Sponser


Thursday, July 7, 2016

सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा और सर्विस प्रोटेक्टर का प्रकार

पिछले पोस्ट में हमने रात के समय उत्तर दिशा मालूम करने के   बारे में जानकारी हासिल की है इस पोस्ट में हम सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा यानि सर्विस प्रोटेक्टर(Service protector ka paribhasha) क्या होता है और सर्विस प्रोटेक्टर कितने प्रकार (Service protector kitne prakar ke hote hai)के होते है के बारे में जानकारी हासिल करेंगे !


सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा (Service protector ka paribhasha): सर्विस प्रोटेक्टर लकड़ी, धातु , हठी दांत , गाते या प्लास्टिक के बना ऐसा पैमाना या यंत्र है जिसके द्वरा मैप के ऊपर दो निशानों के बिच की बेअरिंग नपी जा सकती है और बेअरिंग की रेखाए खीजी जाती है !

यानि जैसे हम कम्पस के मदद से जमीन के ऊपर बेअरिंग पढ़ते है वैसे ही हम सर्विस प्रोटेक्टर के मदद से मैप के ऊपर बेअरिंग पढ़ सकते है और बेअरिंग की रेखाए खीच सकते है


सर्विस प्रोटेक्टर के प्रकार (Service protector ke prakar): सर्विस प्रोटेक्टर तीन प्रकार के होते है !

1.  वृताकार : वृताकार सर्विस प्रोटेक्टर में 0 डिग्री या 1 डिग्री के निशान कटे होते है ! इसके मध्य में एक छेद किया होता है ! इसमें धागा डालकर बिना लाइन खिचे दूर वाले निधन की बेरिंग पढ़ सकते है !
2.  अर्धवृताकार : सेमी सर्कुलर की शकल में होता है ! इसका निचला भाग कुछ आयताकार होता है ! वृताकार वाले किनारे पर बहार की तरफ बाएँ से दाहिने  0 डिग्री से लेकर 180 डिग्री  तक तथा अन्दर की तरफ भी बाएँ से दाहिने की ओर 180 डिग्री से 360 डिग्री के अंक कटे हुए रहते है!  आयताकार भाग  में 1/25000 और 1/63360 का स्केल गजो में और 1/25000  1/50000 का स्केल मीटरो में बनी होती है और आयताकार भाग के मध्य एक छोटी छेद बनी होती है जिसमे ढंग डालकर निशान की सीधी ले सके और बिक में एक तरफ 1/25000  1/50000 और 1/63360 के रोमर मेट्रो में और दुसरे तरफ 1/25000  1/50000 और 1/63360 स्केल  में मील स्केल से रोमर भी बने होते है ! जिसका प्रोयोग मैप पर दिशा के साथ दुरी ज्ञात करने में की जाती है !
3. आयताकार : आयताकार सर्विस प्रोटेक्टर 6 इंच लम्बा और 2 इंच चौड़ा या 15 cm लम्बा और 5 cm चौड़ा होता है ! इसके एक तरफ बहार की और बाएँ से दाहिने  0 डिग्री से लेकर 180 डिग्री तथा अन्दर की तरफ भी बाएँ से दाहिने 181 डिग्री से लेकर 360 डिग्री तक के निशान कटे होते है ! 90 डिग्री के निशान के सामने एक तीर का निशान बना रहता है जिसे जीरो एडज कहते है ! इसके ऊपर और दूसरी तरफ जो सुचने दी होती है उसके आधार  पर आयताकार  सर्विस प्रोटेक्टर तीन प्रकार के होते है !
  • सर्विस प्रोटेक्टर 15cm 2A (Service protector 15cm 2A): जैसे की 15cm 2A से जाहिर  होता है की इसकी 15cm लम्बाई और 5cm चौड़ाई है ! जिस तरफ डिग्री के निशान कटे होते है उनके निचे की तरफ तीन दोहरी स्केल और दो सिंगल स्केल लाइन बनी होती है जिनके प्रिमारी आर सेकेंडरी भंगो की बाँट लिखी रहती है !    
स्केल
प्राइमरी
सेकेंडरी डिवीज़न
1/50000 या
786 mile = 1
Division
1 k.m = 1mile
100 meter
¼ mile
1/100000
1 k.m
100 mtrs
1.578 mile =1
1 mile
¼ mile
1/200000
3.15c mile
5 km
1mile
1 k.m
1/25000

¼ mile
1/25000
500 meter
1 mile
100 meter
¼ mile
          इसके दूसरी तरफ 1/50000 का डायगोनल स्केल बनी होती है ! इनके दोनों किनारों पर 1/50000,             1/25000, 1/100000  और 250000 के रोमर बने होते है ! दोनों रोमर के बिच में 1=1 मिले की                 स्केल बनी होती है और बिच के खली स्थान पे इसका नाम लिखा रहता है !

जरुर पढ़े :अपना खुद का लोकेशन मैप पे जानना और नार्थ पता करने के तरीके
  • सर्विस प्रोटेक्टर मार्क -III A(Service Protector Mark-IIIA): इसकी लम्बाई 6 इंच और चौड़ाई 2 इंच होती है इसमें भी डिग्रिया उसी रकार कटी होती है जिस प्रकार सेर्विस प्रोटेक्टर मार्क -2A में होती है ! लेकिन उसके साथ साथ कुछ स्केल लाइन बनी रहती है जिसका विवरण निचे दिया हुआ है 
स्केल
प्राइमरी
सेकेंडरी
1/20000
.3156 Mile =1”
¼ Mile
100 gaj (ank 200 par)
20 gaj
1/10000
1.58 = 1”
¼ Mile
1000 gaj
¼ Mile
100 gaj
1/250000
3.95 Mile =1”
1 Mile
1000 gaj
¼ Mile
200 gaj
डिग्री कटे वाले भाग की दूसरी तरफ
1” = 1 Mile
Diagonal scale
1 Mile
100 Gaj
½ = 1 Mile
100 gaj
(har 400 gaj par ank)
50 Gaj
1” = 1 Mile
100 gaj
(har 200 gaj par ank)
50 Gaj
1/20000
1/100000
100 mtr
1 km
20 mtr
50 mtr

जरुर पढ़े :मैप रीडिंग और मैप रीडिंग का महत्व
  • सर्विस प्रोटेक्टर मार्क -II(Service protector Mark-II): इसकी लम्बाई भी 2 A या मार्क -III A के बराबर होती है इसके बिच में 4.5 इंच लम्बा और .5 इंच चौड़ा या 1.12 कम चौड़ा भाग कटा होता है ! जिससे सर्विस प्रोटेक्टर के निचे की डिटेल दिखाई देती है . इसमें जो स्केल लाइन बनी होती है ओ इसप्रकार से है :
स्केल
प्राइमरी
सेकेंडरी
1/50000
100 Meter
100 Meter
1/25000
500 Meter
50 vah 20 Mtr
1/250000
1 Mile
¼ Mile
1/250000
5000 Gaj
100 Gaj, 200 Gaj
1/50000
1000 Gaj
100 Gaj
1/20000
500 Gaj
100.50 vah 20 Gaj
इसके पीछे या दूसरी तरफ
1” = 1 Mile
100Gaj
250 vah 100 Gaj

¼” = 1 Mile
1000 Gaj
250 Gaj vah 100 Gaj

¼” = 1 Mile
1 Mile
¼ Mile

1/20000
100 Gaj
20 Gaj

¼” = 1 Mile
3000 Mtr
100 Mtr

1” = 1 Mile
1000 Mtr
100 aur 250 Mtr

 तो ये रही सर्विस प्रोटेक्टर की परिभाषा और प्रकार . उम्मीद है की पोस्ट पसंद आया होगा अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे !

इसे भी  पढ़े :
  1. बम निर्धक दस्ते का कार्य
  2. Abbreviate BDDS related words and its full-form
  3. BDDS Definition !
  4. बारूद का इतिहास
  5. लैटर बम को पहचानने का तरीका
  6. फील्ड फोर्टीफिकेसान ,उसके प्रकार और ध्यान में रखनेवाली मुख्या बाते
  7. 15 जरुरी पॉइंट्स मैप को सही पढने के लिए
  8. मैप कितने प्रकार के होते है ?
  9. कंपास को सेट करना तथा इस्तेमाल करने का तरीका
  10. कंटूर रेखाए क्या है ? एक मैप की विश्वसनीयता और कमिया किन किन बाते पे निर्भर करती है ?
  11. मैप रीडिंग में दिशाओ के प्रकार और उत्तर दिशा का महत्व
  12. दिन के समय उत्तर दिशा मालूम करने का तरीका
  13. कन्वेंशनल सिग्न ,कन्वेंशनल सिग्न के प्रकार , कन्वेंशनल सिग्न बनाने का तरीका
  14. रात के समय उत्तर मालूम करने का तरीका

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...