Search

22 February 2021

ट्रिप फ्लारे का परिचय और उपयोग

पिछले पोस्ट में हमने वैरी लाइट पिस्तौल के बारे में जानकारी प्राप्त की और अब इस पोस्ट में हम ट्रिप फ्लारे (Trip  Flare Mark-1 in hindi )के बारे में जानकारी करेंगे !  

ट्रिप फ्लारे एक तरह का पैरोटेक्निक होता है जो ट्रिप होने पर  लाइट और धुवा  देता है ! यह एक तरह से अग्रणी चेतावनी देनेवाली  डिवाइस है जो की रात  के समय कोई आगन्तु या दुश्मन के  आने पर यह धुवा और प्रकाश के द्वारा अर्ली वार्निंग देता है यह डिवाइस का रंग आस पास के बनावट और कलर के अनुसार ही रहता है जिससे इस डिवाइस को छुपाना आसान होता है  और जैसे ही कोई इसको कॉर्ड को डिसट्रब होता  है प्रेस या लोड रिलीज़ हो जाता है और इसमें रखा हुवा विष्फोटक जल उठता है जिससे यह पता चल जाता है की कोई वह आया है! ट्रीप फ्लेयर पहले वहीं लगाया जाता था जो इलाका घुसपैठ के लिहाज से संवेदनशील हो.
 इन से सम्बंधित कुछ विशेष डिटेल इस प्रकार से है :
Trip Flare
Trip Flare


1. ट्रिप फ्लेर  का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है? 

Ans:-ट्रिप फ्लेर रात के वक्त दुश्मन के आने की खबर तथा पहचान और जिस इलाके में लगाया गया हो उसे रोशन करने के लिए किया जाता है। 

2. ट्रिप फ्लेर कितनी देर तक रोशनी देता है

Ans:ट्रिप फ्लेर 30 सेकंड से 40 सेकंड तक रोशनी देता है।

3.  ट्रिप फ्लेर का वजन कितना होता है

Ans:ट्रिप फ्लेर का वजन 9 या 254 ग्राम होता है। 

4. ट्रिप फ्लेर में हिफाजत के लिए क्या प्रबंध है? 

Ans:- इसमें दो सेफ्टीपिन लगी हुई होती है। 

5.ट्रिप फ्लेरर लगाते समय साइड प्रोग  किस तरफ रखना चाहिए? 

Ans:-अंदर की तरफ रखनी चाहिए 

6.ट्रिप फ्लेर को आर्म्स  करते समय कौन सा पिन निकाला जाता है? 

Ans :-लिंक स्प्रिंग  निकाला जाता है। 

7. डिस आर्म्स  करते समय कौन सा पीन  लगाया जाता है? 

Ans :-ट्रिप फ्लेर पॉट वाली पिन लगाया जाता है। 

8 अगर ब्लाइंड हो जाए तो इसे कैसे बर्बाद किया जाता है? 

Ans :-इसे ड़ेमुलेसन   सेट लगाकर बर्बाद किया जाता है।

9 . ट्रिप फ्लेर कहा बनता है ?

Ans - यह आर्डिनेंस फैक्ट्री में बनता है !

जरुर  पढ़े :SSG-69 राइफल की रख रखाव और सफाई का तरीका

ट्रिप फ्लारे मार्क -1 (Trip Flare Mark-1) अलार्म डिवाइस की तरह इस्तेमाल किया जाता है जो की घुसपैठिओ को अपने एरिया में घुसते ही लाइट और धुवा के द्वारा चेतावनी तथा पहचान बता देता है जिसे घुसपैठिओ के पकड़ने या मर डालने में काफी सुविधा होती है ! यह ज्यादातर एडवांस एरिया में लगाया जाता है ! यह डिवाइस जमीन के सतह के  साथ वायर और पिकेट कर के लगाया जता है जैसे ही कोई घुसपैठिया वायर के कांटेक्ट में आता है यह डिवाइस एक्टिवटे हो जाता है और घुसपैठिये की पहचान हो जाती है जिसे या तो पकड़ लिया जाता है या मर गिराया जाता है !

इसके साथ ही यह एक छोटा सा मेरा ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुई उम्मीद है की आपलोगो को पसंद आएगा !अगर कोई कमेंट होतो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग  को सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित !

इसे भी पढ़े : 
  1. SSG-69 राइफल को भरना और खाली करने का तरीका
  2. SSG-69 राइफल को रेडी, मेक सेफ और खाली कर का तरीक...
  3. 7.62 mm MMG के माउंट ट्राई पोड की करवाई के समय ध्...
  4. 7.62 mm MMG के फायर आर्डर का क्रम और वक्फा के दौरा
  5. 7.62 mm MMG के टारगेट का नाम और MMG में पडनेवाले र...
  6. 7.62 mm MMG को फायर के लिए तैयार करते समय ध्यान मे...
  7. 6 महत्वपूर्ण बाते 84 mm मोर्टार के बारे में
  8. 5 जरुर जाननेवाली बाते 81 mm मोर्टार के बारे में ?...
  9. 81 mm मोर्टार के 10 छोटी छोटी बेसिक बाते
  10. 5 मुख्य बाते 81 mm मोर्टार के फायर कण्ट्रोल से सम

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Add