Sponser

Search

Winter Clothing

Friday, November 24, 2017

रायट कण्ट्रोल ड्रिल की पार्टी तथा रायट कण्ट्रोल ड्रिल पार्टी का बनावट

पिछले पोस्ट में हमने पुलिस को मजमे के साथ डील करते समय क्या करे और क्या न करे के बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में हम रायट को कण्ट्रोल करने के लिए रायट कण्ट्रोल पार्टी और उसके बनावट(Riot control parties aur mob control parties ka banawat)  के बारे में जानेगे !


रायट ड्रिल /मोब कण्ट्रोल के लिए पार्टी की बनावट संख्या आम तौर पर मोब पर निर्भर होती है , मगर अनुभव से मालूम हुआ है की पूरी पार्टी को तीन टोलियोमें बनता जाये ताकि हर समय कम से कम ताकत का सिधांत ध्यान में रखते हुए करवाई की जा सके !

रायट ड्रिल/मोब कण्ट्रोल पार्टीज : रायट ड्रिल /मोब कण्ट्रोल ड्रिल का पनावत और पार्टिया निम्न लिखित प्रकार की होती है :
Mob Control Drill
Mob Control Drill
  1. गैस गन पार्टी (Riot control gas gun party ) 
  2. लाठी पार्टी (Riot control Lathi party )
  3. राइफल पार्टी (Riot control Rifle party )
सदस्य (Members of Riot drill party): पार्टियों की नफरी आम हालातों में एक प्लाटून की होती है , जिसकी बाँट अलग अलग पार्टियों में की जाती है ! वैसे जरुरत पड़ने पर अधिकतर समय और हालात को देखते हुए इसमें जो तबदीली करना चाहे कर सकते है  क्यों की हालत से निपने के लिए तमाम करवाई कमांडर की अपनी सूझ बुझ पर निर्भर करता है !

जरुर  पढ़े :पुलिस और क्राउड तथा पुलिस का क्राउड के साथ ब्यवहार


पार्टी की बनावट :(Mob Control Party ka Banawat) 
  • पार्टी कमांडर Mob Control Party Commander: सब  इंस्पेक्टर /इंस्पेक्टर  अगर नफरी प्लाटून से ज्यादा है तो पार्टी कमांडर गजेटेड ऑफिसर भी हो सकता है !यह बात सीनियर ऑफिसर पर निर्भर करता है की वह किसे भेजता है !
  • पार्टी का दूसरा कमांडर (2 i/c ): प्लाटून हवलदार 
1. गैस पार्टी का बनावट(Riot control gas gun party )
  • पार्टी कमांडर - 1 हवलदार 
  • पार्टी 2 i/c - हवलदार 
  • कांस्टेबल - 11 
2. लाठी पार्टी :(Riot control Lathi party )
  • पार्टी कमांडर - 1 हवलदार 
  • पार्टी 2 i/c - हवलदार 
  • कांस्टेबल - 11 
अगर मोब कण्ट्रोल ड्रिल पार्टी की नफरी एक पलटन है तो लाठी पार्टी ऊपर बताये गए के अनुसार ही होगी . इसके अलावा अगर मजमे की नफरी ज्यादा होगी तो लाठी पार्टी की नफरी बढाई जा सकती है ! कमांडर  मौके के लिहाज से जैसा मुनासिब समझे गा वैसे ही तैनाती करेगा. इस प्रकार  हो सकता है की लाठी पार्टी की नफरी एक पलटन या कंपनी भी हो मगर जब लाठी पार्टी की नफरी बाधा दी गई हो तो उसकी छोटी छोटी तोलिया बने जाने पर नफरी ऊपर बताये गए से कम न हो !
3. राइफल पार्टी :(Riot control Rifle party )
  • पार्टी कमांडर - 1 हवलदार 
  • पार्टी 2 i/c - हवलदार 
  • कांस्टेबल - 11 
इसके अलावा करवाई को पूरा करने के लिए कुछ नफरी की जरुरत पड़ती है जो इस प्रकार से है 
  • बैनर पार्टी - 2 कांस्टेबल 
  • फर्स्ट ऐड पार्टी - 2 कांस्टेबल जिन्हें फर्स्ट ऐड के बारे में जानकारी हो 
  • नर्सिंग असिस्टेंट ;- 1 कांस्टेबल 
  • बिगुलर : 1 कांस्टेबल 
इस प्रकार से मोब कण्ट्रोल के लिए पार्टियो का बाँट किया जाता है ! यह एक स्टैण्डर्ड बाँट है लेकिंग फील्ड में काम करते समय हो सकता है की इतने आदमी और सामान हमे नहीं मिले लेकिन एक कमांडर को हमे इन चीजो के बारे में ध्यान रखना चाहिए की कम आदमी में भी बिना घबराये हुए मोब कण्ट्रोल कैसे किया जा सकता है !.
इस प्रकार से यहाँ की मोब कण्ट्रोल की पार्टी तथा उसका बनावट  से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 
इसे भी पढ़े  :

  1. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  2. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  3. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  4. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  6. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  7. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  8. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.
  9. AKM राइफल का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  10. 7.62mm SLR के पार्ट्स का नाम और 7.62 mm SLRराइफल का चाल



Monday, November 20, 2017

पुलिस को क्राउड के साथ कैसे ब्यवहार करना चाहिए ?

