Tuesday, July 11, 2017

कॉन्वॉय कमांडर और कॉन्वॉय मूवमेंट से पहले जानने वाली बातें

पिछले पोस्ट में हमने कॉन्वॉय के प्रकार और कॉन्वॉय एस्कॉर्ट पार्टी के बारे में जानकारी हासिल की इस पोस्ट में हम कॉन्वॉय कमांडर और कॉन्वॉय मूवमेंट के दौरान की जानेवाली करवाई (Convoy Commander aur convoy movement ke dauran ki karwahi ) क्या होती है इसके बारे में जानेगे !


इस विषय को अच्छी तरह से समझने के लिए इस पोस्ट को हम निम्न भागो में बाँट कर जानकारी प्राप्त करेंगे :
Convoy layout
Convoy layout 

  1. कॉन्वॉय कमांडर कौन हो सकता ?(Convoy commander kaun ho sakta)
  2. कॉन्वॉय कमांडर के लिए जानने वाली बाते !(Convoy Commanderke lie janne wali bate)
  3. सफ़र के दौरान चाल तथा करवाईConvoy ke movement ke dauran Chal aur karwai) 
  4. कॉन्वॉय के हाल्ट पर करवाई (Convoy Halthone pe karwai)
  5. कॉन्वॉय अम्बुश होने पर करवाई (Convoy Ambush hone pe karwai)
  6. कॉन्वॉय  अम्बुश होने के बाद की कारवाही (Convoy Ambush hone ke bad ki karwai)
  7. कॉन्वॉय के चलने से पहले कॉन्वॉय कमांडर द्वारा यकीं करने वाली बाते !(Convoy chalne se pahle convoy commander dwara kuchh yakin karne wali bate)
  8. कॉन्वॉय कमांडर द्वारा कॉन्वॉय के ड्राईवर के देनेवाली ब्रीफिंग में सामिल होने वाली बाते ! (Convoy Commander dwara Convoy ke driver ko denewali briefing me samil hone wali bate)
1. कॉन्वॉय कमांडर कौन हो सकता ?(Convoy commander kaun ho sakta):कॉन्वॉय कमांडर हमेश एक ऑफिसर या अधिनस्त अधिकारी ही होगा ! भले ही उस कॉन्वॉय में कोई भी सीनियर ऑफिसर हो लेकिंग कॉन्वॉय को सुचारू रूप से चलने की जेम्मेवारी कॉन्वॉय कमांडर की ही होगी ! उनकी ही आदेशो का पालन कॉन्वॉय में सामिल सभी गाड़िया और उसके प्रोटेक्शन पार्टी करेंगी !

जरुर पढ़े : पेट्रोलिंग और नाईट पेट्रोलिंग और उसके टास्क और नफरी

2. कॉन्वॉय कमांडर के लिए जानने वाली बाते !(Convoy Commanderke lie janne wali bate): कॉन्वॉय कमांडर को कॉन्वॉय को ठीक से चलने के लिए निम्न बाते का ध्यान रखना चाहिए !
  • सभी गाड़िया मेकनिकाली फिट हो और पर्याप्त मात्रा में स्पेयर पार्ट्स और तेल साथ होना चाहिए !
  • यात्रा करने वाले सभी ट्रूप्स शारीरिक और मानशिक रूप से ठीक हो !
  • पर्याप्त मात्रा में अमरस और अम्मुनिसन साथ में हो !
  • सड़क की हालत और शाकीय अम्बुश पॉइंट की जानकारी हो !
  • दुरी और रस्ते में रुकने की जगह पहले से तय कर लेना चाहिए !
  • कॉन्वॉय की साइज़ कितनी है उसको देख लेनी चाहिए !
  • कॉन्वॉय में ले जाने वाली स्टोर्स व इक्विपमेंट को चेक कर लेना चाहिए !
  • जाने वाले ट्रूप्स का हथियार चेक कर के नोमिनल रोल उनका ले लेना चाहिए !
  • कॉन्वॉय वाले रस्ते में पड़ने वाले अपना और सुरक्षा बालो के पोस्ट की जनकारी होनी चाहिए !
  • मिलाप के साधन को चेक कर लेना चाहिए !

3. कॉन्वॉय मूवमेंट  के दौरान चाल तथा करवाईConvoy ke movement ke dauran Chal aur karwai) : कॉन्वॉय चलने से पहले यकीं कर लेना चाहिए की ROP ने इलाके को क्लियर कर दिया है और पोजीशन ले ली है !मूव के दौरान , प्रत्येक कर्मी बताये गए इलाके में शाकीय दृष्टि से देखेगा !

रोड के दोनों तरफ होने वाली मूवमेंट को शाहिया निगाह से देखे ! कॉन्वॉय में चलने वाली गाडियो के बीच तालमेल अच्छा हो और आगे वाली गाड़ी को पीछे आने वाली गाडियो को मिलाप में रखनी चाहिए !

अगर कोई गाड़ी पीछे छुट गई हो तो कॉन्वॉय को रोक के पीछे वाली गाड़ी का आने का इन्तेजार करना चाहिए ! गाडियो को बीच मूवमेंट के समय बिलकुल सही दुरी बना के रखनी चाहिए , यह 50 व 100 मीटर के बीच , कॉन्वॉय के हालत के मुताबिक हो सकता है !

कॉन्वॉय के दौरान निम्न बातो का विशेष ध्यान रखना चाहिए :
  • कम से कम दो गाड़िया हर समय म्यूच्यूअल सपोर्ट में होनी चाहिए ताकि अगर रस्ते में एनकाउंटर/अम्बुश यदि हो गया तो एक दुसरे का मदद कर सके !
  • मोड़ पर , पुल पर तथा चेक पोस्ट पे गाडियो का झुण्ड नहीं बनाना चाहिए !
  • जमीन तथा आतंकवादियो के खतरे के मुताबिक गाडियो के बीच की दुरी कम या बेस किया जा सकता है !
  • अंध मोड़ पे आगे वाली गाड़ी की स्पीड कम कर के पीछे से आने वाली गाडियो का इन्तेजार करना चाहिए !

4.कॉन्वॉय के हाल्ट पर करवाई (Convoy Halthone pe karwai): रास्ते में ठहरने पर ट्रूप्स को गाडियो से एक दम उतर कर पोजीशन ले लेनी चाहिए !तथा निम्न बाते पे ध्यान रखना चाहिए :
  • संभावित अम्बुश पॉइंट पर कॉन्वॉय  को खड़ा न करे !
  • ठहरने के स्थान के आस पास ऊँची जगहों पर पोजीशन ले लेनी चाहिए !
  • यदि हाल्ट गाड़ी के खराबी के कारन हो तो गाड़ी ठीक होने पर कॉन्वॉय को आगे चलायें !
  • आतंकवादियो द्वार इस्तेमाल हो सकने वाले रास्तो को कवर करे !
  • रियर एस्कॉर्ट पार्टी गाड़ी में तभी चढ़े जब कॉन्वॉय मूवहों शुरू हो चूका हो !
5. कॉन्वॉय अम्बुश होने पर करवाई (Convoy Ambush hone pe karwai): यदि कॉन्वॉय अम्बुश हो जाता है तो कॉन्वॉय ट्रूप्स तथा एस्कॉर्ट को अक्रामता के साथ बिना किसी झिझक से गोली चला कर जबाबी करवाई करनी चाहिए !

निम्न ड्रिल को अम्बुश होने पे अपनाना चाहिए :
  • अम्बुश होने पे ट्रूप्स को फायर का जवाब फायर से दचलती गाड़ी में से देनी चाहिए !
  • अम्बुश के किल्लिंग जोन से बहाए आने का कोशिश करनी चाहिए !
  • किल्लिंग जोन से बहार आने आतंकवादियो को मरने या पकड़ने की कोशिह्स करनी चाहिए !
  • अगर कॉन्वॉय में अम्बुश से कोई नुकशान न हुवा हो और कॉन्वॉय समय से होतो कॉन्वॉय को आगे की यात्रा जरी रखनी चाहिए और रस्ते में पड़ने वाले ROP या QRT को अम्बुश के बारे में बताना चाहिए !
  • गाडियो के ड्राइवर्स को कोशिश करनी चाहिए की अम्बुश से निकल कर गाडियो को सुरक्षित स्थान पर ले जाये !
  • उग्रवादियो के पोजीशन का पता लगने पर LMG/ MMG तथा दुसरे स्वचालित हथियारों का भरी फायर डाला जाए !
  • स्माल आर्म्स द्वारा अगर उग्रवादियो का मूवमेंट कवर नहीं हो पता तो मोर्टार का इस्तेमाल करनी चाहिए !
  • यदि कॉन्वॉय के आगे या पीछे की गाड़ी पे फायर आता है तो कॉन्वॉय के बाकि गाडियो के ट्रूप्स को चाहिए की आतंकवादियो पर एक साथ मिलकर फायर डाले और बर्बाद कर दे !

6.कॉन्वॉय  अम्बुश होने के बाद की कारवाही (Convoy Ambush hone ke bad ki karwai):कॉन्वॉय अम्बुश होने के बाद की करवाई इस प्रकार से है :
  • पुरे इलाके की खोज बिन की जाये और री ओर्ग  की कार्यवाही होने तक इलाके को न छोड़ा जाय !
  • पकडे गए आतंकवादियो से पूछ ताछ कर के ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल की जाये !
  • मरे हुए आतंकवादियो के हथियार , अमुनिसन तथा दुसरे सामन को कब्जे में लिया जाए !
  • घायल जवानों तथा आतंकवादियो को प्राथमिक उपचार देकर अस्पताल भेज दिया जाए !
  • ख़राब /नुकशान हुई गाडियो को नजदीकी पोस्ट में लाकर छोडा जाए !
  • हायर हेअद्क़ुअर्तेर , ROP तथा आस पास के यूनिट्स को घटना की जानकारी दी जाए !
7. कॉन्वॉय के चलने से पहले कॉन्वॉय कमांडर द्वारा यकीं करने वाली बाते !(Convoy chalne se pahle convoy commander dwara kuchh yakin karne wali bate):कॉन्वॉय मार्च होने से पहले कमांडर द्वारा कुछ बातो का यकीन कर लेना चाहिए ताकि रस्ते में किसी दुर्घटना से बचा जा सके ! कॉन्वॉय कमांडर की निम्न बातो को यकीन कर लेना चाहिए :
  • आर्डर ऑफ़ मार्च के अनुसर गाडियो का लाइन अप किया जाए !
  • एस्कॉर्ट पार्टी की बाँट तथा उसका पोजीशन की जानकारी !
  • गाडियो की तारपोलिन फोल्ड हो !
  • LMG/MMG गाडियो पर माउंट हो !
  • गाडियो में बैठते समय जवानों का मुह बहार की तरफ हो ताकि ओ फ्लेंक और पीछे की तरफ ओब्सेर्वे करते रहे !
  • जवानों को ब्रीफ किया जाये !
  • स्टोर्स तथा आर्म्स, अमुनिसन वली गाडियो में जवानों को न बैठाये !
  • कॉन्वॉय कमांडर तथा एस्कॉर्ट के बीच सही मिलाप को चेक करे !

8.कॉन्वॉय कमांडर द्वारा कॉन्वॉय के ड्राईवर के देनेवाली ब्रीफिंग में सामिल होने वाली बाते ! (Convoy Commander dwara Convoy ke driver ko denewali briefing me samil hone wali bate): कॉन्वॉय कमांडर को कॉन्वॉय में जाने वाले जवान तथा गाडियो के ड्राईवर को अच्छी तरह से ब्रीफ कर देना चाहिए ताकि उनके अन्दर कोई गलफहमी न रहे ! और अपने ब्रीफिंग में इन बातो को सामिल करनी चाहिए :
  • कॉन्वॉय मार्च होने का समय 
  • गाडियो का आर्डर ऑफ़ मार्च 
  • ड्राइवर्स द्वारा की जाने वाली करवाई !
  • कॉन्वॉय कमांडर का पोजीशन 
  • अम्बुश होने पे की जाने वाली करवाई 
  • गाडियो की रफ़्तार 
  • कॉन्वॉय के दौएरण हाल्ट की जगह और करवाई !
इस प्रकार से यह कॉन्वॉय कमांडर और कॉन्वॉय मूवमेंट के दौरान की जानेवाली करवाई से सम्बंधित  एक संक्षिप  ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुई! उम्मीद है की पोस्ट आपको पसंद आएगा ! अगर कोई  या ब्लॉग के बारेमे हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरूर लिखे ! और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक शेयर तहत लिखे करके हमलोगों को प्रोतसाहित करे और अच्छा करने के लिए !  

डाउनलोड  PDF of Convoy Commander aur convoy movement ke dauran ki karwahi 
इसे भी पढ़े :


  1. सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान
  2. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II
  3. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -I
  4. कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी
  5. पेट्रोलिंग के परिभाषा और पेट्रोलिंग के प्रकार
  6. पेट्रोलिंग पार्टी को ब्रीफिंग देने का तरीका ?
  7. अम्बुश का परिभाषा और अम्बुश की पार्टिया
  8. आतंक प्रभावित इलाके में सिक्यूरिटी पोस्ट लगान
  9. रात के संतरी तथा स्काउट की ड्यूटी क्या होता है
  10. फील्ड फोर्टीफीकेसन में इस्तेमाल होने वाले फौजी टेकटिकल शब्दों का क्या मतलब
  11. फौजी टैक्टिकल शब्द जैसे फर्स्ट लाइट फ्लैंक गार्ड यदि क मतलब
  12. अम्बुश की जुबानी हुक्म क्या होता है और इसमें सामिल होने वाले मुख्य बाते
  13. रोड ओपनिंग पार्टी/पट्रोल और उसके महत्व के बारे

No comments:

Post a Comment

Addwith