Search

27 February 2022

पुलिस स्टेशन और पुलिस स्टेशन के कार्य प्रणाली

पिछले ब्लॉक पोस्ट में हमने एच एच एम डी के बारे में जानकारी प्राप्त की थी और इस पोस्ट में हम थाना और थाना की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। 

इस पोस्ट को पढ़ने के बाद हम यह जानेंगे कि कानूनन पुलिस स्टेशन क्या होता है और पुलिस स्टेशन की कार्यप्रणाली सुचारू रूप से चलाने के लिए कौन-कौन से अधिकारी होते हैं। 

1.थाना  क्या होता है(What is police station)? दंड प्रक्रिया संहिता के  धारा 2(घ) के अनुसार पुलिस स्टेशन से अभिप्राय कोई भी चौकी या स्थान से है जिसे राज्य सरकार तथा साधारणतया विशेषता पुलिस थाना घोषित किया गया है। इसके अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा निमित विनिर्दिस्ट  कोई स्थानीय क्षेत्र भी है। 

थाना की कार्यप्रणाली सुचारू रूप से चलाने के लिए निम्न अधिकारी या कर्मचारी कार्य करते हैं ऐसे तो एक पुलिस स्टेशन में बहुत से अधिकारी कार्य करते हैं लेकिन इस ब्लॉग पोस्ट में हम निम्न  पुलिस अधिकारिओ  के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे और  कानूनी रूप क्या है और उनकी प्रमुख ड्यूटिय क्या होती है। 

पुलिस स्टेशन इंचार्ज या एस एच ओ (Police Station in charge/SHO):

Police Station SHO
Police Station SHO

अपराध  दंड प्रक्रिया संहिता के धारा (ण) के अनुसार जो पुलिस का थाना प्रमुख अधिकारी थाना से बीमार या  अन्य कारण से अपने कर्तव्य का पालन करने में असमर्थ हो तथा थाना में उपस्थित ऐसे पुलिस अधिकारी जो थाना प्रमुख से नीचे के पद पर हो और सिपाही से ऊपर के पद पर हो तो राज्य सरकार ऐसा निर्देश दें तब उपस्थित पुलिस अधिकारी थाना प्रमुख होगा। 

थाना प्रमुख की ड्यूटी की क्या होती है(Duty of Police Station incharge) ?: पुलिस स्टेशन इंचार्ज की प्रमुख ड्यूटी है:

  •  कानून व शांति व्यवस्था बनाए रखना। 
  • थाना के कर्मचारियों के अनुशासन बनाए रखना। 
  • अपराधों की रोकथाम। 
  • थाना के तमाम रजिस्टर और कागज पत्र   का ठीक तरह से रखरखाव करना 
  • अपने अधीनस्थ रजिस्टर अधिकारियों या कर्मचारियों को आवश्यक दिशा निर्देश देना तथा वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा पारित आदेशों का पालन करना। 
  • थाना क्षेत्र का महत्व पूर्ण ज्ञान रखना। 
  • जन सहयोग प्राप्त करने के लिए उचित तालमेल रखना। 
  • अधीनस्थ एवं वरिष्ठ अधिकारियों के बीच कड़ी का काम करना। 
  • थाना क्षेत्र के अपराधियों व शरारती तत्वों पर कड़ी नजर रखना। 
  • पड़ोसी थानों से तालमेल रखना व सूचना का आदान प्रदान करना। 
  • हालात के अनुसार प्रत्येक मामले की अन्वेषण पर व्यक्तिगत जानकारी रखना। 
  • थाना के सामान्य कार्य पर व्यक्तिगत नजर रखना 
  • थाना के अन्वेषण को समय पर पूरा करवा कर न्यायालय में भेजना। 
  • थाना कि अन्य एवं लेखा जोखा। 

नोट:थाना पर एक अतिरिक्त थाना प्रमुख की जा रही है जो सभी प्रकार के प्रशासनिक एवं अन्य कार्यों को पूरा करता है! थाना प्रमुख की अनुपस्थिति में मे थाना की पूरी  जिम्मेवारी अतिरिक्त थाना अधिकारी की होती है !

