Sponser


Thursday, January 11, 2018

बनावट के आधार पर मैप का स्केल लाइन इतने रूप होते है?

पिछले पोस्ट में हमने मैप के ऊपर स्केल दर्शाने के विधि के बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में बनावट के आधार पे स्केल लाइन के रूप के बारे में जानकारी प्राप्त करेगे !


जैसे की हम जानते है की मैप या स्केच किसी इलाके का छोटे रूप में चित्र होता है ! जिस अनुपात से उसे छोटा किया  होता है उसी को हम मैप का स्केल कहते है !

जब तक की हमे स्केल के बारे में पूर्ण ज्ञान हासिल न हो जाये तब तक हम एक सफल मैप के बारे में जानकार नहीं हो सकते !

जरुर पढ़े : रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका

अगर एक जवान मैप रीडिंग और मैप के स्केल के बारे में सही जानकारी  रहता है और किसी आउट पोस्ट में ड्यूटी के दौरान उसके द्वारा दिए गए  दुश्मन का लोकेशन जो उसने अपनी मैप रीडिंग के ज्ञान के अनुसार दिया है  अगर उसने सही दुरी और बेअरिंग की जानकारी के साथ दुश्मन का लोकेशन बतात है तो सपोर्टिंग हथियारों का फायर आगे की अपनी  टुकारियो को काफी मदद दुशमन के ऊपर सटीक फायर डाल के देता है !

जरुर पढ़े :दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका

इस पोस्ट के पढने के बाद हम  जानेगे की बनावट के आधार पर स्केल लाइन के दो रूप कौन कौन से होते है?
इस पोस्ट में हम निम्न स्केल लाइनों के बारे में जानेगे  :

  1. पूरी विभाजन स्केल लाइन(Fully divided scale line)
  2. खुले रुपमे विभाजन स्केल लाइन (Open divided scale line)

1. पूरी विभाजन स्केल लाइन (Puri vibhajit scaleline kya hota hai ): 
Fully Divided scale line
Fully Divided scale line

इस प्रकार की रेखा विभाजन में पूरी रेखा को छोटे छोटे बराबर भागो में बाँट दिया जाता है और इस पर लिखी दुरी गिनती रेखा के बाएं कोने को छोटे  मानकर दाहिने को बढती है ! इस प्रकार की स्केल लाइन बनाने का परिचालन आजकल नहिके बराबर है क्योकि यह तो एक बनाना थोडा कठिन है और दूसरा इसको बनाने में समय ज्यादा लगता है ! तथा खुले रूप में बिभाजित स्केल लाइन से कोई ज्यादा उपयोगी भी नहीं रहता है !  

जरुर पढ़े :मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व

2.खुले रुपमे विभाजन स्केल लाइन(Open divided scale line kya hota hai) : 
Open Divided scale line
Open Divided scale line

इस तरीके से स्केल बनाने में  पूरी रेखा को पहले बराबर भागों में बाँट दिया जाता है , जिसे हम प्राइमरी डिवीज़न कहते है और उन प्राइमरी  डिवीज़न को बाद में बाये वाले प्रिमारी भाग की और छोटे बराबर भाग कर दिए जाते है जिनको हम सेकेंडरी डिवीज़न के नाम से जानते है ! 

जरुर पढ़े :कंटूर रेखाए क्या है ? एक मैप की विश्वसनीयता और कमिया किन किन बाते पे निर्भर करती है ?

सेकेंडरी डिवीज़न के बने भंगो की दुरी को अपने प्राइमरी डिवीज़न की गिनती की गिनती सेकेंडरी डिवीज़न  के दाहिने तरफ के निशान को जीरो मानकर दाहिने तरफ को  बढ़ाते है ! जैसे की याद रहे की प्राइमरी डिवीज़न की बाँट दस , सौ और हजारो की गिनती में तथा सेकेंडरी डिवीज़न की बाँट पांच , दस, पचास और पांच सौ की संख्या में की जाती है !
जरुर पढ़े :कंपास को सेट करना तथा इस्तेमाल करने का तरीका

इस प्रकार से हमने बनावट के आधार पे जाने की स्केल लाइन कितने प्रकार की होती है और यह भी  जाने की पूरी विभाजन स्केल लाइन आज कर न के बराबर केप्रिचालन में क्यों है !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें  भी  पढ़े : 
  1. 13 तरीके मैप सेट करने का !
  2. 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का
  3. 5 तरीको से मैप टू ग्राउंड और ग्राउंड टू माप जाने
  4. मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व
  5. मैप का परिभाषा , मैप का इतिहास और मैप का अव्श्काए
  6. मैप के प्रकार की विस्तृत जानकारी
  7. ट्रू नार्थ , ग्रिड नार्थ, मैग्नेटिक नार्थ का मतलब हिंदी में
  8. बैक बेअरिंग और फॉरवर्ड बेअरिंग में अंतर तथा ग्रिड लाइन का परिभाषा
  9. मैग्नेटिक वेरिएशन , लोकल वेरिएशन तथा एंगल ऑफ़ कन्वर्जेन्स का मतलब
  10. मैप रीडिंग में री सेक्शन , इंटर सेक्शन तथा ओरिएंटेशन का मतलब
  11. मास्टर मैप , मास्टर कंपास तथा तंगेंट क्या होता है !

No comments:

Post a Comment