हुवा रहता है एक इम्पैक्ट फूयुज के साथ ! जब इसको फेका जाता है और इम्पैक्ट के कारन यह ग्रेनेड फट जाता है और जैसे ही सफ़ेद फास्फोरस हवा के के संपर्क पे आता है इसमें आग लग जाता है ! और इसके संपर्क में जो भी जलने वाली वास्तु या मानव आता है उसको यह जला देता है !

जरुर पढ़े: ट्यूब लौन्चिंग MK-I का बेसिक डाटा और विशेषताए

इस ग्रेनेड को ज्यदा दिनों तक रखने में काफी खतरा रहता है और डर रहता है की इसका कंटेनर ज्यदा दिनों तक रखने से जंग लग कर ख़राब हो जायेगा और और जैसे हो सफ़ेद फोस्फोरस हवा के संपर्क में आएगा तो आग लग जायेगा ! इस ग्रेनेड को 1948 बनाना बंद कर दिया गया ! 

2. नम्बर 77 ग्रेनेड का बेसिक डाटा(No 77 grenade ka basic data ) 
 नम्बर 77 ग्रेनेड का कुछ बेसिक डाटा इसप्रकार है :

  • नम्बर 77 ग्रेनेड का वजन :- 1/4 पौंड या .4 kg.
  • नम्बर 77 ग्रेनेड कितनी देर तक धुवा  देता है :-30 सेकंड 
  • नम्बर 77 ग्रेनेड में कौन सा बारूद होता है :- सफ़ेद फास्फोरस 
  • नम्बर 77 ग्रेनेड का रंग कैसा होता है :- हरा रंग 
  • नम्बर 77 ग्रेनेड का खतरनाक इलाका कितना होता है :-15 गज 
  • नम्बर 77 ग्रेनेड में कौन सा डेटोनेटर इस्तिमाल होता :-नॉ.63
  • नम्बर 77 ग्रेनेड का एक बॉक्स में कितने आते है :-34 ग्रेनेड 
  • नम्बर 77 ग्रेनेड को कैसे बर्बाद किया जाता है :- 2 राइफल से फायर करके या लम्बे बांस से हिलाकर!  

इस प्रकार से यहाँ नम्बर -77 ग्रेनेड से सम्बंधित एक संक्षिप्त पोस्ट समाप्त हुई ! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगाअगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे !इस पेज सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे!
इसे भी पढ़े:





Saturday, January 20, 2018

धीरे चाल से तेज चाल में आ फुट ड्रिल की करवाई

पिछले पोस्ट में हमने  तेज चाल से धीरे चाल में आ   के  बारे में जानकारी  प्राप्त की ! और इस पोस्ट में हम जानेगे ड्रिल की एक और सबक  और करवाई के बारे में जानेगे  है "धीरे  चाल से तेज  चाल में आ "!


इस पोस्ट को अच्छी तरह से समझने के लिए हमने हमने इस पोस्ट  को निम्न भागो में बाँट दिया है !
  1. धीरे चाल से तेज  चाल की जरुरत (Dhire chaal se tej chaal ki jarurat)
  2. धीरे चाल से तेज  चाल की वर्ड ऑफ़ कमांड (Dhire chaal se tej chaal ki word of command)
  3. धीरे चाल से तेज  चाल की वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Dhire chaal se tej chaal ki word of command par karwai)

1. धीरे चाल से तेज  चाल की जरुरत (Dhire chaal se tej chaal ki jarurat):जब शमशान भूमि दूर हो ओ फायरिंग टोली डेड बॉडी के आगे धीरे चाल से तेज चाल मा आती है और इसके अलावा इंस्पेक्शन ख़त्म होने के बाद वी आई पी के आगे चलना वाला पायलट धीरे चाल से तेज चाल में आते है !

2. धीरे चाल से तेज  चाल की वर्ड ऑफ़ कमांड (Dhire chaal se tej chaal ki word of command):वर्ड ऑफ़ कमांड सामने से धीरे चल बढ़ो , स्क्वाड धीरे चाल  से तेज चाल में आ , तेज चल, बढ़ो स्क्वाड थम खाली  एक दो ! जैसे थे !

3.धीरे चाल से तेज  चाल की वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Dhire chaal se tej chaal ki word of command par karwai): धीरे चाल से वर्ड ऑफ़ कमांड मिलता है स्क्वाड तेज चल में आ तेज चल , यह वर्ड ऑफ़ कमांड उस समय मिलता है जब दाहिना पांव जमींन पर हो या बाएँ पांव दाहिने पांव को क्रॉस कर रहा हो ! बाएँ पांव से तेज चल की करवाई करे !

