Saturday, July 22, 2017

लेसन प्लान बनाने का तरीका तथा लेसन प्लान का खाका

पिछले पोस्ट में हमने लेसन प्लान बनाने से पहले क्या क्या सोच विचार करनी चाहिए उसके बारे में जानकारी प्राप्त किये और अब इस पोस्ट में हम लेसन प्लान के खाका और लेसन प्लान बनाने  का तरीका(lesson plan ke khaka aur lesson plan banane ka tarika kya hai) के बारे में जानेगे !



पिछले पोस्ट में हमने ये जान चुके है की लेसन प्लान के सोच विचार करने के दौरान किन किन बातो के ऊपर ध्यान रखना चाहिए और उसके से क्या क्या फायदे है उसी तरह लेसन प्लान  बनाते समय है लेसन प्लान को इस तरह से खाका नुमा स्वरुप देते है की लेसन प्लान देख कर ही बहुत सारी जानकारी लेसन देखने से ही  पता चल जाये !
इस पोस्ट को अच्छे से समझने के लिए इसे निम्न भागो में बंटा गया है :


  1.  लेसन प्लान बनाने के लिए मुख्य बाते(Lesson plan banane ke lie mukhy baten kaun kaun si hai)
  2. लेसन प्लान बनाने का तरीका(Lesson plan banane ka tarika kya hai)
  3.  लेसन प्लान बनाते वक्त ध्यान में रखने वाली बाते(Lesson plan banate wakt dhyan me rakhnewali bate kaun kaun si hai?)
1. लेसन प्लान बनाने के लिए मुख्य बाते(Lesson plan banane ke lie mukhy baten kaun kaun si hai):लेसन प्लान के बारे में अन्य कुछ बातचीत करने से पहले निहायत ही जरुरी है की आपको उसका खाका के बारे में बता दिया जाय और  उसके मुख्य अंश क्या होते है इस सब के बारे में जानकारी दे दी जाये !
लेसन प्लान के मुख्य अंश निम्न होते है :


  • सबसे ऊपर और बाएँ, कोर्स सब्जेक्ट, और पीरियड  आल्लोट की जानकारी  दी जाए 
  • ऊपर और दाहिने , सिलेबस रेफरेंस , पीरियड नम्बर दी जाये 
  • लेसन प्लान के कॉलम - इसके अंतर्गत - सीरियल नम्बर , भाग , पाठ्य समग्रिः /विस्तार से , ट्रेनिंग ऐड , समय /टाइम - इसमें एक्चुअल और रनिंग टाइम दिखाते  है ! रिमार्क्स - इस कलम के सबसे महत्वपूर्ण होता है जिसके अंतर्गत इंस्ट्रक्टर के लिए हिदायते डी जाट है !
2.लेसन प्लान बनाने का तरीका(Lesson plan banane ka tarika kya hai) :  ऊपर आपने देखा की लेसन प्लान का खाका कैसा होता है , लेकिंग बनाने के लिए करवाई कीस प्रकार की जाती है यानि लेसन प्लान बनाने का तरीका निम्न है:
  • प्रेसिज और लाइब्रेरी से मटेरियल इक्कठा करें 
  • सबक का उद्देश्य और समय को देखते हुए जरुरी भागो में बाँट करें 
  • हर एक भाग के अंत में कुछ सवाल और जवाब शामिल कर लिए जाएँ !
  • ट्रेनिंग ऐड का पूरा इस्तेमाल किया जाए  
  • हर एक भाग के साथ समय का बटवारा कर दिया जाए !
  • किसी भी प्रदर्शन/उदहारण  को जरुरत के अनुसार शामिल किया जाये बेहतर होगा की उदहारण को लेसन के अंत में दिया जाए !
  • संक्षेप अंत में जरुर किया जाए 
  • इन सबको मिलकर रफ लेसन प्लान बना लिया जाए 
  • रेहेर्सल अगर जरुरत हो तो कर लिया जाए 
  • फिर लेसन लं बना लिया जाए 
जरुर पढ़े :इंटीग्रेटेड वेपन ट्रेनिंग (IWT) चलाने का तरीका