 ड्यूटी ऑफिसर(Police Station Duty Officer): प्रत्येक थाना में एक शिक्षित प्रधान सिपाही या उसे अन्य पद का अधिकारी कर्तव्य अधिकारी की ड्यूटी का निर्वाह करता है जिसका प्रमुख कार्य थाना में प्राप्त होने वाले प्रत्येक संज्ञे और असंज्ञे मामले की सूचना को  लिखना आवश्यकता अनुसार थाना प्रमुख को जानकारी देना होता है। 

ड्यूटी अधिकारी की ड्यूटीया(Police Station Duty Officer):निम्नलिखित कुछ ड्यूटीया है :

  • रोजनामचा लिखना। 
  • ड्यूटी शुरू करने से पहले पूर्व ड्यूटी अधिकारी से सभी आवश्यक बातों और हालातों की जानकारी प्राप्त करना जैसे
    •  एसएचओ व इमरजेंसी अधिकारी का पोजीशन का पता लगाना 
    • हवालात में बंद मुलजिम  के बारे में जानकारी लेना। 
    • कोई विशेष संदेश संदेश पर की जाने वाली कार्रवाई की जानकारी लेना आदि आदि। 
  • थाना में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति व शिकायतकर्ता आदि से नम्रता पूर्वक व्यवहार करना। 
  • संज्ञे अपराध को तुरंत रजिस्टर करना और प्रथम सूचना रिपोर्ट की प्रतिलिपि संबंधित अधिकारियों को भेजना तथा एक प्रति शिकायतकर्ता को निशुल्क देना। 
  • संज्ञे मामलों में शिकायतकर्ता से सदा व्यवहार करना और उसकी लिखी सूचना को लेकर रसीद देना या मौखिक सूचना को  रोजनामचा में लेकर उसकी प्रति देना तथा न्यायालय में जाने की सलाह देना। 
  • यदि मामला है तुरंत  पुलिस का हस्तछेप अनिवार्यता ऐसे स्थान पर पुलिस को मौके पर भेजना।
  • पेसबंदी व रिपोर्ट को लिखकर किसी अनवेषण अधिकारी को देना , तथा उसका निरंतर प्रोग्रेस की जानकारी रखना। 
  • रजिस्टर एमएलसी, मिसिंग पर्सन, विजिटर व शिकायत एनसीआर आदि का पूरा करना वह प्रतिदिन आवश्यक प्रविष्टियां करना तथा समीक्षा हेतु एसएचओ को भेजना। 
  • कानून व्यवस्था धार्मिक राजनैतिक शांति व्यवस्था संबंधी पुलिस प्रबंधन के लिए थाना का पुलिस बल  प्रबंध करना व करवाना तथा समय पर इंतजाम को भेजना। 
  • थाना में आने वाले मैसेज को पढ़ना और समय पर सभी को बताना 
  • एसएचओ की अनुपस्थिति में आने वाले सभी डाक समय पर आवश्यक कानूनी कार्रवाई करना तथा एसएचओ को भी बताना। 
  • थाना की हवालात में कितने अपराधी किस अपराध में किस अधिकारी द्वारा बंद किए गए हैं की जानकारी रखना 
  • अपराधियों की उचित समय पर न्यायालय में पेश करने हेतु आवश्यक दस्तावेज सहित भेजना। 
  • थाना संत्केरी को चेक करना। 
  • थाना के सुरक्षा हेतु लगाए गए संत्री को चेक करना।
  •  रात्रि गश्त नाइट पेट्रोलिंग पार्टी को उचित असला  सहित गश्त गश्त पर  भेजना। 
  • शिकायतकर्ता या अन्य कोई घायल है तो तुरंत अस्पताल भिजवा ना।
इस प्रकार से  पुलिस स्टेशन SHO और पुलिस स्कटेशन के ड्रयूटी ऑफिसर के ड्नेयूटी  से  सम्बंधित  यह ब्लॉग पोस्ट समाप्त हुवा !उम्मीद है की यह  पोस्ट आप को पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट होतो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग  सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित !

इन्हें भी  पढ़े :

  1. पुलिस ड्यूटी
  2. फर्स्ट इनफार्मेशन रिपोर्ट में होनेवाली कुछ कॉमन गलतिया
  3. 6 कॉमन गलतिया अक्सर एक आई ओ सीन ऑफ़ क्राइम पे करता है
  4. क्राइम सीन पे सबसे पहले करनेवाले काम एक पुलिस ऑफिसर के द्वारा
  5. बीट और बीट पेट्रोलिंग क्या होता है ?एक बीट पट्रोलर का ड्यूटी
  6. पुलिस नाकाबंदी या रेड् क्या होता है ?नाकाबंदी और रेड के समय ध्यान में रखनेवाली बाते 
  7. निगरानी और शाडोविंग क्या होता है ? किसी के ऊपर निगरानी कब रखी जाती है ?
  8. अपराधिक सूचना कलेक्ट करने का स्त्रोत और सूचना कलेक्ट करने का तरीका
  9. चुनाव के दौरान पुलिस का कर्तव्य
  10. थाना इंचार्ज के चुनाव ड्यूटी सम्बंधित चेक लिस्ट


No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Add