Search

31 May 2022

आसान तरीके से जाने 7.62 mm IWT एसएलआर राइफल को भरना , राइफल को खाली करना और मेक सेफ की करवाई

पिछले ब्लॉग पोस्ट में हमने 7.62 mm राइफल खोलना जोड़ना के IWT को आसान भाषा में समझा और अब इस नई ब्लॉग पोस्ट में हम 7.62 mm एसएलआर राइफल एक एक और IWT(Integrated Weapon Training) को आसन भाषा में समझेंगे और जानेगे की 7.62 mm एसएलआर राइफल को भरना , राइफल को खली करना और मेक सेफ की करवाई ! इस IWT को ट्रेनिंग देते समय जिस क्रम से चलाया जाता है उसी क्रम में इस ब्लॉग पोस्ट में दिया गया है जिसको पढ़ कर एक वेपन ट्रेनिंग के उस्ताद वेपन की क्लास चला सकता है ! 

7.62 mm Rifle ka IWT
7.62 mm Rifle ka IWT

क्रमबद्ध इस प्रकार से है :

1. एक शुरू शुरू का काम 

  • क्लास की गिनती और ग्रुपों में बांट हथियार 
  • और सम्मान का निरीक्षण।
  •  बंदोबस्ती की कार्रवाई 
2 सक्षिप्त विवरण : राइफल जवानों का जातीय हथियार है इसीलिए राइफल का भरना, खाली करना, रेडी और मेक सेफ  की करवाई सभी जवानों को जानना जरूरी है ताकि जरूरत पड़ने पर करवाई  कर सकें। 

3.उद्देश्य: 

  • 7.62 एमएम राइफल के मैगजीन को भरना 
  • राइफल भरना 
  • साइट लगाना
  •  रेडी 
  • मेक सेफ 
  • और खाली करने का आसान तरीका सीखना है। 
4. समान: 

