Sponser

Search

Sunday, November 1, 2020

AGS -17 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर की बेसिक जानकारी

 पिछले  पोस्ट में हमने AGS -30  के बारे जानकारी प्राप्त की और अब इस नई ब्लॉग पोस्ट में हम ASG-17 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर के बारे में जानकारी (AGS-17 automatic Grenade launcher ka basic jankari )प्राप्त करेंगे ! AGS -30   के आने से पहले AGS -17  का ही इस्तेमाल किया जाता था !

 जैसे की हम जानते है की AGS -17  और AGS -30 दोनों रूस की बानी हुई ग्रेनेड  लांचर है और इस लांचर का तुलना अमेरिकन Mk 19 40mm ग्रेनेड लांचर से किया जाता है !  AGS -17  का पूरा नाम  AGS -17 (Plamya) है !यह रूसियन आर्मी में सं 1970 में शामिल किया गया और इसका प्रोडक्शन आज भी होता है ! इसका इस्तेमाल बहुत से लड़ाइओ के दौरान किया  की सोवियत - अफगान वॉर , चेचेन वॉर , सीरियन  यदि ! इस हथियार को एशिया की बहुत से देश की आर्मी इस्तेमाल करती है जैसे की अफगानिस्तान , चीन , भारत, इराक,यदि ! 

जरुर  पढ़े :SSG-69 राइफल के टेलीस्कोपिक साईट की बेसिक जानकारी

इस हथियार को विशेषकर अमेरिकन Mk 19 सीरीज के  ग्रेनेड लांचर थे उनको काउंटर करने के लिए डेवेलॉप किया गया था जो की छोटे एरिया में इकठा दुश्मन के खिलाफ काफी कारगर हथियार साबित हुवा था ! AGS -17  भी अमेरिकन लांचर का भी फंक्शन और प्रिंसिपल पे काम करता है और आर्टिलरी के सामान सपोर्ट /सप्रेशन फायर पावर मध्यम से लांग रेंज में प्रदान करता है !

AGS -17 का बनावट एक रेक्टेंगुलर काफी मजबूत  लास्टिंग रिसीवर  का है का है ! इसका जीतन भी चाल वाले पुर्जे और मैकेनिक है सब पीछे है इसका फीड  बिच में स्थित है ! बेल्टेड ग्रेनेड को रिसीवर के  राइट साइड से फीड किया जाता है फायर केस इजेक्ट होता है लेफ्ट साइड से  !

जरुर  पढ़े :SSG-69 राइफल का इस्तेमाल और रख रखाव

बैरल इसका  जिसके अंदर ग्रूव्ज़ बने होते है ! इसका ट्रिपॉड अडजस्टेबले,हैवी ड्यूटी बना होता है और जिसके मदद से डायरेक्ट और इन डायरेक्ट फायर किया जा सकता है ! फायरर इस हथियार को हॉरिजेंटल गृप के द्वारा इधर उधर के मूवमेंट को रोकता है वही यह वेपन बलोबैक ऑपरेशन के सिद्धांत पर काम करता  है और एक मिनट में 400  ग्रेनेड फायर करता है !

इसका इफेक्टिव रेंज  1700  मीटर होता है और ज्यादा एक्यूरेट फायर डालने के लिए इसके साथ अडजस्टेबल ऑप्टिकल आयरन साइट  आता है जो की  पिछले हिस्से में फिट किया जाता है ! इस हथियार का वजन 31 किलोग्राम होता है !

AGS -17 में 30 x 29 mm  स्टील काट्रिज ग्रेनेड का इस्तेमाल किया जाता है जो की 30  राउंड बेल्ट के द्वारा फीड किया जाता है जिसके लिए स्नैल टाइप कंटेनर रिसीवर के राइट साइड में लगा रहता है जिसके द्वारा ग्रेनेड फीड किया जाता है !

जरुर  पढ़े :SSG-69 राइफल की रख रखाव और सफाई का तरीका

इस्तेमाल की बहुत ही काम समय में इस वेपन ने अपना उच्च उपयोगिता साबित कर दिया ! यह एक प्रभावी सप्रेसिव वेपन के तौर पे जिसका इस्तेमाल दुश्मन के जवान हिली एरिया में छुपे हुवे हो उन्हें मरने और भागने में काफी उपयोगी साबित होने लगा ! कुछ समय के अंदर स्पेशल व्हीकल माउंट्स को भी भी डेवेलोप किया गया जिसके सहायता से व्हीकल के अंदर के अंदर बैठ कर के भी ग्रेनेड फायर किया जा सकता है !

बेसिक डाटा(Basic Data) 

  • इस्तेमाल में  साल : 1995 
  •  बनानेवाली फैक्ट्री : KBP Instrument Design Bureau - Soviet Union / Russia; Arsenal AD - Bulgaria; NORINCO - China
  • लम्बाई : 840 mm (33.07 in)
  • वजन :68.34 lb (31.00 kg)
  • साइट :Adjustable Iron Sights; Optional Optics
  • प्रिंसिपल : Blowback; Automatic Fire
  • मजल वेलोसिटी :606 feet-per-second (185 meters-per-second)
  • रेट ऑफ़ फायर :400 rounds-per-minute
  •  इफेक्टिव रेंज :5,741 ft (1,750 m; 1,914 yd)

इस प्रकार से यहाँ AGS -17 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर  की बेसिक जानकारी से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुवा !उम्मीद है की यह छोटा पोस्ट आप को पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट होतो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग  को सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित !


इसे भी पढ़े : 
  1. SSG-69 राइफल को भरना और खाली करने का तरीका
  2. SSG-69 राइफल को रेडी, मेक सेफ और खाली कर का तरीक...
  3. 7.62 mm MMG के माउंट ट्राई पोड की करवाई के समय ध्...
  4. 7.62 mm MMG के फायर आर्डर का क्रम और वक्फा के दौरा
  5. 7.62 mm MMG के टारगेट का नाम और MMG में पडनेवाले र...
  6. 7.62 mm MMG को फायर के लिए तैयार करते समय ध्यान मे...
  7. 6 महत्वपूर्ण बाते 84 mm मोर्टार के बारे में
  8. 5 जरुर जाननेवाली बाते 81 mm मोर्टार के बारे में ?...
  9. 81 mm मोर्टार के 10 छोटी छोटी बेसिक बाते
  10. 5 मुख्य बाते 81 mm मोर्टार के फायर कण्ट्रोल से सम

No comments:

Post a Comment