Sponser


Wednesday, July 18, 2018

नाईट मार्च चार्ट कैसे बनाते है और उसकी तैयारिया

पिछले पोस्ट में हमने नेविगेशन पार्टी और उसके बनावट तथा काम के बारे में जानकारी प्राप्त की है ! अब इस पोस्ट में हम जानेगे की नाईट मार्च चार्ट कैसे बनता है और उसकी तैयारी कैसे की जाती है !


जैसे की हम जानते है की नाईट में मार्च करना उतना आसान  नहीं है लेकिन उसको आसान बनने के लिए बहुत सी करवईया  की जाती है की नाईट मार्च आसानी और सफलता पूर्वक किया जा सके !उनसब करवईयो को बारे में इस पोस्ट में हम जानकारी प्राप्त करेगे !

जरुर पढ़े:मैप के स्केल तथा उसका प्रकार और महत्व

इस पोस्ट के माध्यम से हम नाईट मार्च का पांच स्टेज के बारे में जानेगे जो  निम्न है  :
Compass ke parts ka naam
Compass ke parts ka naam
1. नाईट मार्च की तैयार कैसे की जाती है ?(Night march ki taiyari kaise karte hai )
2.नाईट मार्च के लिए रास्ते  का चुनाव करते समय क्या ध्यान में रखा जाता है ?(Night march ke lie raste ka chunaw kaise karte hai )
3.नाईट मार्च चार्ट  कैसे बनाया जाता है ?(Night march char kaise banaya jata hai)
4. कंपास सेट करना (Compass set Karna)
5.कम्पास पर सीरियल नम्बर मार्क करना (Marking of compass)

1. नाईट मार्च की तैयार कैसे की जाती है और क्या-क्या किया जाता है ?(Night march ki taiyari kaise karte hai ):नाईट मार्च की पूरी तयारी जहा तक हो सके दिन में ही पूरी कर लेनी चाहिए !इस तैयारी की पांच स्टेज होता है जिसमे पहला है :

जरुर पढ़े:मैप रीडिंग में इस्तेमाल होने वाले कन्वेंशनल सिग्न और उसका महत्व

रैकी (Reece):नाईट मार्च के आखरी स्थान पहुचने के लिए सुविधानुसार बिच में कई बाउंड चुनने पड़ते है , जहा से मार्ग बदलना पड़ता है ! इन बाउंडस को चुनने के लिए पहले एरिया की रैकी करना पड़ता है ! रैकी दो प्रकार की होती है :

(i) मैप पर (On Map):जब शत्रु के एरिया में घुसने के लिए नाईट मार्च किया जाता है तो इलाके की रैकी मैप के ऊपर ही की जाती है और मैप के ऊपर  पर ही बोउन्ड्स चुने जाता है !

(ii) जमीन पर (On Ground):जब नाईट मार्च शत्रु रहित इलाके में करना हो या ट्रेनिंग एक्सरसाइज के लिए करना हो तो कमांडर जमीन पर रैकी करके बोउन्ड्स का चुनाव करता और फिर नेविगेशन पार्टी को मैप की मदद से इन बोउन्ड्स को ढूढने के लिए कहता है !

जरुर पढ़े:मास्टर मैप , मास्टर कंपास तथा तंगेंट क्या होता है !

2. नाईट मार्च के लिए रास्ते  का चुनाव करते समय क्या ध्यान में रखा जाता है ?(Night march ke lie raste ka chunaw kaise karte hai ):शत्रु के इलाके में जाने या शत्रु इलाके में रात के समय पेट्रोलिंग करने या रैकी पार्टी भेजने के लिए रास्ते का चुनाव करना बहुत महत्वपूर्ण होता है !

इस लिए रास्ते  चुनते समय  इस बातो का ध्यान रखना चाहिए :
  • जिस रास्ते पर शत्रु का मिलने का चांस काम हो और शत्रु मिल भी जाए तो बचाव के लिए बनावटी या कुदरती आड़ हो !
  • रास्ता चलने में आसन हो 
  • तय करने में नजदीक हो 
  • टैक्टिकल लिहाज से सुरक्षित हो , नदी , नाले, व टूटी फूटी जमीन से हो कर जाने वाले रास्ते को सुरक्षित माने  जाते है !इस रास्तो की जानकारी मैप पे दिखाई गई रिलीफ से आसानी से मिल जाती है ! इस रास्तो को चुनते समय निम्न बातो का ख्याल रखना चाहिए :
  • यदि रास्ते में कोई रुकावट जैसे नदी या नाला पड़ता है उसका बहाव किधर है , गहरे कितनी और पानी के निचे का धरातल  कैसे है !
  • रुकावट को पार करने का आसान ड्रिल  मालूम हो 
  • शत्रु के इलाके में पड़ने वाली सड़क, पगडण्डी और नाले आदि के क्रासिंग पुल या कुदरती और बनावती डिफायलो को जहा तक हो सके रास्ते में सामिल नहीं करना चाहिए ! यदि किया भी जाय तो सावधानी से पर करना चाहिए क्यों की शत्रु इन जगहों पर अपना अम्बुश लगा के रखता है !

3.नाईट मार्च चार्ट  कैसे बनाया जाता है ?(Night march char kaise banaya jata hai): बोउन्ड्स और रास्ते का चुनाव हो चुके तो बाद मार्चिंग चार्ट बनाया जाता है !इसकी करवाई इस प्रकार से की जाती है :
नाईट मार्च चार्ट डिटेल्स
नाईट मार्च चार्ट डिटेल्स 
  • पहले बाउंड से दुसरे बाउंड फिर दुसरे बाउंड से तीसरा बाउंड यानि बाउंड से बाउंड गंतव्य तक का मैग्नेटिक बेअरिंग और फासला एक पेपर पर लिख ली जाती  है !
  • हर बोउन्ड्स का कन्वेंशनल सिग्न भी नोट कर लिया जाता है !
  • टारगेट जहा पे हमे फाइनली जाना है उसका नाम नहीं लिखा जाता है !
  • फिर इन सूचनाओ को मार्चिंग चार्ट में भर दिया जाता है !
नाईट मार्च चार्ट
नाईट मार्च चार्ट 
  • मार्चिंग चार्ट की लिखाई दोहरी लाइन के बिच किया जाता है !और इन लाइनो के बिच आलपिन से छिद्र कर दिया जाता है ताकि चंद्रमा या ब्लैक आउट की हुई टोर्च लाइट में आसानी से पढ़ी जा सके !
  • दोहरी रेखाओ के बहरी भाग को काली  पेंसिल से शेडिंग कर दिया जाता है !
  • इसमें इस्तेमाल होने वाले कन्वेंशनल सिग्न सही होने चाहिए !
  • मार्चिंग चार्ट बन जाने के बाद चार्ट के पीछे वाले हिस्से को ब्लैक पेंट से कलर कर देना चाहिए जिससे रात  को लाइट में पढने पर शत्रु को दिखाई न दे !

यदि संभव हो तो नाईट मार्च चार्ट को काले कागज पर सफ़ेद स्याही वाली पेन से बनाना चाहिए !

4. कंपास सेट करना (Compass set Karna):जितने बोउन्ड्स से होकर टारगेट तक जानी है उतने बाउंड और टारगेट का अलग अलग क्प्म्पस लेकर जिस बेअरिंग  पर मार्च करना है उसे कंपास पर सेट कर लिया जाय !कंपास सेट करते समय कंपास की त्रुटिय को भी ख्याल रखा जाय !

5.कम्पास पर सीरियल नम्बर मार्क करना (Marking of compass): जिस क्रम में  में कंपास को इस्तेमाल करनी है उसी कर्म से सेट कंपास पर मार्किंग कर नम्बर डाल दे ! स्टार्टिंग पॉइंट से पहले बाउंड वाले कंपास पर -1 , पहले बाउंड से दुसरे बाउंड वाले कम्पास  पर -2 इसी प्रकार से टारगेट तक के कंपास को नम्बरिंग कर देना चाहिए !

इससे यह फायदा होता है जब हम किसी बाउंड के लिए चलते है तो वही कंपास इस्तेमाल में लायेंगे !जिस पर उस बाउंड का नम्बर दिया हुवा हो ! कंपास को मार्क करने के बाद कम्पास को धुप में रख देना चाहिए जिससे कंपास के लगी चमकीला रंग रात  के समय अधिक चमके !   

इस प्रकार से यहाँ नाईट मार्च चार्ट कैसे बनाते है और नाईट मार्च की तैयारी कैसे करे से सम्बंधित ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुई !उम्मीद है की यह छोटा पोस्ट आप को पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट होतो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग  को सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित करे !
इसे भी पढ़े :

  1. सर्विस प्रोटेक्टर का परिभाषा और सर्विस प्रोटेक्टर का प्रकार
  2. सर्विस प्रोटेक्टर का उपयोग और सर्विस प्रोटेक्टर से बेक बेअरिंग पढने का तरीका
  3. 13 तरीके मैप सेट करने का !
  4. 5 तरीका मैप पे ऊपर खुद का पोजीशन को पता करने का
  5. 5 तरीको से मैप टू ग्राउंड और ग्राउंड टू माप जाने
  6. मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व
  7. मैप का परिभाषा , मैप का इतिहास और मैप का अव्श्काए
  8. मैप के प्रकार की विस्तृत जानकारी
  9. ट्रू नार्थ , ग्रिड नार्थ, मैग्नेटिक नार्थ का मतलब हिंदी में
  10. बैक बेअरिंग और फॉरवर्ड बेअरिंग में अंतर तथा ग्रिड लाइन का परिभाषा

No comments:

Post a Comment