  • राइफल 
  • मैगजीन 
  • ड्रिल का कार्ट्रिज 
  • टारगेट 
  • और ग्राउंड  सीट। 
5 भागों में बांट 
  • भाग -1- राइफल के मैगजीन को भरना और खाली करना। 
  • भाग -2- साइट लगाना और रेंज हासिल करना। 
  • भाग -3 -राइफल भरना रेडी मेक सेफ और खाली करना। 
भाग -1- 
राइफल के मैगजीन को भरना और खाली करना
  • मैगजीन भरने से पहले उसका मुलाहिजा करें। 
  • मैगजीन स्प्रिंग  को चेक करें और देखें कि मैगजीन कहीं से दबा तो नहीं है। 
  • मैगजीन को किसी हाथ से इस प्रकार पकड़े की बड़ी साइज बाहर की तरफ हो। 
  • दूसरे हाथ से मुनासिब राउंड  को इस प्रकार पकड़े की राउंड का पेंदा बाहर की तरफ और बुलेट अपनी तरफ रखते हुए 
  • किसी मुलायम स्थान पर दोनों हाथों की उंगली और अंगूठे के सहारे एक एक  का राउंड भरे। 
  • इस प्रकार एक मैगजीन में 20 राउंड भरे जाते हैं। 
  • मैगजीन भरने से पहले राउंड की सफाई कर ली जाए। 
मैगजीन खाली करना 
  • मैगजीन को खाली करने के लिए किसी नुकीली चीज की मदद से राउंड के खिलाफ दबाते हुए 
  • मैगजीन को खाली करें। 
  • अगर राउंड से मैगजीन को खाली किया जा रहा हो तो एक-दो  राउंड के बाद राउंड की बदली करें।
  •  राउंड का गिराव साफ जगह पर हो। 
भाग 2 
साइट लगाना और रेंज हासिल करना 
  • राइफल बैक साइड के 3 बड़े हिस्से होते हैं: बेड, स्लाइड ,और लिप। 
  • लिप को खड़ा किया जाए इसमें अप्रेजर होता है। 
  • बेड पर 3 से लेकर 6 तक अंक खुले हुए हैं जो 300 गज से 600 गज को जाहिर करता है। 
  • जब स्लाइड पीछे हो तो 200 गज का रेंज हासिल होता है। 
भाग 3 
राइफल भरना रेडी मेक सेफ और खाली करना 
  • जब राइफल पर भरी मैगजीन चढ़ी हुई हो और सेफ्टी कैच एस पर हो तो राइफल भरी मानी जाती है। 
  • जब राइफल कॉक हो और चेंबर के अंदर राउंड हो और  सेफ्टी कैच आर  पर हो तो राइफल रेडी  मानी जाती है 
  • जब राइफल के  चेंबर के अंदर राउंड न हो और  मैगजीन खाली हो तथा सेफ्टी कैच का पोजिशन एस पर हो तो राइफल खाली मानी जाती है। 
राइफल का भरना:जब फायर को टारगेट दिखाई दे या प्रशिक्षण के दौरान आदेश मिले भर तो करवाई इस प्रकार करें :
  • सेफ्टी कैच एस पर करें मैगजीन कैच को दबाते हुए खाली मैगजीन को उतारें पाउच में रखें 
  • और पाउच से भरी हुई मैगजीन को निकाले 
  • और निरीक्षण करते हुए मैगजीन वे में दाखिल करें 
  • पाउच का बटन बंद करें। 
रेडी
  • रेडी उस उस वक्त किया जाता है जब फायर फायर करने का इरादा रखता हो या टारगेट दिखाई दे या आदेश मिले रेडी तो करवाई इस प्रकार की जाती है। 
  • रेडी के आदेश पर राइफल को कॉक  करें 
  • सेफ्टी कैच की पोजीशन को आर पर करें 
  • बट कंधे का मिलाप करते हुए कलमें वाली उंगली ट्रिगर पर रखते हुए 
  • अगले हुकुम का इंतजार करें। 
मेक सेफ:
  • मेक सेफ के आदेश पर कलमे वाली उंगली को ट्रिगर से अलग करते हुए सेफ्टी कैच की पोजीशन को एस पर करें 
  • पाउच का बटन खोलें 
  • भरी मैगजीन को उतारें और पाउच में रखें। 
  • राइफल को दाहिने टर्न  करते हुए कॉक करें चाल वाले पुर्जे को आगे जाने दें 
  • और ट्रिगर दवाएं तथा सेफ्टी कैच के पोजिशन एस पर करें। 
  • भरी हुई मैगजीन का निरीक्षण करते हुए राइफल पर चढ़ाएं। 
  • जमीन पर गिरे हुए राउंड उठाएं 
  • और साफ करके 
  • दूसरे मैगजीन में भर दे। 
  • पाउच का बटन बंद कर दें
खाली करना: खाली करके आदेश पर 
  •  भरी मैगजीन को उतारे 
  • राइफल को क्लियर करें 
  • और खाली मैगजीन को चढ़ा दें

इस प्रकार से यहाँ एसएलआर के दूसरा IWT समाप्त हुवा !

इसके साथ ही एस एल आर राइफल का खाली करना, रेडी, और मेक सेफ  IWT(इंटीग्रेटेड वेपन ट्रेनिंग ) से सम्बंधित ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुई ! उम्मीद है की आपलोगों के ए पोस्ट पसंद आएगी !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!
इसे भी  पढ़े :

  1. भारतीय पुलिस ड्रिल ट्रेनिंग में इस्तेमाल होने वाले परेड कमांड का हिंदी -इंग्लिश रूपांतरण
  2. ड्रिल में अच्छी पॉवर ऑफ़ कमांड कैसे दे सकते है
  3. ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते
  4. VIP गार्ड ऑफ़ ऑनर के नफरी और बनावट
  5. विश्राम और आराम से इसमें देखने वाली बाते !
  6. सावधान पोजीशन से दाहिने, बाएं और पीछे मुड की करवाई
  7. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  8. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  9. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम


30 May 2022

7.62 mm सेल्फ लोडिंग राइफल के खोलना जोड़ना तथा सफाई करने को आसान तरीके से

पिछले ब्लॉग पोस्ट में हमने एल एम् जी के ज़ेरोइंग करने के असं तरीके के बारे में जानकारी प्राप्त की और अब इस नई ब्लॉग पोस्ट में हम 7.62 mm सेल्फ लोडिंग राइफल के खोलना जोड़ना तथा सफाई करने को आसानभाषा में जानेगे !

इस ब्लॉग पोस्ट को एक हथियार उस्ताद के द्वारा हथियार ट्रेनिंग के दौरान दिजाने वाली ट्रेनिंग के क्रमानुसार लिखा जा रहा है जिससे की इससे समझने में आसानी हो ! 

