Search

Thursday, April 15, 2021

VIP/VVIP सेरेमोनियल परेड के दौरान कब कब कौन सा वर्शन राष्ट्रगान का बजता है

पिछले ब्लॉग में पोस्ट में हमने उपराष्ट्रपति तथा प्रधानमंत्री के गार्ड  ऑफ़ हॉनर देते समय कितनी नफरी होनी चाहिए उसके जानकारी प्राप्त की थी और इस ब्लॉग पोस्ट में हम जानेगे की राष्टगान का कितना वर्शन (How many Version of National Anthem ) होता है और  VIP/VVIP  सेरेमोनियल परेड के दौरान  कब कब कौन सा वर्शन राष्ट्रगान का बजता है !(Ceremonial parade me kab kab kaun sa version national anthem ka bajta hai )

जैसे की हम जानते है की राष्ट्रगान  "जान गण  मन अधिनायक" को रविंद्रनाथ टैगोर ने लिखा था और इसे सविधान सभा ने 24  जनवरी 1950 राष्ट्रगान के रूप में अंगीकार किया !मूलतः यह "भारतो भाग्यो विधाता "  गीत का हिस्सा था जो रविंद्र नाथ टैगोर ने लिखा था ! 

जरूर पढ़े: परेड ड्रिल में आगे और पीछे कदम लेना !

हमारे राष्ट्रगान का दो वर्शन है  एक फूल वर्शन(Full Version of Indian National anthem) और दूसरा शार्ट वर्शन(short Version of Indian National Anthem )। फूल वर्शन(Full Version) लगभग 52  सेकंड में पूरा होता है वही शार्ट वर्शन(short Version)( जो की 9  बार  है लगभग 20  सेकंड में पूरा होत्ता है !

परेड के दौरान फुल वर्शन कब बजाते है :BPR &D  ड्रिल मैन्युअल के अनुसार  परेड के दौरान फूल वर्शन राष्ट्रगान निम्न अवसर में बजाते है :

  • उन सभी समारोहों में जहा राष्ट्रपति खुद मौजूद हो 
  • जब कभी राज्यों के गवर्नर अपने राज्य में  सेरेमोनियल परेड में मौजूद हो तथा गार्ड हॉनर दिया जा रहा हो 
  • स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के परेड में जब राष्ट्रिय झंडा फहराया जा रहा हो 
  • विशेष अवसर पर प्रधान मंत्री के लिए भी राष्ट्रगान बजाय जा  राज्य सरकार के अनुमति से
उपरोक्त अवसरों को छोड़ सभी तरह के  परेड में अगर किसी VIP के लिए राष्ट्रगान के साथ गार्ड ऑफ़ हॉनर देना हो तो वह शार्ट वर्शन होगा जो की 20 सेकंड का !


जब कभी राष्ट्रगान  बजे तो सभी सदस्य सावधान में आएंगे तथा हेड कांस्टेबल से ऊपर के सभी अधिकारी अगर यूनिफार्म में है तो  करेंगे अगर यूनिफार्म में नहीं है तो सावधान में केवल खड़ा रहेंगे !अगर कोई VVIP /VIP  गार्ड ऑफ़ हॉनर ले रहा है तो राष्ट्रगान के समय केवल वह Dignitary ही सलूट करेगा और बाकी सभी जवान और अधिकारी सावधान में खड़े रहेंगे !


अभी सवाल उठता है की राष्ट्रीगान रात  के समय बजा सकते है की नहीं इस बारे में ड्रिल मैन्युअल में यह साफ साफ लिखा हुवा है की गार्ड ऑफ़ हॉनर सनसेट के बाद तथा सनराइज से पहले नहीं दिया जा सकता है इसलिए राषटीगान भी परेड के लिए इस समय के बिच नहीं बजेगा !