3. लेसन प्लान बनाते वक्त ध्यान में रखने वाली बाते(Lesson plan banate wakt dhyan me rakhnewali bate kaun kaun si hai?): लेसन प्लान अनते वक्त कुछ जरुरी बातें है जिनको ध्यान में रखना चाहिए वह इस प्रकार है :

  • लेसन प्लान पॉइंट फॉर्म में हो 
  • ट्रेनिंग ऐड को दी कोलन में आवश्यकता के अनुसार शामिल किआ जाए !
  • सवाल और जवाब के लिए प्राप्त समय हो 
  • भूमिका और संक्षेप्त को भी पूरा लिख सकते है 
  • इंस्ट्रक्टर केलिए हिदायते रिमार्क्स कलम में दी जाए  इस के अंतर्गत ओ सभी हिदायते डी जा सकती है जो इंस्ट्रक्टर के लिए मददगार हो !
  • फौजी तरतीब और तरीका से लेसन प्लान बनाया जाए तथा साफ सुथरा हो 

इस प्रकार से लेसन प्लान  बनाने का तरीका तथा  लेसन प्लान का खाका से   सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुवा ! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर ब्लॉग या पोस्ट से सम्बंधित कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे !

इन्हें भी  पढ़े :
  1. ग्रुपिंग फायर क्या होता है? ग्रुपिंग की काबिलियत किसे कहते है ?
  2. एम् पी आई और एप्लीकेशन फायर क्या होता है ?
  3. इंटीग्रेटेड वेपन ट्रेनिंग (IWT) चलाने का तरीका
  4. डीलेड ब्लो बैक कैसे काम करता है ?
  5. रेकॉइल ऑपरेशन के सिद्धांत तथा लॉन्ग रेकॉइल और शोर्ट रेकॉइल क्या होता है ?
  6. 84 mm राकेट लांचर के पार्ट्स का नाम और बेसिक टेक्निकल डाटा तथा विशेषताए
  7. एंगल ऑफ़ डिपार्चर और एंगल ऑफ़ एलिवेशन क्या होता है
  8. आटोमेटिक हथियारों का चाल और सिद्धांत
  9. आटोमेटिक वेपन के गैस ऑपरेशन के सिद्धांत कैसा काम करता है
  10. आटोमेटिक हथियार के गैस को रेगुलेट करने का तरीका तथा फायदे और नुकशान
  11. ब्लो बैक ओपेराटेड हथियार और उसका विशेषताए

Friday, July 21, 2017

पुलिस ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए लेसन प्लान बनाने से पहले क्या क्या सोच विचार होता है ?

इस ब्लॉग पोस्ट में हम जानेंगे की एक सबक चलाने  के लिए लेसन प्लान तैयार करने से पहले क्या क्या सोच विचार करनी चाहिए(Police Training Program ke lie lesson plan banane se pahle kya kya  soch vichar hota hai ?) ताकि ट्रेनिंग को सही से कंडक्ट किया जा सके !



जैसे की हम जानते है किसी भी कार्य को सफल बनाने के लिए यह जरुरी है की उसके बारे में अच्छी तरह से योजना बनायीं जाय और विशेषकर जब हम किसी विषय के ऊपर शबक देने की बात आये तो  की शुरुवात करने के लिए प्लानिं करते है उस समय हमें और  भी विशेष तरह से योजना बद्ध हों चाहिए क्यों की एक ट्रेनिंग को कंडक्ट करने में बहुत सारे  लोगो सामिल होते है और ट्रेनीज भी बहुत जगह से ड्यूटी छोड़ के आते है !

जरुर पढ़े :इंटीग्रेटेड वेपन ट्रेनिंग (IWT) चलाने का तरीका

इस प्रकार से किसी भी इंस्ट्रक्टर को अपना लेसन चलने से पहले सबक का लेसन प्लान बनान जरुरी हो जाता है  ! लेसन प्लान का मतलब है सबक के बारे में ऐसी जानकारी और योजना बनाया जाये की जिसके मदद से एक इंस्ट्रक्टर अपने सबक को दिए हुए समय के मुताबिक सरलता और तरतीब से अपने ट्रेनीज के सामने चला सके !
Training lesson plan
Training class
लेसन प्लान नहीं बनाने से नुकशान यह होता है की या तो लेसन छोटा है जायेगा या दिए हुए समय के अन्दर लेसन समाप्त नहीं होगा या हो सकता है की उस्ताद लेसन से बहार चले जाये और लेसन की पूरी बाते तरतीब से अपने ट्रेनीज को न बता सके !

