Sponser


Saturday, January 30, 2016

7.62mm ki chal. एस एल आर कैसे काम करता हा(एसएलआर की चाल). How 7.62 SLR work ?

How 7.62mm SLR  operates / ७.६२म्म एसएलआर की चाल
Some important parts name of 7.62mm SLR's

(a)  Butt                                                        (b) Butt Plate          (c) Trigger
(d) Trigger Guard                                       (e) Sling kadi            (f) Sling
(g) Safety Catch                                           (h) Bridge Block      (i) Bodu Cover
(j)  Back Sight                                               (k) Front Sight        (l) Gas Cylinder
(m) Piston                                                     (n) Gas vent           (o) Front hand Guard
(p)Ejector                                                      (q) Extractor           (r) Chamber
(s) Boynet stud                                              (t) Flash hider         (u) Muzzle
(v) Magzine housing bay                              (w) Cocking handle  (x) Carrying Handle
(y) firing Pin                                                  (z) Magzine Catch


SLR Ki chal
7.62mm SLR ki chal

      अगर हमें एसएलआर की चल मालूम हो तो उसमे पड़ने वाले रोको को आसानी से दूर किया जा सकता है! इसलिए एसएलआर कैसे वर्क करता है (7.62 SLR how work) या एसएलआर की चल कैसे पूरा होता है इसकी जानकारी मै इस ब्लॉग में डिटेल से बताऊँगा !



(    १.) जब ट्रिगर को दबाते है तो हैमर आजाद होकर फायरिंग पिंग के रिटेनर पर ठोकर मरता है जिस से फायरिंग  पिन अपनी पिनहोल से निकल कर चैम्बर वाले राउंड के पैदी कैप पर ठोकर मरता है , जिसे गोली फिरे होती है.

(     २.) गोली फायर होने पे गैस पैदा होटी है जो गोली को आगे बैरल में धकेलती है, जब गोली गैस वेंट के पास  पहुचती है तो कुछ गैस वेंट से गैस प्लग की झिरी से होते हुवे गैस सिलिंडर में दाखिल होती है और पिस्टन को पीछे धकेलती  औरकुछ गैस रेगुलेटर के सुराख से बहार निकल जाती है , कितनी गैस बहार निकती है ये गैस रेगुलेटर सेटिंग पर निर्भर करता है.



(       ३.) जब पिस्टन कि हरकत करता है तो उसका पिछला हिस्सा स्लाइड कागले भाग पर ठोकर मरता है जिससे स्लाइड और ब्रिज ब्लाक दोनों  पीछे की हरकत करते है औए पिस्तौल अपने स्प्रिंग की ताकत वापस आगे जाता है.और जब स्लाइड और ब्रिज ब्लाक पीछे के हरकत करते है उसी दौरान एक्सट्रैक्टर खली केस को पकड़ के पीछे लता है और रस्ते में खाली केस इजेक्टर  से टकराता है और इजेक्शन स्लॉट के रस्ते बहार को गिर जाता है और एसएलआर फिर फायर करने के लिए तैयार हो जाता है ये काम बहुत जल्दी होता है.
     

     अगर राइफल ठीक से साफ हो और गैस रेगुलेटर सही नंबर पे सेट हो तो 7.62mm राइफल में बहुत ही कम रोके पड़ते है.

     
     ये ब्लॉग पोस्ट  मेरे तरफ से रहा अगर आपके पास कुछ और पॉइंट्स  है जिसे आप इसमें जोड़ना चाहते है  तो उसे कमेंट बॉक्स में लिखे जिससे की दुसरे लोग पढ़ कर जानकारी हासिल कर सके और इस तरह से आप दुसरे को मदद कर सकते है.और अगर आप इस पोस्ट को लाइक करते है तो कृपया शेयर करे www.twitter.com या google plus पे जिससे की दुसरे भी इसे पढ़ सके.
    
    इन्हें भी पढ़े :
  1. 7.62 mm एसएलआर का बेसिक डाटा -I
  2. 7.62 Self Loading Rifle basic data-II?
  3. 7.62 Self Loading Rifle basic data-III?
  4. अच्छे राइफल फायर कैसे बने ? 
  5. फायरिंग के दौरान फायरर द्वारा की जानेवाली कुछ गलतिया ? 
  6. 7. 62 mm राइफल में पड़ने वाले रोके कौन कौन से है ?
  7. 7.62mm LMG के बारे में कुछ जानकारिय
  8. 7.62mm ki chal. एस एल आर कैसे काम करता हा(एसएलआर की चाल). 
  9. Basic data of 5.56mm INSAS and It characteristics.

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...