Sponser


Friday, March 11, 2016

ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते

"Experience teaches only the teachable"

सिविलियन और वर्दीधारी के बिच फर्क जो देखने को मिलता है ओ है उसका मुख्य कारन होता है  परेड ड्रिल ! क्यों की परेड ड्रिल एक ऐसा विषय है जो एक वर्दीधारी को सिखाया जाता है लेकिंन सिविलिन को नहीं ! परेड ड्रिल में एक वर्दीधारी केवल लेफ्ट राईट यानि परेड करना ही नहीं सिखाया जाता है वल्कि उसको किसे यूनिफार्म पहना चैये, कैसे चलना बात करना , कैसे वरिष्ठ अधिकारी से बात करते है या आदेश लेते है और कैसे अपने से जूनियर को आदेश देते है या बात करते है इत्यादि सिखलाया जाता है यानि हम ये कह सकते है की जो एक वर्दीधारी का विशेष इमेज आप पब्लिक में बना हुवा है जैसे की ओ अनुशाशन का हो सही, समय या इमेंदर से कम करने का है उन सब में ड्रिल के दौरान दी गयी सिखलाई  का एक अपना अहम स्थान रहता है !

     ड्रिल फ़ौज में कब शरू हूवी ?
सबसे पहले ड्रिल को फ़ौज में शुरु करने वाले थे जर्मन में मेजर जनरल डराल ने सान( Dral ne San) जो इसे सान 1666 में शुरु किये ! उनका सोच था की फ़ौज को कण्ट्रोल करने, अनुशाषित रखने, हुकुम मानने तथा सामूहिक रूप से काम के लिए कोई न कोई तरीका होने चाहिए और जो तरीका उन्होंने ड्रिल को अमल में लाया !
     ड्रिल किसे कहते है ?
किसी प्रोसीजर को क्रमवार और उचित तरीके अनुकरण करने की करवाई को ड्रिल आहते है ! इसका मतलब y हुवा की परेड ग्राउंड में परेड  करने को ही हम ड्रिल नहीं कहेंगे बल्कि ड्रिल उन सभी कार्यवाही को कहते है  जो क्रमवार और उचित तरीके से किया जाता हो !
      ड्रिल कितने प्रकार के होते है ?
ड्रिल दो प्रकार के होते है !
(i)                   ओपन ड्रिल – ये ड्रिल फील्ड में की जाती है
(ii)                 क्लोज ड्रिल – ये ड्रिल ट्रेनिंग ग्राउंड / पीस एरिया में की जाती ई
 ड्रिल का उद्देश्य क्या होता है ?
एक सैनिक के अन्दर आदेश मानने और अपने कर्तव्य के प्रको अंजाम देने केलिए हर समय  सजग रहने का मज़्दा पैदा करना!
                    ड्रिल के फौजी के ऊपर क्या असर डालता है?
जैसे की कहा गया है की ड्रिल डिसिप्लिन  का बुनियाद है और ड्रिल एक फौजी को सिविलिन से फौजी बनता है! ड्रिल का असर कुछ निम्नलिखित है
(i)                   डिसिप्लिन सिखलाती है!
(ii)                 सामूहिक रूप में काम करने की आदत डालती है !
(iii)                आदेश मानने की आदत सिखलाती है !
(iv)                कमांड एवं कण्ट्रोल सिखलाती है
(v)                 सही तरीके से यूनिफार्म पहनना सिखलाती है !
(vi)                ड्रिल देख कर किसी यूनिट का दिसिप्लिने और मोरल का अंदाजा लगाया जा सकता है !
ड्रिल के उसूल क्या होते है ?
ड्रिल का उसूल होता है :
(i)                   स्थिरता (Steadiness)
(ii)                 फूर्ती(Smartnes)
(iii)                मिलकर कम करना (Coordination)
 फूट ड्रिल के क्या उसूल होते है ?
फूट ड्रिल के उसूल :
(i)                   पाँव तेजीसे आगे निकलना (Shoot the foot forward)
(ii)                 घुटने को तेजी से झोकना (bend the Knee double time)
(iii)                ठीक वफ़ा देना (Correct Pause)
ड्रिल देने के लिए ट्रेनिंग एड्स क्या क्या है ?

निम्नलिखित है :
(i)                   पेस स्टिक
(ii)                 बैक स्टिक
(iii)                एंगल बोर्ड
(iv)                समय सूचक (मेट्रोनोमे)
(v)                 ड्रम और ड्रमर
Forpoliceman-Savdhan Position
Savdhan Position  (Image Source-Google Search)
“सावधान” की जरुरत और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते क्या है ?
सावधान की जरुरत ड्रिल के कोई भी हरकत करनी हो तो वो सावधान पोजीशन से की जाती है और अपने से सीनियर से बात करनी या आदेश लेते समय सावधान पोजीशन को अख्तियार कर के ही की जाती है!
सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते : दोनों पैर की एड़िया मिली हवी और पौंजो का एंगल 30 डिग्री ! दोनों घुटने टाइट ! दिनों बाजु दाहिने और बाये तरफ पैंट की सिलाई के साथ मिले हुवे और मुट्ठी कुदरती तौर पे बंद ! पेट अन्दर के तरफ और छाती बहार के तरफ उट्ठी हवी ! कंधे पीछे खिचे हुवे और गर्दन कोलार के साथ मिली हवी और निगाह सामने !


     "सावधान" पोजीशन में दोनों पौंजो के बिच कितना डिग्री का एंगल होता है ?

दोनों पंजो के बिच 30 डिग्री का एंगल होता है !
forpoliceman-Vishram Position
Vishram Position
                                                                                 (image source_Google search)
       “विश्राम ” की जरुरत और विश्राम पोजीशन में देखनेवाली बाते क्या है ?

ड्रिल की कोई भी करवाई ख़त्म होने पे विश्राम पोजीशन की करवाई करते है या आने से सीनियर से बात ख़त्म होने पे विश्राम की करवाई करते है !
 ये परेड ड्रिल का शुरुवात की कुछ करवाईय और सिखलायिया है !

अगर आप इस पोस्ट को लाइक करते है तो कृपया शेयर करे www.twitter.com , www.facebook.com या google plus पे और Email address enter कर सब्सक्राइब भी कर सकते , जिससे की आपको, मेरे हर नयी पोस्ट की जानकारी आपके ईमेल के द्वारा मिल जाएगी .

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...