इस प्रकार से यहाँ राष्ट्रगान और उसके दोनों  वर्शन से सम्बंधित यह ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुवा !म्मीद है की यह पोस्ट पसंद आया होगा और कुछ लाभप्रद जानकारी प्रदान हुई होगी  !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!
इसे भी  पढ़े :
  1. भारतीय पुलिस ड्रिल ट्रेनिंग में इस्तेमाल होने वाले परेड कमांड का हिंदी -इंग्लिश रूपांतरण
  2. ड्रिल में अच्छी पॉवर ऑफ़ कमांड कैसे दे सकते है
  3. ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते
  4. VIP गार्ड ऑफ़ ऑनर के नफरी और बनावट
  5. विश्राम और आराम से इसमें देखने वाली बाते !
  6. सावधान पोजीशन से दाहिने, बाएं और पीछे मुड की करवाई
  7. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  8. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  9. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम
  10. खुली लाइन और निकट लाइन चल

Saturday, April 10, 2021

उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को परेड में गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जाता है उसकी नफरी कितनी की होती है

  हमने अपने ड्रिल के पिछले ब्लॉग पोस्ट में यह जाना की राष्ट्रपति को गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जाता है उसकी नफरी कितनी की होती है? और इस ब्लॉग पोस्ट में हम जानेगे की उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री  को जो सरमोनिअल परेड में गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जाता है उसकी नफरी कितनी की होती है !(Total strength required for Vice President & Prime Minister Guard of Honour)

Vice President Guard of Honour
Vice President Guard of Honour
उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री  के  हर मूव और कृत का एक लिखित  प्रोटोकॉल होता है और उसी के अनुसार पूरी गतिविधिया होती है वह  जब भी किसी प्रदेश या संस्था का दौरा करते है !आप यह देखते होगा की उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री जहा कही जाते है तो  पहला स्वागत गार्ड ऑफ़ ऑनर (Guard of Honour)दे कर की की जाती है ! अब यह सवाल उठता  की क्या उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री को गार्ड ऑफ़ ऑनर देने के लिए कुल कितनी नफरी होगी ! क्या कोई  प्रोटोकॉल बना हुवा है या जो भी  राज्य को जितनी नफरी का  गार्ड ऑफ़ ऑनर देना है वह अपने निर्णय  करते है !

जरूर पढ़े:पुलिस फाॅर्स में सिविल ड्रेस के बारे गाइड लाइन है?

तो उपरोक्त सवाल का जवाब होगा नहीं कोई भी राज्य या संस्था यह खुद निर्णय  नहीं करती है बल्कि BPR &D के द्वारा बनाई गई एक ड्रिल मैन्युअल(BPR&D Drill manual) है जिसे आम तौर पर देश भर की जितनी यूनिफार्म फाॅर्स है वह सभी इसको अनुसरण  करती है और उस सी ड्रिल मैन्युअल में साफ साफ लिखा  की राष्ट्रपति,उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री या और किसी भी VVIP  को गार्ड ऑफ़ ऑनर कब और कितने की नफरी का दिया जायेगा !

प्रधानमंत्री गार्ड ऑफ़ हॉनर
प्रधानमंत्री गार्ड ऑफ़ हॉनर 
BPR &D के द्वारा बनाई गई ड्रिल मैन्युअल के चैप्टर XXVII  में यह साफ लिखा है  की राष्ट्रपति,उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री या और कोई VVIP  उसकी कितनी  नफरी का गार्ड ऑफ़ दिया  जायेगा , कब दिया जायेगा और उसको कौन कमांड करेगा तथा 2 I /C कौन से रैंक के अफसर रहेगा !

BPR &D के द्वारा बनाई गई ड्रिल मैन्युअल के चैप्टर XXVII  के अनुसार राष्ट्रपति को 100  की नफरी और 1  बैंड  का  गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जाना चाहिए   अगर किसी यूनिट या प्लेस पर बैंड  उपलब्ध नहीं हो तो 2 विगुलर  को भी रखा जा सकता है बैंड के जगह पर ! 

जरुर पढ़े : खड़े खड़े सलूट का तरीका और जरुरत

यह गार्ड ऑफ़ ऑनर उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री के पब्लिक  दौरा होने पे दिया जायेगा ! यह गार्ड ऑफ़ ऑनर उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री के आने तथा जाते समय दिया जायेगा !  सभी ऑफिसियल दौरा पब्लिक दौरा नहीं होता है बल्कि उसके लिए फॉर्मल नोटिफिकेशन  केंद्र सरकार  द्वारा निकला  जाता है ! और उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्रीके गार्ड ऑफ़ ऑनर को कमांड एडिशनल एसपी रैंक का अफसर करता है था उसका द्वितीय कमांड या हिंदी में कहे तो 2 I /C  डीएसपी रैंक का अधिकारी होता है ! 

यह गार्ड ऑफ़ ऑनर दो बराबर बंटी  हुई टुकड़ी (Guard will be formed up in two equal division)में फालेन होती है जो की सेरेमोनियल ड्रेस में रहती   है ! गार्ड 2  लाइन में फालेन होता और अगली से पिछली लाइन के बिच 4   स्टेप्स की दुरी होगी तथा और लाइन में दो जवानो के बिच 24 " की दुरी होती है !

जरुर पढ़े : 5 स्टेप्स में तेज चाल से पीछे मुड की पूरी करवाई

यह भी जानकारी रखनी चाहिए की गार्ड ऑफ़ ऑनर  मार्च पास नहीं करती है और BPR &D के द्वारा बनाई गई ड्रिल मैन्युअल के चैप्टर XXVII के अनुसार सूर्यास्त से सूर्योदय(No Guard of Honour between Sunset to Sunrise time)  के बिच गार्ड ऑफ़ ऑनर नहीं दी जासकती है !


इसी के साथ उप राष्ट्रपति  और प्रधानमंत्री को गार्ड ऑफ़ ऑनर देने का समय और नफरी से सम्बंधित ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुवा !ऊम्मीद है की यह पोस्ट पसंद आया होगा और कुछ लाभप्रद जानकारी प्रदान हुई होगी  !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!

इसे भी  पढ़े :
  1. भारतीय पुलिस ड्रिल ट्रेनिंग में इस्तेमाल होने वाले परेड कमांड का हिंदी -इंग्लिश रूपांतरण
  2. ड्रिल में अच्छी पॉवर ऑफ़ कमांड कैसे दे सकते है
  3. ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते
  4. VIP गार्ड ऑफ़ ऑनर के नफरी और बनावट
  5. विश्राम और आराम से इसमें देखने वाली बाते !
  6. सावधान पोजीशन से दाहिने, बाएं और पीछे मुड की करवाई
  7. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  8. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  9. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम
  10. खुली लाइन और निकट लाइन चल

Wednesday, April 7, 2021

NCC का स्थापना की कहानी !

 पिछले ब्लॉग पोस्ट हमने जाना के President ko  Guard  of  Honour  की कुल कितनी  नफरी होती है और अब इस ब्लॉगपोस्ट में हम जानेगे की NCC  का स्थापना  कब हुई और  उसके पीछे की कहानी !NCC ka sthapna kab huwa

1. NCC  का स्थापना 

NCC की स्थापना की प्रारम्भ या स्थापित होने की कहानी बहुत पुरानी है ! यह बात उस समय का है जब भारत अग्रेजो  अधीन था  प्रथम विश्व युद्ध चल रहा था और ब्रिटिश आर्मी में नफरी की कमी थी तो उसे पूरा करने के ख्याल से डिफेन्स एक्ट 1917  के अधीन यूनिवर्सिटी के अन्दर यूनिवर्सिटी कोर ( University Corps)  की स्थापना की गई  और जो की1920  में  इंडियन टेरीटोरियल एक्ट  बना तो "यूनिवर्सिटी कोर " का नाम बदलकर 'यूनिवर्सिटी ट्रेनिंग कोर' (University Training Corps ya UOTC).

जैसे की हम जानते है की  युवा ही किसी देश का भविष्य होते है  उसी को ध्यान  में रखकर  युवा एवं  युवती  अच्छे नागरिक  तथा  भविष्य में  देश का  नेतृत्व  करे ऐसे बनाने के लिए  राष्ट्रिय  स्तर एक संघठन की कमी महसूस  की गई जो युवा - युवतिओं के प्रशिक्षित कर  अच्छा नागरिक बना सके  जो  देश की सेना  या सुरक्षा बालो  के साथ कदम से कदम मिला के चले उसके लिए  सन  1946  में  कमिटी का गठन पंडित एच एन कुंजरू(Pandit HN Kunjuru) के चेयरमैन शिप में गठित की गई उसी कमिटी के रिकमेन्डेशन पे 16  जुलाई 1946 को NCC का उदगम हुवा यानि  स्थापना हुई !NCC अपना रेजिंग डे २२ नवम्बर को मनाता है !

2. NCC का मोटो (Moto of  NCC )  

NCC  का मोटो एकता और  अनुशाशन (Unity  and Discipline ) जिसे 23  दिसंबर 1957  को अपनाया गया !और अपने मोटो यानि उद्देश्य के अनुरूप NCC  भारत में  एकता की ज्वाला जलने  वाला फाॅर्स के रूप में अपने आप  को स्थापित किया जिसमे  देश के हरेक भाग के युवा और  युवतिओं भाग लेकर देश मे एकता  धागे में  पिरोती है !और नौजवान विद्यार्थीओ को एक अनुशासित नागरिक बनती है ! 

3. NCC झंडा (NCC  Flag )

NCC Flag
NCC Flag 

जो वर्त्तमान में NCC का फ्लैग है उसे  1954 में अपनाया गया ! फ्लैग के अंदर जो तीन रंग  वह फ़ौज के तीनो सेनाओ  इंगित करता है लाल रंग भारतीय आर्मी , गहरा नीला भारतीय नेवी तथा हल्का नीला भारतीय एयरफोर्स को दर्शाता है !. NCC अक्षर तथा सोनहुला रंग NCC क्रेस्ट जो की फ्लैग के मध्य में स्थापित है जिसके चारो तरफ कमल का फूल है वह फ्लैग को एक अलग ही लुक देता है ! और फ्लैग पर  बना हुवा हरेक कमल का फूल NCC  डायरेक्टरेट को इंगित करता है ! 

4. NCC  का लक्ष्य (Aim of  NCC ):  रक्षा मंत्रालय भारत सरकार द्वारा अनुमोदित किया गया  NCC  का लक्ष्य निम्न है :

  • देश के नौजवानो के   चरित्र निर्माण , कामरेडशिप , अनुशासन , नेतृत्व , सेक्युलर आउटलुक , स्परिट ऑफ़ एडवेंचर , स्पोर्टमैनशिप तथा सेल्फलेस सर्विस की गुण पैदा करना !
  • ट्रैनड और मोटिवेटेड  नौजवानो का एक ह्यूमन रिसोर्स बनाना जो की समाज के किसी भी क्षेत्र को नेतृत्व प्रदान करे और हमेशा देश सेवा के लिए तैयार रहे  !
  • एक सूटेबल वातावरण बनाना जो की नौजवानो को मोटीवेट करे आर्म्ड फाॅर्स  कैरियर  बनाने के लिए 

इस प्रकार से NCC  की स्थापना , NCC  का उद्देश्य , NCC का फ्लैग तथा NCC का लक्ष्य से सम्बंधित यह ब्लॉगपोस्ट  समाप्त हुई !म्मीद है की यह पोस्ट पसंद आया होगा और कुछ लाभप्रद जानकारी प्रदान हुई होगी  !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!

इसे भी  पढ़े :
  1. भारतीय पुलिस ड्रिल ट्रेनिंग में इस्तेमाल होने वाले परेड कमांड का हिंदी -इंग्लिश रूपांतरण
  2. ड्रिल में अच्छी पॉवर ऑफ़ कमांड कैसे दे सकते है
  3. ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते
  4. VIP गार्ड ऑफ़ ऑनर के नफरी और बनावट
  5. विश्राम और आराम से इसमें देखने वाली बाते !
  6. सावधान पोजीशन से दाहिने, बाएं और पीछे मुड की करवाई
  7. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  8. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  9. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम
  10. खुली लाइन और निकट लाइन चल

राष्ट्रपति को गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जाता है उसकी नफरी कितनी की होती है?

 हमने अपने ड्रिल के पिछले ब्लॉग पोस्ट में यह जाना की सावधान पोजीशन में दोनों पैरो के पैन्जो के बिच कितना डिग्री का कोण बनता है और इस ब्लॉग पोस्ट में हम जानेगे की राष्ट्रपति को जो सरमोनिअल परेड में गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जाता है उसकी नफरी कितनी की होती है !(Total strength required for President Guard of Honour)

President visit to Lakshadweep(Google pic)

राष्ट्रपति अपने  देश का प्रथम नागरिक होता है उनका हर मूव और कृत का एक लिखित  प्रोटोकॉल होता है और उसी के अनुसार पूरी गतिविधिया होती है वह  जब भी किसी प्रदेश या संस्था का दौरा करते है !आप यह देखते होगा की राष्ट्रपति जहा कही जाते है तो  पहला स्वागत गार्ड ऑफ़ ऑनर (Guard of Honour)दे कर की की जाती है ! अब यह सवाल उठता  की क्या राष्ट्रपति को गार्ड ऑफ़ ऑनर देने के लिए कुल कितनी नफरी होगी ! क्या कोई  प्रोटोकॉल बना हुवा है या जो भी  राज्य को जितनी नफरी का  गार्ड ऑफ़ ऑनर देना है वह अपने निर्णय  करते है !

जरूर पढ़े:पुलिस फाॅर्स में सिविल ड्रेस के बारे गाइड लाइन है?

तो उपरोक्त सवाल का जवाब होगा नहीं कोई भी राज्य या संस्था यह खुद निर्णय  नहीं करती है बल्कि BPR &D के द्वारा बनाई गई एक ड्रिल मैन्युअल(BPR&D Drill manual) है जिसे आम तौर पर देश भर की जितनी यूनिफार्म फाॅर्स है वह सभी इसको अनुसरण  करती है और उस सी ड्रिल मैन्युअल में साफ साफ लिखा  की राष्ट्रपति या और किसी भी VVIP  को गार्ड ऑफ़ ऑनर कब और कितने की नफरी का दिया जायेगा !


BPR &D के द्वारा बनाई गई ड्रिल मैन्युअल के चैप्टर XXVII  में यह साफ लिखा है  की राष्ट्रपति या और कोई VVIP  उसकी कितनी  नफरी का गार्ड ऑफ़ दिया  जायेगा , कब दिया जायेगा और उसको कौन कमांड करेगा तथा 2 I /C कौन से रैंक के अफसर रहेगा !

BPR &D के द्वारा बनाई गई ड्रिल मैन्युअल के चैप्टर XXVII  के अनुसार राष्ट्रपति को 150  की नफरी और 2  बैंड  का  गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जाना चाहिए   अगर किसी यूनिट या प्लेस पर बैंड  उपलब्ध नहीं हो तो 2 विगुलर  को भी रखा जा सकता है बैंड के जगह पर ! 

जरुर पढ़े : खड़े खड़े सलूट का तरीका और जरुरत

यह गार्ड ऑफ़ ऑनर राष्ट्रपति के पब्लिक  दौरा होने पे दिया जायेगा ! यह गार्ड ऑफ़ ऑनर राष्ट्रपति के आने तथा जाते समय दिया जायेगा !  सभी ऑफिसियल दौरा पब्लिक दौरा नहीं होता है बल्कि उसके लिए फॉर्मल नोटिफिकेशन  केंद्र सरकार  द्वारा निकला  जाता है ! और राष्ट्रपति के गार्ड ऑफ़ ऑनर को कमांड एडिशनल एसपी रैंक का अफसर करता है था उसका द्वितीय कमांड या हिंदी में कहे तो 2 I /C  डीएसपी रैंक का अधिकारी होता है !

यह गार्ड ऑफ़ ऑनर दो बराबर बंटी  हुई टुकड़ी (Guard will be formed up in two equal division)में फालेन होती है जो की सेरेमोनियल ड्रेस में रहती   है ! गार्ड 2  लाइन में फालेन होता और अगली से पिछली लाइन के बिच 4   स्टेप्स की दुरी होगी तथा और लाइन में दो जवानो के बिच 24 " की दुरी होती है !

जरुर पढ़े : 5 स्टेप्स में तेज चाल से पीछे मुड की पूरी करवाई

यह भी जानकारी रखनी चाहिए की गार्ड ऑफ़ ऑनर  मार्च पास नहीं करती है और BPR &D के द्वारा बनाई गई ड्रिल मैन्युअल के चैप्टर XXVII के अनुसार सूर्यास्त से सूर्योदय(No Guard of Honour between Sunset to Sunrise time)  के बिच गार्ड ऑफ़ ऑनर नहीं दी जासकती है !


इसी के साथ पराष्ट्रपति को गार्ड ऑफ़ ऑनर देने का समय और नफरी से सम्बंधित ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुवा !ऊम्मीद है की यह पोस्ट पसंद आया होगा और कुछ लाभप्रद जानकारी प्रदान हुई होगी  !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!

इसे भी  पढ़े :
  1. भारतीय पुलिस ड्रिल ट्रेनिंग में इस्तेमाल होने वाले परेड कमांड का हिंदी -इंग्लिश रूपांतरण
  2. ड्रिल में अच्छी पॉवर ऑफ़ कमांड कैसे दे सकते है
  3. ड्रिल का इतिहास और सावधान पोजीशन में देखनेवाली बाते
  4. VIP गार्ड ऑफ़ ऑनर के नफरी और बनावट
  5. विश्राम और आराम से इसमें देखने वाली बाते !
  6. सावधान पोजीशन से दाहिने, बाएं और पीछे मुड की करवाई
  7. आधा दाहिने मुड , आधा बाएं मुड की करवाई और उसमे देखने वाली बाते !
  8. 4 स्टेप्स में तेज चल और थम की करवाई
  9. फूट ड्रिल -धीरे चल और थम
  10. खुली लाइन और निकट लाइन चल

Friday, April 2, 2021

फायर और फायरिंग का उसूल क्या होता है

 पिछले पोस्ट में हमने 303 राइफल  उत्पत्ति तथा विशेषता के बारेमे जानकारी प्राप्त किये और इस ब्लॉग पोस्ट में मै अपने एक पाठक द्वारा पूछे गए सवाल का उत्तर दे कर बताऊंगा और पाठक का सवाल है की फायर और फायरिंग  का उसूल क्या होता है(Fire ke usul) !

जैसे की हम जानते है की किसी भी काम को अच्छी रिजल्ट पैन के लिए उस काम का जो उसूल है उसे हमे नहीं छोड़ना चाहिए अगर हम उस काम के उसूल को सही से  तो रिजल्ट हमेशा साधारण या उससे निचे का  रिजल्ट िलेगा इस लिए अच्छा रेसुत के लिए उसूल को नहीं छोड़ना चाहिए ! उसी प्रकार से फायरिंग के अच्छे रिजल्ट के लिए सभी फायरर को फायर की उसूल (Fire ke asul)को काफी नहीं छोड़ना चाहिए !

जरुर पढ़े  7.62 mm MMG के प्रकार तथा टेक्निकल डाटा 7.62 mm MMG के ?

फायरिंग का बेसिक उसूल(Fire ke asol) को हम पांच भाग में अच्छी तरह से समझ सकते है :

sight alignment
sight alignment 

  1. अच्छी फायरिंग पोजीशन (Firing Position):अच्छा फायरिंग रिजल्ट प्राप्त करने के लिए फायरिंग पोजीशन (stance ) अच्छा होना चाहिए ! बॉडी अच्छी तरह से टारगेट  अलाइन होना चाहिए !
  2. पकड़ (Grip )(Grip of weapon):गन के ऊपर V  फोर्मेड में अंगूठा तथा इंडेक्स फिंगर सूटिंग हैंड (Shooting )के द्वारा हथियार के ऊपर अच्छी पकड़ बनाना चाहिए ! पकड़ ऐसी होनी चाहिए की सूटिंग हैंड (Shooting ) का  रिस्ट (Wrist ) और राइट थम्प टारगेट को पॉइंट करता हो !
  3. साँस पर कण्ट्रोल(Breathing Control) : साँस पर कण्ट्रोल इसलिए जरुरी है की इससे बॉडी का मूवमेंट काम हो जाता है शूटिंग के दौरान !इसलिए लिए यह रेकमेंड (Recommend) किया जाता है की शॉट फायर करने के बाद ही साँस लिनी चाहिए यानि दो राउंड फायर करना हो तो एक राउंड फायर करने का बाद ही सांस  लेनी चाहिए !
  4. साइट अलाइनमेन्ट(Sight Alignment) : साइट अलाइनमेन्ट में फोरेसाइट ुर बैक साइट  ही ख़ास रिस्ता है इसिलए दुरुस्त रिजल्ट के लिए अच्छी साइट अलाइनमेन्ट होनी चाहिए !
  5. दुरुस्त ट्रिगर ऑपरेशन(Trigger Operation) : अच्छी फायरिंग रिजल्ट के लिए दुरुस्त ट्रिगर ऑपरेशन की  अहम् रोल होता है यानि ट्रिगर को झटके से नहीं दबाना चाहिए बल्कि धीरे धीरे (Gradually ) दबाना चाहिए !

दूसरे शब्दों में कहे तो फायरिंग के बेसिक उसूल(Fire aur Fire ke usul) है :
  • मजबूत एवं दुरुस्त पकड़
  • दुरुस्त शिस्त
  • दुरुस्त ट्रिगेर ऑपरेशन

    इस प्रकार  कह सकते है की फायरिंग से अच्छा रिजल्ट प्राप्त करने के लिए फायरिंग पोजीशन , राइफल के ऊपर पकड़ तथा ट्रिगर ऑपरेशन का एक बहुत ही अहम् रोले होता है इसीलिए एक फायरिंग के मुख्य उसूल इसे कहते है ! इस प्रकार से यह एक छोट सा  जो की  उसूल से सम्बंधित समाप्त हुवा !उम्मीद है की यह पोस्ट पसंद आया होगा और कुछ लाभप्रद जानकारी प्रदान हुई होगी  !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे!
इसे भी पढ़े : 
  1. SSG-69 राइफल को भरना और खाली करने का तरीका
  2. SSG-69 राइफल को रेडी, मेक सेफ और खाली कर का तरीक...
  3. 7.62 mm MMG के माउंट ट्राई पोड की करवाई के समय ध्...
  4. 7.62 mm MMG के फायर आर्डर का क्रम और वक्फा के दौरा
  5. 7.62 mm MMG के टारगेट का नाम और MMG में पडनेवाले र...
  6. 7.62 mm MMG को फायर के लिए तैयार करते समय ध्यान मे...
  7. 6 महत्वपूर्ण बाते 84 mm मोर्टार के बारे में
  8. 5 जरुर जाननेवाली बाते 81 mm मोर्टार के बारे में ?...
  9. 81 mm मोर्टार के 10 छोटी छोटी बेसिक बाते
  10. 5 मुख्य बाते 81 mm मोर्टार के फायर कण्ट्रोल से सम