7.62 mm Rifle ke Parts
7.62 mm Rifle ke Parts
1. शुरू शुरू का काम 

  • क्लास की गिनतीऔर ग्रुपों में बांट। 
  • हथियार और समान का निरीक्षण।
  •  बंदोबस्ती की कार्रवाई। 
2.परिचय (SLR rilfe ka parichay) : राइफल जवानों की जातीय हथियार है इसलिए इसको साफ और ठीक हालत में रखना जवानों की खुद की जिम्मेवारी है ताकि समय आने पर इसका पूरा पूरा फायदा उठा सकें। राइफल की अच्छी देखभाल और सफाई के लिए हर एक  जवान को खोलना जोड़ना और सफाई करने का तरीका सीखना जरूरी है !अगर एक जवान को राइफल  ठीक से खोलना जोड़ना आता हो तो वह राइफल में होने वाले छोटे-छोटे पुरजो की टूट-फूट आसानी से बदली कर सकता है। 

3. उद्देश्य (Aim of this blog post):  इस ब्लॉग पोस्ट  का उद्देश्य 7.62 एमएम राइफल खोलने जोड़ने और सफाई करने के IWT (Integrated Weapon Training) तरीका आसानी से जानना है। 

4 समान(Is blog post ke lie saman): इस ट्रेनिंग को चलने  के लिए समान: राइफल, मैगजीन, बैनेट, सीलिंग, पुल थ्रू , चिंदी ,क्लीनिंग रड एवं क्लीनिंग किट बॉक्स। 

5.भागों में बांट(Bhaago me Bant) 

  • भाग -1 राइफल को खोलना और जोड़ना 
  • भाग -2 सफाई करने का तरीका। 
7. भाग -1  

राइफल को खोलना और जोड़ना(Rifle ko kholna aur jodna) : 

  • यकीन करें कि राइफल खाली है !
  • सेफ्टी कैच को S पर करें और मैगजीन को उतारे 
  • और राइफल को कॉक  करें 
  • ध्यान रखे की राइफल बिना कॉक किये न  खोला जाए 
  • बीना काक के राइफल खोलने पर हैमर प्लंजर गीर सकता है। 
बैनेट और  स्लिंग  को खोलना(Rifle ke boynet aur sling ko kholna) 

  • बैनेट स्टड   को दबाते हुए बैनेट को उतारें और रख दें। 
  • सीलिंग को राइफल से अलग करें। 
गैस प्लग और पिस्टन को खोलना (Gas plug aur piston ko kholna)

  • गैस प्लग के ऊपर दबाव रखते हुए प्लाजर को दबाते हुए घड़ी के सुई के रूप में घूम आए ताकि गैस प्लाग ब्लॉक से अलग हो जाए 
  • और गैस प्लग को साफ जगह पर रखें।
  •  पिस्निटन को निकले तथा पिस्टन से पिस्टन स्प्रिंग को अलग करे 
स्लाइड और ब्रिज ब्लॉक को खोलना (Slide aur bridge block ko kholna)

  • बाएं हाथ से हैंड गार्ड  को पकड़े 
  • और मजल को नीचे की तरफ रखते हुए 
  • दाएं हाथ के अंगूठे की मदद से बॉडी लॉकिंग कैच को पीछे खींचते हुए बट को नीचे की तरफ दबाए 
  • राइफल आसानी से खुलेगी। 
  • बॉडी कवर को पीछे खींचते हुए उतार दें 
  • रिटर्न रड पीछे की तरफ खींचते हुए चाल वाले पुर्जे को बॉडी से अलग करें। 
  • नीचे गिरने से बचाने के लिए अंगुलियों को नीचे रखें। 
  • रिटर्न रड को अपनी तरफ रखते हुए स्लाइड को उल्टा करें। 
  • दाहिने हाथ की अंगुली की मदद से ब्रिज ब्लॉक के अगले भाग को थोड़ा ऊपर उठाएं 
  • दाहिने हाथ के अंगूठे से फायरिंग पिन पर दबाव डालते हुए प्लीज ब्लॉक को स्लाइड से अलग करें। 
राइफल को जोड़ना (Rifle ko jodna)

  • जो पुर्जा सबसे आखिर में खोला गया हो उसे पहले जोड़ा जाए। 
  • पुर्जा को जोड़ते समय रजिस्टर नंबर मिला लेना जरूरी है। 
ब्रिज ब्लॉक और स्लाइड को जोड़ना(Bridge block aur slide ko jodna) 

