Advertisement

Search

Thursday, August 16, 2018

कार्डों एंड सर्च ऑपरेशन क्या होता है ?

पिछले पोस्ट में हमने सेक्शन बैटल ड्रिल में कितना स्टेज है के बारे में जानकारी प्राप्त की इस पोस्ट में हम कार्डों एंड सर्च (Cordon and Search Operation ki basic jankari) क्या होता है उसके बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे !


CASO (Cordon and Search Operation ki basic jankari) एक एंटी टेररिस्ट ऑपरेशन होता  है जो ज्यादातर आतकवाद प्रभावित एरिया में कंडक्ट किया जाता है !जैसे की हम जानते है की आतंवादी अक्सर गांवो में सुरक्षा बलो द्वारा पकडे जाने के भय  से या किसी शक से बचने के लिए शरण लेते है क्यों की गाँववासियो का व्यवहार आतंकवादियो के प्रति या तो नरम (sympathy)होता है या फिर भय के कारण वे उनकी खबर सुरक्षा बालो को नहीं देते !

जरुर पढ़े:सेक्शन बैटल ड्रिल और उसे सफल बनाने वाली बातें

CASO(Cordon and Search Operation ki basic jankari) आतंकवाद के खिलाफ एक काफी सफल ऑपरेशन होता है और इसको सही तरीके से नहीं किया जाए तो सामान्य नागरिको  आर्म्ड फाॅर्स के खिलाफ होने की होने का खतरा रहता है !

इसीलिए आतंकवादियो की गाँव में मौजूदगी  के बारे में पक्की खबर मिलते सुरक्षा बालो को शीघ्र ही कार्डों और सर्च(CASO) ऑपरेशन का योजना तैयार करनी चाहिए ताकि वे मिली खबर का पूरा फायदा उठा सके !योजना ऐसा बनाने चाहिए जिससे की आम लोगो को परेशानी कम  से कम  हो !

इस पोस्ट को पढने के बाद आप निम्न बातो को जान पाएंगे :
CASO Operation Deployment
1. CASO(Cordon and Search Operation ki basic jankari) का उद्देश्य
2.आतंकवादियो के काम करने का तरतीब (Aatankwadio ke kaam karne ka tartib)
3.CASO के दौरान सुरक्षा बालो के लिए ध्यान में रखनेवाली बाते (CASO ke dauran surksha balo ke lie dhyan me rakhnewali baate ) 

जरुर पढ़े:4 बाते शत्रु के कारगर फायर के अंदर आने पे करनी चाहिए

1. CASO(Cordon and Search Operation ki basic jankari) का उद्देश्य : CASO का उद्देश्य गांवो की तलासी एवं उनमे छिपे हुए आतंकवादियो को घेरने का होता है !  गांवो की तलाशी के निम्न उद्देश्य होते है :
  • आतंकवादियो को पता लगाना , पकड़ना या उन्हें मारना 
  • हथियार , गोला बारूद एवं डाक्यूमेंट्स बरामद करना या कब्जे में लेना 
  • आतंकवादियो एवं उनसे हमदर्दी रखने वाले गाँववासियो के दिलो में डर पैदा करने के लिए !
  • गैर क़ानूनी कामो जैसे हथियारों एवं गोला बारूद बनाने  तथा नकली नोटों एवं अश्लील पुस्तकों को छापने  वाले लोगो का भाडा फोड़ करना उन्हें पकड़ना या मरना !
अभियान का उद्देश्य सुरक्षा बलो को बिलकुल स्पस्ट होना चाहिए क्यों की यह अभियान  नतीजे पर असर डालती है !

जरुर पढ़े:3 तरीके दुश्मन के फायर पोजीशन को पता लगने के

यदि उद्देश्य गाँववासिओ की शिनाख्त करना है तो ऐसे में गाँव का घेराव रात में लग जाना चाहिए तथा गाँववासियो की शिनाख्त उजाला होने पर करनी चाहिए क्यों की गांववासी ज्यादातर दिन के समय में अपने खेतो में या फिर धंधो के लिए बहार चले जाते है और शाम को लौटते है !इसलिए अगर गाँव का घेराव दिन के समय किया जाए तो ज्यादातर गांववासी गाँव में नहीं मिलेंगे !

