Sponser


Monday, September 19, 2016

आसू गैस के फायर के ऊपर असर डालने वाले तत्व और उसका निदान

पिछले पोस्ट में हमने आश्रू गैस के प्रकार तथा उसके उपयोग(Types of tear smoke aur uske itemal) के बारे में जानकारी शेयर की इस पोस्ट में हम आश्रू गैस शेल के पार्ट्स का नाम तथा आश्रू गैस को फायर करने के ऊपर असर डालने वाला तत्व(Tear smoke shell ke name aur tear smoke ke upar asar dalne wali baten) कौन कौन से है उनके ऊपर बात करेंगे !



जैसे की हम जानते है की आश्रू गैस मुनीसन जो की भिन्न भिन्न आकार और प्रकार में आते है तथा ये क्राउड कण्ट्रोल /मोब कण्ट्रोल(Crowd control/mob control) करने में  एक अहम् रोल निभाते है ! इनके प्रभाव को और कारगर बनाने के लिए हमे उन सभी बातो के बारे में जानकारी रखनी चाहिए जो इनके प्रभाव के ऊपर असर डालते है ! 

आश्रू गैस शेल के पार्ट्स का नाम(tear smoke shel ke patrs ka naam) :



  • एमिसन होल(Emission hole) : धुवा बहार आने के लिए 
  • कार्ट्रिज(Cartridge) : इसके अन्दर प्रोपेल्लेंट रहता है 
  • शेल(Shell) : केस जिसके आदर आश्रू गैस के केमिकल रहते है 
  • .22 कैप/बेस कैप(.22 cap) : इसके ऊपर गैस गन का ट्रिगर हित करता है जिसे आग पैदा होता हो और प्रोपेंट को जलाता है !

आश्रू गैस से ज्यादा फ़ायदा उठाने के लिए इसको इस तरीके से इस्तेमाल करनी जाहिए की जो मजमा इकठ्ठा हुई है उसके ऊपर इफेक्टिव असर डाले !इसके लिए जरुरी है की आश्रू गैस का इस्तेमाल से अहले हम कुछ बातो के ऊपर ध्यान रखे !
(a)  हवा का रुख (Hawa ka rukh ka asar) : आश्रू गैस के ऊपर सबसे ज्यादा असर इनका ही पड़ता है और अगर हम आश्रू गैस शेल चला रहे है तो हवा का रफ़्तार भी बहुत  मायने रखता है ! इस लिए आश्रू गैस चलने से पहले हवा का रुख को किसी भी प्रकार जैसे कही थोडा आग जला का उसके धुवा का रुख देख कर या पेड़ पौधों के पत्तो के मूवमेंट या किसी झंडे की हरकत से पता कर लेन चाहिए !

जरुर  पढ़े : पुलिस यूनिफार्म पहनते समय देखनेवाली बातें

विशेषकर आश्रू गैस के शेल जब फायर करते है तो हवा का रुख रखना पड़ता है क्यों की एक तो शेल वजन में हल्का होता है अगर इसे हवा के खिलाफ रुख  में फायर करेंगे तो ये अपने रस्ते भटक जायेगा और जहा हमे गिरना चाहते है वह पे नहीं गिरेगा जिस के कारन उतना असर मजमे के ऊपर नहीं डालेगा !

(b) गर्मी(Garmi ka asar) : गर्मी पाकर हवा हलकी हो जाती है और ऊपर उठती है जिसके कारन इसका फैलाव चारो तरफ नहीं होता है और ये मजमे के कम हिस्से के ऊपर और कम समय के लिए असर रखती है ! इसके लिए जरुरी है के शेल के जगह हम ग्रेनेड को अपने हाथो से जमीन के सहारे लुढकाये !

(c) हवा का रफ़्तार(Hwa ka speed ka asar) :आश्रू गैस के ऊपर हवा के रुख के साथ साथ रफ़्तार फी असर डालता है ! अगर हवा का  राफ्तर तेज हो तो आश्रू गैस को डायरेक्ट मजमे  के ऊपर नहीं फेकना चाहिए नहीं तो ओ हवा के रफ्तार  के कारन आश्रू गैस भी हवा के साथ साथ वहा से हवा जाने के दिशा में चला जायेगा !

इसीलिए जब हवा का रफ़्तार ज्यादा हो तो आश्रू गैस (Tear smoke)को ऐसे जगह पे फेकना चाहिए की जहा से हवा के साथ आश्रू गैस (Tear smoke) धीरे धीरे मजमे की तरफ आये !

लेकिन हमें ये भी जान  लेना चाहिए की आश्रू गैस को असर दर बनाने के लिए हवा का भी जरुरत पड़ता है अगर एक दम ही गम शुम मौसम होगा तो हवा का मूवमेंट बहुत ही धीरे होगा यानि जहा आश्रू गैस फटा है वह से गैस दुसरे जगह जाएगी ही नहीं और इस लिए मजमे के ऊपर उतनी असर नहीं डालेगी जितना की अपेक्षा है और इसके लिए हमे ज्यादा से ज्यादा आश्रू गैस छोड़ने पड़ेगे ! ऐसे आश्रू गैस केलिए सबसे उपयुक्त हवा की रफ़्तार 6 से 12 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार है !

इस प्रकार से अश्रु गैस के फायरिंग के ऊपर असर डालने वाले कुछ तत्वों के ऊपर संक्षिप्त जानकारी यहाँ संपत हुई !और उम्मीद  है की ये पोस्ट पसंद आएगा! अगर की कमेंट होतो निचे कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे !ब्लॉग को  सब्सक्राइब और अपने दोस्तों के बिच भी फेसबुक के ऊपर शेयर  कर हमलोगों को सपोर्ट  करे 


इस ब्लॉग से कोई भी पोस्ट रिलेटेड पीडीऍफ़ डाउनलोड(PDF version ) करना होतो आप डाउनलोड सेक्शन में जा कर कर सकते है !  

इन्हें भी पढ़े :
  1. INSAS LMGमें पड़ने वाली गैस की कमी का रोक और उसे दूर करने का तरीका
  2. INSAS LMG में पड़ने वाले अन्य रोके तथा उसे दूर करने का तरीका
  3. 9mm पिस्तौल के चाल और चाल में सामिल होने वाले हिस्से पुर्जे
  4. 9 mm पिस्तौल में पड़ने वाले रोके और उसे दूर करने का तरीका
  5. 9mm कार्बाइन मचिन के रोके और उसे दूर करने का तरीका
  6. इंसास राइफल के थ्री ब्रस्ट मेचानिस्ज्म की चल और पुर्जे
  7. जनरल टेक्निकल डिटेल्स 5.56 mm इंसास राइफल के कार्ट्रिज के बारे में
  8. इंसास राइफल की दुरुस्त ट्रिगर ऑपरेशन
  9. 36 ग्रेनेड के बेसिक जनरल डाटा और ग्रेनेड का इस्तेमाल और पार्ट्स के नाम
  10. नॉ-36 ग्रेनेड का खोलना जोड़ना और ग्रेनेड की चाल

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...