  • बाएं हाथ से स्लाइड को उल्टा पकड़े 
  • और दाएं हाथ से ब्रिज ब्लॉक के रिटर्नर को स्लाइड के बने कटाव में डालें 
  • और आगे की तरफ दबाएं। 
  • जुड़े हुए स्लाइड और ब्रिज ब्लॉक को दाएं हाथ से पकड़े 
  • बाएं हाथ से राइफल को पकड़े 
  • और स्लाइड के रेसेस के कटाव में मिलाते हुए अंदर दाखिल करें। 
  • साथ ही बॉडी कवर को फिट करें 
  • और  राइफल को एक ही झटके से बंद करें। 
पिस्टन और गैस प्लग  को जोड़ना(Piston aur gas plug ko jodna)
  • पिस्टन स्प्रिंग को  पिस्टन पर चढ़ाएं। 
  • ध्यान रखें कि स्प्रिंग पिस्टन के अगले उभरे हुए सिरे तक पहुंच जाएं। 
  • पिस्टन स्प्रिंग को सिलेंडर में दाखिल करें। 
  • गैस प्लग  को ले और पिस्टन हेड पर रखते हुए नीचे की तरफ दबाएं 
  • और प्लंजर  को दबाते हुए घड़ी के उल्टे रुक घुमाएं ताकि गैस प्लग  का कटा हिस्सा  ऊपर की तरफ आ जाए। 
  • साथ ही यकीन करें कि गैस प्लग ठीक से जुड़ गया है। 
  • अगर राइफल ग्रेनेड फायर करना हो तो गैस प्लग को उल्टा लगाएं। 
बेनेट और सीलिंग को जोड़ना (Boynet aur sling ko jodna)
  • बैनेट को मजल पर इस प्रकार रखें कि बैनेट  रिंग  मजल पर ठीक से बैठ जाए
  • बैनेट स्टड  को दबाते हुए बैनेट को नीचे दबाए बैनेट जुड़ जाएगा। 
  • सीलिंग को राइफल पर चढ़ाएं 
  • राइफल को कॉक  करें और यकीन करें कि पुर्जे ठीक से जुड़ गए हैं। 
  • ट्रिगर को दबाएं और खाली मैगजीन को चढ़ा दें। 
नोट अगर मैगजीन गंदा हो तो मैगजीन को खोलें और सफाई करके जोड़ दें। 

8. भाग-2 
सफाई करने का तरीका (Rifle ko safai karne ka aasan tarika)
राइफल सफाई करने के लिए निम्नलिखित समान  की जरूरत होती है
  • पुल थ्रू
  •  चिंदी 
  • बॉडी ब्रश 
  • रड 
  • वायल केन 
  • चेंबर ब्रश 
  • और कंबीनेशन टूल। 
रोजाना की सफाई या आम सफाई (Rigle ki daily ki safai)
  • राइफल सफाई करने के लिए उपर बताया हुवा सामान की जरूरत होती है 
  • यकीन करें कि राइफल खाली है 
  • सीखे हुए तरीके से राइफल को खोलें 
  • और पुल थ्रू और  जिंदी से बैरल की सफाई करें। 
  • रेड की मदद से सिलेंडर को साफ करें।
  •  बॉडी ब्रश से राइफल के बॉडी को साफ करें। 
  • तेल की बदली करें 
  • और मोटे तौर पर टूट-फूट की जांच करें। 
बैरल की सफाई (Barrel ki safai)
  • बैरल को साफ करने के लिए पुल थ्रू और चिंदी  की जरूरत होती है। चिंदी का साइज़ 4" x 2" और तेल के साथ चिंदी की साइज़ 4" x 1 1/2 " होना चाहिए 
  •  और उनके वेट को चेंबर की तरफ से लगाएं और मजल की तरफ से बाहर निकाले। 
  • यह करवाई तब तक जारी रखें जब तक बैरल साफ ना हो जाए। 
  • ध्यान रखें कि पुल थ्रू रस्सी का  रगड़ के बैरल के मजल के  साथ ना हो। 
  • अंत में हल्का तेल लगा के रखना चाहिए 
इस प्रकार से यह रफिले की IWT समाप्त हुवा !

