Sponser

Search

Sunday, October 29, 2017

देखो कौन आया पुलिस बल में - मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है

यह कहना कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी की अपना देश बदल रहा है और आगे बढ़ रहा है ! देश के लोग तथा उनकी सोच बदल रही है ! जहा पहले पुलिस बल एक पुरुष प्रधान होता था उसमे महिलाये भी धीरे धीरे ज्वाइन करने लगी और बाद में महिलाओ का प्रतिशत निर्धारित कर दिया गया की राज्य पुलिस में 33% महिलाये रहेंगी जरुर !



इस पुलिस फ़ोर्स में एक और आयाम जुदा है ! और निचे दिए हुवा फोट आज काल इन्टरनेट पर बहित वायरल हो रहा है वह है पृथिका यशिनी जो हाल ही में तमिलनाडु पुलिस में उपनिरीक्षक के पद पर  ज्वाइन की है वह एक किन्नर है !
थिका यशिनी पहली ट्रांसजेंडर पी एस आई
पृथिका यशिनी पहली ट्रांसजेंडर पी एस आई 
वह देश की पहली किन्नर उपनिरीक्षक है ! वह तो IPS बनान चाहती थी लेकिन पिछले दिनों उन्होंने टेस्ट पास कर के उप निरीक्षक बनी है !  पृथिका का उप निरीक्षक बनाने  सफ़र उतना आसन नहीं था !उन्हें इस मुकाम को पाने में बहुत ही मेहनत करनी पड़ी और क़ानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी !

पृथिका यशिनी का जन्म एक ड्राईवर - टेलर के यहाँ सालेम , तमिल नाडू ,में हुई और उनका बचपन  का नाम प्रदीप कुमार था ! और नौ वे क्लास तक की पढाई उन्होंने एक लड़के के रूप में की ! उनके क्रिया कलाप जो थोड़े लडकियों जैसे थे उसके ठीक करने के लिए उनके माता पिता ने मंदिर , बाबाओ तथा डॉक्टर्स के पास लेके गए लेकिंन कुछ नहीं ठीक हुवा !

जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को स्टेट बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

जब ओ 9 वी क्लास में पढ़ रही थी तो उनको लगा की वह लड़का नहीं है ! उन्होंने अपना ग्रेजुएशन कंप्यूटर एप्लीकेशन में किया ! तथा 2011 अपना घर छोड़ के भाग कर चेन्नई चली गई जहा उनको किन्नर लोगो के बीच अपनी पहचान मिली !वह किन्नर बन गयी !

उन्होंने  चेन्नई के एक वीमेन हॉस्टल के वार्डन के रूप में कार्य सुरु किया ! जब तमिलनाडु में 1087 उपनिरीक्षक की भर्ती निकली तो उन्होंने अप्लाई किया लेकिन उनका एप्लीकेशन रिजेक्ट होगया क्यों की एप्लीकेशन में दो (मेल और फीमेल ) केटेगरी था और ट्रांसजेंडर के लिए कॉलम नहीं था ! इस बात को उन्होंने मद्रास हाई कोर्ट में चैलेंज किया जिसमे  में मद्रास हाई कोर्ट ने Tamil Nadu Uniformed Services Recruitment Board (TNUSRB)  को आर्डर दिया की उनका टेस्ट लिया जाय  !
पृथिका यशिनी रिक्रूटमेंट मेज़रमेंट
पृथिका यशिनी रिक्रूटमेंट मेज़रमेंट 
उनका रिक्रूटमेंट टेस्ट जो की लिखित , फिजिकल एन्दुरांस  टेस्ट तथा  इंटरव्यू था ! उन सब को उन्होंने ने पास किया !

जरुर पढ़े : आधार कार्ड को पान कार्ड से कैसे लिंक करे ?

उसके बाद मद्रास हाई कोर्ट ने  6 नवम्बर  2015  को आर्डर पास  किया TNUSRB  को की  पृथिका याशिनी को पुलिस उपनिरीक्षक के पद पे अप्पोइंत किया जाय और उसके अलावा TNUSRB के आदेश दिया के एप्लीकेशन में मेल ,और फीमेल के अलावा ट्रांसजेंडर को तीसरी ग्रुप में डाले !

