Sponser


Thursday, May 26, 2016

फील्ड फोर्टीफिकेसान ,उसके प्रकार और ध्यान में रखनेवाली मुख्या बाते

इस पोस्ट में हम फील्ड इंजीनियरिंग के एक सब्जेक्ट के उपर  जानकारी शेयर करेंगे वह है फील्ड फोर्टी फिकेसन (Field fortification)मोर्चा और तरह तरह के रुकवाते बनाना ये सब फील्ड इंजीनियरिंग के तहत आता है इस पोस्ट में हम मोर्चा यानि फील्ड फोर्टी फिकेसन  का प्रकार और उनके परिभाषाये और .फील्ड फोर्टी फिकेसन  के लिए जरुरी बाते (important point for field fortification), के बारे में जानेगे  !

लड़ाई के दौरान हमारा उद्देश्य शत्रु व विरोधियो को बर्बाद करना होता है इसके साथ हमे अपने लिए भी हिफाजती कारवाही की जरुरत होती है जिसके लिए मोर्चा और तरह तरह के रूकावटे इस्तेमाल कर के हासिल करते है !

डिफेन्स तभी अच्छा साबित होगा जब कमांडर अपने जवानों से उनके हथियारों से कारगर फायर डलवाने सके और इसके लिए जरुरी है की फील्ड फोर्टी फिकेसन  अच्छी तरह से की जाय यानि मोर्चे की खुदाई हथियार को ध्यान में रख कर बने गई हो जहा एक जवान अपनी बचाव करते हुए अपने हथियारों से प्रभावी फायर डाल सके !

फील्ड फोर्टीफीकासन तैयार  करते समय इन बातो को ध्यान में रखना चाहिए
  •  हथियार का इस्तेमाल (Use of weapon) : मोर्चे का डिजाईन ऐसा हो की हथियार से कारगर फायर किया जा सके!
  • फील्ड ऑफ़ फायर(Field of fire) : हथियार्के कारगर रेंज तक साफ हो
  • मोर्चा(Morcha) : मोर्चा ऐसा हो जहा से जवान दुश्मन के फायर और गोलाबारी से बचाव हासिल कर सके ! इसके लिए ओवर हेड कवर और शेल्टर ट्रेंच बनाये ! 
Command Post
Command Post
 बचाव(Safety from weapon fire) : मोर्चे की दीवाल और शेल्टर की मोटाई और  हथियार के मार से बचाव इस प्रकार है :
  • स्माल आर्म्स फायर       -     63 इंच
  • सेल एस्पिलिनटर         -     18 इंच
  • फील्ड गन              -     48 इंच
  • मेडियम गन            -     72 इंच

 छुपाव(Concealment):ज़मीन और हवाई रैकी से छुपाव हो इसके लिए निचे दी हुई बातो का ख्याल रखना चाहिए !
  • ज़मीन की कुदरती बनावट : ज़मीन की कुदरती बनावट को तोडना नहीं चाहिए ! दरख्तों की लाइन और बंधो का पूरा पूरा फ़ायदा उठाना चाहिए !
  • ट्रैक्स  और टेलीफोन : पुराने रस्ते का इस्तेमाल करे नए रस्ते कम से कम बनाये ! नये रस्ते छुपे हुए पुराने रस्ते की तरह  ही हो !
  • स्थानीय सामान : सब सामान झ्डियो और घासों में छुपा देना चाहिए ताकि डिफेन्स के साथ मिलजाए !
  • खोदी हुई मिटटी : खोदी हुई मिटटी को साथ वाली ज़मीन से मिला दिया जाय या दबी ज़मीन में दबाकर कामोफ्लाज कर दिया जाय !
  • कामोफ्लाज नेट : कामोफ्लाज नेट का दुरुस्त उपयोग किया जाय की जिससे फायर और हरकत में रुकावट न पड़े !

Fire Trench
Fire Trench
 फील्ड फोर्टीफिकासन निम्न प्रकार के होते है :
  • फायर ट्रेंच(Fire Trench) : ज़मीन की सतह से नीचे खोदा गया वह मोर्चा जहा से एक या एक से अधिक जवान  अपने हथियार का कारगर फायर कर सके !
  • वेपन पिट (Weapon Pit): ज़मीन की सतह से निचे खोदा गया वह मोर्चा जहा से  हाई trajectory के हथियारों से फायर किया जा सकता है !
  • शेल्टर (Shelter): ऐसा खोदा गया मोर्चा जहा से जवान स्वयं को एयर ब्रस्ट स्पलिन्टर गोली या विरोधिओं व दुश्मन से नज़रि बचाओ कर सके और जवान इसमें कुछ दे आराम कर सके ! यह मोर्चों के पास और पीछे होता है !
  • बंकर/कमांड पोस्ट (Command Post): ज़मीन में खोदा गया वह बड़ा  मोर्चा जिसको over हेड प्रोटेक्शन दिया हो साथ में लूप होल फायर के लिए बनाया गया हो!
  • स्लिट ट्रेंच(Slit Trench):  ज़मीन की सतह से निचे खोदा हुआ वह मोर्चा जो थोड़ी देर के लिए दुश्मन के हवाई हमले से बचाए, जबकि फायर ट्रेंच की जरुरत न हो, जैसे की हार्बर या छोटे हालत के समय
  • फिक्स्ड डिफेन्स(Fixed defence) : ऐसा डिफेन्स जिसमे तमाम ट्रेंच सीमेंट या कंक्रीट के बने हो !
  • ब्रेस्ट वर्क(Brust work) : ऐसा इलाका जहा पर ट्रेंच न खोदा  जा सकेजैसे पथरीली और रेतीले इलाके वह जमीन के ऊपर ही सैंड बैग या पत्थर की मदद से बनाए जाते है उसे ब्रेस्ट वर्क कहते है !
  • डिफेंडेड बिल्डिंग(Defended building) : ऐसा माकन जिसको डिफेन्स के लिए इस्तेमाल किया जाय!
  •  ड्रेनेज (Drainage): डिफेन्स को ऐसी जगह पे बनाया जाय जहा पे पानी जमा नहीं होता हो !ऐसी जगह पे पानी जमा होने पर पानी को बहार निकलने के लिए ड्रेनज बनाया जाय ! जिससे की ड्रेनज के आदर इकठा पानी बहार निकल जाय !

  • रिवेत्मेंट(Revetment) : मोंचे के कंधो को वरिश और धमाके से बचने के लिए उसे रिवेत्मेंट किया जाता है वह दो प्रकार का होता है :

  1. स्किन रिवेत्मेंट(Skin revetment) :मोर्चे के कंधो को रोकने के लिए लकड़ी के प्लांक लोहे के चादर लगा दी जाती है और इसको पिस्त और तार से बांध दी जाती है !
  2. दिवार रिवेत्मेंट(Wall revetment) : सैंड बैग या दिवार बनाकर मोर्चे के दिवार को गिरने से रोका जाता है

  • ओवर हेड कवर(Overhead cover) : हवाई जहाज से छुपाने के लिए दरख्तों के निचे बनाना चाहिए !
  • ओवर हेड प्रोटेक्शन(Overhead protection) : शेल्टर या मोर्चा के ऊपर मिटटी या सीमेंट डाल कर बनायीं जाती है जिसमे की जवान अपनी बचाव स्पलिन्टर और  ब्रस्ट इत्यादि से कर सके ! डायरेक्ट हिट से बचाव मुश्किल है


 .फील्ड फोर्टीफिकेस्न के लिए जरुरी बाते (Important point for field fortification) :
  • फायर से कवर हो
  • दुश्मन को ज्यादा समय तक रोक सके
  • दुश्मन को धोखा देने के लिए छुपाव और कैमोफ्लाज में मदद दे सके
  • दुश्मन को रिक्की से रोकने के लिए लैंड माइंस और बूबी ट्रैप्स लगा हुवा हो 
कृपया सब्सक्राइब करे अगर ये पोस्ट पसंद आया हो तो !

सब्सक्राइब करके डाउनलोड करे "pdf of What is field fortification, important point about field fortification"

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...