इसके साथ ही एस एल आर राइफल का खोलना जोड़ना का IWT(इंटीग्रेटेड वेपन ट्रेनिंग ) से सम्बंधित ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुई ! उम्मीद है की आपलोगों के ए पोस्ट पसंद आएगी !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!
इसे भी  पढ़े :

  1. भारतीय पुलिस ड्रिल ट्रेनिंग में इस्तेमाल होने वाले परेड कमांड का हिंदी -इंग्लिश रूपांतरण
  2. ड्रिल में अच्छी पॉवर ऑफ़ कमांड कैसे दे सकते है
  3. ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते
  4. VIP गार्ड ऑफ़ ऑनर के नफरी और बनावट
  5. विश्राम और आराम से इसमें देखने वाली बाते !
  6. सावधान पोजीशन से दाहिने, बाएं और पीछे मुड की करवाई
  7. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  8. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  9. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम


24 May 2022

एल एम् जी के ज़ेरोइंग करने का बहुत ही आसान तरीका

पिछले ब्लॉग पोस्ट में हमने मार्क्स मैंन फायरिंग के आसन तरीके के बारे में जानकारी प्राप्त की और  अब इस ब्लॉग पोस्ट में हम 7.62 mm एल एम् जी के ज़ेरोइंग करने के आसन तरीके के बारे में जानकारी प्राप्त कर्रेंगे !
इस पोस्ट को समझने के लिए आसन बनाने के उद्देश्य से इसे निम्न भागो में बाँट दिया गया है :

1. परिचय(Introduction of LMG Zeroing) किसी भी हथियार से दुरुस्त नतीजा हासिल करने के लिए इसे जीरो करना जरूरी है ताकि इस बात का यकीन हो जाए कि ऊपर नीचे दाहिने बाएं की मार हथियार के साईट के अनुसार दुरुस्त है। राइफल और एलएमजी की जीरोइंग में खास अंतर नहीं है शिवाय की राइफल जवानों का जातीय हथियार है और वह स्वयं फायर करके जीरो करता है जबकि एलएमजी सेक्शन का हथियार है इसीलिए सभी जवानों को उनकी मर्जी के मुताबिक जीरो करना मुमकिन नहीं है। जहां तक संभव हो एलएमजी नंबर एक से ही जीरो  करवाया जाए या अच्छे फायरर  उस्ताद से जीरो कराना चाहिए। बाकी सभी चेक ग्रुप फायर  करके अपने ग्रुप की एमपीआई मालूम कर सकते हैं।


2. जीरो का मतलब( Meaning of LMG Zeroing): एल एम् जी में ऊपर नीचे दाहिने बाएं की गलतियों को दूर करने के लिए साइटों के साथ जो कार्रवाई की जाती है उसे जीरो कहते हैं। 

