Sponser

Search

Sunday, November 1, 2020

AGS-30 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर की बेसिक जानकारी

 आज मै वेपन से सम्बंधित पोस्ट बहुत दिनों के बाद लिख रहा हु तो आज मै अपने इस पोस्ट में AGL-30 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर के बारे में बात करेगए और उसकी बेसिक जानकारी यहाँ पे शेयर करेंगे !

जरुर  पढ़े :SSG-69 राइफल के टेलीस्कोपिक साईट की बेसिक जानकारी

AGS-30 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर  सीरीज डेवलप्ड किया गया AGS -17 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर के रिप्लेसमेंट के लिए !AGS-30 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर  रूस का बना हुवा 30 mm  का आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर है  शीत युद्ध कालीन AGS -17  के रिप्लेसमेंट के रूप में आर्मी में अपनाया गया ! AGS-17 अपने समय का एक बहुत ही इफेक्टिव ग्रांडे प्रोजेक्टर था !यह 1970 ईरा का हथियार था जो की ओपन-फील्ड वारफेयर को ध्यान में रख कर बनाया गया लेकिन 1990s  आते आते वारफेयर का स्वरुप बदल गया और वॉर ओपन फील्ड से कॉन्टैनेड यानि की बिल्डप एरिया या शहरी क्षेत्रो में लाडे जाने लगा !

जरुर  पढ़े :SSG-69 राइफल का इस्तेमाल और रख रखाव

सोवियत यूनियन के बिखराव के बाद रूस कोई बड़ा मिलिट्री या पोलिटिकल पावर पहले जैसा नहीं रहा इस सब को ध्यान में रखते हुवे अपने बर्चस्व को फिर से आर्म्स डेवलपमेंट में कायम करने के लिए रूस ने इस आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर को AGS-30 को डेवलप्ड किया और रूसियन आर्मी में शामिल किया !इसका प्रभाव देखकर बाद में अर्मेनिआ, अज़रबैजान , बांग्लादेश और भारत ने भी अपने अपने आर्मी में शामिल किया !

 भारत में यह आर्डिनेंस फैक्टरी तिरूचिराप्पल्ली में बनाई जाती है ! AGS-30 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर  अभी भी सोवियत ईरा के 30 x  29 mm ग्रेनेड का इस्तेमाल करता है और यह ॉंचर भी बलोबैक सिस्टम के ऊपर ऑपरेट कर है लेकिन यह वजन में अपने पहले लांचर के अपेक्षा कॉम्पैक्ट है और हल्का है ! इसकी तुलना अमेरिकन मेड Mk - 19  सीरीज के लांचर से किया जाता है !


यह लांचर में साइटिंग डिवाइस PAG-17  अडजस्टेबले टाइप का रहता है ! इसमें ग्रेनेड के फीडिंग 29- ग्रेनेड हाउस कैसेट ड्रम जो के दाहिने साइड में फिटेड है! यह लांचर का इफेक्टिव रेंज 2300 मीटर्स और एक मिनट में 400 ग्रांडे फायर करता है !ग्रेनेड फायर केस लार्ज ऑर्ट जो की लांचर के बाये  होता बाहर  निकलता है ! इस लांचर के बैरल  में भी ग्रूज बने होते है जिससे की फायरिंग के दौरान  एक्यूरेसी मिलती है ! वजन में हल्का होने के कारन इसे एक जवान भी एक जगह से दूसरे जगह आसानी से ले जासकता है !

इस लांचर का फायरिंग इसके साथ आये हरे ट्रिपॉड मॉउंटिंग या व्हीकल के ऊपर फिक्स्ड कर के किया जा सकता है ! इससे डायरेक्ट या इंदिरेक्ट सिचुएशन के अनुसार फायर डाल  सकते है !आधिकारिक तौर पे AGS-30 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर १९९५ में रुसी फोर्सेज के द्वारा इस्तेमाल में लाया गया !इसका सफल उपयोग  चेचेन वॉर (1999 -2000 ) में भी देखा गया ! 

कुछ बेसिक डाटा :

AGS30 Grenade Launcher

  • साल -1995 
  • मनुफक्चरर : KBP Instrument Design Bureau - Russia / Ordnance Factory Tiruchirappalli - India
  • खाली वजन : 35.27 lb (16.00 kg)
  • साइट : Adjustable Iron Sights; Optional Optics
  • ऑपरेटिंग प्रिंसिपल : Blowback; Automatic Fire
  • मजल वेलोसिटी : 600 feet-per-second (183 meters-per-second)
  • इफेक्टिव रेंज: 7,544 ft (2,299 m; 2,515 yd)
  • रेट ऑफ़ फायर :400 rounds-per-minute

इस प्रकार से यहाँ AGS-30 आटोमेटिक ग्रेनेड लांचर सेसम्बंधित एक छोटा सा पोस्ट समाप्त हुवा !उम्मीद है की यह छोटा पोस्ट आप को पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट होतो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग  को सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित !


इसे भी पढ़े : 
  1. SSG-69 राइफल को भरना और खाली करने का तरीका
  2. SSG-69 राइफल को रेडी, मेक सेफ और खाली कर का तरीक...
  3. 7.62 mm MMG के माउंट ट्राई पोड की करवाई के समय ध्...
  4. 7.62 mm MMG के फायर आर्डर का क्रम और वक्फा के दौरा
  5. 7.62 mm MMG के टारगेट का नाम और MMG में पडनेवाले र...
  6. 7.62 mm MMG को फायर के लिए तैयार करते समय ध्यान मे...
  7. 6 महत्वपूर्ण बाते 84 mm मोर्टार के बारे में
  8. 5 जरुर जाननेवाली बाते 81 mm मोर्टार के बारे में ?...
  9. 81 mm मोर्टार के 10 छोटी छोटी बेसिक बाते
  10. 5 मुख्य बाते 81 mm मोर्टार के फायर कण्ट्रोल से सम

No comments:

Post a Comment