Sponser

Search

Friday, July 20, 2018

मैप रीडिंग - नाईट मार्च ड्रिल

पिछले पोस्ट में हमने  नाईट मार्चिंग की तैयारी और सामान के बारे में जानकारी प्राप्त की ! इस पोस्ट में हम सम्पूर्ण मैप रीडिंग(Sampurn map reading ) के एक और लेसन के बारे में जानेगे जो है नाईट मार्च की ड्रिल  यानि की नाईट मार्च को सुरु कैसे करते है !


जैसे की हम जानते है की नाईट मार्च हम ज्यादातर दुशमन के एरिया में घुस कर खबरे हासिल करना और दुश्मन के ऊपर कोई ऑपरेशन करें के लिए ही करते है या दुश्मन को धोखा देकर कोई ऑपरेशन  के लिए करते है ताकि दुश्मन को हमारी गतिविधिया का पता न चले !

जरुर पढ़े:मैप रीडिंग के उद्देश्य तथा मैप रीडिंग के महत्व

इसलिए लिए नाईट मार्च करते समय हमें बहुत एतिहात  बरतना पड़ता है जिससे की हमारा हर मूवमेंट सीक्रेट रह सकते और दुश्मन हमारे बारे में न जन सके ! इस सब को लिए हमे हर एक  मूवमेंट को एक तय सुदा रूप में करते है और ड्रिल के तौर पे करते है ताकि की हम से कोई गलती न हो !

इस पोस्ट को पढने के बाद आप इन विषयों के बारे में अच्छी तरह से जान पाएंगे :
नाईट मार्च
नाईट मार्च 
1.नाईट मार्च की ड्रिल  क्या होता है ?(Night March ka drill)
2. असिस्टेंट गाइड का काम (Assistant Guide ka kam)
3. गाइड का काम (Guide ka kam)
4. रिकॉर्डर का काम (Recorder ka kam)

जरुर पढ़े:मैप का परिभाषा , मैप का इतिहास और मैप का अव्श्काए

1.नाईट मार्च की ड्रिल  क्या होता है ?(Night March ka drill):ड्रिल इस प्रकार है 
  • नेविगेशन पार्टी नाईट मार्च के लिए तैयार होती है तो गाइड आगे जाकर उस दिशा की ओर मुह करके खड़ा हो जाता है, जिस दिशा में मार्च करना होता है उसके हाथ में पहले बाउंड का खुला कम्पास और टंग नोज की सिद्ध में लुमिन्स स्टिक होती है !
  • गाइड आदेश देता है "नेविगेशन पार्टी लाइन बन " इस आदेश पर असिस्टेंट गुइड व रिकॉर्डर गाइड के पीछे आकर लाइन में खड़े हो जाते है ! असिस्टेंट गाइड जो की गाइड के पीछे होता है गाइड के हाथ में पकड़ी लुमिन्स स्टिक के सिद्ध में कोई दो मशहूर निशान चुन लेता है !
  • गाइड आदेश देता है "नेविगेशन पार्टी परेड पर" इस आदेश पर असिस्टेंट गाइड एक कदम दाहिने लेकर चार कदम आगे बढ़ता है और फिर एक कदम बाए लेकर उन दोनों निशानों के सिद्ध में खड़ा हो जाता है जो उसने पहले चुने थे ! इस प्रकार से ओ ठीक उस बेअरिंग के सिद्ध में आजाता है जिस पर मार्च करनी है! इस प्रकार से नेविगेशन पार्टी के तीनो सदस्य अपनी अपनी पोजीशन में खड़ा हो जाता है !

2. असिस्टेंट गाइड का काम (Assistant Guide ka kam): सभी मेम्बर अपना पोजीशन लेने के बाद गाइड आदेश देता है "पार्टी कुच कर "! इस आदेश पर नेविगेशन पार्टी अपने गन्तव्य स्थान की ओर चलती है जिसमे असिस्टेंट गाइड का काम इस प्रकार से होता है :
  • यह सबसे आगे होता है !इसके पीठ पे लिमुंस बोर्ड या सफ़ेद कपडा होता है यदि इसे मार्च के दौरान कभी पीछे मुड़ना हो तो इसे चाहिए की लुमिन्स बोर्ड को उतार  ले !
  •  यह गाइड के सकेत के अनुसार सही बेअरिंग पर चलता है !
  • रस्ते में पड़ने वाले पानी या गड्ढो की गहराई का अनुमान यह अपने हाथ के डंडे से लगता है !
  • यह गाइड से इतना आगे रहता है की जिससे वह गाइड के हर इशारा को सुन व समझ सके  !
  • गाइड और असिस्टेंट गाइड की बिच की दुरी जमीनी बनावट और दिखाव  तथा परिस्थिति पर निर्भर करता है !

3.  गाइड  का काम (Guide ka kam)गाइड का काम इस प्रकार से होता है :
  • यह नेविगेशन पार्टी का कमांडर होता है!नेविगेशन पार्टी की सभी हरकते इसी के संकेत  तथा आदेश पर होता है !यह दिखाव  और इलाके के लिहाज से असिस्टेंट गाइड के पीछे रहता है !ताकि असिस्टेंट गाइड को उचित संकेत दे सके !
  • इसके दाहिने हाथ में खुला कंपास तथा लुमिन्स स्टिक रहती है ! इस स्टिक से गाइड , असिस्टेंट गाइड के पीठ के बिच में सिधाई लेता हुवा कंपास की सुई को डायरेक्शन मार्क की सीधमें रखते हुए मार्च करता है
  • यदि असिस्टेंट गाइड का रुख दाहिने बाए होता है तो उसे उचित डायरेक्शन दे कर सही दिशा में चलने को इशारा और आदेश देता है  ! 
4. रिकॉर्डर का काम (Recorder ka kam):रिकॉर्डर का पोजीशन  गाइड के पीछे होती है !  रिकॉर्डर का काम इस प्रकार से होता है :
  • यह एक बाउंड से दुसरे बाउंड के फासले को कदमो में या फीता से नापता है !
  • मार्चिंग चार्ट में मीटरो या गजो में दिए हुए फासले को कदमो में बदलने के लिए आमतौर पर क्रमशः 120 या 132 कदम , 100 गज या 100 मीटर के बराबर होते है !
  • रिकॉर्डर को इस बाद का ध्यान रखना चाहिए की कदमो के फासला को नापते हुए की जब हम निचे की ओर यनी ढलान पर कदम कुछ लम्बे तथा चढ़ाई , रेत, टूटे फूटे जमीन पर चलते समय कदम की लम्बाई कुछ छोटे पड़ते है
  • निश्चित फासला तय हो जाने के बाद रिकॉर्डर को चाहिए की वह गाइड को रोकने का इशारा दे ! नेविगेशन पार्टी रुकने के बाद रिकॉर्डर मार्चिंग चार्ट पर दिए हुए कन्वेंशनल सिग्न  को जमीन पर ढूढता है! क्यों की जरुरी नहीं है की निशान नापे हुए जगह पे ही मिल जाये इसके लिए थोडा दाहिने या बाये चलना पड़ सकता है!

नाईट मार्च में फासले पर निशान न मिलने के कारण : फासले पर निशान न मिलने के निम्न कारण हो सकते है :
  • मैप और जमीनी फासला में थोडा अंतर होता है !
  • कदमो से फासला नापने के कारण जमीनी बनावट के कारण कदम छोटे बड़े पड़ जाना !
  • चलते समय बेअरिंग की दाहिने बाये की गलती !
जैसे की आप जानते है की एक डिग्री दाहिने बाए की गलती एक मिल जाने के बाद 30 गज और 1 किलोमीटर चलने के बाद 17 मीटर का अंतर पड़ जाता है !

बाउंड की खोज करने के बाद नेविगेशन पार्टी अगले बाउंड पर जाने की तैयारी करती है ! गाइड पहले वाले कम्पस को वापस रिकॉर्डर को दे देता है और अगले बाउंड की बेअरिंग वाला कंपास ले लेता है ! 

यदि नेविगेशन पार्टी के कदम नापने वाला पेसर भी हो तो वह रिकॉर्डर के पीछे रहता है और फासला नापने , निशान ढूढने  आदि में रिकॉर्डर की मदद करता है ! साथ ही पीछे आने  वाली टोली को रास्ता दिखाने के लिए रस्ते में चुना फेकता जाता है !

इस प्रकार से नाईट मार्च पार्टी का ड्रिल  होता है जिसको अमल में लेट हुए नेविगेशन पार्टी नाईट मार्च करती है !

जरुर पढ़े:मैग्नेटिक वेरिएशन , लोकल वेरिएशन तथा एंगल ऑफ़ कन्वर्जेन्स का मतलब

इस प्रकार से यहाँ नाईट मार्च ड्रिल से सम्बंधित यह सम्पूर्ण मैप रीडिंग का एक ब्लॉग पोस्ट  समाप्त हुवा !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे  और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज  लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !
इन्हें  भी  पढ़े :
  1. मैप रीडिंग में री सेक्शन , इंटर सेक्शन तथा ओरिएंटेशन का मतलब
  2. मास्टर मैप , मास्टर कंपास तथा तंगेंट क्या होता है !
  3. मैप रीडिंग में इस्तेमाल होने वाले कन्वेंशनल सिग्न और उसका महत्व
  4. मैप के स्केल तथा उसका प्रकार और महत्व
  5. मैप के ऊपर मैप स्केल दर्शाने या प्रकट का विधि
  6. बनावट के आधार पर मैप का स्केल लाइन इतने रूप होते है?
  7. सर्विस प्रोटेक्टर को इस्तेमाल करने का तरीका
  8. कंपास की अपनी त्रुटी से क्या समझते है?
  9. 4 शुरु कि बाते नाईट मार्च के बारे मे
  10. 3 मुख्य अवस्थाये और विधिया नाईट मार्च करने के लिए

No comments:

Post a Comment