इतनी लड़ाई के बाद  पृथिका याशिनी अपने 21 और ट्रांसजेंडर साथियो के साथ तमिलनाडु पुलिस फ़ोर्स को ज्वाइन किया और उस बात को चरितार्थ कर दिया की लड़ने वालो को कभी हार नहीं होती !उनका अपॉइंटमेंट चेन्नई पुलिस कमिश्नर स्मिथ सरन ने  अप्रैल 2017 को दी!
पृथिका यशिनी अपॉइंटमेंट आर्डर
पृथिका यशिनी अपॉइंटमेंट आर्डर
पृथिका याशिनी अभी तमिल नाडू के धर्मपुरी जिले  में लॉ & आर्डर विंग में तैनात  है !

इसे भी पढ़े :


  1. स्मोक और इल्लू बम का चाल और बेसिक डाटा
  2. 2" मोर्टार का परिचय,और खुबिया तथा इसकी खामिया
  3. 51 mm मोर्टार छोटी छोटी बाते
  4. 51 mm मोर्टार डिटैचमेंट का काम, बनावट और फायर कण्ट्रोल करने का तरीका
  5. 51 mm मोर्टार के भरना और खली करने का तरीका तथा बम को तैयार करना
  6. 51 mm मोर्टार का ले और फायर तथा मिस फायर पे करवाई
  7. 7.62 mm MMG के प्रकार तथा टेक्निकल डाटा 7.62 mm MMG के ?
  8. 7.62 mm MMG को खोलना और जोड़ने का तरीका
  9. 7.62 mm MMG को भरना और खाली करने का तरीका

Wednesday, October 25, 2017

9mm CZ-99 Pistol से परिचय

पिछले पोस्ट में हमने LMG के फिक्स्ड लाइन पर की दो हालातो में लगते है इसके बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में हम आर्म्ड फ़ोर्स के द्वारा इस्तेमाल होने वाले कुछ आधुनिक पिस्टल के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्राप्त करेंगे !




जैसे की हम जानते है की आवश्कता अविष्कार की जननी है  उसी बाते को ध्यान में रख कर और फ़ौज की जरूरतों को ख्याल  करते हुए हथियारों का विकाश किया जाता है !

आधुनिक हथियारों का विकाश इस बात में ध्यान रख कर की जाती है की हथियार के घातकता , और एक जवान उसे आसानी से ऑपरेट कर सके और ऑपरेशन के दौरान टूट फुट तथा रोके कम से कम पड़े !तथा दिया गया टास्क एक जवान आसानी से हासिल कर सके इस सब बातो के ध्यान में रख कर हथियारों को आधुनिक बनाया जाता है !


जरुर पढ़े : 9 mm पिस्तौल की खुबिया और कमिया 


इन सब बातो के अलावा यह भी ध्यान में रखा जाता है एक हथियार के इस्तेमाल के दौरान ह्यूमन राईट के उलंधन को कम कैसे किया जाय और इसको कम करने के लिए हमने देखा की सेमी आटोमेटिक हथियारों में तीन राउंड ब्रस्ट फायर करने की क्षमता का विकाश किया गया जिससे की ह्यूमन  राईट के प्रोटेक्शन के साथ साथ अमुनिसन के बचत में भी काफी उपयोगी साबित हुवा !

इस पोस्ट में हम निम्न आधुनिक पिस्टल के बारे में सक्षिप्त जानकारी प्राप्त  करेंगे :

  1. 7.62 mm मचिन पिस्टल टाइप 80 (7.62 mm Machine Pisto type-80)
  2. 6.35 mm TPH पिस्टल(6.35 mm TPH pistol)
  3. 9 mm मॉडल M-88 पिस्तोलेंन (9 mm model M-88 pistolein)
  4. 9 mm UG पिस्टल ( 9 mm UG pistol)
  5. 9 mm CZ-99 पिस्टल ( 9mm CZ-99 Pistol)
जरुर पढ़े : 9 mm पिस्तौल का बेसिक टेक्निकल  डाटा 


1.7.62 mm मचिन पिस्टल टाइप 80 (7.62 mm Machine Pisto type-80): यह चाइना की बनी हिस पितोल है जिसमे सर्विस प्रेशर अमुनिसन का प्रयोग किया जाता है ! इस मो दो प्रकार की डिटैचअबल मग्चिन आती है ! इस मी मग्चिन कैपेसिटी 10 राउंड और 20 राउंड होता है ! यह एक लाइट वेट पिस्तोल है और इसका इफेक्टिव रेंज 100 मीटर है ! 