पिछले ब्लॉग पोस्ट में हमने  क्राउड और पुलिस के ब्यवहार के बारे में जाना इस पोस्ट में हम जानेगे की क्राउड के साथ डील करते समय क्या करना और क्या नहीं करना चाहिए !


कभी  कभी देखा गया है की पुलिस बल जो एक क्राउड या म़ोब को फेस कर रहे है वो खुद ही क्राउड या म़ोब की तरह ब्यवहार करने लगते है ! पुलिस बल के जवान एक ट्रेनड और अनुशाशित लोग होते है और उनसे सभी का ये उपेक्षा रहती है की जब उनका सामना म़ोब /क्राउड से होगा तो ओ क्राउड के जैसे ब्यवहार नहीं करेंगे !


कुछ अज्ञानी पुलिसमेन जब अजीटेसन आगे बढ़ता है  तो ओ खुद ही क्राउड की तरह ब्यवहार करने लगते है और उनका वह गलत ब्यवहार कभी कभी लॉ & आर्डर  का बड़ा कारन बन जाता है ! 
Riot control Drill
Riot control Drill
इस लिए जब कभी अगर भीड़ से सामना हो तो निचे दिए गए बातो को थोडा ध्यान में रखे तो एक कमांडर को खासी सहूलियत मिलेगी भीड़ से निपटने में! इस ब्लॉग के लिए हमने उन विशेष बातो को दो ग्रुप में बाँट दिया है :
  1. भीड़ से निपटते समय क्या करे (Bhid/Mob se nipatte huye kya kare?)
  2.  भीड़ से निपटते समय क्या न करे (Bhid/Mob se nipatte huye kya nahi kare?)
1. भीड़ से निपटते समय क्या करे (Bhid/Mob se nipatte huye kya kare?): भीड़ से निपटते समय निम्न बाते को करे :
  • मजमे के समय हमेशा शांत रहें 
  • जल्दी ही भीड़ की साइकोलॉजी को पहचाने 
  • जनता का सहयोद प्राप्त करे !
  • ऐसी करवाई करे जिससे मजमा भड़के नहीं 
  • अपनी फाॅर्स को हमेशा सुरक्षित स्थान पर तैनात करे 
  • इस बात का यकीं करें की प्रतेक जवान अपना काम सही तरीके से जनता हो 
  • हमेशा मजिस्ट्रेट की उपस्थिति का ध्यान रखें 
  • गोली चलने से पहले इस बाट का यकीं करें क्या दूसरी चीजों का इस्तेमाल कर लिया गया है या नहीं 
  • चेतावनी धीरे धीरे और साफ साफ दे यकीं करे की भीड़ को आपकी चेतावनी सुनाई दे रही हो 
  • फायरिंग पर हमेशा नियंत्रण रखें 
  • कमर से निचे निशाना लागाकर फायर करे अगर फायर करना पड़े तो 
  • गोली चलने से पहले मजमे के लीडर को पहचाने 
  • जैसे ही मजमा तितर बितर हो जाये गोली चलना बंद कर दे 
  • यकीन करें की तितर बितर हुआ मजमा दौबारा इकठ्ठा ना होने दे 
  • घायलो को प्राथमिक उपचार दे और हॉस्पिटल भेजें !

2. भीड़ से निपटते समय क्या न करे (Bhid/Mob se nipatte huye kya nahi kare?) भीड़ से निपटते समय निम्न बाते को  न करे :
  • बदले की भवन से काम ना करें 
  • कभी भी मजमे के बारे में गलत कमेंट न करे 
  • अंधाधुन्द गोली न चलाये 
  • भागते हुए मजमे पर गोली या लाठी प्रहार ना करें 
  • कम से कम ताकत का इस्तेमाल को न भूले 
  • भीड़ से बहस बाजी ना करें 
  • भीड़ को धोका ना दे 
  • भीड़ के साथ झूठे अड़े ना करें 
  • रायट ड्रिल को छोटे टुकड़े में न बाटे
  • मजमे को शत्रु ना समझे 
  • लाठी का प्रहार सर पर या नाजुक हिस्से पर ना करें 
  • कानून को ना भूले 

यह कुछ पॉइंट्स है जिसे अगर ध्यान में रखा जाये तो भीड़ को नियंत्रित करने में काफी सहूलियत मिलेगा ! यह कोई पूरा लिस्ट नहीं है फिर भी ड्यूटी के दौरान अनुभव के बदौलत बनाई गई है जिसमे और भी बहुत से पॉइंट्स जोड़े जा सकते है !

