Sponser


Friday, July 8, 2016

सर्विस प्रोटेक्टर का उपयोग और सर्विस प्रोटेक्टर से बेक बेअरिंग पढने का तरीका

पिछले पोस्ट में हमने सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा के बारे में जानकारी हासिल किये और इस पोस्ट में हम सर्विस प्रोटेक्टर को इस्तेमाल करना(Use of service protector) तथा !सर्विस प्रोटेक्टर से बेअरिंग पढने के तरीका(Service protector se bearing padhne ka tarika) का के बारे में जानकारी शेयर करेंगे


सर्विस प्रोटेक्टर का इस्तेमाल करने का तरीका(Service protector ka istemal) : सर्विस प्रोटेक्टर को काम में लेने से पहले जाँच लेना चाहिए की जिस स्थान की बेअरिंग पढनी है वहा उस निशान अर्थात जहाँ से बेअरिंग पढनी है उसके दाहिने पूर्व में या बाएँ पश्चिम में है !अगर  निशान पूर्व में है तो सर्विस प्रोटेक्टर का तीर के निशान को निशान पर रखकर सर्विस प्रोटेक्टर का डिग्री वाला भाग पश्चिम में करें और बेअरिंग पढ़े !


सर्विस प्रोटेक्टर का उपयोग(Use of service protector) :



  1. इससे कई प्रकार की स्केल लाइन बना सकते है  
  2. बेअरिंग और बेक बेअरिंग को एक साथ पढ़ सकते है 
  3. इसकी सहायता से कोण बनाये और मापे जा सकते है 
  4. इसकी सहायता से मैप पर जमिनी फासला नापा जा सकता है 
  5. 6 इंच की लाइन खिंची जा सकती है 
  6. डायगोनल स्केल की सहायता से एक इंच या एक सेंटीमीटर का 100 वा भाग तक नापा जा सकता है 
  7. किसी निशान का 6 अंको में ग्रिड रिफरेन्स मालूम कर सकते है !
  8. इसकी सहायता से नए सकै लाइन बना सकते है 
  9. 360 डिग्री तक बेअरिंग पढ़ सकते है और प्लाट कर सकते है 
  10. मापों पर सामानांतर रेखाए खीच सकते है 
  11. डिग्री ऑफ़ स्लोप मालूम कर सकते है  



सर्विस प्रोटेक्टर से बेअरिंग पढने का तरीका(Service protector se bearing padhne ka tarika) : सर्विस प्रोटेक्टर से बेअरिंग पढने का तीन तरीका है :
  1. लाइन खीच कर(Line khinch kar) : मैप का स्केच जिस पर एक निशान से दुसरे निशान की की बेअरिंग पढनी है उन दोनों को मैप स्केच के ऊपर एक पतली रेखा खिंच कर मिला देते है ! यह निशान एअस्तिंग लाइन के ऊपर है तो सर्विस प्रोटेक्टर को ईस्टिंग लाइन के साथ लगायेंगे अगर वह ईस्टिंग लाइन को कटती है तो वह ऊपर बताये हे तरीके से रखे ! सर्विस प्रोटेक्टर का डिग्रिओ वाला भाग पूर्व ईस्ट में होतो  बहार की तरफ वाली डिग्री अर्थात 0 डिग्री से 180 डिग्री तक दिग्रियो को पढेंगे !जो डिग्री दो निशानों को मिलाने वाली रेखा कटेगी वह उस निशान की बेअरिंग होगी ! इस विधि में आइप या स्केच पर निशान मिलाने वाली रेखांये खींचते समय ख्याल रखा जाए की यह हलकी पेंसिल से खिंची जाए जिससे की इनको बाद में रबर से मिटाया जा सके !  
  2. बिना लाइन खींचे(Bina line khinche) : इस विधि से बेअरिंग नापने के लिए किसी पतले कागज़ को मोड़कर दोनों निशानों से मिलकर रख देते ई ! बाकि करवाई उसी तरह से करते है जिस प्रकार से लाइन खीचकर बेअरिंग पढने में करते है ! इसमें फायदा एक ही होता है की मैप को ख़राब होने की संभावना नहीं रहती है क्यों की मैप के ऊपर लाइन नहीं खिची जाती है !
  3. समानांतर लाइन खीच कर(Samanantar line khinch kar) : इस विधि से बेअरिंग पढने के लिए जिस निशान से बेअरिंग पढनी है उसके नजदीक वाली ईस्टिंग लाइन के समनांतर एक लाइन खीच लेते है ! फिर सर्विस प्रोटेक्टर का तीर का निशान सामानांतर खिची गयी लाइन से उस निशान पर लगते है जिससे बेअरिंग पढनी है !बाकि की पूरी करवाई उसी प्रकार की जाती है लाइन खीच के बेअरिंग पढने की विधि में करते है !


सर्विस प्रोटेक्टर से सम्नानंतर लाइन खीचने का तरीका (Service protector se samnantar line khinchne ka tarika) :
  1. सर्विस प्रोटेक्टर हटके(Service protector hatake) : जिस विन्दु पर समानांतर रेखा खीचनी हो उस विन्दु के नजदीक वाली पूर्वी रेखा पर सर्विस प्रोटेक्टर का लमाबाई वाला भाग रख दे ! एक फूट रुल लेकर चौड़ाई वाले भाग को स्पर्श करते हुए रख दे . सर्विस प्रोटेक्टर निशान को छुए . पेंसिल से एक रेखा खींचे दे ये रेखा समनान्टर होगी !
  2. कोण बना कार(Kon Bana ke ) : कोण बनाकर समानांतर रेखा खीचने के लिए निशान को नजदीक वाली पर्वी रेखा से मिला दे ! जहाँ से सरकल रेखा पूर्वी रेखा को कटती है उस से एक कोण बनेगा . अब उस कोण के बराबर निशान पर एक और कोण बनाये और रेखा खिंच दे ! ये रेखा पूर्वी रेखा के समानांतर होगी !
  3. नाप कर(Nap kar) : इस विधि के ज़रिये सर्विस प्रोटेक्टर से नजदीक वाली पूर्वी रेखा से निशान तक की दुरी ज्ञात कर ली जाती है ! फिर उसी दुरी पर पूरी रेखा से एक या दो विन्दु और लगा देते है , जब पूर्वी रेखा से सामान दुरी पर होंगे अब उन विन्दुओ को मिलाती हुई एक रेखा खिंच देंगे जो पूर्वी रेखा के समानांतर होगी !


इस प्रकार से हम सर्विस प्रोटेक्टर का इस्तेमाल करते है उम्मीद है की पोस्ट पसंद आया होगा कोई कमेंट हो तो निचे कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे !

इसे भी पढ़े :

  1. पुलिस ड्यूटी
  2. फर्स्ट इनफार्मेशन रिपोर्ट में होनेवाली कुछ कॉमन गलतिया
  3. 6 कॉमन गलतिया अक्सर एक आई ओ सीन ऑफ़ क्राइम पे करता है
  4. क्राइम सीन पे सबसे पहले करनेवाले काम एक पुलिस ऑफिसर के द्वारा
  5. बीट और बीट पेट्रोलिंग क्या होता है ?एक बीट पट्रोलर का ड्यूटी
  6. पुलिस नाकाबंदी या रेड् क्या होता है ?नाकाबंदी और रेड के समय ध्यान में रखनेवाली बाते 
  7. निगरानी और शाडोविंग क्या होता है ? किसी के ऊपर निगरानी कब रखी जाती है ?
  8. अपराधिक सूचना कलेक्ट करने का स्त्रोत और सूचना कलेक्ट करने का तरीका
  9. मैप रीडिंग की अवाश्काताये तथा मैप का परिभाषा
  10. 15 जरुरी पॉइंट्स मैप को सही पढने के लिए
  11. मैप कितने प्रकार के होते है ?
  12. कंपास को सेट करना तथा इस्तेमाल करने का तरीका
  13. कंटूर रेखाए क्या है ? एक मैप की विश्वसनीयता और कमिया किन किन बाते पे निर्भर करती है ?
  14. मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व
  15. दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका
  16. कन्वेंशनल सिग्न ,कन्वेंशनल सिग्न के प्रकार , कन्वेंशनल सिग्न बनाने का तरीका
  17. रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका
  18. सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा और सर्विस प्रोटेक्टर का प्रकार

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...