बेसिक डाटा ऑफ़ 7.62 mm मचिन पिस्टल टाइप 80 (7.62 mm Machine Pisto type-80)
  • खाली पिस्तोल का  वेट 1160ग्राम ,
  •  लम्बाई : 300 mm 
  •  बैरल की लम्बाई 140 mm है !
  • मगज़ीन कैपेसिटी : 10 या 20 राउंड
  • मागज़ीने टाइप : दो प्रकार की डिटैचअबल मग्चिन 10 या 20 राउंड कैपेसिटी 
  • रेट ऑफ़ फायर : 850 राउंड्स पैर मिनट 
  • मजल वेलोसिटी : 470 m/s
  • इफेक्टिव रेंज : 100 मीटर
  • मैक्सिमम रेंज : 1000 मीटर 
  • किस प्रिंसिपल पर काम करता है : शोर्ट रेकॉइल ओपेरातेड , लॉक्ड ब्रीच (Short recoil operated with locked breech)
  • राउंड्स : 7.62 mm x 25 mm 
  • कैलिबर : 7.62 mm 
जरुर पढ़े : 2" मोर्टर का टेक्नीकल  डाटा और पार्ट्स का नाम 

2.6.35 mm TPH पिस्टल(6.35 mm TPH pistol): यह जर्मनी का बनी हुई ब्लो बेक के सिद्धांत पर कार्य करने वाली पिस्टल है इसका इस्तेमाल असं और वज़न में हलकी है !


बेसिक डाटा ऑफ़ 6.35 mm TPH पिस्टल(6.35 mm TPH pistol)


  • खाली पिस्तोल का  वेट : 325 ग्राम ,
  •  लम्बाई : 135 mm (5.3 इंच)
  •  बैरल की लम्बाई :71 mm(2.8 इंच) !
  • मगज़ीन कैपेसिटी : 6 राउंड
  • मागज़ीने टाइप :  डिटैचअबल मग्चिन 6  राउंड कैपेसिटी 
  • मजल वेलोसिटी : 1080 ft/s
  • इफेक्टिव रेंज : 45 मीटर
  • किस प्रिंसिपल पर काम करता है : स्ट्रेट ब्लोव्बैक  (Blowback)
  • राउंड्स : .22 LR & .25 ACP
जरुर पढ़े :Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
3. 9 mm मॉडल M-88 पिस्तोलेंन (9 mm model M-88 pistolein): यह पिस्टल भी युगोस्ल्वाकिया(सर्बिआ) की बनी हुई है इसमें सुरक्षा के लिए विशेष उपाय किये गए है !  इसकी मागज़ीने में 15 राउंड आते है और यह डबल एक्शन पे कार्य करता है !

बेसिक डाटा ऑफ़  9 mm मॉडल M-88 पिस्तोलेंन(9 mm model M-88 pistolein)
  • मैन्युफैक्चरिंग इयर  : 1987
  • मैन्युफैक्चरर : ज़स्तावा आर्म्स 
  • वैरिएंट : M88A
  • वजन : 750 ग्राम
  • लम्बाई : 175 mm 
  • बैरल की लम्बाई : 96 mm 
  • हाइट : 130 mm 
  • कार्ट्रिज : 9 mm पराबल्लम ,
  • मागज़ीने कैपेसिटी : 8 राउंड 
  • प्रिंसिपल ऑन व्हिच वर्क :शोर्ट रेकॉइल  एकचुयेटेड लॉक्ड ब्रीच सिंगल एक्शन 
  • साईट : आयरन साईट 
जरुर पढ़े :AKM का चाल और उसका पार्ट्स का नाम


4.  9 mm UG पिस्टल ( 9 mm UG pistol):यह इस्राइल का बना हुवा पिस्टल UG सब मशीन गन का छोटा रूप है ! यह सेमी आटोमेटिक है ! इसकी मागज़ीने कैपेसिटी 20 राउंड है तथा दोनों हाथो की मजबूत ग्रिप से कुशलता से फायर किया जा सकता है !

5. 9 mm CZ-99 पिस्टल ( 9mm CZ-99 Pistol): यह पिस्टल युगोस्ल्वाकिया की बनी हुई है ! इसमें
कोई सेफ्टी कैच  नहीं है ! इसमें फायरिंग पिन को ऐसा डिजाईन किया गया है की ऑटोमैटिक की वह खुद सेफ्टी सिस्टम से जुड़ा हुवा है और वह तभी बहार आता है जब  ट्रिगर को अंतिम दबाओ पड़ता है ! यह पिस्टल आसानी से दोनों हाथो से फायर किया जा सकता है !यह पिस्टल 1989 में डेवलप्ड किया गया M57 पिस्टल को रेप्लास करने के लिए !

