Sponser


Monday, February 29, 2016

9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया

मै हथियारों की लिस्ट को आगे बढ़ाते हुवे आज जिस हथियार के बारे में अपना पोस्ट लिखने जा रहा हु ओ है 9mm कार्बाइन मचिन कुछ लोग इसे स्टेन  गन भी कहते है! मै इस पोस्ट में बताने का कोशिश करूँगा की



How Sten become Carbine Machin, What is the fullform of Sten! मै अपने इस पोस्ट को मै तीन भागो में लिखूंगा (i) History of  9mm CM(9mm कार्बाइन मचिन का इतिहास ) (ii) Characteristics(9mm CM की विश्षेताये (iii)Limitation(9mm CM की कमिया)

9mm Carbine Machnie 1A1
9mm Carbine Machnie 1A1


(i) History of 9mm CM:स्टेन व कार्बाइन मचिन  मोटे तौर पर सब मशीन गन के श्रेणी में आते है ! SMG में ओ हथियार आते है जिसमे स्वचालित पिस्तौल की विश्षेताये हो लेकिन विकाश करते समय रेंज और फायर पॉवर बढ़ा दी जाती है !
सब से पहले इस किस्म का हथियार इटली में सन १९१५ में बनाया गया ! १० जनवरी १९४१ में Enfield कंपनी ने SMG का एक नया मॉडल बनाया ! मॉडल तैयार करने वाले HK Turnip और प्रोजेक्ट अधिकारी मेजर RV Shepherd थे ! इसलिए इसका नाम स्टेन(STEN)(S- Shepherd, T-Turnip, En-Enfiled) रखा गया ! भारत में प्रयोग में लाये जाने वाले स्टेन मार्क -II, मार्क-III, मार्क-V है !

स्टेन से कार्बाइन कब बन गया इसके बारे में भी बहुत से विचार है लेकिंग सबसे विश्वसनीय जो है वो ये है की स्पेन देश के घुड़सवार सेना में छोटी बरेल व हलके वजन का राइफल नुमा हथियार होता था जिसको घोड़े के काठी में आसानी से छुपाया जा सकता था ! इस घोड़ सवार  के छोटे दस्ते को कार्बाइन कहते थे ! येही कारन है की स्टेन के सुधारे रूप को कार्बाइन के नाम से जाना गया ! Machine Carbine 9mm SAF 1-A को भारत के आर्डिनेंस कंपनी द्वारा भारत में ही बनाया जाता है !

Charecteristics: 

  • हल्का और छोटा हथियार होने के वजह से ले जाने में असान है!
  • छोटा होने के कारन छुपाना आसान है !
  • सीखना और प्रोयोग करना आसान है !
  • इससे सिंगल शॉट और आटोमेटिक फायर किया जा सका है !
  • कम दुरी पर आटोमेटिक फायर कर के LMG का प्रभाव डाला जा सकता है !
  • गली कुचे तंग रस्ते ,  मोर्चे और माकन में इस्तेमाल करना आसान है !
  • CQB की लडाई का खास हथियार है इसमें बनेट लगाकर भी इस्तेमाल्किया जा सकता है !
कमिया (Limitation)::

  • मजल वेलोसिटी कम है !
  • कारगर रंज कम है !
  • रोके ज्यादा पड़ते है !
  • केवल क्लोज क्वार्टर बैटल में ही इस्तेमाल किया जा सकता है !

अगर आपको लगता है की इसके अलावा भी कुछ और इस पोस्ट में  लिखा जाना चाहिए तो  तो कृपया निचे कमेंट बॉक्स में लिखे  की दुसरे लोग पढ़ कर जानकारी हासिल कर सके और इस तरह से आप दुसरे को मदद कर सकते है.और अगर आप इस पोस्ट को लाइक करते है तो कृपया शेयर करेwww. twitter.com, www.facebook.com या google plus पे और email address enter कर सब्सक्राइब भी कर सकते , जिससे की आपको, मेरे हर नयी पोस्ट की जानकारी आपके ईमेल के द्वारा मिल जाएगी .
इन्हें भी पढ़े :
  1. 7.62 mm एसएलआर का बेसिक डाटा -I
  2. 7.62 Self Loading Rifle basic data-II?
  3. 7.62 Self Loading Rifle basic data-III?
  4. अच्छे राइफल फायर कैसे बने ? 
  5. फायरिंग के दौरान फायरर द्वारा की जानेवाली कुछ गलतिया ? 
  6. 7. 62 mm राइफल में पड़ने वाले रोके कौन कौन से है ?
  7. 7.62mm LMG के बारे में कुछ जानकारिय
  8. 7.62mm ki chal. एस एल आर कैसे काम करता हा(एसएलआर की चाल). 
  9. Basic data of 5.56mm INSAS and It characteristics.


No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...