इस प्रकार से यह धीरे चाल से तेज  चाल में बदली से सम्बंधित फूट ड्रिल का एक सबक पूरा हुवा !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !

इन्हें भी  पढ़े :

  1. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  2. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  3. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम
  4. खुली लाइन और निकट लाइन चल
  5. परेड ड्रिल में आगे और पीछे कदम लेना !
  6. पुलिस यूनिफार्म और उसका इतिहास
  7. पुलिस यूनिफार्म पहनते समय देखनेवाली बातें
  8. सलूट की महत्व और सलूट कैसे कब करने का तरीका
  9. एक लाइन, दो लाइन और तीन लाइन कब और कैसे बनाया जाता है
  10. 222 इंग्लिश - हिंदी परेड कमांड का संकलन 
  11. फासला रखते हुए दाहिने, बाएँ और मध्य सज की करवाई
  12. 4 स्टेप्स के तेज चाल से दाहिने मुड करवाई पूरा करना



Friday, January 19, 2018

तेज चाल से धीरे चाल की फूट ड्रिल

पिछले पोस्ट में हमने  ड्रिल के खड़े खड़े दाहिने बाये सलूट  के  बारे में जानकारी  प्राप्त की ! और इस पोस्ट में हम जानेगे ड्रिल की एक और सबक  और करवाई के बारे में जानेगे  है "तेज चाल से धीरे चाल में आ "


इस पोस्ट को अच्छी तरह से समझने के लिए हमने हमने इस इपोस्त को निम्न भागो में बाँट दिया है !
  1. तेज चाल से धीरे चाल की जरुरत (Tej chaal se dhire chaal ki jarurat)
  2. तेज चाल से धीरे चाल की वर्ड ऑफ़ कमांड (Tej chaal se dhire chaal ki word of command)
  3. तेज चाल से धीरे चाल वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Tej chaal se dhire chaal ki word of command par karwai)

 1.तेज चाल से धीरे चाल की जरुरत (Tej chaal se dhire chaal ki jarurat): इस ड्रिल की जरुरत निम्न अवसर पर पड़ती है :
  • जब शमशान भूमि दूर हो तो फायरिंग टोली डेड बॉडी के आगे तेज चाल से मार्च करती है और जब शमशान भूमि 300 गज दूर रह जाती है तो फायरिंग टोली तेज चाल से धीरे चाल की करवाई करती है !
  • वी आई पी के आगे पायलट इंस्पेक्शन लाइन पर आते ही तेज चाल से धीरे चाल में आते है !
  • ऑफिसर्स के पासिंग आउट परेड में भी मार्चिंग दस्ता जब मंच से गुजरता है तो तेज चाल से धीरे चाल की करवाई करता है 
2.तेज चाल से धीरे चाल की वर्ड ऑफ़ कमांड (Tej chaal se dhire chaal ki word of command):वर्ड ऑफ़ कमांड सामने से तेज चल बढ़ो , स्क्वाड गिनती से तेज चाल से धीरे चाल में आ , धीरे चल एक-एक , स्क्वाड दो-दो , स्क्वाड तीन तीन , स्क्वाड चार बढ़ो थम एक-दो जैसे थे !


3. तेज चाल से धीरे चाल वर्ड ऑफ़ कमांड पर करवाई !(Tej chaal se dhire chaal ki word of command par karwai):वर्ड ऑफ़ कमांड मिलता है सामने से तेज चल बढ़ो , 
  • गिनती से तेज चाल से धीरे चाल में आ  धीरे चल एक -एक , इस पोजीशन में देखने वाली बाते दाहिना पांव जमीं पर , बदन का बोझ दाहिने पांव पर , बाएँ पांव का पंजा जमींन पर और एडी उठी हुई बाएँ बजे आगे दाहिना बाजु पीछे चलती हालत में !
  • वर्ड ऑफ़ कमांड मिलता है स्क्वाड दो तो दाहिना पांव का बूट का कटा हुवा भाग बाएँ पांव की एडी के पीछे लगाएं, बाजुओं को सावधान पोजीशन में ले जाएँ और साउटिंग करे स्क्वाड -दो , स्क्वाड दो की पोजीशन में देखने वाली बाते : बाएँ पांव के पीछे दाहिना पांव चलती हालत में लगा हुआ बाकि पोजीशन सावधान 
  • वर्ड ऑफ़ कमांड मिलता है स्क्वाड तीन तो बाएँ पांव को 15 इंच आगे ले जाएँ साउटिंग करे तीन ! स्क्वाड तीन ! इस पोजीशन में देखने वाली बातें :- बाएँ पांव 15 इंच आगे कदम तोल की हालत में पंजा जमीं की तरफ खिंचा हुवा , दाहिना पांव पूरा जमीन पर , बदन का बोझ दाहिने पांव पर बाकि पोजीशन सावधान !
  • वर्ड ऑफ़ कमांड मिलता है स्क्वाड चार तो बाएँ पांव से धीरे चाल की करवाई शुरू करें साउटिंग करे बढ़ो ! स्क्वाड चार बढ़ो थम एक -दो  

इस प्रकार से यह तेज चाल से धीरे चाल में बदली से सम्बंधित फूट ड्रिल का एक सबक पूरा हुवा !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें भी पढ़े :

  1. विशार्जन , लाइन तोड़, और स्वस्थान का ड्रिल करवाई
  2. धीरे चाल से सामने सलूट की जरुरत और करवाई
  3. 4 स्टेप्स में धीरे चल से दाहिने दाहिने सलूट की करवाई और जरुरत
  4. 4 स्टेप्स में धीरे चल से बाएँ सलूट के ड्रिल और कमांड
  5. "परेड पर(getting on parade) " जरुरत और करवाई
  6. परेड मार्च पास्ट का कमांड और मार्च पास्ट परेड करने का तरीका
  7. 7 स्टेप्स में पत्र के साथ सामने सलूट की पूरी करवाई करने का तरीका
  8. धीरे कदम ताल , थम और आगे बढ़ की ड्रिल की करवाई करने का तरीका !
  9. खड़े खड़े बाएँ स्क्वाड बना ड्रिल की कमांड और तरीका
  10. गार्ड मौन्टिंग का ड्रिल भाग -I

Tuesday, January 16, 2018

एक जवान के लिए दिशा का ज्ञान क्यों जरुरी है ?

पिछले पोस्ट में हमने मैप के स्केल के बारे में जाना! इस पोस्ट में हम जानेगे की एक जवान को दिशा के बारे में जानना क्यों जरुरी है (Map reading me disha ka jankari kyo jaruri hota ha?)और दिशा कितनी प्रकार की होती है ?


मैप रीडिंग की पहली सिखलाई ही दिशा के ज्ञान से शुरू होता है ! और एक जवान को दिशा की जानकारी की आवश्यकता  इस लिए पड़ती है की एक अच्छे सैनिक के व्यावहारिक जीवन में दिशाओ और दिग्रियो का प्रयोग सैनिक कौसल कहलाता है ! 

जरुर पढ़े :दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका

मैप रीडिंग क्यों जरुरी है ?(Map Reading kyo jaruri Hai?)

जिस प्रकार से एक आदमी का पहला पाठ एक बच्चा अपनी माँ के प्यार और बाप के दुलार से सीखता है उसी प्रकार एक सैनिक युद्ध क्षेत्र या की ऑपरेशन एरिया में विजय पाने के लिए पहला पथ मैप रीडिंग की सिखलाई में दिशाओ और दिग्रियो के ज्ञान से सीखता है !

जरुर पढ़े :मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व

इसलिए सैनिको  को दिशाओ का ज्ञान होना जरुरी है ! अगर लड़ाई के मैदान में कोई सैनिंक भटक जाय और उसको दिशाओ की ज्ञान न हो तो वह अपने स्थान पर पहुचने के बजे दुश्मन के क्षेत्र में भी पहुच सकता है ! अपनी पोजीशन निकालते वक्त मैप सेट करना पड़ता है ! मैप सेट करते वक्त उत्तर दिशा ज्ञात करने के लिए और दिशाओ का जानना भी जरुरी है ! इसी कारन से मैप रीडिंग के सिखलाई के लिए दिशा और दिग्रियो का जानना बहुत जरुरी होता है !

जरुर पढ़े :कंटूर रेखाए क्या है ? एक मैप की विश्वसनीयता और कमिया किन किन बाते पे निर्भर करती है ?

दिशा के प्रकार(Kinds of Directions) : सिखलाई के लिए दिशाओ के  3 प्रकार की होती है :
  1. बड़ी दिशाए (Cardinal Points)
  2. प्रमुख दिशाए (Intermediate Points)
  3. छोटी दिशाए :( sub Intermediate Points)

यहाँ से हम मैप रीडिंग का ज्ञान होना क्यों जरुरी है और दिशाए कितनी प्रकार की होती है उसके बारे में जानकारी प्राप्त किये !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें  भी  पढ़े : 
  1. 13 तरीके मैप सेट करने का !
  2. 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का
  3. 5 तरीको से मैप टू ग्राउंड और ग्राउंड टू माप जाने
  4. मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व
  5. मैप का परिभाषा , मैप का इतिहास और मैप का अव्श्काए
  6. मैप के प्रकार की विस्तृत जानकारी
  7. ट्रू नार्थ , ग्रिड नार्थ, मैग्नेटिक नार्थ का मतलब हिंदी में
  8. बैक बेअरिंग और फॉरवर्ड बेअरिंग में अंतर तथा ग्रिड लाइन का परिभाषा
  9. मैग्नेटिक वेरिएशन , लोकल वेरिएशन तथा एंगल ऑफ़ कन्वर्जेन्स का मतलब
  10. मैप रीडिंग में री सेक्शन , इंटर सेक्शन तथा ओरिएंटेशन का मतलब
  11. मास्टर मैप , मास्टर कंपास तथा तंगेंट क्या होता है !


Saturday, January 13, 2018

आई आर बी के लिखित परीक्षा का सभी पोस्ट का रिजल्ट यहाँ देखे

जब आई आर बटालियन लक्षद्वीप , दमन & दिउ, दादरा नगर हवेली का भर्ती निकला था तो उस समय उसका सिलेबस और फिजिकल टेस्ट के बारे में एक पोस्ट लिख था ! पिछले 27 और 28 जनवरी 2018 को जो आई आर बी का एग्जाम हुवा था उसका रिजल्ट आप निचे दिए गए लिंक पर आने वाले कुछ दिनों में देख सकते है !



www.daman.nic.in
www.lakshadweep.nic.in 

निचे दिए गए लिंक को भी क्लिक कर के एग्जाम अनसर की देख सकते है 

और मै ने सवाल पूछने वालो को बताया की आई आर बी परा मिलिट्री नहीं है बल्कि एक स्पेशल आर्म्ड पुलिस है जिसका डिप्लॉयमेंट या कह सकते है की काम करने का दायरा तीन केंद्र शासित प्रदेशो  जैसे की लक्षद्वीप , दमन & दिउ और दादरा नगर हवेली के अन्दर है ! इस बटालियन का मुख्यालय कवरत्ती जो की लक्षद्वीप का राजधानी है वहा पर स्थित है ! और सिलवासा में एक रियर प्रशाशनिक ऑफिस है जो दमन & दिउ  और दादरा नगर हवेली में डिप्लॉयड ट्रूप्स का देखरेख और वेतन भाता का वितरण करता है !

लेकिन इसकी भर्ती और ट्रेनिंग एक परा मिलिट्री फ़ोर्स की तरह से ही होता है और अभी तक जितने लोग इसमें भर्ती हुए है सभी का ट्रेनिंग सीमा सुरक्षा बल के द्वारा दी गई है ! आई आर बी के ऑफिसर की ट्रेनिंग सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर , जबकि जवानों का ट्रेनिंग सीमा सुरक्षा बल के ट्रेनिंग सेण्टर बंगुलुरु  और जयपुर में हुवा है ! और इसलिए इस बटालियन के जवान भी एक परा मिलिट्री  के तरह सभी हथियारों जैसे 7.62 mm एसएलआर और 5.56 mm इंसास(Master in INSAS Handling) को चलने और हैंडलिंग में मास्टर है ! तथा एक पैरामिलिटरी फ़ोर्स के तरफ फिजिकली फिट  है !

उम्मीद है की इस पोस्ट पढने के बाद आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा ! इस पोस्ट पे विजिट करते रहिये और अधिक जानकारी के लिए  ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !


Thursday, January 11, 2018

बनावट के आधार पर मैप का स्केल लाइन इतने रूप होते है?

पिछले पोस्ट में हमने मैप के ऊपर स्केल दर्शाने के विधि के बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में बनावट के आधार पे स्केल लाइन के रूप के बारे में जानकारी प्राप्त करेगे !


जैसे की हम जानते है की मैप या स्केच किसी इलाके का छोटे रूप में चित्र होता है ! जिस अनुपात से उसे छोटा किया  होता है उसी को हम मैप का स्केल कहते है !

जब तक की हमे स्केल के बारे में पूर्ण ज्ञान हासिल न हो जाये तब तक हम एक सफल मैप के बारे में जानकार नहीं हो सकते !

