Advertisement

Search

Tuesday, June 19, 2018

ड्राइव एंड हंट ऑपरेशन के स्टेज-2 की करवाई और पार्टियो का काम

पिछले पोस्ट में हमने ड्राइव एंड हंट ऑपरेशन में स्टेज -1 में क्या करवाई होती है उसके बारे में जानकारी प्राप्त किये ! इस पोस्ट में हम ड्राइव एंड हंट ऑपरेशन के स्टेज -2(Drive and hunt operation ke stage -2 ki karwai) के करवाई के बरेमेंट जानकारी प्राप्त करेंगे  !


जैसे की हम जानते है की ड्राइव एंड हंट ऑपरेशन के कुल तीन स्टेज(Drive and hunt operation me kul stage) होते है जिनमे पहले स्टेज में प्लानिंग , खबरे हासिल करना तथा  एरिया की रैकी तक सिमित रहता है!

 जबकि स्टेज -2 में एरिया को रैकी करने के दौरान  तथा दुश्मन के बारे में जो कुछ भी खबरे हासिल हुई है उनसब को ध्यान में रखते हुए इस ऑपरेशन में शामिल होने वाले जवानों और कमांडर्स को नक्शा के ऊपर ब्रीफिंग दिया जाता है !

जरुर पढ़े :टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II

ब्रीफिंग के दौरान सभी को  एरिया से वाकिफ कराना  , दुश्मन के बारे में जानकारी देना तथा ऑपरेशन में शामिल होने वाले ट्रूप्स की पार्टियो में बाँट करना और ऑपरेशन कैसे अंजाम दिया जायेगा इसके बारे में बताया जाता है !

यनी हम कह सकते है के ड्राइव हंट के स्टेज-2 में नक़्शे पर ब्रीफिंग तथा पार्टियो की बाँट की जाती है और ट्रूप्स को ये बता दिया जाता है की ऑपरेशन के दौरान आपका क्या काम रहेगा !

जरुर पढ़े :टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -I

इस ऑपरेशन के लिए कुल चार पार्टिया होती है जिनका नाम और काम निम्न है(Drive and hunt operation ke parties aur unka kaam )  :
Drive and Hunt Operation ki parties
Drive and Hunt Operation ki parties 
1. ड्राइव पार्टी (Drive Party): यह पार्टी इलाके की बड़ी सावधानी से छानबीन करती है ! उह हमेशा फैलकर यानी एक्सटेंडेड लाइन में और जिम्मेवारी के इलाके को क्लियर करती हुई आगे बढती है !

 इसमें यह जरुरी है की ट्रूप्स का आपस में नजरी मिलाप हो तथा दाहिनी और बाये हदों को हमेशा ध्यान रखा जाए !

2. स्टॉप पार्टी(Stop Party) : यह पार्टी ड्राइव पार्टी द्वारा तलाशी लेने वाले इलाके के दाहिने व बाये तरफ के तरफ के इलाको में लगाई जाती है ! इसमें इस बात का ध्यान रखा जाता है की तलाशी लेने वाला इलाका दोनों तरफ से घिरे जाये और कोई गैप न छूटे ! इसका मुख्य काम विद्रोहियो को दाहिने व बाये से भागने से रोकना है !

जरुर पढ़े :सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान

3. कट ऑफ़ ग्रुप(Cut off group) : इस पार्टी का मुख्य काम मुठभेड़ से बचकर निकल भागने वाले विद्रोहियो के रस्ते को सामने से "कट ऑफ" करना है ! जहा तक मुमकिन  इस टोली के सामने का इलाका (field of fire) बिलकुल साफ होनी चाहिए !

इस पार्टी का फायर पॉवर बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा एल एम् जी डी जाती है , ताकि ज्यादा से ज्यादा इलाका और भागने के रास्तो को प्रभावशाली ढंग से कवर कर सके !

4. रिज़र्व पार्टी(Reserve Party) : इस पार्टी को ऐसी जगह पर लगाया जाता है की जहा से उसे जरुरत पड़ने पर कारगर रूप से इस्तेमाल किया जा सके जैसे की ऑपरेशन से बाख निकले विद्रोहियो के खिलाफ इस्तेमाल किया जा सके !

यदि ऑपरेशन के दौरान किसी गाँव की तलाशी लेनी है तो इस टोली को इस्तेमाल में लाया जा सकता है ! इस अभियान को पूरा करने के लिए कितनी नफरी चाहिए यह उस इलाके पर निर्भर करता है जहा की ऑपरेशन करना है यानी इलाका कितना लम्बा चौड़ा है , घना जन्गालदार या खुला इलाका है !

जरुर पढ़े :अम्बुश और काउंटर अम्बुश, अम्बुश का उद्देश्य , अम्बुश का पार्टिया , अम्बुश का टारगेट

इस प्रकार से ड्राइव एंड हंट के स्टेज-2 की करवाई तथा ड्राइव एंड हंट की  पार्टियो का काम से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुई ! अगले पोस्ट में हम ड्राइव एंड हंट ऑपरेशन के स्टेज -3 के बारेमे जानेगे !म्मीद है की पोस्ट आपको पसंद आएगा ! अगर कोई  या ब्लॉग के बारेमे हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरूर लिखे ! और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक शेयर तहत लिखे करके हमलोगों को प्रोतसाहित करे और अच्छा करने के लिए 


इन्हें भी पढ़े :
  1.  सेक्शन बैटल ड्रिल और उसे सफल बनाने वाली बातें
  2. 4 बाते शत्रु के कारगर फायर के अंदर आने पे करनी चाहिए
  3. 3 तरीके दुश्मन के फायर पोजीशन को पता लगने के
  4. सेक्शन फार्मेशन और सेक्शन फार्मेशन का बनावट
  5. आतंक प्रभावित इलाके में सिक्यूरिटी पोस्ट लगान
  6. रात के संतरी तथा स्काउट की ड्यूटी क्या होता है
  7. फील्ड फोर्टीफीकेसन में इस्तेमाल होने वाले फौजी टेकटिकल शब्दों का क्या मतलब

1 comment:

  1. This is very interesting, You're an excessively skilled blogger.
    I've joined your feed and sit up for in search
    of extra of your magnificent post. Also, I have shared your website in my
    social networks

    ReplyDelete