2.आतंकवादियो के काम करने का तरतीब (Aatankwadio ke kaam karne ka tartib): आतंकवादियो के गाँव में आने का मोडस ओपेरंडी (Modus Operandi) कुछ इस प्रकार से होते है :
(a) गाँव आने का उद्देश्य : आतंकवादी आमतौर पर अपने कैंप या हाईड आउट जो की दूर जंगलो या ऊँची पहाड़ो या अन्तराष्ट्रीय सीमओं के दूसरी तरफ बने होते है यहाँ से अपनी करवाई करते है! आतंकवादी गाँववासियो या लोकल जनता की मदद के बगैर अपनी करवाई नहीं कर सकते , इसलिए वे गांवो में खाने की तलाश में, रहने की जगह ढूढने, सुरक्षा बालो के बारे में खबरे हासिल करने , पैसा लेने अथवा गलत सूचनाये फ़ैलाने के इरादे से आते !

जरुर पढ़े:सेक्शन फार्मेशन और सेक्शन फार्मेशन का बनावट

(b)आतंकवादियो के द्वारा अपनाये जाने वाले तरीका :जब भी आतंकवादी गाँव में आते है वे ऐसे तरीके अपनाते है जिसमे उन्हें पकड़ जाने का खतरा न हो व उसका टास्क भी आसानी से पूरा हो जाये ! आतंकवादियो के लगभग हर गाँव में मददगार होते है जोकि उन्हें खाना, रहने के लिए जगह तथा सुरक्षा बलों के बारे में तथा उनकी गतिविधिओ के बारे में खबरे देते है !

आतंकवादियो  द्वारा अपनाये जाने वाले कुछ तरीके , इस प्रकार है :

  • वे ऐसे गाँव में नहीं जाते जहा उनके मददगार  न हो !
  • वे गाँव में खुलेआम हथियार लेकर नहीं घूमते न ही वे वर्दी पहनते है !
  • आतंकवादी ज्यादातर रात के अँधेरे में गाँव में आते है व उजाला होते ही गाँव छोड़कर चले जाते है ! उनका मकसद गाँव में कम से कम समय गुजरने का होता  है !
  • जब आतंकवादियो को पकडे जाने का खतरा होता है तो वे सुरक्षा बलों को गुमराह करने के उद्देश्य से हवा में कुछ राउंड फायर कर बचकर निकल भागने की कोशिस करते है ! यदि वे इसमें कामयाब नहीं होते तो वे लोकल जनता है साथ मिल जाते है या फिर गाँव के नजदीक किसी जगह छुप जाते है !


  • वे अक्सर गाँव वालो को संतरी के रूप में उपयोग करते है जोकि सुरक्षा बलो की गतिविधियों एवं उनके आने की खबर तुरंत आतंकवादीओ को देते है !
  • आतंकवादी गाँव में अक्सर ऐसे मकानों में रहना पसंद करते है जो या तो खाली पड़े हो और गाँव के बाहरी किनारों में बने हुए हो  ताकि सुरक्षा बलों के आने की सुचना मिलने पर वे आसानी से भाग सके !
  • वे ऐसे माकन भी ढूढ़ते है जिनके चारो तरफ पेड़ , झाडिया तथा ऊँची उंगी हुई खेती हो जो उन्हें भागने में सहायता करे !
  • यदि वे फिर भी सुरक्षा बलों के घेरे में फंस जाते है तो वे कार्डों (Cordon)  में खली जगह देख भागने की कोशिश करते है , असफल होने पर वे सुरक्षा बलों का मुकाबला भी कर सकते है !



