Sponser


Friday, December 9, 2016

7.62 mm एसएलआर के ज़ेरोइंग करना और ज़ेरोइंग से होने वाले फायदे ?

पिछले पोस्ट में हमने 51 mm मोर्टार के बारे में जानकारी शेयर किये थे इस पोस्ट में हम 7.62 mm एसएलआर राइफल के जिरोइंग और ज़ेरोइंग(SLR ki zering aur zeroing se hone wale fayde) से होने वाले फायदे के बारे में जानकारी शेयर करेंगे !



देखने में आता है की एक फायरर बहुत अच्छा निशाने बाज़ है और फायर के बुनियादी उसूलो को ध्यान में रखते हुए फायर करता है फिर भी गोलियां दुरुस्त निशाने पे न लग कर , ऊपर निचे व दये -बाये लगती है , इसका मतलब है की हथियार में कुछ गलती है इस गलती को दूर करने के लिए राइफल की साईटो को दुरुस्त करने की जरुरत पड़ती है !
जरुर पढ़े :राइफल का ग्रुपिंग क्या होता है और उसका सिधांत
7.62 mm एसएलआर राइफल की ज़ेरोइंग(Rifle ki zeroing kise kahte hai  : ऊपर निचे व दये बाये की गलती को दूर करके , एम्.पी.आई  को दुरुस्त निशाने की जगह पे लेन की करवाई को ज़ेरोइंग कहते है ! 


7.62 mm SLR rifle  zeroing

अगर राइफल से कुछ गोलिओ का ग्रुप फायर किआ जाये तो 2 चीजे जाहिर होती है :

  1. हथियार की गलती  और ,
  2. फायरर की गलती 
ज़ेरिंग का उद्देश्य केवल और केवल हथियार की गलती को दूर करना है !एक फायर 7.62 mm राइफल से 20" ऊपर , निचे(Elevation) तथा 30" दाहिने-बाये(deflection) की गलती को दुर कर सकता है !

7.62 mm एसएलआर राइफल की ज़ेरोइंग  के फायदे (Rifle ke zeroing se hone wale fayde):
 जिरोइंग के मुख्य फायदे इस प्रकार से है :
  1. जिरोइंग कर लेने पर फायरर  को अपने हथियार पर भरोषा हो जाता है !
  2. एक गोली एक दुश्मन का मुद्दा हासिल किआ जा सकता है !
  3. वार्षिक फायर  या किसी प्रतियोगिता के  दौरान अच्छा नतीजा हासिल किआ जा सकता है !

7.62 mm एसएलआर राइफल की ज़ेरोइंग  कब कब करनी चाहिए ?(Rifle ki zeroing kab kab karni chahiye):
राइफल का ज़िरोइंग इन मौको पे जरुर करा लेनी चाहिए :
  1. जब नई राइफल मिली हो (Whne a new rifle is issued from Ordinace factory )
  2. जब राइफल के मार में फर्क या शक पैदा हो जाये !(When rifle fire inaccurately)
  3. बड़ी मरम्मत यानि बैरल बदली होना या स्टॉकिंग की बदली के बाद !after major repair)
  4. जब राइफल एक जवान से दुसरे जवान को दी गई हो क्यों की हर जवान की पकड़ , शिस्त और ट्रिगर दबाने की करवाई अलग अलग होती है !(when rifle handed/ taken over from one jawan to other)
  5. सालाना फायर करने से पहले !(Before annual firing)
  6. उचाई वाले स्थान पे जाने के बाद और उतरने के बाद !(Before going or after coming from high altitude)
  7. लड़ाई में जाने से पहले !(Before going any operation)

इस प्रकार से 7.62 राइफल के ज़ेरोइंग क्या है उसके फायदे तथा ज़ेरोइंग कब कब की जाती है उसके बारे में हमने जानकारी हासिल की उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा !अगर इस पोस्ट तथा इस ब्लॉग के बारे में कोई कमेंट या सुझाव हो तो निचे लिखे कमेन्ट बॉक्स में जरूर  दे !ब्लॉग को  सब्सक्राइब और अपने दोस्तों के बिच भी फेसबुक के ऊपर शेयर  कर हमलोगों को सपोर्ट  करे !

इसे भी पढ़े :
  1. 7.62mm SLR का निरिक्षण के लिए जाँच शाश्त्र की करवाई और अहमियत
  2. 7.62 mm एसएलआर को खोलना , जोड़ना और मग्जिन को खोलना जोड़ना !
  3. 7.62mm SLR सफाई करने का सामान और सफाई करने का तरीके
  4. 9mm कार्बाइन मशीन को खोलना जोड़ना और टेस्ट ?
  5. 9 mm कार्बाइन की सफाई और रख रखाव का तरीका
  6. 9mm कार्बाइन के मगज़ीन को भरना खाली करना , 
  7. कार्बाइन को भरना खाली और फायर करने का तरीका
  8. 5.56 mm INSAS Rifle के सिंगल शॉट ट्रिगर मेचानिज्म और पार्ट्स के नाम
  9. इंसास राइफल से दुरुस्त शिस्त लेने का तरीका और शिस्त लेते समय होने वाले कुछ कॉमन गलतिया
  10. इंसास एलेमजी को खोलना जोड़ना और उसके पार्ट्स का नाम

No comments:

Post a Comment

Addwith