बेसिक डाटा ऑफ़ 9 mm CZ-99 पिस्टल ( 9mm CZ-99 Pistol)
  • मैन्युफैक्चरिंग इयर  : 1989
  • मैन्युफैक्चरर : ज़स्तावा आर्म्स 
  • वैरिएंट : CZ-99
  • वजन : 970 ग्राम
  • लम्बाई : 190 mm 
  • बैरल की लम्बाई : 108 mm 
  • हाइट : 140 mm 
  • कार्ट्रिज : 9 mm पराबल्लम ,
  • मागज़ीने कैपेसिटी : 15 राउंड 
  • प्रिंसिपल ऑन व्हिच वर्क :रेकॉइल ओपेरतेड
  • साईट : ओपन स्टील 
  • इफेक्टिव रेंज : 50 मीटर 

इस प्रकार से यहाँ आधुनिक पिस्टल से सम्बंधित  पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइबऔर फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित  करे  !
इसे भी पढ़े  :

  1. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  2. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  3. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  4. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  6. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  7. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  8. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.
  9. AKM राइफल का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  10. 7.62mm SLR के पार्ट्स का नाम और 7.62 mm SLRराइफल का चाल

Tuesday, October 24, 2017

LMG को फिक्स्ड लाइन पर कीन दो हालातो में लगाया जाता है ?

पिछले पोस्ट में हमने फायरर द्वारा फ्लिंच, बक और जर्क की गलती के बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में हम जानेंगे की एल एम् जी को फिक्स्ड लाइन पर कब कब लगाया जाता(LMG ko fixed line pe kab kab lagaya jta hai hai ) है !



कभी कभी ऐसे मौके आते है जबकि किसी खास इलाके और खास समय पर LMG फायर करेने की जरुरत होगी जबकि दिखाई (Visisbility) बहुत ही कम हो ! जैसे रात, धुवा या धुंध हो ऐसी हालातो में LMG को टराइपोड या इम्प्रोवाइज्ड टराइपोड पर माउन्ट करके फायर किया जाता है !इसको फिक्स्ड लाइन कहते है ! LMG को फिक्स्ड लाइन पर उन जगहों पे लगाया जाता है जहा से दुश्मन का आने का इमकान ज्यादा हो !

जरुर पढ़े : इंसास एलएमजी में पड़ने वाले रोके और फौरी इलाज से दूर करने का तरीका

यह एक बहुत ही संक्षेप्त पोस्ट है जिसमे हम जानेगे की :
  1. LMG की फिक्स्ड लाइन पर कब लगया जाता है (LMG ko fixed line par kab lagaya jata hai?)
  2. LMG को फिक्स्ड लाइन पर लगाने केलिए दो हालात  कौन कौन से है  (LMG ko fixed line pe lagane ke do halat kaun kaun se hai)
1. LMG की फिक्स्ड लाइन पर कब लगया जाता है (LMG ko fixed line par kab lagaya jata hai?): LMG को फिक्स्ड लाइन पर हमेशा डिफेन्स में लगे जाती है ! इस हालात  में LMGका टास्क अपने फ्रंट के अलावा अपने पड़ोस वाले  सेक्शन को भी कवर फायर देना होता है इससे एक दुसरे म्यूच्यूअल  सपोर्ट दिया जा सके !

इससे यह यकीं किया जाता है हमला करने वाले दुश्मन को हर समय कम से कम दो LMG का सामना करना पड़ेगा !इस तरह से हम जान गए की LMG को फिक्स्ड लाइन पर केवल डिफेन्स के दौरान लगे जती है जिससे की दुश्मन को अपने और अपने पदोस्वाली पोस्ट के ऊपर हमला करने से रोकना या मार गिराने के लिए लगे जाती है !


2. LMG को फिक्स्ड लाइन पर लगाने केलिए दो हालात  कौन कौन से है  (LMG ko fixed line pe lagane ke do halat kaun kaun se hai): जैसे की ऊपर जान  गए की LMG को फिक्स्ड लाइन पर अपने और अपने पड़ोस वाली पोस्ट की रक्षा करने के लिए लगाई जाती है! LMG को फिक्स्ड लाइन पर इन दो हालातो में लगाई
जाती है :
  • जब अपनी ट्रूप्स या FDL का बचाव करना हो !
  • जब की केवल अपना बचाव करना हो !
इन ऊपर बताई गई दो हालातो में LMG को फिक्स्ड लाइन पे लगाया जाता है और दोनों हालातो में यह साफ दर्शाता है की LMG को फिक्स्ड लाइन में डिफेन्स समय लगाया जाता है !