इस प्रकार से यहाँ की पुलिस को   क्राउड से निपटने के दौरान ध्यान में रखने वाली बातें से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 

इसे भी पढ़े  :

  1. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  2. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  3. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  4. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  6. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  7. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  8. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.
  9. AKM राइफल का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  10. 7.62mm SLR के पार्ट्स का नाम और 7.62 mm SLRराइफल का चाल

Sunday, November 19, 2017

पुलिस और क्राउड तथा पुलिस का क्राउड के साथ ब्यवहार

इस पिछले पोस्ट में हमने म़ोब के प्रकार तथा पुलिस को म़ोब के बारेमें जानने की जरुरत के बारे में जानकारी प्राप्त किये ! इस पोस्ट में हम पुलिस और  क्राउड  तथा भिन्न भिन्न तरह के  क्राउड के बारे में जानेगे !




कभी  कभी देखा गया है की पुलिस बल जो एक क्राउड या म़ोब को फेस कर रहे है वो खुद ही क्राउड या म़ोब की तरह ब्यवहार करने लगते है ! पुलिस बल के जवान एक ट्रेनड और अनुशाशित लोग होते है और उनसे सभी का ये उपेक्षा रहती है की जब उनका सामना म़ोब /क्राउड से होगा तो ओ क्राउड के जैसे ब्यवहार नहीं करेंगे !

जरुर पढ़े :AK-47 और INSAS Rifle में कौन बेहतर ?

कुछ अज्ञानी पुलिस मन जब अजीटेसन आगे बढ़ता है  तो ओ खुद ही क्राउड की तरह ब्यवहार करने लगते है और उनका वह गलत ब्यवहार कभी कभी लॉ & आर्डर  का बड़ा कारन बन जाता है ! जैसे 

पुलिस की क्राउड की तरह ब्यवहार
पुलिस की क्राउड की तरह ब्यवहार
" कुछ पुलिसमैन क्राउड में खड़े  मिसकीरेंट के तरह के तरह फील करने लगते है और सोचते है की  भीड़ में उनका एक्शन कौन देखता है और  और उनका सेंस ऑफ़ रेस्पोंसिबिलिटी गायब हो जाता है और वो अधिक एनर्जी एवं इमोशन के साथ मिस्बेहाव करने लगते है !

जरुर  पढ़े :आश्रू गैस के इतिहास तथा प्रभाव

वो सोचते है कि भीड़  में उन्हें कौन पहचानता है  इसलिए वे और एक्स्सस्सिव पॉवर का इस्तेमाल करने लगते है और भूल  जाते है की इस एक्शन की लास्ट में रेस्पोंसिबिलिटी भी किसी ना किसी के ऊपर फिक्स की जाएगी ! ओ अदृश्य रहना चाहते है और नहीं सोचते !


बहुत बार यह देखा गया है की पुलिस भी भीड़ की तरह ही एक दुसरे के देख कर  काम करती है ! अगर उसका एक साथी ने किसी को लाठी मार दी बगल  वाला साथी भी बिना देखे लाठी यानि फाॅर्स का इस्तेमाल करने लगता है और इस दौरान वह भूल जाते है की उनका आवश्यकता से  अधिक ताकत इस्तेमाल करने कारण उनके ऊपर करवाई भी हो सकती है !


जरुर  पढ़े :आसू गैस के फायर के ऊपर असर डालने वाले तत्व और उसका निदान

इसलिए यह सीनियर अधिकारिओ का कर्तव्य है की सर्वोद कण्ट्रोल के बारे में नए जवानों को समय समय पे ट्रेनिंग दे कर जानकारी देते  रहे और क्राउड के बारे में बताते रहना चाहिए !

इस पोस्ट में हम निम्न क्राउड के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे !
  1. कैजुअल क्राउड (Casual crowd kya hota hai?)
  2. होसटाइल  क्राउड (Hostile crowd kya hota hai?)
  3. एस्केप क्राउड (Escape crowd kya hota hai?)
  4. अकुजितिव क्राउड (Acquisitive crowd kya hota hai?)
  5. एक्स्प्रेस्सिव क्राउड (Expressive crowd kya hota hai?)
  6. फ़्लैश म़ोब ((Flash Mob Kya hota hai?)
1. कैजुअल क्राउड (Casual crowd kya hota hai?): 
Casual Crowd
Casual Crowd
बहुत बार हम देखते है की बिना किसी को नुकशान पहुचाये लोगो का सौह इकठ्ठा होता है और अपना काम करके बिना किसी लॉ & आर्डर प्रॉब्लम किये ओ वह से निकाल जाता है ! ! जैसे की आप देखते है हाट बाज़ार में कोई तमाशा दिखता है या कोई अपना सामान बेचता है या कोई किसी बिषय के ऊपर प्रचार करता है उसके देखने के लिए उस जगह पे बहुत सरे लोग इकठ्ठा हो जाते है लेकिन ओ कभी भी पुलिस के लिए लॉ & आर्डर का विषय नहीं बनते है वह जस्ट वह जाते हैदेखते है और वह से निकाल लेते है ऐसे भी को कासुअल भीड़ कहते है !
जरुर  पढ़े : आश्रू गैस के प्रकार तथा उसके उपयोग
2.होसटाइल  क्राउड (Hostile crowd kya hota hai?): 
Hostile Crowd
Hostile Crowd
बहुत बार आप देखते है की भीड़ कसी सरकारी महकमा के खिलाफ इकठ्ठा होता है जैसे भीड़ को पता चला की अपने मुहाले के एक लड़का को पुलिस आरेस्ट की थी और उसे ठाणे में उत्पीडन के कारन मौत हो गई !  इस सिचुएशन में पुलिस के ठाणे या किसी सरकारी ऑफिस के सामने इकठ्ठा हुई भीड़ बहुत  ही उतेजित होती है और थोड़े से उकसावे पे ओ कानून को अपने हाथ में ले कर कानून विरुद्ध करवाई करने लगती है ! इस तरह के भीड़ में उत्तेजना बहुत ही ज्यादा होता है और ऐसी भीड़ पुलिस के लिए लॉ & आर्डर केलिए बहुत ही खतरा होती है ऐसे क्राउड को होसटाइल  क्राउड कहते है !
3.एस्केप क्राउड (Escape crowd kya hota hai?)
Escape Crowd
Escape Crowd
एस्केप क्राउड उसे बोलते है जो किसी खतरा के बारे में जन कर अपने आप को बचने के लिए एक जगह से सुरक्षित जगह पे जल्द से जल्द भागने की कोशिश करता है ! जैसे रेडियो या किसी भी  माध्यम पता चलता है की आमुख एरिया में तूफान आने वाला है और्लोगो को हिदायत दीजाती है ऐसे क्राउड को एस्केप क्राउड  कहते है !  ऐसी क्राउड न केवल पुलिस के लिए प्रॉब्लम बनती है बल्कि हेल्थ  और  मुनिसिपल के लिए भी प्रॉब्लम बनती है ! ऐसी भीड़ में अपने बचने के लिए हर तरह की कोशिश करती है ! वैसे जगह जहा पुलिस फायरिंग हो गई हो वहा से भी भीड़ इसी तरह  अपनी जान बचाने के लिए भागती है ! इस तरह के भीड़ का कोई लीडर नहीं  होता है यह  अनओर्गनाइज होती है ! 

4.अकुजितिव क्राउड (Acquisitive crowd kya hota hai?)
Acquisitive crowd
Acquisitive crowd
अकुजिटिव भीड़ उसे कहते है जो किसी सामान को बलपूर्वक हासिल करना  चाहती है ! जैसे की पता चल गया की सरकारी  राशन के दुकान चलाने वाले दुकानदार  ने राशन रहते हुए भी लोगो  को राशन नहीं दे रहा है या ब्लैक में बेच रहा है ऐसे में जो भीड़ इकठ्ठा  होती है उसका मुख्या उद्देश्य होता है की राशन की दुकान को बलपूर्वक तोड़ कर राशन को लोगो में बाँट दिया जाय ऐसे भीड़ को  अकुजिटिव भीड़ कहते है ! ऐसे भीड़ के ऊपर समय रहते एक्शन नहीं लिया गया तो वह बहुत ही बड़ा लॉ & आर्डर का इशू बन  जायेगा !

जरुर  पढ़े : टियर स्मोक गैस का सिद्धांत और इसके इस्तेमाल करते समय ध्यान में रखने वाली बाते 

5.एक्स्प्रेस्सिव क्राउड (Expressive crowd kya hota hai?)  
Expressive crowd
Expressive crowd
जैसे की स्ट्राइक, रैली  , प्रोसेसन पोलिटिकल मीटिंग धार्मिंक धरना यदि  जिसे लोग सामिल होते है बुत ही अधिक संख्या में और अपने समस्याओ को या अपनी बातो को  स्लोगल, नाच & गाना और नौटकी के द्वारा पर्दर्शित करते है ! ऐसे भीड़ में लॉ & आर्डर का समस्या शुरू शुरू में नहीं होती है लेकिंग पुलिस को हमेश सजग रहना पड़ता है क्यों की असामाजिक  तत्व उस भीड़ में घुस कर उपद्रव शुरू कर सकते है और इनके द्वाराशुरु किया गया उन्माद बहुत ही बड़ा लॉ & आर्डर का समस्या बन जाता है जिसको संभल पाने में पुलिस को बहुत ही मोसक्कत करनी पड़ती है और कभी कभी बहुत ही जान माल का नुकशान भी होता है !इस तरह के भीड़ को हम एक्सप्रेसिव भीड़ कहते है !

जरुर  पढ़े : आश्रू गैस को स्टोर करते समय ध्यान में रखने वाली बाते 

6.फ़्लैश म़ोब ((Flash Mob Kya hota hai?): 
Flash Mob
Flash Mob
फ़्लैश म़ोब वह होता  है  जो ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया या सोशल मीडिया के द्वारा ओर्गानाइज  होता है ! जो अभी तक देखा गया है की वो अपने को किसी विशेस एक्ट या कॉमिक एक्शन लिखे पिलो फाइट ,  म्यूजिक या डांस करना किसी सार्वजनिक या पब्लिक प्लेस पे जहा ज्यादा लोग इकठ्ठा होते है ! इस प्रकार का म़ोब लॉ बिन्डिंग होता है  यह केवल अचानक लोगो को आश्चर्यचकित करने के लिया किया जाता है !इस में पुलिस का ज्यादा रोल नहीहोता है लेकिन आज के पोलिटिकल माहौल में अगर किसी पोलिटिकल पार्टी के कार्यकर्त्ता किसी दुसरे पोलिटिकल पार्टी के मीटिंग में ऐसा करके लॉ & आर्डर के सिचुएशन को बिगड़ सकते है इस लिए पुलिस को हमेश सजग रहनी चाहिए !

जरुर  पढ़े : टियर स्मोक स्क्वाड पार्टी के लिए करने और न करने वाली बाते और सावधानिया

इस प्रकार से यहाँ की पुलिस और  क्राउड और क्राउड में पुलिस का ब्यवहार की बारे में जानकारी से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 
इन्हें भी पढ़े :

  1. 7.62mm LMG से अच्छी तरह सेफायर कैसे किया जाये 
  2. LMG  के चाल तथा फौरी इलाज से दूर होने वाले 4 LMG के रोके l
  3. ट्राईपोड़ और LMG को माउंट और डिसमाउंट करने का तरीका
  4. 7.62 LMG को फिक्स्ड लाइन पर लगाने और फायर करने का तरीका
  5. 51 mm मोर्टार तथा इसके डायल साईट के बेसिक टेक्निकल जानकारी
  6. 51mm मोर्टार को खोलना जोड़ना और उसके पार्ट्स के नाम
  7. 51mm मोर्टार की साफ सफाई का तरीका
  8. 51mm मोर्टार के हाई एक्सप्लोसिव बम की चाल और पहचान
  9. स्मोक और इल्लू बम का चाल और बेसिक डाटा
  10. 30mm AGL के बेसिक टेक्नीकल डाटा , विशेषताए और पार्ट्स का नाम



Friday, November 17, 2017

MP5 पिस्टल का संक्षिप्त परिचय

पिछले पोस्ट में हमने 9 mm CZ पिस्टल के बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में हम MP5 सब मशीन पिस्टल के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे !


MP 5(MP 5 ka fullform- Machinenpistol 5) का फुल्ल्फोर्म होता है मशीन पिस्टल 5 (German:-Maschinenpistole 5 ) जिसका मतलब होता है सब मशीन गन 5 !यह एक 9 mm सब मशीन गन  है जिसे 1960  में जर्मन के एक स्माल  आर्म्स डेवलपर हेकलर & कोच गम्भ (H&K) ने डिजाईन और डेवेलोप किया ! इस वेपन का आब तक 100 से ज्यादा वैरिएंट  है !



MP5 गन संसार के कुछ एक उन हथियारों में सामिल है जो सबसे ज्यादा इस्तेमाल में ली जाती है ! अधिकारिक तौर पे अभी तक 40 से ज्यादा देश इसको अपने सुरक्षा बालो के लिए इस्तेमाल करते है !


MP5 gun Parts's Name
MP5 Machine gun
MP5 Machine gun

G3 राइफल के सफलता के बाद H&K चार भिन्न भिन्न प्रकार के गन बनाये जिनका बनावट और ऑपरेटिंग प्रिंसिपल तो एक था लेकिंन कार्ट्रिज अलग अलग टाइप का इतेमाल किया जाता था ! फर्स्ट टाइप था उसमे 7.62 x 51 mm NATO, सेकंड में 7.62 x 39 mm M43  राउंड , तीसरा में  इंटरमीडिएट 5.56 x 45 mm NATO कैलिबर  और चौथे में 9 x 19 mm परबेल्लुम पिस्टल कार्ट्रिज  इस्तेमाल किया जाता है ! MP5 में चौथे प्रकार की अमुनिसन यानी 9 x 19 mm परबेल्लुम पिस्टल कार्ट्रिज इस्तेमाल में लिया जाता है  जिसे शुरू में HK 54 के नाम से जाना जाता था !



