Sponser


Wednesday, February 21, 2018

कंपास की अपनी त्रुटी से क्या समझते है?

पिछले पोस्ट में हमने सर्विस प्रोटेक्टर के बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में हम कम्पस की अपनी गलती(Compass ki apni galti) के बारे  में जानेगे !


मैप रीडिंग में कंपास की अहम् भूमिका होती है ! यह एक ऐसा यंत्र है जिसकी मदद से माप रीडिंग  के दौरान और लड़ाई में अत्यधिक सहायता मिलती  है !
इस पोस्ट को अच्छी  तरह से समझने के हमने इस पोस्ट को निम्न भागो में बाँट दिया है !
compass ke parts
compass ke parts
1.कंपास  की अपनी त्रुटी (Individual error of the compass)
2. कंपास के त्रुटी के कारण (Cause of Compass Error)
3. कंपास की त्रुटी प्रकार (Types of Compass Error)
4. कंपास की अपनी त्रुटी का उदहारण  (Example of individual error of the compass)
1.कम्पास की अपनी त्रुटी (Individual Error of the compass):कंपास से बेअरिंग पढ़ते समय इस बाट का ध्यान रखा जाता है की कम्पस में अपनी गलती तो नहीं है !इस बात  का ध्यान गोला फायर करते समय  और भी बढ़ जाता है ! कम्पस की अपनी गलती हर समय और स्थान पर एक सामान होता है परन्तु इसमें स्थानीय चुम्बकीय आकर्षण हर स्थान पर बदलते रहता है !

कम्पस की अपनी गलती का अर्थ है की उसकी सुई अमूमन थोडा  दाहिने या बाए रहती है अर्थात  कंपास का चुम्बकी   सुई ठीक 360 डिग्री की बजे थोडा दाहिने या बाये रहती है! जितना यह दये या बाये रहती है उसको ही हम कम्पस  की अपनी त्रुटी(Compass ki apni truti) कहते है !

2. कंपास के त्रुटी के कारण (Cause of Compass Error): यह त्रुटी कंपास के अन्दर होती है इसलिए इस कम्पस की अपनी त्रुटी  कहते है और इसका मुख्य दो कारन है जिसके कारन कम्पस में अपनी  त्रुटी होती है ! 
  • कारखाने की दोष (Manufacturing defect)
  • गलत इस्तेमाल (Miss Handling)
3. कंपास की त्रुटी प्रकार (Types of Compass Error): यदि किसी कंपास में दाए या बाए की त्रुटी है इस त्रुटियो को हम निम्न प्रकार में बाँट सकते है 
  • दाहिने या  पूर्व की गलती (East  Compass Error): यदि किसी कम्पस में 2 डिग्री पूर्व या ईस्ट की गलती है तो वह कंपास बेअरिंग पढ़ते वक्त 2 डिग्री कम पढ़ेगा क्यों की उसकी 2 डिग्री आगे से ही बेअरिंग पढना शुरू करेगी ! अतः 2 डिग्री पूर्व की गलती वाले चोमस की बेअरिंग में 2 डिग्री जोड़ देने से सही चुम्बकीय बेअरिंग ज्ञात हो जायेगा !
  • बाये या पश्चिम की गलती (West Compass Error): पश्चिम की त्रुटी वाले कंपास की सुई 2 डिग्री  या 0 डिग्री  से हमेश पश्चिम में रहेगी ! जितनी उसकी पश्चिम की गलती है ! अगर उस कंपास से बेअरिंग पढ़ी जाये तो वह कंपास की उतनी डिग्री ज्यदा पढ़ेगा जितनी उसमे पश्चिम की  गलती है !अतः सही बेअरिंग पढने के लिए पढ़ी हुई बेअरिंग से पश्चिम की गलती वाली डिग्री को यदि घटा दे तो सही चुम्बकीय बेअरिंग ज्ञात हो जाएगी !
जरुर पढ़े :अपना खुद का लोकेशन मैप पे जानना और नार्थ पता करने के तरीके
4. कंपास की अपनी त्रुटी का उदहारण  (Example of individual error of the compass): कम्पास की अपनी त्रुटी का कुछ उदहारण निम्न है 

Q. 2 डिग्री पूर्व की गलती वाला कम्पस किसी निशान की बेअरिंग 118 डिग्री पढता है तो उस निशान की सही बेअरिंग क्या होगी ?

Ans. कंपास i अपनी त्रुटी 2 डिग्री पूर्व है और निशान की बेअरिंग 118 डिग्री पढता है तो सही बेअरिंग 118 डिग्री + 22 डिग्री = 120 डिग्री होगी !