इस प्रकार से यह LMG को फिक्स्ड लाइन पे किन किन हालातो में लगाई जाती है से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइबऔर फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित  करे  !

इसे भी पढ़े  :
INSAS LMGमें पड़ने वाली गैस की कमी का रोक और उसे दूर करने का तरीका
INSAS LMG में पड़ने वाले अन्य रोके तथा उसे दूर करने का तरीका
9mm पिस्तौल के चाल और चाल में सामिल होने वाले हिस्से पुर्जे
9 mm पिस्तौल में पड़ने वाले रोके और उसे दूर करने का तरीका
9mm कार्बाइन मचिन के रोके और उसे दूर करने का तरीका
इंसास राइफल के थ्री ब्रस्ट मेचानिस्ज्म की चल और पुर्जे
जनरल टेक्निकल डिटेल्स 5.56 mm इंसास राइफल के कार्ट्रिज के बारे में
इंसास राइफल की दुरुस्त ट्रिगर ऑपरेशन
36 ग्रेनेड के बेसिक जनरल डाटा और ग्रेनेड का इस्तेमाल और पार्ट्स के नाम
नॉ-36 ग्रेनेड का खोलना जोड़ना और ग्रेनेड की चाल


Sunday, October 22, 2017

कैसे यह पाता करे की आपका बैंक अकाउंट आपके आधार नंबर से लिंक है या नहीं?

हमने अपने पिछले पोस्ट में पिछले पोस्ट में यह जानकारी शेयर किया था की  एस एम् एस  द्वारा आधार नंबर और पान नंबर को कैसे लिंक कर सकते है (SMS dwara adhar aur PAN number ko kaise link karer)! इस पोस्ट में हम जानेगे की कैसे यह पाता करे की आपका बैंक अकाउंट  आपके आधार नंबर से लिंक है या नहीं !(Kaise pata kare ki mera bank acount mere adhar se lnik hai ki nahi)



कुछ महीनो से बहुत ही विरोधाभाष  खबरे आ रही थी की बैंक जोर दे रहे थे की उनके सभी अकाउंट होल्डर अपना अपना अकाउंट को आधार और पान  नंबर से लिंक करे नहीं तो अकाउंट बंद हो जायेगा वही समाचार पत्रों में खबर आती थी की उच्चतम न्यालय ने ऐसा करने रोक दिया है ! इन विरोधाभाषों के कारन बहुत लोगो ने नंबर लिंक करा लिया था लेकिंग कुछ लोग नहीं कराये थे !

जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को स्टेट बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

लेकिंन इन सब खबरों के विरोधाभाष को  रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने शनिवार दिनाक  21  अक्टूबर 2017  को एक प्रेस रिलीज़ के द्वारा दूर कर दिया और यह अनिवार्य कर दिया है की सभी को अपना आधार नम्बर को बैंक अकाउंट से लिंक करना ही पड़ेगा और यह कार्य 31  दिसंबर 2017  से पहले हो जानी चाहिए !

रिज़र्व बैंक ने एंटी मनी लौंडरी एक्ट का हवाला देते हुए आधार नंबर और बैंक अकाउंट को लिंक करने की अनिवार्यता  बताया है और इसको लिंक करेने की आखरी तारीख 31  दिसम्बर  2017  रखी ही !

वैसे से आधार नम्बर को लिंक करने का प्रयास बैंक्स बहुत महीनो से कर रहे है और बहुत लोगो ने अपना अकाउंट को  से लिंक भी कर दिया है लेकिंन आप कैसे चेक करेंगे की आपका बैंक अकॉउंट आधार से लिंक है की नहीं !


जरुर पढ़े : आधार कार्ड को पान कार्ड से कैसे लिंक करे ?


कैसे जाने की आपका बैंक अकॉउंट आपके आधार नम्बर से लिंक है की नहींKaise pata kare ki mera bank acount mere adhar se lnik hai ki nahi) ! इस बात को जानने के लिए हम निचे दो सरल तरीके बता रहे है जिससे आप यह जान सकेगए की आपका अकाउंट आधार से लिंक है की नहीं !