3.जीरोइंग के फायदे(LMG Zeroing Benefits): एलएमजी को जीरो करके ही  फायर करना चाहिए इसके निम्न पायदे हैं। 
  • फायर को अपने हथियार पर भरोसा हो जाता है। 
  • एक गोली एक दुश्मन का मुद्दा हासिल होता है। 
  • अमुनेशन की बचत होती है। 
  • क्लासिफिकेशन फायर का अच्छा नतीजा मिलता है। 
  • किसी भी प्रकार की प्रतियोगिता में बेहतर नतीजा मिलता है। 
4. ज़ेरोइंग के मौके(Occasion for LMG Zeroing): जब कभी भी एलएमजी की दुरुस्ती पर शक हो जाए तो उसे जीरो कर लेना चाहिए। इसके अलावा कुछ मौके ऐसे होते हैं जब एलएमजी को जीरो करके ही प्रयोग में लाना चाहिए।
  • जब एलएमजी ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से नई आई हो। 
  • एक जवान से दूसरे जवान को दी गई हो। 
  • सालाना फायरिंग से पहले। 
  • लड़ाई में जाने से पहले। 
  • किसी भी प्रकार की मरम्मत के बाद। 
  • हाई एल्टीट्यूड में जाने के बाद और आने के बाद।
5. जीरोइंग से पहले ध्यान में रखने वाली बातें(Before Zeroing points to be kept in mind) : एलएमजी को जीरोइंग करने से पहले कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए जो इस प्रकार है:
  •  तालमेल: कोट  में काफी देर रखने के कारण वहां रोज के प्रयोग से एलएमजी  को तालमेल बिगड़ जाता है अतः जीरोइंग से पहले अर्मेर  से तालमेल ठीक करा लिया जाए।
  • मौसम: खराब मौसम का जीरोइन पर बहुत असर पड़ता है तेज धूप वर्षा कम रोशनी आदि  अतः  जीरोइन के समय मौसम साफ और  रोशनी ठीक हो। 
  • अमिनेशन: अमिनेशन एक ही लौट का प्रयोग में लाया जाए तथा फायर करने से पहले उसे साफ कर लिया जाए।
  • टारगेट: टारगेट 25 यार्ड से जीरोइंग के लिए 1x 1   टारगेट ऐमिंग मार्ग के साथ व 100 गज से जीरो इनके लिए 4 x 4  टारगेट में 4.3 x 3 फीट का वांग ऐमिंग मार्ग के साथ खींचा हुआ हो। 
6. जीरोइंग करते वक्त ध्यान में रखने वाली बातें (While Zeroing points to be kept in mind) :
  • दोनों बैरल को जीरो किया जाए तथा दोनों का रिजल्ट एक जैसा हो।
  • एलएमजी  को जीरो करने के बाद सेक्शन के सभी जवानों से ग्रुप इन फायर करवाकर मास्टर ग्रुप के साथ चेक कर लेना चाहिए। 
  • एलएमजी जीरो कर लेने के बाद इसका रिकॉर्ड कंपनी में रखना चाहिए।
  •  एलएमजी की लाइन ऑफ साइट 1 इंच बाय तथा इसकी एमपीआई 1 इंच दाहिने बनती है इसकी को कभी भी सेंटर में लाने की कोशिश नहीं की जाए। 
  • फायरिंग से पहले उसकी दोनों बैरल  को खुश्क  कर लिया जाए और ब्रिज ब्लॉक का पिस्टन की निचली सतह पर हल्का तेल लगा दिया जाए। 
  • जहां तक संभव हो 100 गज से  ही जीरो किया जाए। 
  • जीरो करने से पहले दोनों बैरल से 10-10 ऑटोमेटिक फायर करके बैरल गर्म कर लिया जाए। 
7.  जीरोइंग के बाद की कार्रवाई(Action after zeroing) :
  • जीरोइंग के बाद एक चेक फायर किया जाए। 
  • जीरोइंग के बाद फोर साइट को पंच कर दिया जाए। 
8. 7.62 एमएम लाइट मशीन गन बी को जीरो करना 
ज़ेरोइंग टूल्स (Tools for zeroing)
  •  स्क्रुड्राइवर 
  • ड्रिफ्ट 
  • स्क्राइबर 
  • हैमर 
  • ब्लेड  फॉर साइट 
9. जीरोइंग का तरीका(Method of LMG Zeroing) 
ऊपर नीचे की गलती को दूर करना(Up and Down Correction):
  • फायर से पहले बैरल को गर्म करने के लिए 10 राउंड भरकर ब्रस्ट  फायर किया जाए। 
  • रेगुलेटर को 3 पर सेट रखें। 
  • बाद में 5 गोलियों फायर कर करें अगर ग्रुप की एमपीआई सही जगह पर है तो एलएमजी जीरो है। 
  • अगर नहीं है तो सबसे पहले ऊपर नीचे की गलती को दूर करें। 
  • एलएमजी में ऊपर नीचे की कुल गलती 28 डिग्री तक दूर की जाती है। 
  • एक एलएमजी के साथ कुल 8 फोर साईट ब्लेड आते हैं। सात रिजर्व और एक एलएमजी पर चढ़ा हुआ रहता है। ब्लड निम्न  नंबर के होते हैं 
    • .25 " या 6.26 mm 
    • .28 " या 7.11 mm 
    • .31" या 7.87 mm 
    • .34" या 8.65 mm 
    • .37" या 9.40 mm 
    • .40' या 10.16 mm 
    • .43" या 10.90 mm 
    • .46" या 11.68 mm 
  • एलएमजी में एक ब्लड फोरसाइट बदली करने पर 4 इंच का टारगेट पर ऊपर नीचे का फर्क पड़ेगा। 
  • एक ब्लेड  से दूसरे ब्लेड  के बीच का अंतर दाहिने बाएं दशमलव जीरो 3 इंच होता है। 
  • प्रोटेक्टर फोर साईट की चौड़ाई -.556" या 14.12 mm 
  • ब्लेड फोर साईट की चौड़ाई .396" या 10.06mm 
  • प्रोटेक्टर और ब्लेड के बीच हरकत की जगह = .08" या 2.03 mm तथा .040 बाए और इतना ही दाहिने होता है !
  • कुल करेक्शन दाहिने बाए का - 080 " दे सकते है 
10. अगर गोली 4 इंच ऊपर लगती है तो स्क्रू ड्राइवर की मदद से प्रोटेक्टर को खोलें। ब्लेड के नंबर को चेक करें अगर ब्लेड .25" का लगा हो तो ब्लेड को ड्रिफ्ट और हैमर की मदद से बाहर निकालो। एक बड़े नंबर की ब्लेड को लगाएं। अगर ब्लेड .37"  का लगी है तो .40" का  लगाएं टारगेट पर कुल 4 इंच ऊपर की गलती दूर होगी। 