Thursday, April 1, 2021

पुलिस मैंन पान को आधार नंबर के साथ लिंक करने का तरीका

अक्सर देखा गया है की एक आम पुलिस जवान अपने ड्यूटी में इतना मशगुल रहता है की बहुत सी जरुरी बाते होती है जो उससे सम्बंधित रहती है लेकिन वह समय रहते जान नहीं पाते है और समय निकल जाने के बाद या तो किसी एजेंट या दलाल को पकड़ते है या फाइन भरके आपना काम करते है ओ चाहे स्कूल का फ़ीस भरना हो या इनकम टैक्स का रीटरन फाइल करना हो सब में देखा गया है की पुलिस के जवान हो या सिक्यूरिटी फोर्सेज के जवान सब डे टू डे के डेवलपमेंट से अनभिज्ञ रहते है !

जरुर पढ़े : ऐसे पता करे अपने आधार नंबर कब कब इस्तेमाल हुवा ?

उसी सन्दर्भ में 31 मार्च 2021 को पान को आधार नंबर के साथ लिंक करने का आखरी तारीख था लेकिन इनकम टैक्स के साईट पर कुछ प्रॉब्लम तथा भारी ट्रैफिक को देखते हुवे पान को आधार नंबर से लिंक  करने का समय अवधी अब बढ़ा कर के 30 जून 2021 कर दिया गया है !तो जो जवान अभी टैंक अपने आधार और पान को लिंक नहीं किये है तो उसे लिंक  करा ले नहीं तो आयकर विभाग के सर्कुलर के अनुसार  आप का पान डीएक्टिवेट हो जायेगा और बाद में रुपया 1000 फाइन के साथ पान फिर से एक्टिवेट किया जायेगा !

कैसे पान - आधार को लिंक करे :

1. लिंक पान-आधार SMS भेज कर के (Link PAN- Aadhar Number through SMS)

अपने रजिस्टर मोबाइल नंबर से  SMS 567678 या 56161 पर भेज दे 

उदाहरन के लिए 

अगर आप का आधार नंबर aaaa aaaa aaaa और पान नंबर 1234R1234A हो तो SMS इसप्रकार से अपने रजिस्टर मोबाइल से भेजे  भेजे 

 format: UIDPAN<aaaa aaaa aaaa><1234R1234A

जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को  बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

2. लिंक पान - आधार इनकम टैक्स के वेब साईट पर जा कर (Link PAN-Aadhar by visiting Incometax website)

  • इनकम टैक्स के ऑफिसियल वेबसाइट  https://www.incometaxindiaefiling.gov.in/home पे जाए और वह लॉग इन करे 
  • फिर क्विक लिंक का आप्शन आता है जहा लिखा रहता है लिंक आधार वह पे क्लिक करे 
  • और अपना पान और आधार नंबर तथा नाम जैसे आधार में लिखा हुवा है वैसे भर दे  




  • और अंत में लिंक आधार बटन को क्लिक करे  

3. पान-आधार लिंक है की नहीं उसे इस प्रकार से चेक करे (Check kare ki PAN-Aadhar link hai ki nahi)
  • www.incometaxindiaefiling.gov.in/aadhaarstatus साईट पे जाए 
  • और वह अपना पान और आधार नंबर इंटर करे
  • और अंत में व्यू लिंक आधार स्टेटस बटन पर क्लिक करे 
  • आप को दुसरे पेज पर पान आधार लिंक का डिटेल आ जायेगा , इस प्रकार से आप जान पाएंगे की आपका आधार पान से लिंक है की नही 
  1. इस प्रकार  से आप अपना पान-आधार को एक साथ लिंक कर सकते है और लिंक किया हुवा पान आधार को आप चेक कर सकते है की लिंक हुवा है की नहीं !उम्मीद है की यह पोस्ट पसंद आया होगा और कुछ लाभप्रद जानकारी प्रदान हुई होगी  !इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे