Sponser


Thursday, December 28, 2017

मैप के स्केल तथा उसका प्रकार और महत्व

मैप रीडिंग के पिछले पोस्ट में हमने कन्वेंशनल साइन के महत्व के बारे में जनकारी प्राप्त किया ! इस पोस्ट में हम मैप के स्केल के कितने प्रकार के होते है( Map ke scale ke prakar ttha uska mahataw)के महत्व के बारे में जानेंगे !


जैसे की हम जानते है की मैप या स्केच किसी इलाके का छोटे रूप में चित्र होता है ! जिस अनुपात से उसे छोटा किया  होता है उसी को हम मैप का स्केल कहते है !

जरुर पढ़े :कंपास को सेट करना तथा इस्तेमाल करने का तरीका

जब तक की हमे स्केल के बारे में पूर्ण ज्ञान हासिल न हो जाये तब तक हम एक सफल मैप के बारे में जानकार नहीं हो सकते !

अगर एक जवान मैप रीडिंग और मैप के स्केल के बारे में सही जानकारी  रहता है और किसी आउट पोस्ट में ड्यूटी के दौरान उसके द्वारा दिए गए  दुश्मन का लोकेशन जो उसने अपनी मैप रीडिंग के ज्ञान के अनुसार दिया है  अगर उसने सही दुरी और बेअरिंग की जानकारी के साथ दुश्मन का लोकेशन बतात है तो सपोर्टिंग हथियारों का फायर आगे की अपनी  टुकारियो को काफी मदद दुशमन के ऊपर सटीक फायर डाल के देता है !

जरुर पढ़े : मैग्नेटिक वेरिएशन , लोकल वेरिएशन तथा एंगल ऑफ़ कन्वर्जेन्स का मतलब

लेकिनं अगर आउट पोस्ट में बैठा जवान को मैप की सही जानकारी नहीं है और उसे मैप के बेअरिंग तथा स्केल पढना सही सही नहीं आता है तो उसके द्वारा दिया गया जानकारी गलत होगी तथा  सपोर्टिंग फायर के द्वारा डाला गया फायर किसी गलत जगह पे गिर सकता है और हो सकता हो कही अपनी ही इलाके में जान माल का नुकशान कर दे !

जरुर पढ़े :मैप कितने प्रकार के होते है ?

इसी लिए एक जवान को विशेषकर आर्म्ड फ़ोर्स के जवान को मैप राडिंग तथा मैप के स्केल और बेअरिंग के बारे में सही ज्ञान होना बहुत ही जरुरी है !
इस पोस्ट में हम निम्न दो बाते मैप रीडिंग के बारेमे जानेगे :
Map Scale
Map Scale
1. मैप के स्केल का परिभाषा (Map ke scale ka paribhasha)
2. मैप के स्केल का प्रकार (Map ke scale ka prakar)

1. मैप के स्केल का परिभाषा (Map ke scale ka paribhasha): ज़मीं और उस पर बनी डिटेल के बीच के पड़े फासले को जिस अनुपात में मैप या स्केच पर कम करके तथा मैपो या स्केच के बीच के पड़े फासले को इनलार्जमेंट  पर बड़ा करके दिखाया जाता है उसी अनुपात को स्केल कहते है !
जरुर पढ़े : बैक बेअरिंग और फॉरवर्ड बेअरिंग में अंतर तथा ग्रिड लाइन का परिभाषा

यनी उदहारण  के लिए अगर जमीन का 1 किमोमीटर की एरिया को अगर हम छोटा कर के मैप पर एक से.मी. के एरिया में दर्शाते है या मैप का 1 सेंटीमीटर अगर जमीन के 1 किलोमीटर के एरिया के डिटेल्स को दर्शत है तो इस अनुपात को हम स्केल कहते है ! हर मैप के उसपर उसका स्केल लिखा रहता ! 

जरुर पढ़े :  13 तरीके मैप सेट करने का !

2. मैप के स्केल का प्रकार (Map ke scale ka prakar): साधारणतः मैप  के स्केल निम्न तीन प्रकार के होते है :
(i) छोटी स्केल (Small scale)
(ii) माध्यम स्केल (Medium scale)
(iii)बड़ी स्केल (Large Scale)

(i) छोटी स्केल (Small scale): जिन मैपो पर ज़मीन पर बने निशानों के बीच की दुरी साधारण से कम दिखाई गई हो तो वह छोटी स्केल के मैप कहलाते है !

(ii) माध्यम स्केल (Medium scale): जिन मैपो पर जमीनी निशानों के पड़े फासले साधारण रूप में दिखाए गए हो वह माध्यम स्केल के मैप कहलाते है !

(iii)बड़ी स्केल (Large Scale): जिन मैपो  या स्केचो पर जमीनी फासला को साधारण से बड़े अनुपात में दिखाते है वह बड़ी स्केल के मैप कहलाते है !
जरुर पढ़े : 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का

इस प्रकार से यहाँ हम मैप रीडिंग में स्केल का महत्व तथा मैप के स्केल कितने प्रकार के होते है उसके बारेमे जानकारी प्राप्त की !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !

इन्हें  भी  पढ़े :
  1. अपना खुद का लोकेशन मैप पे जानना और नार्थ पता करने के तरीके
  2. रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका
  3. सर्विस प्रोटेक्टर का उपयोग और सर्विस प्रोटेक्टर से बेक बेअरिंग पढने का तरीका
  4. 13 तरीके मैप सेट करने का !
  5. 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का
  6. 5 तरीको से मैप टू ग्राउंड और ग्राउंड टू माप जाने
  7. मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व
  8. मैप का परिभाषा , मैप का इतिहास और मैप का अव्श्काए
  9. मैप के प्रकार की विस्तृत जानकारी
  10. ट्रू नार्थ , ग्रिड नार्थ, मैग्नेटिक नार्थ का मतलब हिंदी में
  11. बैक बेअरिंग और फॉरवर्ड बेअरिंग में अंतर तथा ग्रिड लाइन का परिभाषा
  12. मैग्नेटिक वेरिएशन , लोकल वेरिएशन तथा एंगल ऑफ़ कन्वर्जेन्स का मतलब
  13. मैप रीडिंग में री सेक्शन , इंटर सेक्शन तथा ओरिएंटेशन का मतलब

Monday, December 25, 2017

ऐसे पाए अपने पैसे को वापस जिसे आपने गलती से किसी दुसर के अकाउंट में NEFT/RTGS कर दिए हो तो ?

आज मै अपना एक अनुभव को यहाँ शेयर करना चाहुगा जिससे अगर आप भी ऐसे परस्थितियो में अगर फंस जाये तो कैसे उससे पार पाए यनी How to get reverse funds transferred from wrong  bank account through NEFT/RTGS? !




पहले हम जब भी किसी को पैसा भेजना होता था तो या तो ड्राफ्ट बना के भेजते थे , मनी आर्डर करते थे या चेक काट कर दे देते थे ! लेकिंन  जब से नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के आने के बाद ऐसी सुविधा हुई जिससे की आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल का इस्तेमाल करते हुए इन्टरनेट के सहायत से पैसा किसी के अकाउंट में बिना बैंक गए घर बैठे बैठे किसी भी समय भेज सकते है !

जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को स्टेट बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

अब आप  चाहे दिन हो या रात कभी भी आप अपने अकाउंट से दुसरे के अकाउंट में पैसा ट्रान्सफर कर सकते है NEFT/RTGS के सहायता से !
इन सुविधाओ के आनेसे बहुत सरल और सस्ता हो गया पैसा ट्रान्सफर करना! लेकिन इस सरलता के साथ कुछ तकलीफे भी आती है ! पहले हम जब बैंक में जेक पैसा ट्रान्सफर करते थे और अगर बैंक अकाउंट गलत है तो बैंक कर्मी ट्रान्सफर करने से पहले ही बोल देते थे की यह अकाउंट गलत है ! लेकिंग नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के द्वारा ऐसी कोई सुविधा नहीं है !

अभी पिछले दिनों मै ऐसे दो घटनाओ का सामना किया ! एक में था की मुझे कुछ पैसे अपने दो के अकाउंट में ट्रान्सफर करना था मै उससे अकाउंट नंबर और ifsc कोड whatsapp पे माँगा लिया ! और रात को सभी काम समाप्त करने के बाद अपने मोबाइल से मैंने ओ पैसा अपने दोस्त द्वारा दिया गया अकाउंट में ट्रान्सफर कर दिया तथा सुबह उठ कर उसे बता दिया की मै तुम्हारा पैसा दिए हुए अकाउंट में ट्रान्सफर कर दिया हु चेक कर लेना !

जरुर पढ़े : अपने आधार कार्ड के डिटेल्स में हुई गलती का सुधार ऑनलाइन इसप्रकार से करे ?


ये मेसेज देने के कुछ समय मेरा दोस्त का फोन आया की ओ पैसा उसके अकाउंट में नहीं आया है और साथ ही भी बताया की जो अकाउंट उसने whatsapp किया था उसमे एक अंक कम है यानि बैंक अकाउंट गलत है ! मै तो डर गया की  आब क्या होगा क्यों की मुझे तो मेसेज मिला था अमाउंट ट्रान्सफर सक्सेसफुल ! 

फिर भी मैंने अपना अकाउंट चेक किया और पाया की मेरे अकाउंट से ओ पैसा डिडक्ट नहीं हुवा है ! इसलिए कोई इशू नहीं हुवा और मै उसके द्वारा दुबारा दिए गए नम्बर पे पैसा ट्रान्सफर कर दिया और पैसा उसको मिल भी गया !
जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को स्टेट बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

मेरा दूसरा घटना है मैंने एक दुकानदार से कुछ कीमती समान लिया और पास में उतना पैसा नहीं होने के कारन मैंने दुकानदार को बोला की आप अपना अकाउंट नम्बर दे दीजिये मै आपका अमाउंट NEFT कर देता हु दुकानदार मान गए और उसने मुझे अपना बैंक डिटेल्स whatsapp कर दिया और मैंने पैसा भी ट्रान्सफर कर दिया और पिआसा भी मेरे अकाउंट से  डिडक्ट हो गया लेकिंन दुकानदार बोला की उसे पैसा नहीं मिले यानि उसके अकाउंट में नहीं आये है ! 

जब मैंने उससे बोला की आपने जो बैंक अकाउंट दिए थे ओ सही है इसके चेक कर लो तो उसने चेक करने के बाद बताया की उसमे एक अंक गलत है यानि यह बैंक अकाउंट उसका नहीं किसी और का है जहा मैंने पैसा ट्रान्सफर कर दिया NEFT के द्वारा !

मैं तो थोडा टेंसन में आगया आब करे तो क्या करे क्यों की जब हम NEFT या RTGS करते है उस समय यह वरनी आता है की अपनी बैंक अकाउंट की जाँच करले NEFT/RTGS करने से पहले ! गलत अकाउंट में पैसा ट्रान्सफर होने पर बैंक कोई जिम्मेवारी नहीं लेगा !