11 .इसी प्रकार से नीचे 4 इंच गोली लगने पर डाउन नंबर की ब्लेड लगाएं यानी .31" ब्लेड लगी हो तो .28" ब्लेड को लगाएं नीचे की 4 इंच की गलती दूर होगी। 

12. इस तरह से हम 7  ब्लेड बदली करते हैं तो पर ब्लेड 4 इंच का करेक्शन यानी 7 x  4 = 28 इंच तक का करेक्लेशन  सकते हैं। 

13.दाहिने बाएं की गलती सुधारने का तरीका(Left and Right Correction): 
  • एलएमजी में दाहिने बाएं की गलती 16 इंच तक दूर कर सकते हैं यानी बेड  को हम .040  इंच दाहिने और .040 इंच तक बाए  खीसका सकते हैं। इससे ज्यादा हम बेड का नहीं खींचते। इसका मतलब मध्य से 8 इंच दाहिने और 8 इंच बाय का टारगेट पर करेक्शन दे सकते हैं। 
  • अगर गोली सिस्ट की जगह से 4 इंच दाहिने लगे तो बेड को दाहिने खिसकाना पड़ेगा! गलती की तरफ भागो. करेक्शन के लिए 20 ठो स्क्रिबेर से बेड के दाहिने निशान लगायें और बेड को 20 ठो के निशान पर मिलाने तक खिसकाए . टारगेट पर 4" का करेक्शन होगा ! अगर 8 " दाए लगी हो तो 20 ठो के स्क्रिबर से दो निशान बेड के दाए लगाये और बेड को दाए खिसकाएँ ! टारगेट पर 8" का करेक्शन मिलेगा 
  • येही करवाई गोली बाए लगने पर बाए ओर की जाए !

Range

Sight

Target

No of blade foresight

Upar niche ek foresight badly karne par

MPI ki jagah

Group ki size

Daye Baye ka fark

25 yard

200 yard

4’ x 4’

(8)

.25” se .46”

 

1” dahine 1/2 “ upar

1 ½”   x     1 ½ “

 

100 yard

200 yard

4’ x 4’

(8)

.25” se .46”

 

1” dahine

2” upar

1 ½”   x     1 ½ “

 

Zeroing Slip 7.62 mm LMG 1B

Regiment No

Butt No

firer

Sight me chakkar

Group ka size

MPI

Correctiom

Upar

niche

Dahine

baaye

 

 

 

 

 

 

 

Upar/niche

Dahine/Baye

 

 

 

 

 

 

 

Upar/niche

Dahine/Baye

 

 

 

 

 

 

 

Upar/niche

Dahine/Baye

 

 

 

 

 

 

 

Upar/niche

Dahine/Baye

इसके साथ ही एलएमजी को ज़ेरोइंग की आसान तरीके से सम्बंधित ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुई ! उम्मीद है की आपलोगों के ए पोस्ट पसंद आएगी !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!
इसे भी  पढ़े :

  1. भारतीय पुलिस ड्रिल ट्रेनिंग में इस्तेमाल होने वाले परेड कमांड का हिंदी -इंग्लिश रूपांतरण
  2. ड्रिल में अच्छी पॉवर ऑफ़ कमांड कैसे दे सकते है
  3. ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते
  4. VIP गार्ड ऑफ़ ऑनर के नफरी और बनावट
  5. विश्राम और आराम से इसमें देखने वाली बाते !
  6. सावधान पोजीशन से दाहिने, बाएं और पीछे मुड की करवाई
  7. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  8. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  9. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम