Search

19 January 2021

वेरी लाइट पिस्टल 1" (VLP) का बेसिक जानकारी तथा उसका इस्तेमाल

पिछले  ब्लॉग  बरेटा टाइप  स्नाइपर  राइफल के बारे   में जानकारी प्राप्त की  अब इस पोस्ट में हम जानेगे वेरी  पिस्टल  के  जानकारी शेयर करेंगे ! वेरी  पिस्तौल के बारे में मेरे बहुत से ब्लॉग विसिटोर्स है उनका यह डिमांड था की मै वेरी पिस्तौल  जानकारी शेयर करू और उसी को ध्यान में रख कर आज मै  यहाँ पोस्ट लिख रहा हु !

इस पोस्ट में हम वेरी पिस्तौल समबन्धित निम्न जानकारिया प्राप्त करेंगे :

  1. वेरी लाइट   पिस्टल  का इतिहास (History of  Very  Pistol )
  2. वेरी लाइट  पिस्टल  का इस्तेमाल (Use of Very  Pistol)
  3. वेरी लाइट   पिस्टल   इस्तेमाल  होने वाले काट्रिज(Cartridge's  of Very  Pistol) 
  4. और वेरी लाइट  पिस्टल  बेसिक डाटा (Basic Data of Very  Pistol)

 1. वेरी  पिस्टल  का इतिहास (History of  Very  Pistol ):सिग्नल पिस्टल 1" और इसको वेरी लाइट पिस्टल भी कहते है ! वेरी पिस्टल का अविष्कार  अमेरिकन नेवी के लेफ्टिनेंट एडवर्ड डब्लू वेरी ने था और इसी कारन से इस   पिस्टल के  नाम में  वेरी शब्द   पड़ा !उन्होंने एक बड़ी कैलिबर की सिंगल शॉट पिस्टल जो की सिंगल एक्शन फायर मैकेनिज्म से ऑपरेट होने पिस्टल बनाया जिसका मेन उद्देश्य था स्पेशल फ्लारे को हवा में फायर करना !

यह गनइस प्रकार से बनाया गया था की इसका इस्तेमाल सिग्नल देने के लिए किया जाता है जब ओ किसी खतरे में हो और सहायता चाहते हो ओ फ्लारे या कलरफुल कार्ट्रिज फायर करते  जिसमे उनका पोजीशन और लोकेशन का पता लग सके ! इस पिस्टल का इस्तेमाल दोनों विश्व युद्ध के दौरान खूब हुवा ! फौजी इस्तेमाल में इस पिस्टल को VLP बोलते है !यह भारत में दो जगह पे बनता है एक जालंधर तथा दूसरा अहमदाबाद !

Very Light pistol-VLP
Very Light pistol-VLP

2.वेरी पिस्टल का इस्तेमाल (Use of very pistol ): इस पिस्टल को सैनिंक और सिविलिन आर्गेनाईजेशन दोनों उसे करती है ! इस पिस्टल को र्आम्मड फ़ोर्स में  आमतौर पर रात में फील्ड सिग्नल देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है ! जो की फील्ड में डिप्लॉयड ट्रूप्स को मेसेज पास करने के लिए किया जाता है !वही कोई पानी का जहाज डिस्ट्रेस में होता है तो ओ भी इस पिस्टल का इस्तेमाल डिस्ट्रेस सिग्नल देने के लिए इस पिस्टल का इस्तेमाल करता है ! इस पिस्टल का इस्तेमाल कुछ डिफेन्स के एअरपोर्ट पे भी होता है जिससे सिग्नल फेलियर के समय हवाई जहाज को पहले से मुकरर किये गए कलर का र्कोट्रिज  फायर करे के सिग्नल देते है ! इस पिस्टल से  कार्ट्रिज फायर कर उल्लास भी मनाया जाता है डिफेन्स के विशेष फंक्शन में इस पिस्टल से कार्ट्रिज फायर कर के उल्लास भी मनाया जाता है !

3. वेरी पिस्टल   इस्तेमाल  होने वाले काट्रिज(Cartridge's  of Very  Pistol) :सिग्नल पिस्टल 1" में निम्नलिखित कार्ट्रिजइस्तेमाल होते है :

क्र.स.

किस्मे

वजन

लम्बाई

1

सफ़ेद कार्ट्रिज (White)

60 ग्राम

3.82”(97.6 mm)

2

हरा कार्ट्रिज (Green)

56 ग्राम

2.75”(69.9 mm)

3

लाल कार्ट्रिज(Red)

54 ग्राम

2.72”(69 mm )


4.और वेरी लाइट  पिस्टल  बेसिक डाटा (Basic Data of Very light Pistol): इस पिस्टल से सम्बन्धी कुछ बेसिक जानकारी इस प्रकार से है :
  • पिस्टल का पूरा नाम : सिग्नल पिस्टल 1" और इसे बेरी लाइट पिस्टल (Very Light Pistol-VLP) भी कहा जाता है !
  • जालंधर में बनी पिस्टल का पहचान : इसकी बॉडी पे JU लिखा रहता है !
  • अहमदाबाद में बनी पिस्टल का पहचान : इसकी बॉडी पर GUJ लिखा रहता है !
  • इस पिस्टल का कैलिबर कितना होता है : 1.095" या 27.81 mm 
  • सिग्नल पिस्टल 1" का वजन और लम्बाई कितना होता है :- वजन 1 पौंड 13 औंस या .822 किलोग्राम और लम्बाई 9.75" या 247.65 mm होता है !
  • इसका रोशनी देने का समय : 9 सेकंड से 14 सेकंड तक होता है !
संक्षेप्त :यह फ्लारे गन दोनों वर्ल्ड वार में खूब इस्तेमाल हुवा जो वर्ल्ड वर के दौरान गन इस्तेमाल हुवा उसका बोर 1 इंच हुवा करता था जो की पूरी तरह से मेटल का बना हुवा होता था लेकिंन अब कुछ मॉडर्न किस्म के भी फ्लारे गन आ गए है जो की साइज़ में थोड़े छोटे है 12 गेज (18.53 mm) डायमीटर जो नया वर्शन है ओ ज्यादातर चमकीले कलर प्लास्टिक के बने होते है जो की रत के अँधेरे में आसानी से ढूंढाजा सके !


ऐसे तो इस फ्लारे गन की इस्तेमाल एक वेपन की तरह तो नहीं किया जा सकता है लेकिन कुछ किताबो में ऐसे भी लेख मिलते है जिसमे बताया गया होता है की वर्ल्ड वार-2 के दौरान गेर्मों पायलट गलती से वेल्स के एयरफील्ड पे उतर गए थे और उन्हें बंदी बनालिया गया तो उन्होंने वेरी पिस्टल का इस्तेमाल किया था अपने को बाचने के लिए !ऐसा भी लेख मिलता है की अमेरिकल सबमरीन क्रू और जेर्मन सबमरीन क्रू के बिच भी जब हैण्ड तो हैण्ड फाइट हुवा तो उनलोगों ने भी वेरी पिस्टल का इस्तेमाल किया !


इस प्रकार सेर यहाँ VLP या वेरी लाइट पिस्टल  की बेसिक जानकारी से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुवा !उम्मीद है की यह छोटा पोस्ट आप को पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट होतो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग  को सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित !

इसे भी पढ़े : 
  1. SSG-69 राइफल को भरना और खाली करने का तरीका
  2. SSG-69 राइफल को रेडी, मेक सेफ और खाली कर का तरीक...
  3. 7.62 mm MMG के माउंट ट्राई पोड की करवाई के समय ध्...
  4. 7.62 mm MMG के फायर आर्डर का क्रम और वक्फा के दौरा
  5. 7.62 mm MMG के टारगेट का नाम और MMG में पडनेवाले र...
  6. 7.62 mm MMG को फायर के लिए तैयार करते समय ध्यान मे...
  7. 6 महत्वपूर्ण बाते 84 mm मोर्टार के बारे में
  8. 5 जरुर जाननेवाली बाते 81 mm मोर्टार के बारे में ?...
  9. 81 mm मोर्टार के 10 छोटी छोटी बेसिक बाते
  10. 5 मुख्य बाते 81 mm मोर्टार के फायर कण्ट्रोल से सम




11 January 2021

टोपोग्राफिकल फॉर्म्स | टेकरी क्या होता है ?| NCC कैडेट के लिए भी उपयोगी

 पिछले ब्लॉग पोस्ट में हमने कुछ टोपोग्राफिकल टर्म्स जैसे सैडल क्या होता है और उसे मैप पे कैसे दिखाया जाता है उसके बारे में जेकरि शेयर की और आज के इस पोस्ट में हम उसी शृंखला को आगे बढ़ाते हुए  हुए जानेगे की टेकरी और डिवाइड क्या होता है और उसे मैप पर कैसे दिखया जाता है ! 

इस  ब्लॉग पोस्ट को पढ़ने के बाद आप निम्न टोपोग्राफिकल फॉर्म के बारे में पूरी तरह से वाकिफ हो जायेगे ! जो की निचे दी हुई है :

1. टेकरी या नॉल क्या होता है और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है ?

2. डिवाइड क्या होता है ?

3. जल विभाजक या वाटर शेड क्या होता है ?

4. जल प्रवाह मार्ग या वाटर सोर्स क्या होता है ?

5. डिफायल क्या होता है ?

इसे  भी पढ़े :अपना खुद का लोकेशन मैप पे जानना और नार्थ पता करने के तरीके

 टेकरी या नोल (Knoll): वह अकेली पहाड़ी नोल कहलाती है जिसका किसी पहाड़ी सिलसिले से कोई सम्बन्ध नहीं होता है ! इसकी कंटूर रेखाए गोल होती है और ऊंचाई कम होने से आमतौर पर एक ही कंटूर से दिखाई जाती है ! इस मैप के ऊपर निम्न तरीके से दिखाया जाता है :

Tekari 
2.   डिवाइड(Divide):-लंबी और ऊंची पर्वत श्रेणी कि उस  ऊँची उठी  पीठ को डिवाइड कहते हैं जहां से पानी दो अलग-अलग दिशाओं को बहने लगता है।

 जल विभाजक या वाटर सेड(Water Shed):-जब किसी पर्वत श्रेणी का ऊंचा भाग जो जल प्रवाहो को अलग करें उसे जल विभाजक या वाटर सेड कहते हैं। यह जरूरी नहीं कि वाटर शेड के लिए पर्वतीय श्रृंखला का सबसे ऊंचा भाग हो। इसे मैप पर निम्न प्रकार से दिखाते है !

Water Shed 

4. जल प्रवाह मार्ग या वाटर कोर्स(Water Course):-किसी इलाके में सबसे नीची जगह जल प्रवाह मार्ग कहलाती है जहां से होकर उस इलाके का पानी बहता  है। यह  सुखा भी हो सकता है और पानी से भरा भी हो सकता है!

 5. डिफायल(Defile) : किसी रास्ते के उस तंग भाग को डिफायल कहते है जिससे पार  होने के लिए सेना को अपनी फॉरमेशन छोटी करनी पड़े. डिफायल कुदरती वह बनावटी दोनों होती है:-
  • कुदरती पहाड़ियों के तंग रास्ते या दर्रा घने जंगल आदि  
  • बनावटी पूल सुरंग आदि

इस प्रकार से टोपोग्राफिकल फॉर्म जैसे टेकरी , डिवाइड आदि  से सम्बंधित या ब्लॉक पोस्ट समाप्त हुआ और उम्मीद है कि यह आप लोगों को लिए उपयोगी साबित होगा। अगर यह मेरा ब्लॉक ब्लॉक पोस्ट आपको पसंद आया हो तो मेरे ब्लॉक को शेयर और सब्सक्राइब करें और अगर कोई सुझाव मेरे ब्लॉक पोस्ट के बारे में हो तो नीचे के कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पर लाइक करें और हम लोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित करें।

इन्हे भी पढ़े :
  1. मैप रीडिंग की अवाश्काताये तथा मैप का परिभाषा
  2. 15 जरुरी पॉइंट्स मैप को सही पढने के लिए
  3. मैप कितने प्रकार के होते है ?
  4. कंपास को सेट करना तथा इस्तेमाल करने का तरीका
  5. कंटूर रेखाए क्या है ? एक मैप की विश्वसनीयता और कमिया किन किन बाते पे निर्भर करती है ?
  6. मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व
  7. दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका
  8. कन्वेंशनल सिग्न ,कन्वेंशनल सिग्न के प्रकार , कन्वेंशनल सिग्न बनाने का तरीका
  9. रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका
  10. सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा और सर्विस प्रोटेक्टर का प्रकार
  11. सर्विस प्रोटेक्टर का उपयोग और सर्विस प्रोटेक्टर से बेक बेअरिंग पढने का तरीका

03 January 2021

सैंडल किसे कहते हैं और मैप पर कैसे दिखाते हैं?Saddle kise kahte hai aur use map par kaise dikhya jata hai?

पिछले ब्लॉक पोस्ट में हमने रिज किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है उसके बारे में जानकारी प्राप्त की और अब हम आज के इस ब्लॉग पोस्ट में टोपोग्राफिकल फॉर्म जैसे पास सैंडल, क्रेस्ट, माउंड,  पठार, ड्यून किसे कहते हैं तथा उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप निम्नलिखित टोपोग्राफिकल फॉर्म तथा उसे मैप के ऊपर दिखाने की विधि के बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त करेंगे ;
  1. दर्रा या पास किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है(Darra ya Pass kise kahte hai)?
  2.  सैंडल किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है (Saddle kise kahte hai)?
  3. क्रेस्ट किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है(Crest kise kahte hai)?
  4. पठार किसे कहते हैं और उसे मैप पर किस विधि से दिखाया जाता है?
  5. माउंड  किसे कहते हैं और उसका क्या उपयोग होता है(Mount kise kahte hai)?
  6. ट्यून किसे कहते हैं और यह कहां पाया जाता है(Dyune kise kahte hai)?
1. दर्रा या पास किसे कहते हैं और मैप पर कैसे दिखाते हैं? किसी पर्वतमाला की दो चोटियों के बीच जो नीचे और तंग जगह होती है उसे पास या दर्रा कहते हैं। इस जगह से पहाड़ के दूसरी ओर जाया जा सकता है। दर्रा पहाड़ की दो चोटियों को अलग अलग करता है। इसी प्रकार इसके कंटूर भी खींचे जाते हैं। इससे मैप के ऊपर निम्न प्रकार से दिखाया जाता है।

Pass (दर्रा )
2. सैंडल किसे कहते हैं और मैप पर कैसे दिखाते हैं? लगभग दो समान ऊंचाई वाली दो पहाड़ियों के बीच में या एक पर्वत की दो चोटियों के बीच में दबे हुए फोड़े समतल से भाग को सैंडल या कॉल कहते हैं। दूर से देखने पर या यह घोड़े की काठी की तरह दिखाई देता है। सैंडल का आकार दर्रा से मिलता जुलता रहता है इनमें एक पर किया है कि सैंडल दर्रा से ज्यादा चौड़ा और कम दबा हुआ होता है। इसे मैप पर निम्न प्रकार से दिखाया जाता है।


३. क्रेस्ट  किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है? लंबी और दूर तक फैली हुई पर्वत श्रृंखलाओं की चोटियों को मिलाने वाली कल्पनिक रेखा को क्रस्ट कहते हैं। जहां पहाड़ की खड़ी ढलान समाप्त होकर जब गोल चोटी शुरू होती है उसे श्रृंग या क्रश कहते हैं। मैप पर छोटी से छोटी गोल कार कंटूर रेखा जिसके भीतर दूसरी रेखा ना हो श्री या कैसे बनाती है। क्रेस्ट को मैप के ऊपर निम्न प्रकार से दर्शाया जाता है।


4. पठार या प्लेटो किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है? पहाड़ के ऊपर बने समतल भाग को पठार कहते हैं। इस पर खेती बाड़ी की जा सकती है। मैप पर इस भाग में कंटूर रेखाएं नहीं होती है इसके चारों तरफ छोटी-छोटी पहाड़ियां होती है।

5. माउंट किसे कहते हैं और इसका क्या उपयोग मैप रीडिंग में किया जा सकता है? मैदानी भाग में उभरा हुआ वह अकेला सा टीला माउंट कहलाता है जिस पर खड़े होकर चारों ओर का इलाका दिखाई देता है। मैप रीडिंग में माउंट का उपयोग एरिया ऑब्जर्वेशन करने के लिए किया जाता है। आमतौर पर मैप के ऊपर माउंट को रिलेटिव हाइट से दिखाया जाता है।
6. ड्यून किसे कहते हैं और यह कहां पाया जाता है? रेतीले इलाके में हवा द्वारा वह मिट्टी या रेट उड़ने से बनने वाले टीले ड्यूल कहलाते हैं। यह हवा के बहाव से बनते बिगड़ते रहते हैं और पहाड़ी के समान दिखाई देते हैं उनकी स्थित स्थाई नहीं होता है इसीलिए इन्हें मैप पर नहीं दिखाया जा सकता।


इस प्रकार से टोपोग्राफिकल फॉर्म जैसे सैंडल माउंट ड्यूल दर्रा से संबंधित या ब्लॉक पोस्ट समाप्त हुआ और उम्मीद है कि यह आप लोगों को लिए उपयोगी साबित होगा। अगर यह मेरा ब्लॉक ब्लॉक पोस्ट आपको पसंद आया हो तो मेरे ब्लॉक को शेयर और सब्सक्राइब करें और अगर कोई सुझाव मेरे ब्लॉक पोस्ट के बारे में हो तो नीचे के कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पर लाइक करें और हम लोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित करें।

इन्हें  भी  पढ़े :
  1. मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व
  2. दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका
  3. कन्वेंशनल सिग्न ,कन्वेंशनल सिग्न के प्रकार , कन्वेंशनल सिग्न बनाने का तरीका
  4. रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका
  5. सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा और सर्विस प्रोटेक्टर का प्रकार
  6. सर्विस प्रोटेक्टर का उपयोग और सर्विस प्रोटेक्टर से बेक बेअरिंग पढने का तरीका
  7. 13 तरीके मैप सेट करने का !
  8. 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का
  9. 5 तरीको से मैप टू ग्राउंड और ग्राउंड टू माप जाने
  10. मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व

01 January 2021

रिज किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है ?What is ridge, spur, re-entrant and basin

पिछले ब्लॉग पोस्ट में हमने कोनिकल हिल और उसे मैप पे कैसा दिखया जाता है उसके बारे में जानकारी प्राप्त की और अब आज के इस ब्लॉग पोस्ट में हम टोपोग्राफिकल फॉर्म के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे और आज जिन टोपोग्राफिकल फॉर्म के बारे में इस ब्लॉग पोस्ट में हम जानकारी प्राप्त करेंगे को निम्नलिखित है
  1. रिज  किसे कहते हैं और मैप पर कैसे उसे कैसे दिखते है(What is ridge ) ?
  2.  स्पर  पर किसे कहते हैं और मैप पर कैसे उसे कैसे दिखते है ?(What is spur ) 
  3. रीएंट्रेंट किसे कहते हैं और मैप पर कैसे उसे कैसे दिखते है ? (What is re -entrant  ) 
  4. बेसिन किसे कहते हैं औऔर मैप पर कैसे उसे कैसे दिखते है ?(What is Basin ) 

ऊपर बताए गए चार  टोपोग्राफिकल फॉर्म के बारे में हम डिटेल से इस ब्लॉग पोस्ट में जानकारी प्राप्त करेंगे:
1 . रिज किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है:- किसी ऊंचे पहाड़ी का सिकुड़ा हुआ लंबाई और लगभग समान ऊंचाई वाली पर्वतीय पहाड़ी की श्रेणी को रीच कहते हैं !जहां दोनों ओर को  उस पहाड़ी की ढलान शुरू हो जाता है। रिच को दिखाने वाली कंटूर लाइन लंबाई और क्रम से होती है !
यानी दूसरे शब्दों में कहें तो वह उस  सिकुड़ी हुई पहाड़ी जिसकी लंबाई लगभग समान हो और उसकी ढलान दोनों तरफ शुरू हो एक समान तो उस पहाड़ी को जो ढलान है उसको हम रिज कहते  हैं उसे मैप पर निम्न लिखित तरीके से दिखाया जाता है!

2. स्पर किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है: जिस प्रकार से हमारे शरीर से बाहे  नीचे की ओर निकलती  है उसी प्रकार से पहाड़ी इलाकों में पहाड़ का कुछ भाग नीचे मैदान की ओर बढ़ता चला जाता है। पहाड़ का वह भाग जो बाजू की तरह  जमीन के साथ निकला हुआ चला जाता है उसे स्पर  या पर्वत स्कंध कहते हैं!स्पर  की कंटूर V  आकार की होती है और V  की नोक मैदान की ओर रहती है। स्पर  को मैप पर कंटूर की सहायता से निम्न प्रकार से दिखाएं जाता है!


3. रीएंट्रेंट किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है: दो पर्वत स्कंध या स्पर   के बीच दबे हुए भाग को रीएंट्रेंट कहते हैं! इसका मोड पहाड़ी की ऊंचाई की ओर  कम होता चला जाता है! रीएंट्रेंट से आमतौर पर नाले निकलते हैं। इसे कंटूर के सहायता से मैप के ऊपर निम्न प्रकार से दिखाया जाता है।

Re-entrant Kise kahte hai aur use map par kaise dikhaya jata hai ?
Re -Entrant 

4. बेसिन किसे कहते हैं और उसे मैप पर कैसे दिखाया जाता है: बेसिन का दो मतलब होता है:

  • पहाड़ों से घिरे हुए उस भाग को बेसिन कहते हैं जो समतल या लगभग समतल होता है।
  • नदिया नदी की सीखा सिखाओ द्वारा जिस इलाके की सिंचाई होती है उसे नदी का बेसिंग कहते हैं।
बेसिन को कंटूर की सहायता से मैप पर निम्न प्रकार से दिखाया जाता है।
Basin Kise kahte hai aur use map par kaise dikhaya jata hai ?
Basin 

इस प्रकार से टोपोग्राफिकल फॉर्म पार्ट- 2 का एक छोटा सा ब्लॉक पोस्ट यहां समाप्त हुआ। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको पसंद आएगा अगर यह पोस्ट पसंद आए तो हमारे पोस्ट को लाइक शेयर और सब्सक्राइब करें!और कोई सुझाव होतो निचे के कमेंट कर के जरूर बताये !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पर लाइक करें और हम लोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित करें।

इन्हें  भी  पढ़े :
  1. मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व
  2. दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका
  3. कन्वेंशनल सिग्न ,कन्वेंशनल सिग्न के प्रकार , कन्वेंशनल सिग्न बनाने का तरीका
  4. रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका
  5. सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा और सर्विस प्रोटेक्टर का प्रकार
  6. सर्विस प्रोटेक्टर का उपयोग और सर्विस प्रोटेक्टर से बेक बेअरिंग पढने का तरीका
  7. 13 तरीके मैप सेट करने का !
  8. 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का
  9. 5 तरीको से मैप टू ग्राउंड और ग्राउंड टू माप जाने
  10. मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व