Sponser


Sunday, August 28, 2016

51mm मोर्टार के हाई एक्सप्लोसिव बम की चाल और पहचान

पिछले पोस्ट में हमे 51mm मोर्टार के साफ सफाई के बारे में जानकारी शेयर की है ! इस पोस्ट में हम 51mm मोर्टार में इस्तेमाल होने वाले हाई  एक्सप्लोसिव बम  का बेसिक डाटा तथा चाल (HE Bomb ke basic data aur HE bomb ke chal)के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे  



मोर्टार एक बहुत ही साधारण लेकिंन बहुत ही करार हथियार है विशेषकर अम्बुस को तोड़ने के लिए ये सबसे अच्छा हथियार है ! इस लिए इससे अधिक से अधिक फ़ायदा उठान के लिए ये ज़रूरी है  सभी जवान को बम के बारे में जानकारी होनि चाहिए ताकि समय आने पे सही इस्तेमाल कर सके और इससे होने वाले किसी प्रकार के हादसे से बचा जा सके !

ऐसे तो हम जानते है की 51 mm मोर्टार से 5 प्रकार के बम फायर किये जाते है और उन्ही पाच बोम्बो में से आज एक  बम  हाई एक्सप्लोसिव के पहचान , जनरल बेसिक डाटा तथा इसके चाल के बारे में जानकारी शेयर करेगे जो इस प्रकार से है !

जरुर पढ़े : ट्राईपोड़ और LMG को माउंट और डिसमाउंट करने का तरीका

हाई एक्सप्लोसिव बम की पहचान(HE Bomb ke pahchan) : इसके बॉडी  गहरे बादामी रंग का रहता है और इसका बेस चिपटा होता है ! ये दो प्रकार का होता है HE MK-I और HE MK-II . इस की मार्क का पहचान के लिए इसके बॉडी के ऊपर MK-I तथा MK-II लिखा रहता है जिसको पढकर इसकी पहचान किया जा सकता है !

हाई एक्सप्लोसिव बम का जनरल डाटा (HE Bomb ke basic technical data):
  • वजन : 980 +- 25 gm
  • लम्बाई : 270 mm
  • फ्यूज : DA No161 M-III(M-I)
  • बारूद :RDX/WAX
  • रेंज : मिनिमम -180 मीटर  मक्सिम्म -850 मीटर 
  • HE MK-I चार्जर:  CH-I  रेंज 180 मीटर -600 मीटर , CH-II रेंज  600 -850 मीटर 
  • HE MK-II चार्जर : CH-I  रेंज 200 मीटर -750 मीटर , CH-II रेंज  750 -1080 मीटर 
  • रेट ऑफ़ फायर: नार्मल -8 बम परमिनट , इनटेन्स:- 12 बम पर मिनट 
  • इफेक्टिव लेथल  एरिया : 11 मीटर रेडियस 
  • डेंजर एरिया : 80 मीटर   
जरुर पढ़े : 51mm मोर्टार की साफ सफाई का तरीका

हाई एक्सप्लोसिव बम के 11 हिस्से पुर्जो का नाम(HE bomb ke 11 parts ka name) :11 हिस्से पुर्जे  का नाम इस प्रकार से है :
(i) बॉडी(body) , (ii) सेफ्टी कैप(safety cap) , (iii)सेफ्टी पीन रिटेनिंग बॉल(Safety pin retaining ball), (iv) विंड शील्ड(Wind shield) , (v) डीटेंट(Detent) , (vi) डीटेंट स्प्रिंग(Detent Spring) (vii) स्ट्राइकर(Striker) , (viii) स्ट्राइकर स्प्रिंग(Stricker spring) , (ix) शटर  मेचानिज्म(Shutter mechanism) , (x) शटर स्प्रिंग(sutter spring) (xi)ब्रेस डिस्क (Bress disk)और मगज़ीन (magzine)

हाई एक्सप्लोसिव बम की चाल(HE Bomb ke chal) :
(a)  फायर से पहले के  हालात(HE ki  fire se pahle ki halat)  : आम हालात में बम पर देखने वाली बातें यह होती है की सेफ्टी कैप लगा होता है !जिसके ऊपर चिपकाने वाले फीता लगा होता है ! सेफ्टी पीन रिटेनिंग बॉल को अपनी जगह रोक कर रखता है !डीटेंट स्प्रिंग को विंड शील्ड से लागा कर रखता है ! रिटेनिंग बॉल स्ट्राइकर को रोक कर रोक कर रखता है और स्ट्राइकर स्प्रिंग दबा रहता है !स्ट्राइकर पॉइंट शटर को दूर रखता है और डीटोनेटर स्ट्राइकर की सिद्ध में नहीं आता है ! फायर से पहले  सेफ्टी पीन को निकल दिया जाता है !

(b) फायर होने पर(HE Bomb Fire hone pe chal) : फायर होने पर बम काफी प्रेशर के साथ बैरल से निकलता है और बम  के हरकत करने वाले पुर्जे  सेट बेक के धके से पीछे हरकत करते है !डीटेंट निचे की तरफ हरकत करता है और तिर्च  चैनल खुल जाता है ! डीटेंट स्प्रिंग दब जाता है ! स्ट्राइकर भी धके से थोडा निचे दब जाता है जिस से रिटेनिंग बॉल आजाद होकर तिर्च चैनल में गिर जाता है !

जरुर पढ़े : 51mm मोर्टार को खोलना जोड़ना और उसके पार्ट्स के नाम

(c) आर्म्ड होने पर(HE Bomb ki chal Armed hone par ): जब सेट बैक के धक्का समाप्त हो जाता है तो डीटेंट , डीटेंट स्प्रिंग की ताकत से ऊपर की तरफ हरकत करता है और विंड शील्ड के साथ लग जाता है जिस से तिर्च चैनल बंद हो जाता है ! अब रिटेनिंग बॉल दोबारा अपनी जगह पर वापिस नहीं जा सकता ! इसी दौरान स्ट्राइकर स्प्रिंग की मदद से स्ट्राइकर ऊपर की तरफ हरकत करता है और शूटर आजाद हो जाता है ! शूटर स्प्रिंग अपना तनाव पूरा करता है और शूटर हिन्ज  पिन पर   घूमकर ठीक स्ट्राइकर पॉइंट की सिद्ध में आ जाता है ! अब बम आर्म्ड की हालत में होता है !

(d) टकराने पर(HE Bomb takare pe chal) : जब बम उडान में अपनी सबसे ज्यादा हाइट पर पहुच जाता है तो बम निचे की तरफ आता है ! ज़मीं पर टकराने से विंड शील्ड दब जाता है , स्ट्राइकर अपने स्प्रिंग के बरखिलाफ हरकत करता है !स्ट्राइकर पॉइंट पर चोट मरता है जिस से धमाके की तरंग पैदा होती है ये तरंग सेप्टम से होकर CE स्टेमपड में आग लग जाती है !जिस से CE पल्लेट धमाके के साथ  फट जाता है और बम के टुकरे टुकरे हो जाते है !

जरुर पढ़े : 51 mm मोर्टार तथा इसके डायल साईट के बेसिक टेक्निकल जानकारी

इस प्रकार से HE बम की पहचान , चाल और हिस्से पुर्जे से सम्बंधित पोस्ट ख़त्म हुवा ! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे !ब्लॉग को  सब्सक्राइब और अपने दोस्तों के बिच भी फेसबुक के ऊपर शेयर  कर हमलोगों को सपोर्ट  करे 

इस ब्लॉग से कोई भी पोस्ट रिलेटेड पीडीऍफ़ डाउनलोड(PDF version ) करना होतो आप डाउनलोड सेक्शन में जा कर कर सकते है ! 

इसे भी पढ़े :
  1. 7.62mm LMG के बारे में कुछ जानकारिय
  2. 7.62mm ki chal. एस एल आर कैसे काम करता हा(एसएलआर की चाल). 
  3. Basic data of 5.56mm INSAS and It characteristics.
  4. 5.56mm INSAS ki chal in hindi , 5.56mm INSAS की चाल हिंदी में.
  5. 9 mm पिस्तौल ब्राउनिंग का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  6. 7.62 mm एसएलआर राइफल की खुबिया और खामिया
  7. 9 mm पिस्तौल का खुबिया और खामिया
  8. .303 LE राइफल का इतिहास
  9. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  10. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...