  1. इंटरनेट से कैसे जाने की आपका बैंक अकॉउंट आपके आधार नम्बर से लिंक है की नहीं(Internet se Kaise pata kare ki mera bank acount mere adhar se lnik hai ki nahi)
  2. एस एम एस से कैसे जाने की आपका बैंक अकॉउंट आपके आधार नम्बर से लिंक है की नहीं(SMS se Kaise pata kare ki mera bank acount mere adhar se lnik hai ki nahi)

1.  इंटरनेट से कैसे जाने की आपका बैंक अकॉउंट आपके आधार नम्बर से लिंक है की नहीं(Internet sse Kaise pata kare ki mera bank acount mere adhar se lnik hai ki nahi): इंटरनेट के द्वारा जानने के लिए निम्न स्टेप्स को फॉलो करे:
Check adhar and bank acount link status
Check adhar and bank acount link status
  • www.uidai.gov.in  जो की आधार का आधिकारिक वेबसाइट है वहा विजिट करे  
  • उस वेब पेज पे आप " आधार एवं बैंक लिंक स्टेटस" पे क्लिक करे 
  •  एक फॉर्म खुलेगा जिसके अन्दर आप अपना आधार नंबर  डाले 
  • उस पेज पे सिक्योरिटी कोड दिया होगा उसको इंटर करे 
  • तथा आपके मोबाइल जो  आधार के साथ लिंक है उसके ऊपर otp  आया होगा उसको इंटर  करे !
  • यह सब करेने के बाद आपका डिटेल आ  जायेगा की आपका आधार आपके बैंक अकॉउंट से लिंक है की नहीं !
  • इस मैसेज का एक कॉपी आपको ईमेल के द्वारा भी भेजी जाएगी !
Enter details to check adhar and bank link status
Enter details to check adhar and bank link status 

2. मोबाइल एस एम एस से कैसे जाने की आपका बैंक अकॉउंट आपके आधार नम्बर से लिंक है की नहीं(SMS se Kaise pata kare ki mera bank acount mere adhar se lnik hai ki nahi): इस विधि से जानकारी प्राप्त करने के लिए आपको निम्न तरीके अपनाना पड़ेगा !
  • *99 *99 *1 अपने रजिस्टर मोबाइल पे  डायल करे 
  • उसके बाद एक ऑप्शन आएगा वह अपना आधार नंबर इंटर  करे 
  • यह सुनिश्चित करे की आपके द्वारा इंटर  आधार नंबर सही है 
  • इसके बाद एक कन्फर्मेशन मेसेज  आएगा की आपका आधार नम्बर बाइक अकाउंट से लिंक है की नहीं !
इन दोनों विधिओ द्वारा केवल और केवल अपना सबसे आखरी में लिंक किया हुवा बैंक अकाउंट के बारे में ही जान सकते है ! अगर आपके पास एक से ज्यादा अकॉउंट है और सभी के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आपको अपने बैंक में जाना ही होगा !  आप आधार और बैंक अकाउंट लिंक की जानकारी उसी मोबाइल नंबर से प्राप्त कर सकते है जो मोबाइल आपके आधार से लिंक है !

जरुर पढ़े : फील्ड फोर्टीफीकेसन में इस्तेमाल होने वाले फौजी टेकटिकल शब्दों का क्या मतलब


इस प्रकार से यहाँ आपका बैंक अकाउंट  आपके आधार नंबर से लिंक है या नहीं  से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुई ! यह एक छोटा पोस्ट था उम्मीद है की पोअस्त जरुर पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज लाइक कर के हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित करे !


इसे भी पढ़े :

  1. स्मोक और इल्लू बम का चाल और बेसिक डाटा
  2. 2" मोर्टार का परिचय,और खुबिया तथा इसकी खामिया
  3. 51 mm मोर्टार छोटी छोटी बाते
  4. 51 mm मोर्टार डिटैचमेंट का काम, बनावट और फायर कण्ट्रोल करने का तरीका
  5. 51 mm मोर्टार के भरना और खली करने का तरीका तथा बम को तैयार करना
  6. 51 mm मोर्टार का ले और फायर तथा मिस फायर पे करवाई
  7. 7.62 mm MMG के प्रकार तथा टेक्निकल डाटा 7.62 mm MMG के ?
  8. 7.62 mm MMG को खोलना और जोड़ने का तरीका
  9. 7.62 mm MMG को भरना और खाली करने का तरीका

Sunday, October 15, 2017

एक फायरर द्वारा फ्लिंच, बक, और जर्क का गलती क्या होता है ?

पिछले पोस्ट में हमने हथियारों के ट्रेनिंग देने का बारे में जानकारी प्राप्त किया ! इस पोस्ट में हम के बार बार ट्रेनिंग उस्तादों को द्वारा इस्तेमाल होनेवाले शब्द  झिझक(Flinch), कंधा मरना (Buck) और झटका (जर्क) के बारेमे जानेगे !




ऊपर बताये शब्द ऐसे है जो हथियारों के सिखलाई और फायरिंग प्रैक्टिस के दौरान हमेशा बताई जाती है ! यह तीनो शब्द एक फायरर के द्वारा फायरिंग करते वक्त जब गलती करता है और उसके द्वारा फायर किया गया गोली टारगेट पे नहीं लगती है तो उस दौरान इन शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है !



इस पोस्ट को अच्छी तरह से समझने के लिए हमने इसे निम्न भागो में बाँट दिया है :


  1. झिझक क्या होता है (flinch kya hota hai )
  2. कंधा मारना (Buck kya hota hai)
  3. झटका किसे कहते है !(Jerk kya hota hai )

1.झिझक का क्या होता है (flinch kya hota hai ): जब फायरर फायर के धक्के से घबराता है तो वह सिर मरता है , आंखे बंद करता है, बाएं हाथ को कड़ा करता है और कंधे को पीछे खींचता है  इस सब गलतियों को हम झिझक की गलती कहते है !



जब फायरर झटका या फ्लिंच का गलती करता है तो उसके द्वारा फायर की गई गोली पॉइंट ऑफ़ एम पे न लग कर  ग्यारह बजे (11 O'Clock) की लाइन में लगती है !

जरुर पढ़े :9 mm पिस्तौल का खुबिया और खामिया


2. कंधा मारना (Buck kya hota hai): जब फायरर फायर के धक्के को रोकने के लिए कंधे को आगे धकेलता और बाएं हाथ को कड़ा करता है तो इस गलती को हम कंधा मरना या बक (Buck) कहते है !

जब फायरर कंधा मारना या बक (Buck)का गलती करता है तो उसके द्वारा फायर की गई गोली पॉइंट ऑफ़ एम पे न लग कर  सात बजे (7 O'Clock) की लाइन में लगती है !

जरुर पढ़े :9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया

3. झटका किसे कहते है !(Jerk kya hota hai ): यह गलती फायरर उस वक्त करता है जब दुरुस्त साईट पिक्चर मिलते ही ट्रिगर को एक दम दबा देता है या फायर काफी देर तक साँस को रोके रखने के बाद छोड़ने से पहले ट्रिगर को झटके से दबा देता ! इस गलती को हम झटका या जर्क की गलती कहते है  

जब फायरर झटका या जर्क (jerk)का गलती करता है तो उसके द्वारा फायर की गई गोली पॉइंट ऑफ़ एम(Point of aim) पे न लग कर  चार  बजे (4 O'Clock) की लाइन में लगती है !

जरुर पढ़े :9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II

गोलिया चार बजे की लाइन में लगने का एक और कारन यह भी हो सकता है की फायर र फायर करते करते बाएं हाथ को अन्दर की ओर हिला देता है !

जरुर पढ़े : 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I

इस प्रकार से यह झटका, बक और जर्क से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुआ !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइबऔर फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित  करे  !
इसे भी पढ़े :

  1. 9 mm पिस्तौल का खुबिया और खामिया
  2. .303 LE राइफल का इतिहास
  3. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  4. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  6. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  7. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  8. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  9. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  10. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.



Sunday, October 8, 2017

फौजी टैक्टिकल वर्ड गुरिल्ला बैंड और गुरिल्ला बेस क्या होता है ?

पिछले पोस्ट में हमने फील्ड फोर्टीफिकेसन से सम्बंधित कुछ टैक्टिकल शब्द जैसे  फायर ट्रेंच , वेपन पिट  और शेल्टर ट्रेंच के बारे में जानकारी शेयर किया इस पोस्ट में हम कुछ और फौजी टैक्टिकल शब्द जैसे एच ऑवर, हाईड, इन्फ्लीट्रेसन   (Fauji tactical word jaise H hours , hide, inflitration etc)यदि के बारे में जानेगे !



फौजी टेक्टिकल शब्दों हम बहुत बार आर्म्ड फ़ोर्स के सीनियर ऑफिसर के ब्रीफिंग अक्सर सुना करते है उन शब्दों में से कुछ शब्दों  का मतलब क्या  होता उसी के बारे में हम यहाँ जानेगे !


जरुर पढ़े :
अम्बुश की जुबानी हुक्म क्या होता है और इसमें सामिल होने वाले मुख्य बाते

इस पोस्ट में हम निम्न फौजी टैक्टिकल शब्दों के बारे में जानेगे:
Gurilla ladai

  1. गुरिल्ला बैंड क्या होता है  (Fauji tactical word Gurilla band kya hota hai )
  2. गुरिल्ला बेस क्या होता है  (Fauji tactical word gurilla base kya hota hai?)
  3. हारबर किसे कहते है  (Fauji tactical word Harbor kise kahte hai )
  4. एच ऑवर  क्या होता है (Fauji tactical wrd H Hours kya hota hai)
  5. हाईड  किसे कहते है (Fauji tactical word Hide kise kahte hai)
  6. इन्फ्लीट्रेसन क्या होता है (Fauji tactical word Inflitration kya hota hai)
1  गुरिल्ला बैंड क्या होता है  (Fauji tactical word Gurilla band kya hota hai ):ऐसे आदमियों का दस्ता जो उसी इलाके के रहने वाले हो और गुरिल्ला किस्म की लड़ाई में भाग ले रहे हो!

2. गुरिल्ला बेस क्या होता है  (Fauji tactical word gurilla base kya hota hai?): गुरिल्ला बेस वह इलाका है जिसमे गुरिल्ला लोग अपनी ट्रेनिंग , अपना बचाव और लड़ाई की तैयारिया करते है ! यह अस्थाई होता है और जल्द खली किया जा सकता है !


3. हारबर किसे कहते है  (Fauji tactical word Harbor kise kahte hai ): वह इलाका जिसमे कोई फौजी दस्ता आराम , रि-ओर्गानाइज  क्र सके और मेंटेनन्स करने के लिए थोड़ी देर के लिए रुकता हो ! उस इलाके में चारो तरफ का बचाव का पोजीशन लेता है !

4.एच ऑवर  क्या होता है (Fauji tactical wrd H Hours kya hota hai): "एच " ऑवर ऑपरेशन के शुरू होने वाले समय को कहते है यह वह समय होता है जबकि हमला करने वाली फ़ौज स्टार्ट लाइन को पर करती है ! ऑपरेशन के तमाम दुसरे वक्त इलाके के लिहाज से मुकरर किया जाता है  जैसे 
  • "एच" ऑवर से 2 घंटे पहले एच माइनस 2 (h-2 )
  • "एच" ऑवर से 2 घंटे बाद  एच  प्लस  2 (h+2 )
जब मिनट जाहिर करना होतो इनको लिखना जरुरी है ! जैसे की "एच" प्लस 90 मिनिट या "एच " माइनस 33 मिनिट यदि ! एक ऑपरेशन का एकही "एच" ऑवर होता है !


6. हाईड  किसे कहते है (Fauji tactical word Hide kise kahte hai): एक पहले से चुनी हुई छुपाव का वह जगह जहा से यूनिट/सब यूनिट को हुक्म का इन्तेजार करना पड़ता है !

7.इन्फ्लीट्रेसन क्या होता है (Fauji tactical word Inflitration kya hota hai): दुश्मन द्वारा कब्ज़ा की हुई जमीं के बीच से हरकत छोटी छोटी तोलिया में की जाती है  और हरकत के दौरान पूरी कोशिश की जाती है की दुश्मन से कोई लगाव न हो ऐसी करवाई को इन्फ्लीट्रेसन कहते है !

इस प्रकार से कुछ दिए हुए फौजी शब्दों के मतलब से सम्बंधित पोस्ट यहाँ समाप्त हुए ! उम्मीद है पोस्ट पसंद आएगा ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे !
इसे भी पढ़े :
  1. सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान
  2. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II
  3. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -I
  4. कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी
  5. पेट्रोलिंग के परिभाषा और पेट्रोलिंग के प्रकार
  6. पेट्रोलिंग पार्टी को ब्रीफिंग देने का तरीका ?
  7. अम्बुश का परिभाषा और अम्बुश की पार्टिया
  8. अम्बुश  की पार्टियो को ब्रीफिंग देने के तरीका
  9. फायर कण्ट्रोल आर्डर और फायर डिसिप्लिन क्या है ?
  10. सेक्शन बैटल ड्रिल और उसे सफल बनाने वाली बातें