जरुर पढ़े :आटोमेटिक हथियारों का चाल और सिद्धांत

इस लिए जरुरी है की लेसन प्लान बनाने से पहले थोडा लेसन के विषय बस्तु के बारे में सोच विचार कर लिया जाये ! अगर हम गौर करे तो हमे कुछ प्रश्नों के उत्तर की जरुरत पड़ेगी जैसे :-क्या , कहा , कैसे, कौन आदि को ही हम सामिल कर के लेसन प्लान बनने का आधार मिलता है !

लेसन प्लान बनाने से पहले हमे इन बातो के ऊपर सोच विचार करनी चाहिए :
  • क्या पढ़ना है,  विषय और उद्देश 
  • डेट , समय और जगह . जगह का विकल्प भी होना चाहिए 
  • ट्रेनीज का स्तर! रिक्रूट , यंग सोल्जर या ताजुर्वेदार सोल्जर के लिए , ताजुर्वेदार सोल्जर में भी सिपाही , UOs या SOs के लिए !
  • तरीके : बेसिक , PWT, CWT या IWT के तरीके से 
  • तरिनिंग ऐड : किन किन ट्रेनिंग ऐड की जरुरत पड़ेगी 
  • समय की योजना : समय को योजना बद्ध तरीके से पूरा उपयोग किया जाए 
  •  बंदोबस्ती की कार्यवाही : , गाड़ी , पानी खाना आदि की अवयस्कता 
  • कमजोरी या पॉइंट जो पहले महसूस किये गए हो 
जरुर पढ़े :सिंपल ब्लो बैक और ब्लो बैक विथ एपीआई क्या होता है

इस प्रकार से हम ऊपर दिए गए बातो का ख्याल रखते हुए पुर सोच विचार करने के बाद अगर एक लेसन प्लान बनाते है तो वह लेसन पलना चलाने तथा अपने उद्देशो की पूर्ति करने में हमेश सक्षम रहेगी ! इस लिए एक लेसन प्लान बनाने से पहले उसके बारेमे सभी एंगल से सोच विचार कर लेनी चाहिए तथा उसके बाद ही लेसन की प्लानिंग करनी चाहिए !

इस प्रकार से ट्रेनिंग चलाने  के लिए  लेसन प्लान बनाने से पहले की सोच विचार से   सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुवा ! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर ब्लॉग या पोस्ट से सम्बंधित कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब या फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे !

इन्हें भी  पढ़े :
  1. ग्रुपिंग फायर क्या होता है? ग्रुपिंग की काबिलियत किसे कहते है ?
  2. एम् पी आई और एप्लीकेशन फायर क्या होता है ?
  3. इंटीग्रेटेड वेपन ट्रेनिंग (IWT) चलाने का तरीका
  4. डीलेड ब्लो बैक कैसे काम करता है ?
  5. रेकॉइल ऑपरेशन के सिद्धांत तथा लॉन्ग रेकॉइल और शोर्ट रेकॉइल क्या होता है ?
  6. 84 mm राकेट लांचर के पार्ट्स का नाम और बेसिक टेक्निकल डाटा तथा विशेषताए
  7. एंगल ऑफ़ डिपार्चर और एंगल ऑफ़ एलिवेशन क्या होता है
  8. आटोमेटिक हथियारों का चाल और सिद्धांत
  9. आटोमेटिक वेपन के गैस ऑपरेशन के सिद्धांत कैसा काम करता है
  10. आटोमेटिक हथियार के गैस को रेगुलेट करने का तरीका तथा फायदे और नुकशान
  11. ब्लो बैक ओपेराटेड हथियार और उसका विशेषताए


Addwith