Sponser


Saturday, June 25, 2016

पुलिस नाकाबंदी या रेड् क्या होता है ?नाकाबंदी और रेड के समय ध्यान में रखनेवाली बाते .

पिछले पोस्ट में हमने लोकल पुलिस के एक ड्यूटी बीट पट्रोल के बर्रे में बात किये थे इस पोस्ट के लोकल पुलिस  से सम्बन्धित एक और ड्यूटी नाकाबंदी और रेड(Nakabandi aur raid) के बारे में जानकारी शेयर करेंगे ! इस पुरे पोस्ट को दो भाग में पूरा करेंगे पहले हम नाकाबंदी (Nakbandi) और उसके बाद रेड या दंबिस(Raid ya dabish) के बारे में !

जरुर पढ़े :6 कॉमन गलतिया अक्सर एक आई ओ सीन ऑफ़ क्राइम पे करता है

नकाबंदी (Nakabandi kya hota hai): जब किसी थाना क्षेत्र में अपराध की घटनाये बढ़ गई हो तो उसको रोकने के लिए या पुलिस को  किसी सोर्स से किसी  अपराधी की आने जाने के बारे में पता चलता है उस थाने के पुलिस महकमा अलर्ट हो के संभावती रास्ते के ऊपर पुलिस बल लेके आने जाने वाले गाडियो तथा आदमी की तलासी लेने लगती है जिसे नाकाबंदी कहा जाता है ! यह थाना का SHO का खुद का प्रोग्राम होता है लेकिन बहुत बार इसमें सीनियर अधिकारी भी सामिल होते है नकेबंदी को  सुपरवाइज़ करने के लिए  !

जरुर पढ़े :फर्स्ट इनफार्मेशन रिपोर्ट(FIR) में होनेवाली कुछ कॉमन गलतिया

नाकाबंदी के आवश्यक सामान (Nakabandi ke samay sath le jane wale saman):  आज के समय में अपराध का पैटर्न बदल गया है इसलिए किसी  भी अपराधी को कम करके आकना पुलिस के लिए खतरे से खाली नहीं रहता है ! इसलिए नाकेबंदी लगते समय पूरी तैयारी और चौकसी के साथ लगनी चाहिए : नाकेबंदी के लिए अवश्यक सामान मौसम हालत और अपराधी के मोडस अप्रंडी को ध्यान में रख कर ले जानी  चाहिए  ! नाकाबंदी के कुछ सामान और हथियार  जैसे :

जरुर पढ़े :ड्यूटी ऑफ़ फर्स्ट रेस्पोंडिंग ऑफिसर 
  • स्वचालित हथियार 
  • पुलिस बरिकेड
  • लाइट का उचित प्रबंध जैसे इमरजेंसी सर्च लाइट , टोर्च 
  • रस्सी 
  • लाइट व्हीकल  आदि ,
  • कम्युनिकेशन सेट 
नाकाबंदी के लगाते समय  ध्यान में रखने वाली बाते (Nakabandi lagate samay dhyan me rakhne wali bate)

जरुर पढ़े : 9 mm पिस्तौल का बेसिक टेक्निकल  डाटा 
  • नाकाबंदी की सुचना को गुप्त रखे !
  • अपराधी के सुचना के आधार  पे नाकाबंदी  टीम की संख्या निर्धारित करे.  अगर सुचना है की अपराधी खतरनाक और उनकी संख्या ज्यादा है तो उसी के अनुसार नकाबंदी  टीम की संख्या बाधा देनि चाहिए !
  • नक्बंदी के दौरान आम लोगो को परेशान नहीं करना चाहिए !
  • नाकाबंदी वाली टीम मेम्बर की अपनी अपनी ड्यूटी बता देनी चाहिए !
  • नकाबंदी टीम को अपने बताये हुए ड्यूटी ही करनी चाहिए अगर दूसरा ड्यूटी करेगे तो कंफ्यूज पैदा  होगा !
  • नकापर्टी में हथियार वालो को हमेशा एक सुरक्षित दुरी पे रहना चाहिए और स्टॉप/ सर्च पार्टी को हथियार से कवर कर के रखना चाहिए की अगर सर्च पार्टी के ऊपर हमला हुए तो हथियार से सपोर्ट फायर कर के अपनी पार्टी को बचाया जा सके !
  • नाकाबंदी की टीम का चुनाव करते समय बीमार लोगो को नहीं लेना चाहिए विशेषकर खासने या बीडी /सिगरेट पीनेवालो को !
  • नाकाबंदी टीम के ड्रेस में चमक वाली कोई बस्तु हो तो उसे या तो निकल दे या उसको कामोफ्लौज कर दे !जरुर पढ़े : एलेमजी के चाल और चाल सामिल होने वाले कुछ  पार्ट्स पुर्जो का नाम 
  • नाकाबंदी से सम्बंधित पूरी सुचनाये नाकाबंदी टीम को बताया जाय !
  • अपराधी को नजदीक से नजदीक आने दिया जाय जब ओ नाकाबंदी के पकड़ के  एरिया में आजाये तभी उसे चैलेंज  किया जाय !
  • एक बार नाका  लग जाए तो उसके बाद बात चित न किया जाए ज्यादातर बाते इशारो से किया जाय !
  •  हो सके तो नाका के लिए एक कोड वर्ड निर्धारित किया जाय और उसी का इस्तेमाल किया जाय !
  • नाकाबंदी के दौरान पकड़ने वाली अपराधियो की पूरी तलाशी लिया जाय और निश्चित किया जाय की कोई हथियार या कोई गैर कानूनी बस्तु उसके पास न रहे !
  • अपराधी के पास जो भी सामान मिले सभी का लिस्ट बनके कानूनी करवाई के तहत जमा किया जाय !
  • नाकाबंदी टीम नका के दौरान कोई भ्रष्ट तरीका न अपनाये !
दंबिस/रेड (Dabis/Raid kya hota hai) :दंबिस पुलिस करवाई का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और पुलिस जब भी कोई बड़ा अपराध घटित होता है तो अपराधियो को पकने के लिए अपराधियो  के ऊपर दंबिस डालती है !

दंबिस कब डालते है(Dabis ya raid kab dalte hai) : जब कोई अपराधी कोई अपराध करके छुप गया हो या अपराध से सम्बंधित कोई हथियार या सामान कही छुपाया हो या अपराध में सामिल किसी सक्ष्य को मिटाने  का कोसिस कर रहा हो तो इस सुचना के ऊपर उस अपराधी को पड़ने तथा साक्ष्य को कब्जे में लेने के लिए  ऐसे स्थानों पे पुलिस करवाई की जाती है जहा ओ अपराधी या सक्ष्य मौजूद हो तो वैसी पुलिस करवाई या मरे गए छापे को दंबिस(Raid)  की करवाई कहते है!


पुलिस दंबिस या रेड (raid) के दौरान ध्यान में रखने वाली बाते (Police dabis ya raid ke samay dhyan me rakhne wali bate ):
  • पुलिस रेड टीम में स्वस्थ और सुयोग लोगो को रखना चाहिए !
  • आपराधि के बैक ग्राउंड को ध्यान में रखते हुए रेड टीम के साथ उचित आटोमेटिक हथियार वाले जवान भी होने  चाहिए ! 
  • टीम के सभी सदस्यों के रेड  और  रेड में सामिल आपराधि और उसके अपराध  के बारे में पूरी जानकारी होनी!
  • रेड टीम के साथ कुछ सिविलिन तटस्थ गवाह भी होने चाहिए !
  • अगर सम्भावान हो की  रेड के स्थान पे महिलाये और बच्चे हो सकते है तो रेड टीम में महिला सदस्य भी जरुर करनी  चाहिए !
  • रेड की सभी सदस्यों को  उसकी ड्यूटी तथा जिम्मेवारी बता देनी चाहिए !
  • रेड के दौरान बरामद सामान का तीन लिस्ट बनानी चाहिए और उसके ऊपर सिविलियन तटस्थ गवाह का तथा माकन मालिक का सिग्नेचर उसके ऊपर लेलेना चाहिए !
  • रेड में बरामद सामान का एक प्रति माकन/स्थान मालिक क देदेना चाहिए अगर ओ नहीं ले रहा है तो गवाहों के सामने उस प्रति के ऊपर "प्रति लेने से माना  किया  " लिख कर गवाहों से सिग्नेचर करा लेना चाहिए !
  • अगर बरामद सामान कीमती है है तो उसे सुरक्षित पैक करके उसके ऊपर सिग्नेचर करा लेना चाहिए !
  • रेड की करवाई करते समय रेड से सम्बंधित जितनी कानूनी प्रक्रिया है सभी का सही अनुपालन करना चाहिए !
  • अगर लगता है की प्रक्रिया में कुछ भूल हो सकती है तो रेड से सम्बंधित स्टैंडिंग आर्डर या जरी कोई आदेश हो तो उसे साथ  ले जाना चाहिए और उसे रेफेर कर लेना चाहिए !

 रेड और नका के दौरान एक पुलिसकर्मी को बहुत सर्तक रहना चाहिए और अपनी सुरक्षा को हमेशा वरीयता देना चाहिए ! और लगता है की अपराधी हमला कर सकता हा तो पुलिसकर्मी की इतनी तैयार होनी चाहिए की अपना बचाव कर सके और अपराधी को पकड ले !

जरुर पढ़े : मैप रीडिंग और मैप रीडिंग का महत्व

इस प्रकार से ये रही  संक्षिप्त जानकारी नाका और रेड के बारे में !अगर पोस्ट पसन् आया हो या कोई सजेसन होतो निचे के कमेंट बॉक्स में लिखे !

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...