Q. 2 डिग्री पश्चिम गलती वाला कंपास किस निशान की बेअरिंग 62 डिग्री पढता है तो सही बेअरिंग क्या होगा ?

Ans. वह कंपास जिसमे 2 डिग्री पश्चिम की गलती है 62 डिग्री बेअरिंग पडता है तो सही बेअरिंग होगी 62 डिग्री - 2 डिग्री = 60 डिग्री 

Q. एक कंपास जिसमे 2 डिग्री पूर्व की गलती है और किसी निशान की बेअरिंग 49 डिग्री पढ़ता है और उस स्थान पर 2 डिग्री का पश्चिम के चुम्बकीय आकर्षण है तो उस निशान की सही बेअरिंग क्या होगी ?

Ans. 2 डिग्री पूर्व की गलती वाला कम्पस 49 डिग्री पढता है , चुम्बकीय आकर्षण न होतो सही बेअरिंग = 49 डिग्री + 2 डिग्री = 51 डिग्री होगी ! जब चुम्बकीय आकर्षण = 2 डिग्री पश्चिम है तो उस स्थान का सही बेअरिंग = 51 डिग्री - 2 डिग्री = 49 डिग्री !

इस रकार से यहा कंपास की खुद की त्रुटी से सम्बंधित पोस्ट समाप्त  हुवा !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें  भी  पढ़े :  
  1. 36 धरातलीय आकृतिया और उनके परिभाषा
  2. मैप रीडिंग की अवाश्काताये तथा मैप का परिभाषा
  3. 15 जरुरी पॉइंट्स मैप को सही पढने के लिए
  4. मैप कितने प्रकार के होते है ?
  5. कंपास को सेट करना तथा इस्तेमाल करने का तरीका
  6. कंटूर रेखाए क्या है ? एक मैप की विश्वसनीयता और कमिया किन किन बाते पे निर्भर करती है ?
  7. मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व
  8. दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका
  9. कन्वेंशनल सिग्न ,कन्वेंशनल सिग्न के प्रकार , कन्वेंशनल सिग्न बनाने का तरीका
  10. रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका

Friday, February 16, 2018

आंसू गैस को इस्तेमाल करते समय ध्यान में रखने वाली कुछ बाते इस प्रकार से है

पिछले पोस्ट में हमने आश्रू गैस फायरकारने के फायदे तथा फायर करते समय की सावधानियो के बारे में जनकारी प्राप्त की ! इस पोस्ट में हम आश्रू गैस फायर करते समय ध्यान में रखने वाली बाते (tear smoke ko istemal karte samay dhyan me rakhne wali kuchh bate) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे !


लॉ & आर्डर के ड्यूटी के दौरान आश्रू गैस एक काफी अहम रोल प्ले करता है स्तिथि को सामान्य बनाने में ! इस लिए आश्रू गैस को इस्तेमाल करते समय बहुत सावधानिय बरतनी चाहिए ! नहीं तो देखा गया है की आश्रू गैस से सामान्यत:कोई घायल या मौत नहीं होती है इसलिए इसको फायर करते समय अँधा धुंध फायर कर देते है और जहा की उतनी आवश्यकता नहीं रहती है !
जरुर  पढ़े :आश्रू गैस का इतिहास और इसका इस्तेमाल
इस लिए यह फायर और उसके कमांडर का कर्तव्य है की वह आश्रू गैस को अवयस्कता के अनुसार ही इस्तेमाल करे !
इस पोस्ट को समझने के लिए हमने इसे निम्न दो हिस्सों में बाँट दिया है :


1. आश्रू गैस को फायर करते समय ध्यान में रखने वाली बाते !(Tear smoke fire karte samay kya kare)
2. आश्रू गैस फायर करते समय यह सब नहीं करना चाहिए !(Tear smoke fire karte samay kya nahi kare)

जरुर  पढ़े :आश्रू गैस के प्रकार तथा उपयोग

1. आश्रू गैस को फायर करते समय ध्यान में रखने वाली बाते !(Tear smoke fire karte samay kya kare): आश्रू गैस फायर करते समय इन निम्न  बातो का ख्याल रखना चाहिए (Do)!

