Monday, May 23, 2016

इंसास राइफल के थ्री ब्रस्ट मेचानिस्ज्म की चल और पुर्जे

पिछले पोस्ट म हम इंसास राइफल के सिंगल शॉट मैकेनिज्म की चाल और हस्से पुर्जे  के बारे में बात किये थे, इस पोस्ट में थ्री राउंड ब्रस्ट (TRB-three round mechanism) के चाल (TRB ki Chal) और हिस्से पुरजो के बारे में जानकारी करेगे !




सिगले शॉट मैकेनिज्म की तरह थ्री शॉट मैकेनिज्म(TRB) के भी 6 भाग होते है और जो की निम्न है :

  1. TRB बॉक्स (TRP Box)
  2. एक्सिस पिन(Axis Pin)
  3. प्लेट सिलेक्टर और प्लेट सिलेक्टर का अगला प्रोजेक्शन 
  4. रैटचेट व्हील(Ratchet wheel) : पिछला और ऊपर वाला प्रोजेक्शन , पिछला और निचे वाला प्रोजेक्शन
  5. रैटचेट व्हील स्प्रिंग(Ratchat wheel spring) 
  6. ट्रिपिंग प्लेट या रैटचेट  प्लेट : टेल , नीचला प्रोजेक्शन , ऊपर वाला प्रोजेक्शन 
TRB की चाल(TRB-Three round rust ki chal) : 
  • जब चेंज लीवर की पोजीशन को "B" पर किया जाता है तो चेंज लीवर स्टेम का बाएँ वाला लग प्लेट सिलेक्टर को नीचे दबा देता है ! जिससे प्लेट सिलेक्टर आगे से ऊपर उठता है ! इस दौरान प्लेट सिलेक्टर का अगला प्रोजेक्शन रैटचेट  व्हील को थोडा ऊपर उठा देता है , जिससे रैटचेट व्हील पावल की सीध में आ जाता है ! जब ट्रिगर को दबाया जाता है तो हैमर ट्रिगर सिआर से आजाद हो जाता है फायरिंग पिन  के पिछले वाले हिस्से पर चोट मरता है और पहला राउंड फायर हो जाता है ! 
  • इस दौरान पावल रैटचेट व्हील के ऊपर वाले दांत  में फंस जाता है और रैटचेट व्हील को थोडा ऊपर उठा देता है !                              जरुर पढ़े : इंसास राइफल की चाल 
  •   रैटचेट व्हील का पिछला और निचला प्रोजेक्शन औक्सिल्लारी सिआर आर्म के ऊपर दबाव डालता है और औक्सिल्लारी सिआर को अपनी जगह से पीछे ढकेल देता है !
  •  जब पुर्जे पीछे की हरकत करते है तो ट्रिगर के ऊपर दबाव होने के कारन  ट्रिगर सिअर से हैमर का मिलाप नहीं रहता  है साथ औक्सिल्लारी सिआर के पीछे होने के कारन हैमर का मिलाप औक्सिल्लारी सिआर से भी नहीं  होता है और हैमर आगे चाला जाता है , जिससे दूसरा राउंड फायर  हो जाता है !
  • इस समय रैटचेट व्हील का दूसरा दांत पावल के साथ फँस जाता है और रैटचेट  व्हील को और ऊपर उठा देता है ! इसी दौरान रैटचेट का पिछला और ऊपर वाला प्रोजेक्शन औक्सिल्लारी सिआर अपनी जगह से और पीछे दब जाता है !यह करवाई हुबहू पहले राउंड फायर की कारवाही की तरह से होता है !
  • जब हैमर पीछे आता  है तो ना तो ट्रिगर सिआर पकड़ पता है और ना ही औक्सिल्लारी सिआर जिसके कारण हैमर आगे की हरकत करता है और तीसरा राउंड भी फायर हो जाता है !
  • इस दौरान पावल रैटचेट व्हील के तीसरे दांत में फंस जाता है जिससे रैटचेट व्हील आगे से पूरा ऊपर उठ जाता है ! जब रैटचेट व्हील पूरा ऊपर उठता है तो उसका पिछला हिस्सा निचे जाता है !
  • इस दौरान रैटचेट  व्हील का पिछला हिस्सा रैट चेट प्लेट के नीचले प्रोजेक्शन पर दबाव डालता है जिससे रैटचेट प्लेट निचे जाता है और रैट चेट  प्लेट का टेल औक्सिल्लारी सिआर आर्म के  ऊपर दबाव डाल देता है !यह कारवाही उस समय की होती है जब तीसरा राउंड फायर हो या हो और चाल वाले पुर्जे आगे ही रहते है  !                    जरुर पढ़े : इंसास राइफल की विशेषताए 
  • जब चाल वाले पूजे तीसरा राउंड फायर होने के बाद  पीछे हरकत करते है तो पावल का मिलाप रैट चेट व्हील के दांत से टूट जाता है ! रैटचेट व्हील अपने स्प्रिंग की ताकत से अपनी नार्मल पोजीशन में आ जाता है ! 
  • इस कारवाही के दौरान रैटचेट व्हील रैटचेट प्लेट के ऊपर वाले प्रोजेक्शन की मदद से उसे ऊपर उठा देता है , जिससे औक्सिल्लारी सिआर आर्म के से दबाव आ  जाता है और औक्सिल्लारी सिआर नार्मल पोजीशन में आ जाता है ! 
  • ज्योही हैमर पीछे आता है औक्सिल्लारी सिआर पकड़ लेता है और तीन राउंड फायर होने के बाद फायर बंद हो जाता है !
  • अब अगला राउंड तब तक फायर नहीं होगा जब तक की ट्रिगर को फिर से आजाद  कर कर फिर से दबाया न  जाय 

 इस प्रकार से TRB अपनी चाल को पुरा करता है !


1 comment:

Addwith