Sponser


Sunday, April 10, 2016

AK-47 और INSAS Rifle में कौन बेहतर ?

बहुत बार ये सवाल किया जाता है की AK-47 और INSAS राइफल में  कौन अच्छा है ! ऐसे तो मुझे तोइन दोनों  हथियारों के ऊपर फायर करने और हैंडल करने का मौका मिला है उस बेस  पे मै कह सकता है की दोनों हथियारों की आपनी अपनी खूबिया  है और खामिया है !


जैसे की आप जानते ही है की 5.56 mm INSAS राइफल 1990 के समय के बने हुवे है जबकि AK-47 काफी पहले से है अगर AK-47  अच्छा था तो फिर भारत ने इंसास क्यों अपनाया जबकि इंसास देखा जाये तो काफी महँगा  है AK-47 राइफल के बनस्पत ! इसका मतलब है की भारत ने  राजनैतिक, सामरिक  और सुरक्षा की दृष्टी से  AK-47 को सही नहीं पाया होगा  इसलिए इंसास अपनाया !

INSAS 5.56mm Vs AK-47
INSAS 5.56mm Vs AK-47
तुलनात्मक दृष्टि :(Camparison between AK-47 & INSAS Rifle)

S.No
AK-47  राइफल
S.
No
5.56 mm INSAS राइफल
1
7.62 mm राउंड  ज्यादा घातक लगने पे मरने की संभावना ज्यादा है
1
5.56 mm NATO राउंड जिसका प्राइमरी उद्देश्य रहता है घायल करने का
2.
भरी मग्जिन और बोनेट के साथ वजन 4.6 kg
2
भरी मग्जिन और बोनेट के साथ वजन 4.1 kg
3
रेट ऑफ़ फायर अधिकतम 650 राउंड्स/मिनट तक है !
3
रेट ऑफ़ फायर अधिकतम 550 राउंड्स/मिनट तक है !
4
बेनट के साथ लम्बाई  -874mm. यानि इंसास से छोट है कॉम्पैक्ट है !
5
बेनट के साथ लम्बाई 1110 mm
5
मग्जिन मजबूत है
6
मगज़ीन पारदर्शी है गिरने पे टूटने की सम्भावनाये ज्यादा रहती है !
8
इंसास के अपेक्षा मजबूत है
7
फ्रंट हैण्ड गार्ड और बट फाइबर के बने होते है और गिरने पे टूटने की सम्भावनाये ज्यादा रहती !
9
TRB मेकनिज्म नहीं है जिसका कारन भरी मात्र में फायर डाला जा सकता है और रेट ऑफ़ फायर भी ज्यादा है !
8
TRB मेकनिज्म होने के कारन कण्ट्रोल फायर किया जा सकता
10
निशाना सही लगाना मुश्किल है !
9
ऐमिंग एक्यूरेसी हाई है !

ऐसेतो बहुत ही तुलनात्म भिन्ताये है दोनों वेअपोनो में !  लेकिन इंसास राइफल  AK-47  राइफल के काफी बाद में बना है इसलिए इसमें कुछ अच्छाईया AK-47 में थी उसे अपनाया गया और जो कुछ खामिया AK-47 में थी उसको दूर कर कुछ और खूबिया  डाली गयी ! 

जैसे की TRB मेकनिज्म, इंसास में इसलिए डाला गया की AK-47 में कण्ट्रोल फायर नहीं होने के कारन  से अमुनिसन की बर्बादी बहुत ज्यादा होती थी ! TRB मेकनिज्म के कारन इंसास से कण्ट्रोल फायर कर के अमुनिसन को बचाया जाता है ! AK – 47 में  एक्यूरेसी की समस्या थी यानि लॉन्ग distance टारगेट को उतनी एक्यूरेसी के साथ हिट नहीं करता था! इंसास राइफल के   barrel की लम्बाई और साईट में बदली करके एक एक्यूरेट फायर वेपन बनाया गया !

 जो अमुनिसन की बदली की गयी जैसे की AK-47 में 7.62 mm का अमुनिसन लगता और इंसास में 5.56 mm इसके पीछे भी एक तर्क रखा गया था की इंसास के अमुनिसन से दुश्मन मरता नहीं है बल्कि घालय होजाता है और घायल को सँभालने में  दुश्मन के बहुत से मैनपावर लग जाताहै और दुश्मन कमजोर होजाता है और दुसरे तरफ से ह्यूमन राईट वालो का भी  डिमांड था की किसी को मारा नहीं जाय ! इसको सबको  ध्यान में रख कर 5.56 mm अमुनिसन अपनाया गया !

मेरे दृष्टि की AK-47 की जो खूबिया  है वो है(Good thing about AK-47)
  • उसका कॉम्पैक्ट साइज़ ,
  • कम वजन ,
  • हाई रेट ऑफ़ फायर पॉवर
  • और 7.62 mm अमुनिसन जिसके लगने के बाद बचना बहुत ही मुश्किल है !

 आर्म्ड फ़ोर्स के  लोग इंसास को क्यों ना पसंद करते है(Why poor review of INSAS rifle by armed forces)

इतनी सारी  खूबियों के बाद भी आर्म्ड फ़ोर्स के  लोgo ने  इंसास को क्यों ना पसंद करते है! इसका जवाब बहुत सारे  है एक तो इंसास को अपनाने का निर्णय किया गया था उस  समय और आज के समय के आतंकवाद और सामान्य लॉ & आर्डर का डायमेंशन टोटली  बदल गया है ! आज के हालत को देखते हुवे जहा आतंकवादी हैवीली फायर पॉवर लोडेड है वह इंसास का कण्ट्रोल फायर काम नहीं आएगा इसलिए इंसास सभी तरह के ऑपरेशन के लिए  उपयुक्त नहीं है ! लेकिंन  जनरल लॉ & आर्डर जैसे स्ट्राइक,  दंगा- फसाद, इलेक्शन ड्यूटी इत्यादि  जैसे ड्यूटियों के लिए इंसास राइफल , AK-47 के अपेक्षा बहुत अच्छा वेपन है वही आतंकवाद और नक्सलवाद से निपटने के लिए जहा हैवी फायर पॉवर चाहिए उसके लिए AK-47 अच्छा !

टैक्तिकाली और मेकनिज्म के अनुसार इंसास राइफल , AK-47 से काफी अच्छा है लेकिंन नकरात्मक रिव्यु आर्म्ड फोर्सेज से क्यों मिला :

नकरात्मक रिव्यु: (Poor Review of INSAS)
  • कमजोर मग्जिन गिरने से टूट फुट ज्यादा
  • कमजोर फ्रंट हैण्ड गार्ड और बट जो की गिरने पे टूट जाता है और यूजर उसके लिए नकरात्मक सोच  रखता है !
  • लो फायर पॉवर   होने  के कारन आतंकवाद के खिलाफ ऑपरेशन में इस्तेमाल  करने वाले जवानों ने  इसको उतना अच्छा  नहीं मानते है बनस्पत AK-47 जिसका फायर पॉवर अच्छा है !
  • Ak-47 के अपेक्षा थोडा बड़ा है इस लिए उतना कॉम्पैक्ट नहीं है यानि लाना ,ले जाना और हैंडल करना  AK-47 के जैसा स्मूथ नहीं है !


इस प्रकार से मेरा अनुसार ये दोनों वेपन अलग आलग हालत में एक दुसरे से अच्छे है !

New Contents