3.CASO के दौरान सुरक्षा बालो के लिए ध्यान में रखनेवाली बाते (CASO ke dauran surksha balo ke lie dhyan me rakhnewali baate ) इस ऑपरेशन के लिए सुरक्षा बालो को निम्न बातो के ऊपर ध्यान रखना चाहिए :
  • ऐसे अभियान पक्की सुचना मिलने के बाद ही करने चाहिए ताकि अभियान में सफलता  मिले और गाँव वासिओ को भी बेवजह परेशानी न हो !
  • कार्डों(Cordon) को दर्जो (tiers)में लगाना चाहिए ताकि  जैसे की बहरी कार्डों तथा अन्दर का कार्डों (Inner Cordon) ताकि भागने  के सभी रास्तो की तलाशी से पहले बंद किया जा सके !कार्डों लगाते समय रस्ते बड़ी सावधानी के साथ चुनने चाहिए ताकि सरप्राइज बरक़रार रखा जा सके !
  • कार्डों को लगाते समय किसी भी आदमी को गाँव के अन्दर या गाँव से बाहर नहीं निकलने देना चाहिए ! यदि कोई आदमी कार्डों लगते समय ऐसी कोशिश करता है तो उसे वही पकडकर पूछताछ करनी चाहिए !
  • तलाशी के लिए गाँव में घुसने से पहले सर्च पार्टी को लौन्चिंग बेस गाँव के बहार बना लेना चाहिए और वही से तलाशी के लिए तर्तिबबार बढ़ना चाहिए !

  • मकानों की तलाशी मकान मालिक तथा लोकल पुलिस की उपस्तिथि में होनी चाहिए इसके आलावा गाँव का मुखिया तथा लेडी पुलिस या पंचायत की महिला सदस्य साथ में होनी चाहिए !
  • बिल्ट उप एरिया की तलाशी बहुत ही सावधानी तथा तरतिबबार  करनी चाहिए ! इसमें जल्दी नहीं करनी चाहिए ! सर्च पार्टी को दो ग्रुप में बिभाजित कर देना चाहिए ! सपोर्ट ग्रुप और सर्च ग्रुप , सपोर्ट ग्रुप तलाशी वाले मकान को कार्डों करेगा या सपोर्ट देगा तथा दूसरा ग्रुप माकन की तलाशी  लेगा !
  • जूनियर लीडर्स , सेक्शन कमांडर तथा प्लाटून कमांडरो को अपने ट्रूप्स को विस्तारपुर्वक ब्रीफ  करना बहुत जरुरी है ताकि वे हर उत्पन्न होने वाले हालत से निपट सके , उन्हें यह भी मालूम होना चाहिए की वे भागते हुए आतंकवादियो के खिलाफ क्या करवाई करनी है !
  • अभियान में जाने से पहले यह यकीनकर लेना चाहिए की सभी ट्रूप्स ने बुलेट प्रूफ जैकेट तथा हेलमेट पहना हुवा है ! यदि बुलेट प्रूफ जैकेट पर्याप्त मात्र में नहीं है तो पहले सर्च पार्टी के जैकेट दिए जाये और शेष कार्डों पार्टी को दिए जाए !
  • अभियान में जाने से पहले पर्याप्त मात्र में ग्रेनेड , स्टन ग्रेनेड स्मोक कंटेनर तथा आसू गैस शेल भी साथ में लेने चाहिए !
  • सर्च करने पहले आतंकवादियो द्वारा लगाई गई माइंस एवं बूबी ट्रूप्स के खिलाफ सावधान रहना चाहिए !
इस प्रकार से कार्डों एंड सर्च क्या होता है से सम्बंधित पहला पोस्ट समाप्त हुवा !उम्मीद है की ये पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और प्रोतोसाहित करे बेहतर लिखने के लिए !

इन्हें  भी  पढ़े :

  1. पेट्रोलिंग और नाईट पेट्रोलिंग और उसके टास्क और नफरी
  2. अम्बुश और काउंटर अम्बुश, अम्बुश का उद्देश्य , अम्बुश का पार्टिया , अम्बुश का टारगेट
  3. सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान
  4. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II
  5. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -I
  6. कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी
  7. पेट्रोलिंग के परिभाषा और पेट्रोलिंग के प्रकार
  8. पेट्रोलिंग पार्टी को ब्रीफिंग देने का तरीका ?
  9. अम्बुश का परिभाषा और अम्बुश की पार्टिया
  10. अम्बुश  की पार्टियो को ब्रीफिंग देने के तरीका

No comments:

Post a Comment