यह सब सोच कर टेंशन तो हो रहा था लेकिन मैंने सोचा की कुछ ना कुछ तो करना ही पड़ेगा ! इसलिए सब से पहले मैंने अपने बैंक के कस्टमर केयर को कॉल किया और अपनी व्यथा सुनाया !

 कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव ने दिलासा तो दिया लेकिन ज्यादा कुछ नहीं बताया बोला की एक 24 घंटे के बाद आपके पैसा आपके अकाउंट में आ जायेंगे ! 24 घंटा भी बीत गया कुछ नहीं !  

जरुर पढ़े : पान कार्ड नम्बर को  बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

मै इसी बिच जिस बैंक के नंबर पे पैसा ट्रान्सफर किया था उस बैंक से संपर्क किया ओ लोग भी ज्यादा सहायता नहीं कर रहे थे ! उनका एक ही कहना था की आपका पैसा जिस अकाउंट में आया है उसका अकाउंट होल्डर अगर लिखित में देगा तभी हम आप के पैसे को रेवेर्स कर सकते है  और इस अकाउंट को हम फ्रीज  भी नहीं कर सकते है !

फिर मै ने उस बैंक अकाउंट होल्डर ढूंढा जिसके अकाउंट में मेरे पैसे ट्रान्सफर हो गए थे ! ओ पहले तैयार थे पैसा ट्रान्सफर करने के लिए लेकिन किसी ने उन्हें बता दिया की अगर आप पैसा निकाल के देंगे तो ये पैसा आपके इनकम में काउंट हो जायेगा और आप को टैक्स देना पड़ेगा !

इसी दरमियाँन  मैंने  अपने बैंक के कस्टमर एग्जीक्यूटिव से बात और अपने कंप्लें के बारे में बताया उसने यही बोला की आपका कंप्लें के एस्कलेट कर दिया गया हायर लेवल पे ओ जल्द हो जायेगा ! 

ऐसे करते करते चार दिन बिट गए लेकिन मेरा पैसा मेरे अकाउंट में नहीं आ रहा था !फिर मैंने अपने बैंक के बरंच ऑफिस में गया और वह उनके ऑपरेशनल हेड से अपनी बाट बताई और उनको अपना कम्प्लेंन  नम्बर दिया! बैंक ब्रांच के ऑपरेशन हेड बोलता है की ऑनलाइन दिया हुवा कंप्लेंन ज्यादा महत्व नहीं रखता है वह भी ऐसे मामले में जहा पैसा एक अकाउंट से दुसरे अकाउंट में ट्रान्सफर करनी हों! 

उन्होंने ने मेरे से नया रिक्वेस्ट लिया और बोला की अगले 24 घंटे में आपका पैसा आपके अकाउंट में रेवेर्स हो जायेगा! 24 घंटे बीत गए लेकिन पैसा मेरे अकाउंट में नहीं आया मै बार बार फ़ोन से और ब्रांच जाके बैंक के अधिकारी को रिक्वेस्ट करते रहा क्यों की ओ लोग भी बहुत बिजी रहते है इस लिए बार बार यद् करते करत यानि छाते दिन मेंरा पैसा मेरे अकाउंट में रिवर्स हो गया ! उसके बाद मैंने यद् कर के रख लिया की जब तक बैंक अकाउंट को पूरी तरह से वेरीफाई नहीं कर लूँगा आब NEFT/RTGS नहीं करूँगा !

जरुर पढ़े : ऐसे पता करे अपने आधार नंबर कब कब इस्तेमाल हुवा ?


अंत  में यही कहूँगा की और गलती से आपने NEFT/RTGS किसी दुसरे के अकाउंट में कर दिए है और उसको रेवेर्स अपने अकाउंट में करना चाहते है तो इन बातो को फॉलो करे आपका पैसा आपके अकाउंट में ट्रान्सफर हो जायेगा How to get reverse funds transferred from wrong  bank account through NEFT/RTGS?)
 ! 

1. जितनी जल्दी हो सके अपने बैंक में जाये और और ब्रांच के ऑपरेशनल हेड से मिले और अपनी पूरी डिटेल दे ! क्यों की ब्रांच के ऑपरेशन सेक्शन वाले ही मनी ट्रान्सफर और रिवर्स के बारे में जानते है !

2. जिस बैंक में आपने गलती से पैसा ट्रान्सफर किया है उस बैंक के ब्रांच में जा कर उस बैंक अकाउंट में बैंक को होल्ड करने का रिक्वेस्ट करे ! आम तौर पे बैंक ब्रांच पैसा होल्ड करने को तैयार नहीं होते है लेकिंन अगर आपके बाट से कही ओ वैसा कर दे !

जरुर पढ़े : आधार कार्ड को पान कार्ड से ऐसे  लिंक करे ?

3. अगर पता चल जाए तो जिस बैंक अकाउंट में आपने पैसा गलती से ट्रान्सफर किया है उसके अकाउंट होल्डर से संपर्क करे और उनसे रिक्वेस्ट करे की अगर ओ अपने अकाउंट में से खुद ही पैसा आपके अकाउंट में ट्रान्सफर कर दे ! अगर अमाउंट ज्यादा हो तो बहुत से लोग तैयार नहीं होते है क्यों की  अगर ओ ऐसा करेंगे तो ये पूरा पैसा उनका इनकम में काउंट हो जायेगा और उन्हें उस इनकम के ऊपर टैक्स भरना पड़ेगा !

4. अपने बैंक ब्रांच में फॉलो अप करते रहे मेरे केस में उनलोगों में एक सम्प्तः के अन्दर मेरा पैसा रिवर्स करा दिए थे !

यह एक सत्य घटना पे आधारित है और मैंने यह इस लिए लिख दिया की अगर कोई और ऐसी परिस्तिथि में फंस जाये तो ज्यादा पैनिक न हो और मेरे जैसे ही एक्शन ले कही उनका भी काम हो जाये !

उम्मीद है यह पोस्ट पसंद आएगा !अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 
इसे भी पढ़े  : 
  1. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  2. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  3. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  4. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  6. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  7. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  8. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.
  9. AKM राइफल का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  10. 7.62mm SLR के पार्ट्स का नाम और 7.62 mm SLRराइफल का चाल

Sunday, December 24, 2017

ग्लोक्क मार्क-43 पिस्तौल का परिचय और टेक्निकल डाटा

पिछले पोस्ट में हमने विध्वंसक स्नाइपर राइफल के बारे में जानकारी शेयर की इस पोस्ट में हम ग्लोक्क -43 पिस्टल(Glock- 43 pistol ka parichay) के बारे में जानेगे !




ग्लोक्क पिस्टल बहुत वैरिएंट में आते है जैसे ग्लोक्क मार्क - 17  से शुरू  हो कर  ग्लोक्क मार्क -39 तक !
जरुर पढ़े : 7.62 mm एसएलआर का बेसिक डाटा -I  
लेकिन इस पोस्ट में मै ग्लोक्क  मार्क 34 के बारे में में ही बात करूँगा ऐसे ग्लोक्क की सभी पिस्टल की बनावट और चाल एक जैसी ही है बस इसके कैलिबर और मागज़ीने कैपेसिटी में फर्क है जो की अगल अलग उद्देश्य की पूर्ति के लिए अलग अलग  वैरिएंट में आते है  !जिसकी ग्लोक्क मार्क-17, मार्क-18,ग्लोक्क मार्क-39 यदि !

जरुर पढ़े : अच्छे राइफल फायर कैसे बने ? 

ग्लोक्क मार्क -34 सुरक्षा बालो का सबसे पसंदीदा पिस्टल है !ग्लोक्क -43 पिस्टल ऑस्ट्रिया का बना हुवा  एक सेमी आटोमेटिक पिस्टल है ! इसकी बनावट और मगज़ीन इतनी कॉम्पैक्ट है की यह सुरक्षा कर्मिओ के लिए एक चेहता पिस्टल बन गया है !यह  2015 में  ग्लोक्क GmbH - ऑस्ट्रिया कंपनी  के द्वारा बनाया गया !

इस पोस्ट में हम ग्लोक्क पिस्टल मार्क -34 के निम्न बातो के बारे में जानेगे :
Glock mark-34
Glock mark-34 

  1. ग्लोक्क मार्क-43 पिस्टल की विशेषताए (Glock pistol mark-43 ki characteristic)
  2. ग्लोक्क मार्क-34 पिस्टल की कमिया (Glock-34 pistol ki kamiya)
  3. ग्लोक्क मार्क-34 पिस्टल की टेक्निकल डाटा (Technical data of glock mark-34 pistol ) 

जरुर पढ़े : फायरिंग के दौरान फायरर द्वारा की जानेवाली कुछ गलतिया

1. ग्लोक्क पिस्टल की विशेषताए Glock pistol mark-43 ki characteristic):

  • इसक मगज़ीन का डिजाईन सिंगल स्टैक में है जिसके कारन इसके ऊपर पकड़ बना बहुत ही असान है और डिजाईन में थोडा पतला होने के कारन पकड़ना बहुत ही असान  हो गया है !
  • इसके बेसिक मागज़ीने के अन्दर 6 राउंड्स भरे जाते है !
  • और इसके मग्जिन के ऊपर टेक्सचर ग्रिप होने के कारन छोटे हथेली वाले फायरर के हाथो में भी यह आसानी से फिट हो जाता है !
  • इसके ऊपर पकड़ बनाना असान  है इसलिए इसे एम लेकर कर आसानी से किया जा सकता है !
  • इसका पिस्टल मगज़ीन कैच बड़ा है इसलिए इससे मागज़ीने आसानी से निकले और बदली किये जा सकते है !
  • कॉम्पैक्ट और छोटा होने के कारन इसे आसानी से अपने छुपाके  अपने बॉडी के साथ रख सकते है जिसे किसी को पता नहीं चलेगा !
  • वजन में हल्का है !
  • इसका फायरिंग रेकॉइल कम है जिसके कारन इसका सटीक निशाने पे हिट करता है !

2. ग्लोक्क मार्क-34 पिस्टल की कमिया (Glock-34 pistol ki kamiya): ऐसे तो यह सुरक्षा बालो का पसंदीदा पिस्टल है लेकिन सुरक्षा बालो के ड्यूटी के ध्यान में रखते हुए इसमें निम्न खामिया कही जा सकती है :
  • मग्जिन कैपेसिटी बहुत ही कम है !
  • साइज़ में छोटा होने के कारन गिरने की संभावना है !
3. ग्लोक्क मार्क-34 पिस्टल की टेक्निकल डाटा (Technical data of glock mark-34 pistol ) :इसका टेक्निकल डाटा निम्न है :
  • सर्विस इयर : 2015
  • टाइप : सब कॉम्पैक्ट सेमी आटोमेटिक पिस्टल 
  • देश जहा बना है : ऑस्ट्रिया 
  • कंपनी : Glock GhbH Austrai
  • फायरिंग एक्शन : सेमी आटोमेटिक 
  • कैलिबर : 9 mm x 19 mm 
  • मगज़ीन कैपेसिटी : 6 राउंड बॉक्स मगज़ीन 
  • लम्बाई :159 mm (6.26 इंच )
  • बैरल की लम्बाई : 86 mm (3.39 इंच)
  • वजन : 1.39 lb (.63 किलो)
  • सिटिंग : आयरन फ्रंट & रियर 
  • लोडेड वजन : 22.36 औंस (634 gm )
  • अन लोडेड  वजन :17.95 औंस (509 gm )
  • ट्रिगर पुल : 2.5 किलो , 
  • ट्रेवल -12.5 mm( 0.45 इंच )
  • बैरल रोटेटिंग : राईट हैण्ड हेक्सागोनल 
  • ट्विस्ट लेंग्थ : 250 mm 

इस प्रकार से यहाँ ग्लोक्क मार्क-34 से सम्बंधित एक संक्षिप्त पोस्ट समाप्त हुई ! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगाअगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस पेज सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे!
इसे भी पढ़े  : 
  1. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  2. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  3. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  4. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  6. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  7. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  8. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.
  9. AKM राइफल का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  10. 7.62mm SLR के पार्ट्स का नाम और 7.62 mm SLRराइफल का चाल

Tuesday, December 19, 2017

विध्वंसक स्नाइपर राइफल का परिचय

पिछले पोस्ट में हमने रायट कण्ट्रोल के बारे में जानकारी प्राप्त की ! इस पोस्ट में हम विध्वंसक (ए एम् आर ) स्नाइपर राइफल(Vidhwansak Anti material rifle ka parichay ) के बारे में जानेगे.




जैसे की हम जानते है की विध्वंसक एक संस्कृत का शब्द जिसका जिसको अग्रेजी में "The Destroyer" कहते है !
जरुर पढ़े : 7.62 mm एसएलआर का बेसिक डाटा -I
विध्वंसक एंटी मटेरियल राइफल (ए एम् आर )   भारत निर्मित देशी एंटी मटेरियल राइफल है ! यह एक वजनी राइफल सिस्टम है जिसका इस्तेमाल कर के  भारतीय सुरक्षा बल दुश्मन के लाइट व्हीकल , स्ट्रक्चर , बनकर तथा अमुनिसन डिपो औत काउंटर स्निपिंग टास्क के लिए करते है !

विध्वंसक को अपनाने से से पहले भारतीय सुरक्षा बालो ने साउथ अफ्रीकन डिफेन्स फर्म  डेनेल (Denel) से NTW-20 के लिए बात कर रही थी लेकिन डेनेल का नाम गैरकानूनी तरीकेसे लोब्ब्यिंग करने में आया और इस कंपनी को भारत में बैन कर दिया गया !
जरुर पढ़े : अच्छे राइफल फायर कैसे बने ? 
ऐसे तो एक एंटी मटेरियल राइफल की जरुरत भारतीय सुरक्षा बालो की थी इस लिए यह निर्णय लिया गया की इसे भारत में ही विकशित किया जाय ! और इसको डेवेलोप करने की जिम्मेवारी आर्डिनेंस फैक्ट्री त्रिचिरापल्ली और DRDO New Delhi ने उठाया !

इन दोनों संस्थाओ ने मिलकर NTW-20 को बेस मानकर विध्वंसक का प्रोटो टाइप  को 2005 में बनाया जिसका फील्ड टेस्ट २००६ में सफल रहा और फोर्मल्ली भारतीय फौज में 2007 में सामिल किया गया !
जरुर पढ़े : फायरिंग के दौरान फायरर द्वारा की जानेवाली कुछ गलतिया

इस राइफल का एक अहम विशेषता है की इस में थोडा सा बदलाव करके इससे तीन कैलिबर के कार्ट्रिज फायर किया जा सकता है !

इस राइफल से 12.5 mm , 14.5 mm  और 20 mm कैलिबर के कार्ट्रिज फायर कर सकते है , जिसके कारन यह सही मायने में एक विध्वंसक राइफल है !जिसे हम बहुत ही फ्लेक्सिबल टैक्टिकल वेपन सिस्टम कह सकते है !
जरुर पढ़े : 7.62mm LMG के बारे में कुछ जानकारिय

इस राइफल को दो बड़े भागो में खोला जा सकता है और यह एक क्रू वेपन है जिसको हैंडल करने के लिए दो व्यक्ति  की जरुरत पड़ती है !

टेक्निकल डाटा विध्वंसक राइफल का(Technical data of Vidhwansak (AMR) :
Vidhwansak (AMR)
Vidhwansak (AMR)
  • विध्वंसक का वजन (Weight of Vidhwansak (AMR)) : 55.12 पौंड (25 kgs)
  • विध्वंसक का लम्बाई(Length of Vidhwansak (AMR)) : 1700 mm (66.93 इंच)
  • विध्वंसक के बैरेल की लम्बाई(Barrel length of Vidhwansak (AMR)) : 1100 mm (43.31 इंच )
  • विध्वंसक का मजल वेलोसिटी(Muzzle velocity of Vidhwansak (AMR)) : 3411 फीट/सेकंड 
  • विध्वंसक का इफेक्टिव रेंज (Effective range of Vidhwansak (AMR)): 1962 यार्ड 
  • विध्वंसक का मैक्सिमम रेंज(Maximum range of Vidhwansak (AMR)) : 2180 यार्ड 
  • विध्वंसक का विध्वंसक का पूरा नाम(Full name of Vidhwansak (AMR)) : विध्वंसक एंटी मटेरियल राइफल /स्नाइपर राइफल 
  • विध्वंसक को बनाने का साल(Manufacuring year of Vidhwansak (AMR)) : 2007
  • टाइप : स्नाइपर - एंटी मटेरियल राइफल 
  • प्रिंसिपल : मैन्युअल बोल्ट एक्शन 
  • विध्वंसक का कैलिबर(Caliber of Vidhwansak (AMR)) : 12.7 x 108 mm , 14.5 x 114 mm , 20 x 82 mm 
  • विध्वंसक का साईटिंग(Sighting of Vidhwansak (AMR)) : टेलीस्कोपिक साईट 


इस प्रकार से यहा विध्वंसक एंटी मटेरियल राइफल के परिचय से सम्बंधित पोस्ट यहाँ समाप्त  हुई! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगाअगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस पेज सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे
इसे भी पढ़े  : 

  1. Lee Enfield .303राइफल का टेक्नीकल डाटा
  2. Lee Enfield 303राइफल की खूबिय और खामिया
  3. 9 mm कार्बाइन मचिन या सब मचिन गन का इतिहास और खुबिया
  4. 9mm कार्बाइन का टेक्नीकल डाटा -II
  5. 9 mm कार्बाइन मचिन का बेसिक टेक्नीकल डाटा -I
  6. 5.56 mm INSAS LMG का बेसिक डाटा और स्पेसिफिकेशन
  7. इंसास राइफल का पार्ट्स का नाम और खोलना जोड़ना
  8. इंसास राइफल के डेलाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट का डिटेल.
  9. AKM राइफल का बेसिक टेक्नीकल डाटा
  10. 7.62mm SLR के पार्ट्स का नाम और 7.62 mm SLRराइफल का चाल

Friday, December 15, 2017

साइबर अटैक में पुलिसवाले ऐसे ट्रैप होते है ??

जैसे की ऑनलाइन साइबर थ्रेट दिन पर दिन बढ़ते जा रहा है(Online cyber crime se kaise bache) और साइबर क्रिमिनल तरह तरह के हथकंडे अपनाते है अन्यभिग्न  आम आदमी को अपना शिकार बनाने के लिए ! 





आम पुलिस का जवान जो डेली क्रिमिनल के बारे में या 5.56 mm इंसास राइफल या 7.62 mm एसएलआर के हैंडलिंग(Assembling of INSAS Rifle) के बारे में तो माहिर होता है लेकिंन साइबर क्राइम में हो रहा दिन प्रति दिन के डेवलपमेंट के बारे में अपने आप को उतना अपडेट नहीं रखता है और जिसके कारन ओ साइबर क्रिमिनल्स के शिकार आसानी से बन जाता है ! अगर हम हम साइबर क्राइम के ऊपर थोडा सा जानकारी ले और होशियार  रहे तो हम साइबर क्राइम से आसानी से बच सकते है !

जरुर पढ़े : आधार कार्ड को पान कार्ड से ऐसे  लिंक करे ?

इस पोस्ट में हम साइबर क्राइम से रिलेटेड निम्न दो विषयों के बारे में जानेगे :

Cyber threat aur bachaw
Cyber threat aur bachaw
  1. मैलवेयर क्या है और उससे बचाव के तरीके !(Malware kya hai aur usse bachaw ka tarika)
  2. पिशिंग क्या है और उससे बचाव के तरीके (Pishing kya hai aur usse bachaw ka tarika)
1. मैलवेयर क्या है और उससे बचाव के तरीके !(Malware kya hai aur usse bachaw ka tarika): मैलवेयर को पुलिस के भाषा में बोले तो एक अपराधिक उदेश्य को ध्यान में रख कर बनाया गया कोड या सॉफ्टवेर है !जिसमे सामिल है वायरस(Computer virus) , वर्म्स (Worms), ट्रोजन हॉर्स(Trojan Horse) , रंसोम्वारे(Ransomware) और स्पयवारे(Spyware) 
मैलवेयर आपके कंप्यूटर ऑपरेशन में बेव्धान पैदा कर आपके फाइल को हमेशा के लिए डिलीट या ख़राब कर सकता है जिसे आप रिकवर कर दोबारा इस्तेमाल नहीं कर सकते है !
यह सॉफ्टवेर या कोड आपके बिना शक के आपके कंप्यूटर के बेक ग्राउंड में चुपचाप चलता है और आपके कंप्यूटर के हर गतिविधि को रिकॉर्ड करते रहता है  और आपके कोम्प्टर से ओ साइबर क्रिमिनल के पास भेजते रहता है जिसमे आप ने कौन कौन साईट विजिट किया या आप के यूजर आइडेंटिफिकेशन(USer ID) और पासवर्ड(Password) भी सामिल है !

अभी पिछले दिनों न्यूज़ में तहलका मचाया हुवा मैलवेयर था रंसोम्वारे (Ransomware) जो की साइबर क्रिमिनल्स द्वारा डिजाईन किया गया एक कोड था जो  लोगो के कंप्यूटर के इंटर नेट के थ्रू घुस  कर  कंप्यूटर को लॉक कर देता था और सभी महत्वपूर्ण फाइल को इनक्रिप्ट कर देता था और कंप्यूटर स्क्रीन में मेसेज छोड़ कर पैसा (Ransome) मागता था की आप इतना डॉलर का पेमेंट करे नहीं तो आपका फाइल को डिलीट कर दी जाएगी !

अपने आपको मैलवेयर से बचाव कैसे कर सकते है (How to protect yourself from malware threat):जैसे कहते है बचाव ही सुरक्षा है अगर एक बार आपका डाटा की चोरी हो गयी पता नहीं साइबर क्रिमिनल्स उसे कैसे कैसे इस्तेमाल करेंगे !निम्न कुछ स्टेप्स है जिसको उठाकर हम और आप मैलवेयर से कुछ हद तक बच सकते है !
  • किसी अनजाने लिंक पर क्लिक करने से पहले सोंचे(kisi unknown link par click nahi kare) : मैलवेयर मलिसिअस लिंक और अटैचमेंट के द्वारा फिअलता है ! इसलिए किसी लिंक पर क्लिक करने या किसी अटैचमेंट को खोने से पहले सोचे क्या ये लिंक मेरे किसी जान पहचान वाला भेजा है , या किसी ऑफिस से आया है जिसके आने की संभावना थी ! अगर ऐसी नहीं है तो किसी भी अनजान लिंक या अटैचमेंट को अपने कंप्यूटर या मोबाइल में न खोले ये मैलवेयर होसकता है !
  • अपनी एंटी वायरस सॉफ्टवेर को अपडेट रखे :न्य वायरस कोड लगातार लिखे जाते है इस लिए अपने एंटी वायरस सॉफ्टवेयर को हमेशा अपडेट रखे ! जरुरत नहीं है की ओ ख़रीदा हुवा ही एंटी वायरस सॉफ्टवेर हो बल्कि बहुत से एंटी वायरस सॉफ्टवेर ऑनलाइन फ्री भी उपलब्ध है उन को भी इस्तेमाल कर सकते है !
  • बैकअप लेते रहे : अगर आप मैलवेयर जैसे की रंसोम्वारे  या वायरस से बचना चाहते है तो अपनी महत्वपूर्ण डाटा को समय समय पे बैकअप किसी एक्सटर्नल ड्राइव या क्लाउड पे लेते रहे !

अगर इस प्रकार से कुछ कदम हम उठाते है तो काफी हद तक हम मैलवेयर अटैक से अपने कंप्यूटर/मोबाइल के डाटा को बचा सकते है !

2.पिशिंग क्या है और उससे बचाव के तरीके (Pishing kya hai aur usse bachaw ka tarika):पिशिंग में कोई व्यक्ति या ग्रुप  उन साधारण या अन्भिग्न  लोगो का पर्सनल और बैंक डिटेल से सम्बन्धी पर्सनल डिटेल हासिल करता है ! इन डिटेल्स को हासिल करने के लिए ये ग्रुप ट्रिक अजमाता है जिससे लगे की ये ग्रुप एक बैध्य ग्रुप हैऔर बैध्य  करवाई कर रहा है !

जरुर पढ़े : अपने आधार कार्ड के डिटेल्स में हुई गलती का सुधार ऑनलाइन इसप्रकार से करे ?

यह ग्रुप ऐसा ईमेल ड्राफ्ट करेगा की जिसको देखने से लगेगा की वह किसी बैध्य संस्था  से आया है और जो जानकारी मांगी गई है उसे देना जरुरी है ! ऐसे ईमेल में हमेंश लिंक दिया हुवा होता है और उसी के ऊपर क्लिक करने की बात की जाती है और जैसे ही उस लिंक के ऊपर क्लिक किया जाय तो ओ क्लिक करने वाले को किसी दूसरी साईट पे ले जाती जय जो देखने में तो बहुत सिमिलर लगता है एक बैध्य साईट के लेकिंन ओ होता नहीं है और वह पेज पे  जो भी पर्सनल डाटा जैसे नाम , ईमेल , बैंक अकाउंट, यूजर आई डी पासवर्ड यदि मांगे  जाते है सब गलत इस्तेमाल कर के  आप के अकाउंट से पैसे नीकला  जा सकता है या आपके डाटाबेस का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है !
पिशिंग से बचने का तरीका (Pishing se bachaw ka tarika): इससे बचने के लिए यह जरुरी तरीके है :
  • जब तक आप ईमेल भेजने वाला या फ़ोन करने वाले को नहीं जानते है तब तक ओपन पर्सनल डिटेल उसे न दे और ऐसे ईमेल में दिए हुए लिंक पर क्लिक न करे !
  • यह आप नोट कर ले की कोई सी बैध्य संस्था(Ligitimate Government department) या सरकारी डिपार्टमेंट आप से आपका यूजर आई डी(USer ID) और पासवर्ड(Password) कभी नहीं मांगता है अगर कोई मागता है तो ये डिटेल कभी न दे और उस डिपार्टमेंट के इन्फॉर्म करे जिसका यूजर id पासवर्ड माँगा गया हो !
  • यह भी नोट कर ले की बैंक कभी भी आप से डेबिट कार्ड नंबर और पिन नहीं मांगते है ! अगर कोई ईमेल आप से ऐसी डेटल मागती है तो उसका रिपोर्ट करे और ये डिटेल कभी भी फ़ोन और ईमेल के जवाब में न दे !
  • अगर कोई संस्था जिसे आप नहीं जानते है और आपसे ऑनलाइन डोनेशन मागती है किसी प्रकृति आपदा या किसी बेस पर तो उसे डोनेशन न दे क्यों की अगर उनके साईट से जाके आप डोनेशन दे वह पे ओ आपका यूजर आई डी और पासवर्ड को सेव कर के रख आपके साथ फोर्जरी भी कर सकते है !
  • अपना एंटी वायरस सॉफ्टवेर अपडेट रखे 
  • कोई भी ऐसी मेल या कॉल वाता है जिसमे किसी डिपार्टमेंट के नाम लेकर आपका पर्सनल डिटेल माँगा जाता है ऐसी मेल और कॉल का रिपोर्ट उस संस्था में जरुर करे !

इस प्रकार से यहाँ  साइबर अटैक के खतरे के बारे में हम जाने !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगाअगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 

Sunday, December 10, 2017

अपने आधार कार्ड के डिटेल्स में हुई गलती का सुधार ऑनलाइन इसप्रकार से करे ?

पिछले पोस्ट में हमने आधार का इस्तेमाल कब कब हुवा है उसे कैसे जन सकते है उसके बारे में जानकारी हासिल की इस पोस्ट में हम ये जानेगे की आधारकार्ड में दिया हुवा नाम या पता या किसी प्रकार की गलती को घर बैठे कैसे दूर कर सकते है(Online Adhar card me correction ka sudhar kaise kare ) !


यह हमेशा न्यूज़ में रहता था की आधार को सरकार ने अनिवार्य तो कर दिया है लेकिंग आधार के अन्दर इतनी त्रुटिया है की उसे इस्तेमाल कैसे करे और उस त्रुटी को दूर कैसे करे इसको लेकर लोगो में बहुत परेशानी थी ! अभी  पिछले दिनों एक न्यूज़ था की के पुरे गाँव के लोगो का जन्मतिथि एक ही आ गयी है !


इनसब समस्यायों को सुनने के बाद UIDAI Authority ने अपने वेबसाइट के ऊपर ही ऐसी ब्यवस्था कर दीहै जिसके जरिये एक  एक आम नागरिक जिनकी आधार कार्ड के अन्दर कोई गलती है उसे दूर कर सकते है ! उसके लिए आप निम्न प्रोसीजर को फॉलो करे : 
  • इस बात का ध्यान में रखे की ऑनलाइन आधार कार्ड में करेक्शन (Online adhar details correcton)करने के लिए आपका मोबाइल नंबर जरुर रजिस्टर्ड होना चाहिए क्यों की उसी मोबाइल नंबर के ऊपर OTP आता है वेरिफिकेशन के लिए !
  • अगर आपका मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड नहीं है(Register mobile number for adhar) या गुम हो गया है तो आप नजदीकी के आधार केंद्र पे जाकर अपडेट करा सकते है !
  • सबसे पहले आधार के साईट पे जाये ! उसके के ऊपर जाने पे ऐसे पेज आएगा !



ऐसे पता करे अपने आधार नंबर कब कब इस्तेमाल हुवा ?

  • उसके बाद प्रोसीड   के ऊपर क्लिक करे 
  •  अपना आधार नम्बर और कैच अप  के इंटर कर के OTP जेनेरेट करे 

  • उसके बाद अपना आधार और आपके मोबाइल पे आया हुवा OTP को इंटर करे 

  • इस पेज पे एड्रेस चेक बॉक्स को चेक करे और सबमिट बटन को क्लिक करे !
  • उसके बाद आपका एड्रेस अपडेट फॉर्म खुलेगा जिसमे अपना पूरा डिटेल स्थानीय  भाषा और इंग्लिश में भरे !


  • आप इन सभी  भाषाओ में अपना डिटेल्स भर सकते है(Adhar card ki entry kin kin language me kiya ja sakta hai ) 
  • सही डिटेल्स भरने के बाद सबमिट अपडेट रिक्वेस्ट बटन को क्लिक करे !
  • डिटेल सबमिट होने के बाद अपना ओरिजिनल एड्रेस प्रूफ का कलर स्कैन को अपलोड करे और सबमिट बटन प्रेस करे !
  • निम्लिखित रिकॉर्ड ऑफ़ आप प्रूफ  ऑफ़ डॉक्यूमेंट आधार के लिए उसे कर सकते है (Adhar card ke liye adress proof ke lie kaun kaun documents valid hai)!
  • सबमिट करने के बाद आप चाहे तो अपना रिसिप्ट को प्रिंट भी कर सकते है और अपना URN(अपडेट रिक्वेस्ट नम्बर ) को नोट करले  इसके सहारे आप अपना चेंज का स्टेटस जन सकते है !
इस प्रकार से आप अपना आधार में हुई गलती को सुधर सकते है या अपना एड्रेस को बदलना चाहते है उसे चेंज कर सकते है !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगाअगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे 
इसे भी पढ़े  :
  1. एक मिनट ड्रिल क्या है? और  इसके फायदे 
  2. एक मिनट ड्रिल कैसे कराये?
  3. एक मिनट ड्रिल का उदेश क्या है?
  4. One Minute Drill training करने का तरीका 
  5. एक मिनट ड्रिल का क्लासिफिकेशन
  6.  ड्रेस बदलना थोड़े समय में 
  7. एक पैर पे खड़ा होकर जूता का लेस बंधना
  8. सुई धागे से एक बटन को लगाना 
  9. सही तरह से यूनिफार्म पहनना
  10. मार्च पास्ट में गलती ढूढना!
  11.  वर्ड ऑफ़ कमांड और मार्चिंग दस्ते पे कण्ट्रोल का त्वरित अभ्यास