MP5 का पूर्ण तौर पे बनाने का शुरुवात 1964 में हुई और उसके दो साल के बाद जर्मन पुलिस और आर्मी स्पेशल फ़ोर्स में इस्तेमाल के लिए शामिल की गई !


MP5 पिस्टल लाइम लाइट में उस समय आया जब लाइव टेलीविज़न  के ऊपर एक SAS कमांडो ऑपरेशन में इसका इस्तेमाल दिखाया गया जीसमें  कोम्मंडोस ने MP5 को इस्तेमाल करते हुए लन्दन के  ईरानियन एम्बेसी में बंधक बनाये हुए लोगो को छुड़ाया और 5 आतंकवादियो को मार गिराया था ! उसके बाद से यह वेपन SWAT या कोम्मंडोस के लिए मैं वेपन बन गया !

सन 1999 में MP5 के एक एडवांस  वैरिएंट डेवलप्ड किया जिसका नाम है हेकलर & कोच UMP(Heckler & Koch UMP) और अभी ये दोनों वर्शन मौजूद है !

ऐसे तो MP5 के 100 से ज्यादा वैरिएंट है लेकिन हम इस पोस्ट में मुख्य डाटा केवल MP5A2 के बारे में ही जानकारी शेयर  करेंगे !

  •  वजन  : 2.5 kg (5.5 lb)
  • लम्बाई ; 680 mm (27 in)
  • बैरल की लम्बाई :225 mm (8.9 in)
  • चौड़ाई :50 mm (2.0 in)
  • उचाई :260 mm (10.2 in) 
  • अमुनिसन : 9×19mm Parabellum, 10mm Auto, (MP5/10),  (MP5/40)
  • प्रिंसिपल पे काम करता है  :रोलर-डिलेड ब्लोव्बैक क्लोज बोल्ट 
  • रेट ऑफ़ फायर : 800 rounds/min 
  • मजल वेलोसिटी :400 m/s (1,312 ft/s) 
  • इफेक्टिव फायरिंग रेंज :200 m (656 ft)
  • फीड सिस्टम :15, 30 or 40 round detachable box magazine  and 100-round Beta C-Mag drum magazine
  • साईट : आयरन साईट  Rear: rotary drum; front: hooded post

इस प्रकार से यहाँ MP5 मशीन गुण से सम्बंधित  पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइबऔर फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित  करे  !
इसे भी पढ़े  :

  1. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  2. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  3. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  4. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  6. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  7. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  8. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.
  9. AKM राइफल का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  10. 7.62mm SLR के पार्ट्स का नाम और 7.62 mm SLRराइफल का चाल

Saturday, November 11, 2017

म़ोब कितने प्रकार का होता है और पुलिस को क्राउड के बारेमे क्यों जानना चाहिए ?

इस पोस्ट में हम यह जानने की कोशिश करेंगे की मजमा क्या होता है और मजमा के प्रकार कितने होते है !

पुलिस की नौकरी एक ऐसी नौकरी है जिसमे अपने गलती से तो पुलिस पब्लिक के निशाने पे ही रहती है  दुसरे डिपार्टमेंट के निकम्मेपन का भी खामियाजा ज्यादातर पुलिस को ही भुगतना पड़ता है ! बहुत बार आप देखे होंगे की सिविल डिपार्टमेंट अपना काम नहीं किया अच्छे से और आम जनता उस डिपार्टमेंट से खफा हो कर उस डिपार्टमेंट के खिलाफ मोर्चा निकाली और बीच में पुलिसवाले आगये जिन्हें उस डिपार्टमेंट से कुछ नहीं लेना देना लेकिंन मजमा के निशान में ओ आ गये और अंत में पुलिस और पब्लिक के बिच में क्लैश हो गयी और पुलिस वालो को छोटे भी आ गयी और जिस निकम्मे डिपार्टमेंट के कारन पब्लिक भड़की है उसका कुछ नहीं हुवा !



ऐसा आप ज्यादातर जगहों में देखेगे जहा पुलिस और प्यूबिक का क्लैश हुवा है वहा पुलिस को कुछ नहीं लेना होता है लेकिन लड़ाई उसे ही लड़नी पड़ती है !
इस पोस्ट में हम निम्न सवालों का जवाब जानेगे :
crowd control drill
crowd control drill

  1. पुलिस को क्राउड /म़ोब/मजमा के व्यवहार के बारेमे जानना चाहिए ?(Police ko crowd/mob/majma ke behaviour ke bareme kyo jankari rakhni chahiye?)
  2. मोब/मजमा .क्राउड कितने प्रकार के होते है ?(Crowd kitne prakar ke hota hai?)

