Advertisement

Search

Wednesday, September 12, 2018

सुसाइड अटैक का परिचय और उद्देश्य

पिछले पोस्ट में हमने वी आई पी को व्यू पॉइंट ब्रीफिंग कैसे दी जाती है उसके बारे में जानकारी प्राप्त की और अब इस पोस्ट में हम आत्मघाती हमला और सुसाइड बॉम्बर( Suicide attack and Suicide Bomber) के बारे में जानेगे !


ऐसे तो हम आये दिन समाचार पत्रों में पढ़ते और टीवी पर खबर देखते रहते है जिसमे की सुसाइड अटैक सुरक्षा बालो या आम जनता के ऊपर  अमुक जगह में हुवा है जिसमे भरी जानमाल की हानि हुई है !पिछले कुछ महीनो से पाकिस्तान और आफ्गानिस्तान Afganistan and Pakistan me suicide attack) में आये दिन सुसाइड अटैक  और भारी जान माल की क्षति की खबरे आ रही है !


आत्मघाती हमला(suicide attack)  यह विषय तो थोडा बड़ा है जिसे मै दो या तीन ब्लॉग पोस्ट में कम्पलीट करने का कोशिस करूँगा और इस पोस्ट में हम आत्मघाती हमला से सम्बंधित  निम्न बिषयो के बारे में जानेगे :
Suicide Bomber in Pakistan
Suicide attack in Pakistan
1. फिदायीन किसे कहते है ?(Suicidal Bomber kise kahte hai)
2. फिदायीन हमला का इतिहास क्या है ?(Suicide Attack ka history)
3.कश्मीर में सुसाइड हमला का इतिहास ?(J&K me Suicide attack)
4.सुसाइड अटैक का मकशद क्या होता है ?(Suicide attack ka makshad kya hota hai)
5.आत्मघात हमलो का मुमकिन टारगेट क्या होते है ?(Suicide attack ka target)

1. फिदायीन किसे कहते है ?(Suicidal Bomber kise kahte hai)

फिदायीन आरबी भाषा फ़िदा शब्द से बना है जिसका अर्थ होता है न्योछौवर होना , मर मिटना है ! ऐसे नुमैदे  जिन्दगी की परवाह किये बैगर अपना मिशन पूरा करने के लिए निकल पड़ते है उसे फिदायीन कहलाते है जिसे अंग्रेजी में सुसाइडल बॉम्बर कहते है  !यह कोई धार्मिक विश्लेषण नहीं है बल्कि एक सुरक्षा बालो के ड्यूटी और ट्रेनिंग के पॉइंट व्यू से तैयार किया हुवा आसानी से समझ ने वाला परिभाषा है !

2. फिदायीन हमला का इतिहास क्या है ?(Suicide Attack ka history)

यु तो फिदायीन हमलो का इतिहास काफी पुराना है ! महाभारत में अभिमन्यु द्वारा चक्रव्यूह तोड़ने का प्रयास इसका एक जीवित उदहारण है ! यदि हम आधुनिक काल की बात करे तो भारत के आजादी के मुहीम में इसका अहम् भूमिका निभानेवाली आजाद हिन्द फ़ौज ने भी आत्मघाती दस्ते तैयार किये थे !

मध्यपूर्व एशिया में फिलिस्तीन एवं इसराइल सैनिको के बिच होने वाली जंग भी हमास और हिजबुलाह जैसे संगठनों ने अपने हमले की धार तेज करने के लिए फिदायीन हमले का सहारा लिया !

आधुनिक समय में "अबू नीदाल" को  आत्मघाती हमलो के लिए विशेष रूप से जाना जाता है !

भारतीय महाद्वीप  में आत्मघाती दस्तो का इस्तेमाल का श्रेय LTTE को जाता है !जिसने क्रमशः भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गाँधी और श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति प्रेमदशा  को निशाना बनाया !

3.कश्मीर में सुसाइड हमला का इतिहास ?(J&K me Suicide attack)

कश्मीर के आतंकवाद के इतिहास में इस तरह की हमले का शुरुवात कारगिल युद्ध से हुई फिदायीन की सबसे पहली मिशाल जुलाई 1997 में BSF के क्षेत्रीय मुख्यालय बादिपुर परिसर के चार कर्मियो की मौत से हुई थी जिसमे BSF के DIG भी सामिल थे !

इसके बाद बादानी बाग़ कैंट तथा कश्मीर घाटी और राजौरी पुच्छ के कई इलाको में होने वाले इन आत्मघाती हमलो का जो सिलसिला शुरू हुवा!लेकिंग सुरक्षा बालो की सतर्कता के कारण फिर भी भारत में दुनिया के और देशो के अपेक्षा बहुत कम फिदायीन हमला होते है जिसका पूरा श्रेय सुरक्षा बालो के जवानों को जाता है !जो फिदायीन के मनसूबे को कभी भी कामयाब नहीं होने देते है !

4.सुसाइड अटैक का मकशद क्या होता है ?(Suicide attack ka makshad kya hota hai)

आमतौर पे फिदायीन हमलो का मकशद निम्न प्रकार होता है ?
  • आतंकवादियो के पस्त हौसले में जान फुकने के लिए 
  • लम्बे समय से चल रहे आतंकवाद को गति प्रदान करने के लिए 
  • सुरक्षा बलों को अपने कैंप के सुरक्षा के लिए ज्यादा नफरी लगाने पे मजबूर करने के लिए !
  • विश्व समुदाय का ध्यान आकर्षित करने के लिए 
  • आम जनता में सरकार के प्रति अविश्वास पैदा करने के लिए !
  • सुरक्षा बालो के अन्दर fear of unknown की सोच पैदा कर उन्हें डिफेंसिव रूप अख्तियार करने के लिए मजबूर करने के लिए
जरुर पढ़े:कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी

5.आत्मघात हमलो का मुमकिन टारगेट क्या होते है ?(Suicide attack ka target)

आत्मघाती दस्तो के हमलो ने कश्मीर में न केवल आतंवाद को गति प्रदान की बल्कि लड़ाई को  और खूंखार बना दिया !आत्मघाती दस्तो का मुमकिन टारगेट दिन और समय तथा अपनाये जाने वाले तौर तरीको के बारे मे पहले से खबर रखना असान नहीं तो नामुमकिन भी नहीं है !

आत्मघाती हमलो का मुमकिन टारगेट निम्न लिखित होते है :
  • सुरक्षा बालो का कैंप और उनका हेड क्वार्टर 
  • ख़ास सरकारी समारोह और मीटिंग्स 
  • VA व VPs को नुकशान पहुचना और कब्जे में लेना 
  • राजनेता तथा सुरक्षा बालो के उच्च अधिकारी 
  • गोला बारूद के भंडार  एवं सप्लाई पॉइंट 
  • वी आई पी तथा फाॅर्स के कोन्वोया को निष्णा मानना 
  • महत्वपूर्ण  पब्लिक प्लेस और पब्लिक समारोह जैसे मेला , प्रदर्शनी इत्यादि को बर्बाद करना तथा भगदड़ पैदा करके जान माल को नुकशान करना !

इस प्रकार से सुसाइड अटैक के परिचय से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुई इसके आगे हम अगले पोस्ट में  जानेगे की फिदायीन कैसे सुरक्षा बालो को धोखा देकर  हमला करते है ! उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें  भी  पढ़े :
  1. 3 तरीके दुश्मन के फायर पोजीशन को पता लगने के
  2. सेक्शन फार्मेशन और सेक्शन फार्मेशन का बनावट
  3. आतंक प्रभावित इलाके में सिक्यूरिटी पोस्ट लगान
  4. रात के संतरी तथा स्काउट की ड्यूटी क्या होता है
  5. फील्ड फोर्टीफीकेसन में इस्तेमाल होने वाले फौजी टेकटिकल शब्दों का क्या मतलब
  6. फौजी टैक्टिकल शब्द जैसे फर्स्ट लाइट फ्लैंक गार्ड यदि क मतलब
  7. अम्बुश की जुबानी हुक्म क्या होता है और इसमें सामिल होने वाले मुख्य बाते
  8. रोड ओपनिंग पार्टी/पट्रोल और उसके महत्व के बारे
  9. कॉन्वॉय कितने प्रकार का होता है ? कॉन्वॉय प्रोटेक्शन की पार्टिया कौन कौन सी होती ?
  10. कॉन्वॉय कमांडर और कॉन्वॉय मूवमेंट से पहले जानने वाली बातें

No comments:

Post a Comment