Search

17 November 2021

पुलिस का पॉलीटिकल रैली के समय क्या ड्यूटी होती है

पिछले ब्लॉक पोस्ट में हमने पुलिस को शिकायतकर्ता के साथ कैसे व्यवहार करना चाहिए ! के बारे में जानकारी प्राप्त की थी और अब इस ब्लॉग पोस्ट में हम यह जानेंगे कि पुलिस का पॉलीटिकल रैली के समय क्या ड्यूटी होती है। सीमित साधनों के कारण सरकार जनता के सभी मांगे पूरी नहीं कर सकती है जिसके परिणाम स्वरूप विपक्षी पार्टियां सरकार के खिलाफ जनता के मांगों को लेकर तरह-तरह के सभा और रैलियां करती हैं और रैलियों में सरकार के सामने जनता की मांग रखती है और सरकार के ऊपर दबाव बनाने की की कोशिश करती है ताकि जनता का विश्वास अपने पक्ष में करने की कोशिश करती है। 

इसे  भी  पढ़े :जनसम्पर्क अधिकारी की ड्यूटी करते समय एक सिपाही को ध्यान में रखने वाली बाते

लेकिन बहुताय यह देखा गया है कि ऐसी सभाओं में जिसमें की किसान, विद्यार्थी, मजदूर यदि  अपना आंदोलन या प्रदर्शन करते हैं उन रैलीयो में कई बार कानून व्यवस्था भंग होने का खतरा रहता है ऐसे में कानून व्यवस्था को बनाए रखने का काम पुलिस का होता है और उसी के लिए पुलिस कर्मियों को ऐसी रैली के स्थान पर ड्यूटी के लिए लगाया जाता है। 

Political Rally
Political Rally
राजनीतिक पार्टियों के जुलूस या आंदोलन के दौरान पुलिस बल को निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए :

  • पुलिस को अपने क्षेत्र में आयोजित की जाने वाली सभा / मीटिंग का समय क्षेत्र व उद्देश्य का पूरा ज्ञान होना चाहिए। 
  • राजनैतिक प्रदर्शनों आंदोलन के दौरान स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए उनके नेताओं से बातचीत करनी चाहिए। 
  • मीटिंग के मुख्य द्वार पर सुरक्षा प्रबंध कड़े करने चाहिए। 
  • यदि मीटिंग या  प्रदर्शन किसी दूतावास पर है तो दूतावास के चारों तरफ व्यापक सुरक्षा प्रबंध करना चाहिए।
  • यदि आपातकाल से निपटने के लिए सक्षम पुलिस बल व अन्य सुविधाएं जैसे टियर गैस,  फायर ब्रिगेड यादी का होना भी जरूरी है। 
  • यदि कोई व्यक्ति मीटिंग में जबरन घुसने की कोशिश करें तो उसे  तुरंत गिरफ्तार कर लेना चाहिए। 
  • यदि रैली पर्दोदशर्न दो  विरोधी पार्टियों द्वारा किया जा रहा है तो उनको समझा-बझाकर उनके बीच इतनी  दूरी  रखनी चाहिए ताकि हाथापाई और झगड़े को टाला जा सके!
  • यदि  आंदोलनकारी अपनी गिरफ्तारी देंगे तो पहले से ही पुलिस व्यवस्था होनी चाहिए 
  • यदि कोई मांग पत्र पेश करने के लिए आगे आये  तो उस व्यक्ति की तलाशी लेने के बाद ही आगे आने देना चाहिए। 
  • यदि मीटिंग में महिलाएं एवं बच्चे शामिल है तो महिला पुलिस की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए!
  •  पुलिस को अपने कर्तव्य का पालन में सहस, धरी, और सयम के कार्य करना  चाहिए!

उम्मीद है की उपरोक्त बताये गए पॉइंट आपको ड्यूटी के दौरान कुछ उपयोगी साबित होंगे !!उम्मीद है की यह  पोस्ट आप को पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट होतो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग  सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित !

इन्हें भी  पढ़े :
  1. पुलिस ड्यूटी
  2. फर्स्ट इनफार्मेशन रिपोर्ट में होनेवाली कुछ कॉमन गलतिया
  3. 6 कॉमन गलतिया अक्सर एक आई ओ सीन ऑफ़ क्राइम पे करता है
  4. क्राइम सीन पे सबसे पहले करनेवाले काम एक पुलिस ऑफिसर के द्वारा
  5. बीट और बीट पेट्रोलिंग क्या होता है ?एक बीट पट्रोलर का ड्यूटी
  6. पुलिस नाकाबंदी या रेड् क्या होता है ?नाकाबंदी और रेड के समय ध्यान में रखनेवाली बाते 
  7. निगरानी और शाडोविंग क्या होता है ? किसी के ऊपर निगरानी कब रखी जाती है ?
  8. अपराधिक सूचना कलेक्ट करने का स्त्रोत और सूचना कलेक्ट करने का तरीका
  9. चुनाव के दौरान पुलिस का कर्तव्य
  10. थाना इंचार्ज के चुनाव ड्यूटी सम्बंधित चेक लिस्ट

No comments:

Post a Comment