  • मजमे के  रवैया , हालत और जगह को देखते हुए आश्रू (आंसू) गैस का इस्तेमाल करे !
  • जरुरत के मुताबिक ही गैस का इस्तेमाल करे !गैस को अँधा धुंध फायर न करे !
  • गैस इस्तेमाल करते समय गैस स्क्वाड की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखें !
  • जिन जगह पर ठोस गैस के ग्रेनेड/ शैल से आग लगने का अंदेशा हो वहां माया गैस का इस्तेमाल करें या फायर गैस टोर्च का प्रयोग करें !
  • सार्वजनिक स्थान पर गैस के इस्तेमाल से पहले वह के निवासियों को सूचित करें !
  • मौसम हवा का ध्यान रखते हुए गैस का इस्तेमाल करे !
  • लाइन ऑफ़ रिलीज़ ऐसे जगह बनाये जहा से मजमे पर उसका पूरा असर हो !
  • जहाँ ग्रेनेड/शेल का इस्तेमाल करना संभव हो वहां गैस टोर्च का इस्तेमाल करे !
  • जहा तक हो सके औरतों और बच्चो के मजमे पर गैस टोर्च का इस्तेमाल करें !
  • ग्रेनेड तथा शेल के इस्तेमाल से पहले इस बाट का यकीं करो की कहीं इनकी बॉडी टूटी फूटी तो नहीं है !
  • शेल को एंगल से फी फायर करना चाहिए !

2. आश्रू गैस फायर करते समय यह सब नहीं करना चाहिए !(Tear smoke fire karte samay kya nahi kare):आंसू गैस फायर करते समय in चीजो को नहीं करना चाहिए (Don't do):
  • गैस का इस्तेमाल करते हुए ढिल्ली करवाई न करे !
  • ब्लास्ट कार्ट्रिज को किसी के चेहरे पर फायर न करे !
  • शेल को किसी आदमी पर शिस्त लेकर फायर नहीं करना चाहिए !
  • फलित रायट शेल को खुले मजमे पर इस्तेमाल नही करे !
  • शेलो को किसी सकत दिवार पर डायरेक्ट फायर नही करे !
  • रायट ड्रिल पार्टी के कमांडर के आदेश के बिना C.S तथा D.N. गैस का इस्तेमाल नही करे !
  • बहुत तेज हवा के आंसू गैस का इस्तेमाल न करे !
  • बिना जरुरत के गैस स्क्वाड को रेपिअटर न पहनाये !
  • ढलवान जमीन तथा चटानो पर ग्रेनेड तहत शेलो का इस्तेमाल न करे !
  • गैस पार्टी को मजमा तितर बितर होने के तुरंत बाद अपने स्थान से नही हटाये !

यह पूर्ण सूचि नहीं है बल्कि कुछ मुख्य मुख्य बाते है जिसे हमे आंसू गैस के इस्तेमाल के समय ध्यान में रखना चाहिए ! इसके साथ ही आंसू गैस को इस्तेमाल करते ध्यान में रखने वाली बातो से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुई! उम्मीद है की यह आपको पसंद आएगा !अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे !
इन्हें भी पढ़े :

  1. पुलिस को क्राउड के साथ कैसे ब्यवहार करना चाहिए ?
  2. रायट कण्ट्रोल ड्रिल की पार्टी तथा रायट कण्ट्रोल ड्रिल पार्टी का बनावट
  3. एल.एम्.जी के TsOET और TsOET के टाइमिंग
  4. रायट कण्ट्रोल ड्यूटी पे जाने वक्त इन सामानों को ले जाना चाहिए
  5. विध्वंसक स्नाइपर राइफल का परिचय
  6. ग्लोक्क मार्क-43 पिस्तौल का परिचय और टेक्निकल डाटा
  7. नम्बर 77 ग्रेनेड के बेसिक डाटा तथा उसका इस्तेमाल
  8. म़ोब कण्ट्रोल कमांडर की ड्यूटी पे जाने से पहले की तैयारी
  9. लाठी चार्ज के दौरान लाठी मरते समय ध्यान में रखने वाली बाते !.
  10. 4 तरीके म़ोब से अपनी बचाव का ऐसे करे !
  11. आश्रू गैस फायर करते समय सावधानिया तथा आश्रू गैस फायर के फायदे