जरुर पढ़े : रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका

अगर एक जवान मैप रीडिंग और मैप के स्केल के बारे में सही जानकारी  रहता है और किसी आउट पोस्ट में ड्यूटी के दौरान उसके द्वारा दिए गए  दुश्मन का लोकेशन जो उसने अपनी मैप रीडिंग के ज्ञान के अनुसार दिया है  अगर उसने सही दुरी और बेअरिंग की जानकारी के साथ दुश्मन का लोकेशन बतात है तो सपोर्टिंग हथियारों का फायर आगे की अपनी  टुकारियो को काफी मदद दुशमन के ऊपर सटीक फायर डाल के देता है !

जरुर पढ़े :दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका

इस पोस्ट के पढने के बाद हम  जानेगे की बनावट के आधार पर स्केल लाइन के दो रूप कौन कौन से होते है?
इस पोस्ट में हम निम्न स्केल लाइनों के बारे में जानेगे  :

  1. पूरी विभाजन स्केल लाइन(Fully divided scale line)
  2. खुले रुपमे विभाजन स्केल लाइन (Open divided scale line)

1. पूरी विभाजन स्केल लाइन (Puri vibhajit scaleline kya hota hai ): 
Fully Divided scale line
Fully Divided scale line

इस प्रकार की रेखा विभाजन में पूरी रेखा को छोटे छोटे बराबर भागो में बाँट दिया जाता है और इस पर लिखी दुरी गिनती रेखा के बाएं कोने को छोटे  मानकर दाहिने को बढती है ! इस प्रकार की स्केल लाइन बनाने का परिचालन आजकल नहिके बराबर है क्योकि यह तो एक बनाना थोडा कठिन है और दूसरा इसको बनाने में समय ज्यादा लगता है ! तथा खुले रूप में बिभाजित स्केल लाइन से कोई ज्यादा उपयोगी भी नहीं रहता है !  

जरुर पढ़े :मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व

2.खुले रुपमे विभाजन स्केल लाइन(Open divided scale line kya hota hai) : 
Open Divided scale line
Open Divided scale line

इस तरीके से स्केल बनाने में  पूरी रेखा को पहले बराबर भागों में बाँट दिया जाता है , जिसे हम प्राइमरी डिवीज़न कहते है और उन प्राइमरी  डिवीज़न को बाद में बाये वाले प्रिमारी भाग की और छोटे बराबर भाग कर दिए जाते है जिनको हम सेकेंडरी डिवीज़न के नाम से जानते है ! 

जरुर पढ़े :कंटूर रेखाए क्या है ? एक मैप की विश्वसनीयता और कमिया किन किन बाते पे निर्भर करती है ?

सेकेंडरी डिवीज़न के बने भंगो की दुरी को अपने प्राइमरी डिवीज़न की गिनती की गिनती सेकेंडरी डिवीज़न  के दाहिने तरफ के निशान को जीरो मानकर दाहिने तरफ को  बढ़ाते है ! जैसे की याद रहे की प्राइमरी डिवीज़न की बाँट दस , सौ और हजारो की गिनती में तथा सेकेंडरी डिवीज़न की बाँट पांच , दस, पचास और पांच सौ की संख्या में की जाती है !
जरुर पढ़े :कंपास को सेट करना तथा इस्तेमाल करने का तरीका

इस प्रकार से हमने बनावट के आधार पे जाने की स्केल लाइन कितने प्रकार की होती है और यह भी  जाने की पूरी विभाजन स्केल लाइन आज कर न के बराबर केप्रिचालन में क्यों है !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें  भी  पढ़े : 
  1. 13 तरीके मैप सेट करने का !
  2. 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का
  3. 5 तरीको से मैप टू ग्राउंड और ग्राउंड टू माप जाने
  4. मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व
  5. मैप का परिभाषा , मैप का इतिहास और मैप का अव्श्काए
  6. मैप के प्रकार की विस्तृत जानकारी
  7. ट्रू नार्थ , ग्रिड नार्थ, मैग्नेटिक नार्थ का मतलब हिंदी में
  8. बैक बेअरिंग और फॉरवर्ड बेअरिंग में अंतर तथा ग्रिड लाइन का परिभाषा
  9. मैग्नेटिक वेरिएशन , लोकल वेरिएशन तथा एंगल ऑफ़ कन्वर्जेन्स का मतलब
  10. मैप रीडिंग में री सेक्शन , इंटर सेक्शन तथा ओरिएंटेशन का मतलब
  11. मास्टर मैप , मास्टर कंपास तथा तंगेंट क्या होता है !