Sponser


Friday, May 27, 2016

इंसास राइफल की दुरुस्त ट्रिगर ऑपरेशन

जैसे की हमने अपने पिछले पोस्ट में जाने की  दुरुस्त शिस्त लेते समय एक फायरर द्वारा दो प्रकार की गलतिया होती है एक है साईट एलाइनमेंट(Sight Alignment) का और दूसरा साईट पिक्चर(Sight Picture) तो इस पोस्ट में हम जानकारी शेयर करेगे की साईट एलाइनमेंट और साईट पिक्चर की गलती को कैसे दूर करेगे और दुरुस्त ट्रिगर ऑपरेशन(Perfect trigger operation) कैसे करे !





            जरुर पढ़े :इंसास राइफल के फायरिंग पोजीशन और मज़बूत पकड़ बनाने के तरीके 

साईट एलाइनमेंट और साईट पिक्चर की गलती एक फायरर द्वारा की जाने वाली गलती है इस गलती को दूर करने या कम से कम करने के लिए निम्न एक्सरसाइज कराया जाता है जिससे फायरर की गलती में सुधार हो !
Aiming box Exercise
Aiming box Exercise
ऐमिंग बॉक्स एक्सरसाइज (Aiming box Exercise): साईट आलि न्ग्मेंट की गलती करने वाले फायरर को ऐमिंग बॉक्स एक्सरसाइज कराया जाता है ! इस एक्सरसाइज में फायरर शोर्ट ऐमिंग रेस्ट के पीछे पोजीशन लेता है! मजल एंड से 10 मीटर की दुरी पर ऐमिंग बॉक्स रखा जाता है . बॉक्स पे 6” x 6” का सफ़ेद कागज़ लगा रहता है जिस पर फायरर शिस्त लेता है और कोच ऐमिंग डिस्क को  पेपर पर रखता है . फायरर  के इशारे के मुताबिक कोच ऐमिंग डिस्क को हरकत देता है ! ज्यो ही फायरर की दुरुस्त शिस्त मिल जाती है बह  कोच को इशारा करता है कोच पेंसिल से निशान लगा देता है ! ये कारवाही तीन बार की जाती है ! ऐसा करने पर अगर फायरर का ग्रुप 6 cm कबंता है तो उसकी साईट अलिंग्मेंट की कारवाही सही है ! 
इस एक्सरसाइज का प्रैक्टिस बार बार करने से साईट अलिंग्मेंट की गलती को दूर किया जाता है !  

 जरुर पढ़े : इंसास राइफल के  डे लाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट के बारे में जानकारी 

ऐमिंग करेक्शन एक्सरसाइज(Aiming correction Exercise) : साईट पिक्चर की गलती करने वाले फायरर को ऐमिंग करेक्टर एक्सरसाइज कराइ जताई है ! इस एक्सरसाइज में राइफल के बैक साईट पे पीछे अमिंग करेक्टर लगाया जाता है और फायरर की शिस्त को चेक किया जाता है ! जरुरत शुदा करेक्शन दे कर उसे ठीक कराया जाता है !
गलतियो  को दूर करने के बाद भी अगर ट्रिगर ऑपरेशन ठीक से नहीं क्या जाये तो गोली ठीक जगह पे नहीं लगेगी , इस लिए ट्रिगर  ऑपरेशन में भी महारत हासिल करना चाहिए और ट्रिगर ऑपरेशन को ठीक से ऑपरेट कर के हम इंसास राइफल से एक गोली एक दुश्मन का टारगेट प्राप्त  कर सकते है!

ट्रिगर ऑपरेशन (INSAS Rifle’s Trigger operation) : यह राइफल एसएलआर के बनिस्पत छोटा उअर हल्का है . इस लिए इसका ट्रिगर दबाते समय ज्यादा कण्ट्रोल की जरुरात पड़ती है ! इस राइफल से तीन  राउंड्स कण्ट्रोल ब्रस्ट फायर किया जाता है ! ट्रिगर दबाने का कम कलमे वाली अंगुली का है ! अंगुली का पहला और दूसरा जोरक बीच की जगह को ट्रिगर के ऊपर रखता है ! ट्रिगर के दो खिचाव है , हल्का और सख्त खिचाव. पह्ला खिचाव हासिल करने के बाद दूसरा खिचाव खिचाव हासिल करे ! ट्रिगर दबाते समय barrel हरकत नहीं करनी चाहिए . इस प्रकार ट्रिगर पर 2.1 kg का दबाव आने पर त्र्ग्गेर प्रेस हो जाता है . 

               जरुर पढ़े :इंसास राइफल में पड़नेवाली रोके और उनको दूर करने का तरीका 

जिस प्रकार से ट्रिगर क दबाया गया है उसी प्रकार आराम से ट्रिगर को रिलीज़ किया जाय, इस करवाई को शोर्ट रिलीज़ की करवाई कहते है !गलत ट्रिगर ऑपरेशन करने वाले को टिन डिस्क एक्सरसाइज दी जाती है!

टिन एक्सरसाइज(Tin disc  Exercise) : इस एक्सरसाइज में फायरर लाइंग पोजीशन अख्तियार करने के बाद भर और रेडी की करवाई करता है !  कोच बैरल के ऊपर टिन डिस्क रखता हा और फायरर से ट्रिगर प्रेस करने को कहता है ! फायरर द्वारा ट्रिगर प्रेस करने पर अगर टिन डिस्क नहीं गिरता है तो फायरर के ट्रिगर ओपेरातिओ की करवाई सही मानी जाती है ! यह करवाई भी तीन बार कराइ जाती है ! अगर दो  बार टिन डिस्क नहीं गिरता है तो ट्रिगर ऑपरेशन की करवाई सही मानी जाएगी ! 

                                        जरुर पढ़े :  इंसास राइफल के चाल 

इस प्रकार से साईट एलाइनमेंट, साईट पिक्चर और ट्रिगर ऑपरेशन किया जाता है और ट्रिगर ऑपरेशन में होने वाली गलती को दूर किया जाता है! 

Subscribe to download pdf version of "इंसास राइफल के ट्रिगर ऑपरेशन"

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...