Sponser


Thursday, July 28, 2016

स्टाकिंग क्या है ? और स्टाकिंग के फायदे तथा और जाननेवाली बाते !

इस पोस्ट में हम स्टाकिंग(Stalking) करने का तरीका (Stalkng karne ka tarika)और स्टाकिंग(Stalking) करते समय ध्यान में रखने वाली क्या क्या बाते तथा स्टाकिंग (Stalking) के क्या क्या फायदे है(Stalking ke fayde) के बारे में जानकारी हासिल करेंगे जब की पिछले पोस्ट में हमने कांसिल्मेंट के बारे में जानकारी शेयर किये !



स्टाकिंग(Stalking) का  डिक्शनरी मीनिंग होता है छुप के किसी का पीछा करना और बहुत से देशो के  सिविल  कानून में स्टाकिंग  एक क्राइम है लेकिंग वही ऑपरेशनल एरिया में एक आर्म्ड फाॅर्स के जवान के लिए

जरुर पढ़े : सर्विस प्रिज्मैटिक लिक्विड कम्पास MK-iii के 20 पार्ट्स और उनके काम

स्टाकिंग(Stalking) एक कला है जिसे ट्रेनिंग के दौरान सिखलाई दी जाती है  जिसमे की खाली हाथ और हथियार के साथ चल कर दुश्मन के नजदीक से नजदीक पहुच कर एक्शन लेना सिखाई जाती है  और यह अपेक्षा रखी जाती है की सभी जवान स्टाकिंग(Stalking) में माहिर हो !
Stalking through various chaal
Stalking through various chaal 
स्टाकिंग के फायदे (Stalking ke fayde):लड़ाई के मैदान  में  छुपाओ हासिल करके दुश्मन तक जाने के कई फायदे है :

  • दुश्मन तक पहुच कर पहल हासिल कर सकते है और दुश्मन को रियेक्ट करने का मौका नहीं देते है !
  • पेट्रोलिंग में गया हुआ जवान बिना किसी नुकसान के अप टास्क पूरा कर सकता है !
  • स्नाइपर के तौर पर कम कंरने वाला जवान दुश्मन केफिरे और नज़र से बचकर उस पर फिरे दाल सकता है !
  • स्टाकिंग से हर जवान इस काबिल बन जाते है की वह दुश्मन के फिरे और नज़र से बचने के लिए उस इलाके की हर एक कुदरती और बनावती चीजों का फ़ायदा उठा सकें जैसे : दरख्त , झाडिया ,माकन, टूटी फूटी जमीन ,दिवार अदि !

एक स्टाल्कर के जानने वाली बाते(Stalking suru karne se pahle janne wali bate) : एक स्टाल्कर को स्टाकिंग शुरू करने से पहले इन बातो को बखूबी जान और समझ लेना चाहिए ! 
  • घात लगाने का तजबीज : स्टाकिंग का तजबीज बनाते समय एक स्टाल्कर को  घात लगाने की तजबीज भी आनी चाहिए  ताकि जरुरत पड़ने पे ओ दुश्मन के ऊपर घात लगा के भी हमला कर सके !
देखभाल : स्टाकिंग शुरू करने से पहले इन बातो को अच्छी तरह से देखभाल करना चाहिए !
  1. दुश्मन का पोजीशन : दुश्मन के पोजीशन को मदद के निशानों से यद् रखना !
  2. दुश्मन की दूसरी पोजीशन : हो सकता है की स्टाल्क करने वाली पोसितों के अलावा भी दुश्मन का और भी पोजीशन उस इलाके में हो तो उसके बारे में पता होना चाहिए !
  3. आखरी फायर पोजीशन : दुश्मन के नजदीक से नजदीक आखरी फायर पोजीशन का चुनाव जहा से दुश्मन का पोजीशन ठीक नज़र आये और कारगर फायर डाला जा सके इसको मदद के निशान से याद करे 
  4. रास्ता : हवा फोटो , मैप या ज़मीन की बनावट के लिहाज़ से मदद लेते हुए रास्ता का चुनाव करे !

 रास्ता चुनते वक़्त रास्त चुनते समय चंद बातों का ख्याल रखे (Stalking ke liye rasta chunte samay dhyan me rakhne wali bate)!
  • टाइम : रास्त का चुनाव करते समय एक स्टाल्कर को ये सोचना चाहिए की उसके पास वक़्त कितना है !
  • दबी ज़मीन : रास्ता दबी ज़मीन में चुना जाए ताकि दुश्मन की नज़र और फिरे दोनों से बचाव मिल सके  और खुद देखभाल भी कर सके !
  • फायर पोजीशन : रस्ते में फायर पोजीशन चुनना चाहिए ताकि जरुरत पड़ने पर जल्दी दुश्मन पर फिरे डाल सके !
  • बाउंड : चुने हुए रस्ते में बोउन्ड्स का होना बहुत ज़रूरी है बोउन्ड्स यानि ऐसी जगह पर स्टाल्कर ऑब्जरवेशन यानि देखभाल करने के लिए तैयार और जरुरत पड़ने पे दुश्मन के ऊपर वार भी करें !
  • रुकावट : रस्ते में रुकावट न हो यदि हो तो उसे पार करने का बंदोबस्त कर लेना चाहिए !
  • दूसरा रास्ता :ऐसा दूसरा रास्ता होना चाहिए जो ज़रूरत पड़ने पर कम में लाया जा सके !
स्टाल्कर  के लिए जरुरी बाते(Stalker ke vishesh gun) : ऊपर हमने एक स्टाकिंग  के लिए जरुरी बातो के बारे में जानकारी ली उसी तरह से स्टाकिंग इ लिए भी कुछ जरुरी बातें है ! जैसे :
  • चौकनापन:स्टाकिंग करने वाले जवान की गलती करने का नतीजा उसका मौत है  इसलिए स्टाल्कर को हमेश चौकना और होशियार रहना चाहिए !
  • पहल करना : अगर दुश्मन अचानक नज़र आ जाए तो हमेशा पहले उस पर फायर किआ जाय और मुनासिब करवाई करो या उसी जगह सक  हो जाने पर मुनासिब सुरक्षित पोजीशन  पे चले जाओ !
  • दुश्मन को धोखा दो : धोखा देने की तजवीज पहले से बनी हो उक्तालिफ आवाज़ों से भी दुश्मन को धोखा दे सकते है !
  • ज़मीन का फ़ायदा : जहाँ पर चल कर जा सकते है वहां रेंग कर मत जाओ ऐसेकारने से वक़्त और ताकत बर्बाद होता है !
  • जानवरों और परिंदों से बचो : उनकी हरकत और आवाज़ से दुश्मन को स्ताल्कर की मौजूदगी का सक कर सकता है !
  • दुश्मन के नजदीक जाना : दुश्मन के इतना नजदीक जाओ जितना ज़रूरी है ! इतना नजदीक जाओ की दुश्मन को देखकर मुनासिब करवाई किया जा सके लेकिन खुद दुश्मन दिखाई  न दो !
  • फिरे की तरतीब : फायर के बारे में सोच समझकर और सबर से फायर करना चाहिए ! स्ताल्किंग की करवाई पूरा करने के बाद अगर तुरंत गोली ठीक जगह पर न लगे तो तमाम करवाई बेकार और स्ताल्केर खुद दुश्मन का शिकार बन सकता है !
  • एक पोजीशन से एक या दो राउंड से ज्यादा फायर न करे !
  • रीलोड की करवाई अहिस्ता  से करे 
  •  यदि दुबारा फिरे करना हो तो दूसरी पोजीशन पहले से चुन कर रखे !

ये रही स्टाकिंग तथा स्टाकिंग से होने वाले फायदे और दूसरी जाननेवाली बाते उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! कोई कमेंट या सुझाव हो तो निचे कमेंट बोक्से लिखे तथा इस ब्लॉग को जरुर सब्सक्राइब कर के सपोर्ट करे 

इन्हें भी  पढ़े :

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...