1. पुलिस को क्राउड /म़ोब/मजमा के व्यवहार के बारेमे जानना चाहिए ?(Police ko crowd/mob/majma ke behaviour ke bareme kyo jankari rakhni chahiye?):पुलिस को लॉ & आर्डर मैनेजमेंट करने के दौरान हमेश क्राउड के साथ डील करना पड़ता है ! इसलिए पुलिस को सर्वोद बेहविऔर के बारे में एक क्लियर अंडर स्टैंडिंग होनी चाहिए ताकि उसे ये मालूम रहे की किस क्राउड के साथ कैसे डील किया जाये ! पुलिस को क्राउड  और सामाजिक आन्दोलन को कभी भी एक दुश्मन के तरह नहीं समझना चाहिए !  सर्वोद और सामाजिक आन्दोलन का समाज में एक उत्प्रेरक का काम करता है और मानव जाती को उन्नति में बहुत ही योगदान  करता है !

लेकिंग क्राउड  और क्राउड के व्यवहार के बारे में कम जानकारी एक पुलिसमैन को सर्वोद के साथ डील करने में अच्छी सफलता नहीं डी ला सकती है  इस लिए पुलिस को चाहिए की उपने आप को समाज में हो रहे बदलाव तथा मौजूदा  समय  के सामजिक मुद्दों के बारे में पुई जानकारी रखे ओ उन्हें क्राउड को डील करने में काफी सहायक होगी ! 
  • क्राउड क्या होता है(What is Crowd?) : किसी स्थान पे एक उद्देश्य से इकट्ठा हुए जन समूह को क्राउड कहते है !
  • म़ोब क्या होता है ?(What is Mob?) : जब इकट्ठा हुवा क्राउड लवलेस(Lawless) और उपद्रव करने लगे तो उसे म़ोब कहते है !
  • रायट (Riot) क्या होता है ?(What is Riot?) जब उग्र भीड़ या वायलेंट क्राउड शांति व्वस्था को भंग करता हाउ और किसी दुसरे पक्ष या ग्रुप के ऊपर जानलेवा हमला करता है तो उसे है रायट कहते है !
2. मोब/मजमा .क्राउड कितने प्रकार के होते है ?(Mob/Crowd kitne prakar ke hota hai?): एक मजमा यानि क्राउड  को हम दो मुख्या भागो में बाट सकते है ! और उन दो भागो के अन्दर भी बहुत से उप ग्रुप  होते है जिनके बारे में हम बिस्तर से आगले पोस्ट में बाट करेंगे  इस पोस्ट में हम केवल उनका नाम यानि क्लासिफिकेशन के बारेमे जानकारी जानेगे :

ऊपर दर्शाए गए क्राउड के ग्रुप के बारेमे डिटेल से जानकारी अगली पोस्ट में देंगे !
इस प्रकार से यहाँ की क्राउड की बारे में जानकारी से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 


इन्हें भी पढ़े :
  1. 7.62mm LMG का दुरुस्त शिस्त , दुरुस्त पकड़ और दुरुस्त फायर का तरीका
  2. LMG के चाल तथा फौरी इलाज से दूर होने वाले 4 LMG के रोके l
  3. ट्राईपोड़ और LMG को माउंट और डिसमाउंट करने का तरीका
  4. 7.62 LMG को फिक्स्ड लाइन पर लगाने और फायर करने का तरीका
  5. 51 mm मोर्टार तथा इसके डायल साईट के बेसिक टेक्निकल जानकारी
  6. 51mm मोर्टार को खोलना जोड़ना और उसके पार्ट्स के नाम
  7. 51mm मोर्टार की साफ सफाई का तरीका
  8. 51mm मोर्टार के हाई एक्सप्लोसिव बम की चाल और पहचान
  9. स्मोक और इल्लू बम का चाल और बेसिक डाटा
  10. 30mm AGL के बेसिक टेक्नीकल डाटा , विशेषताए और पार्ट्स का नाम



21 मुख्य बाते पुलिस बल के बारे में ?

" पुलिस " नाम ही काफी है !आम जनता का सबसे ज्यादा काम आने वाली संस्था है  जो आम जनता के सेवा के लिए हमेशा तैयार रहती है ! बहुत से लोग पुलिस के बारे में बहुत उलटी  सीधी बाते करते है लेकिन  कोई भी छोटी सी परेशानिया हो सबसे पहले पुलिस का ही नाम उनके अवाजा में आती है !


आज हम पुलिस के कुछ बेसिक डाटा के बारे में जानकारी शेयर करेंगे तो की पुलिस अनुसन्धान एवं  विकास ब्यूरो ( BPR&D) के द्वारा प्रकाशित जनवरी 2017 के डाटा के ऊपर आधारित है ! इस डाटा से ये पता चलता है की लोग बोलते है की पुलिस हमेश क्राइम होने के बाद ही पहुचती है उसका कारन क्या है !
1.भारत का कुल क्षेत्रफल (Total Police area)- 3,166,414 बर्ग  किलोमीटर
2. 2001 के अनुसार अनुमानित भारत की जनसख्या 1 अक्टूबर 2016((Projected population on 1 Oct 2016) - 1277770
3. कुल सैनकसन सिविल पुलिस(Total sanctioned strength of civil police in India) -19,89,295
4. कुल सैनकसन स्टेट आर्म्ड पुलिस(Total sanctioned strength of Armed police in India)  -4,75,189


जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को स्टेट बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

 5. टोटल सैनकसन स्टेट पुलिस (आर्म्ड + सिविल)(Total sanctioned strength of civil & Armed police in India) :24,64,484
6. एक पुलिस जवान के ऊपर कितनी जनसख्या है (Population per policemen in India):518 आदमी
7.एक लाख जनसख्या के ऊपर कितने पुलिसवाले है(Police ratio per lakh of population) :192.87 जवान
8.पर 100 बर्ग किलोमीटर में पुलिस की संख्या (Police ratio per  100 sqr km area): 77.83 जवान
9.भारत में कुल पुलिस स्टेशन की संख्या (Total  number of police station in india):15579 थाना

जरुर पढ़े : आधार कार्ड को पान कार्ड से कैसे लिंक करे ?

10. भारत में कुल पुलिस आउट पोस्ट  की संख्या(Total  number of police out post in india) :9087 आउट पोस्ट
11.भारत में कुल कितना स्टेट आर्म्ड पुलिस की बटालियन है(Total  number of Armed Police Battalion in india) : 470
12. भारत में कुल पुलिस जोन है (Total  number of police zone in india): 97 जोन
13. भारत में कुल पुलिस रेंज  है? (Total  number of police range in india): 186 रेंज
14. भारत में कुल पुलिस जिला  है? (Total  number of police district in india): 758 जिला
15. भारत में कुल पुलिस सब डिवीज़न  है?(Total  number of police sub division in india) 2473सब डिवीज़न
16. भारत में कुल पुलिस सर्किल कितने  है?(Total  number of police circle in india): 2422 पुलिस सर्किल
17. भारत में कुल पुलिस पुलिस स्टेशन (देहात) है?(Total  number of police station(Rural) in india): 10,052 थाना
18. भारत में कुल पुलिस पुलिस स्टेशन (शहरी ) है?(Total  number of police station(Urban) in india):4998 थाना
19  भारत में कुल पुलिस पुलिस स्टेशन (रेलवे  ) है?(Total  number of police station(Railway) in india): 529 थाना
20. भारत में कुल पुलिस साइबर सेल  है?(Total  number of police cyber cell in india): 114 सेल
21 भारत में कुल पुलिस सोशल मीडिया मोनिटरिंग सेल  है?(Total  number of police social media monitoring cell in india)39
जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को स्टेट बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका
उपर के डाटा देखने से पता चलता है की पुलिस की संख्या भारत के जनसख्या के अनुपात में कितना कम है! जहा एक लाख के जनसँख्या के ऊपर केवल और केवल 192.87 पुलिस वाला हो वहा की पुलिस सुरक्षा तो वैसी ही होगी जैसा आज हो रहा है !

आज के माहौल देखकर जहा जनता अपनी छोटी छोटी मांग को लेकर उग्र रूप धारण कर रही है वह पे पुलिस की संख्या में बहुत बढोरी की जरुरत है ! वैसे तो सरकार इस दिशा में काफी तेजी से अग्रसर है जो की 2006 से 2016 के बीच के डाटा दर्शाते है जिसमे पुलिस बल की संख्या 50.95% बाधा है जब की जनसख्या 13.68% बढ़ा है ! पहले जहा एक पुलिस वाला के ऊपर 688 आदमी का अनुपात था वह अब 518 आदमी पे आगया है !
जरुर पढ़े : आधार कार्ड को पान कार्ड से कैसे लिंक करे ?
 इस प्रकार से यहाँ भारतीय पुलिस के बेसिक डाटा से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 

इसे भी पढ़े :

  1. स्मोक और इल्लू बम का चाल और बेसिक डाटा
  2. 2" मोर्टार का परिचय,और खुबिया तथा इसकी खामिया
  3. 51 mm मोर्टार छोटी छोटी बाते
  4. 51 mm मोर्टार डिटैचमेंट का काम, बनावट और फायर कण्ट्रोल करने का तरीका
  5. 51 mm मोर्टार के भरना और खली करने का तरीका तथा बम को तैयार करना
  6. 51 mm मोर्टार का ले और फायर तथा मिस फायर पे करवाई
  7. 7.62 mm MMG के प्रकार तथा टेक्निकल डाटा 7.62 mm MMG के ?
  8. 7.62 mm MMG को खोलना और जोड़ने का तरीका
  9. 7.62 mm MMG को भरना और खाली करने का तरीका