Sponser

Search

Winter Clothing

Thursday, March 5, 2020

कितना खतरनाक है कॅरोना वायरस - एक पुलिसमैन के परिपेक्ष में

दोस्तों, कल मै एक पोस्ट कॅरोना वायरस के बचाव के सम्बन्ध में लिखा था जिसका व्यू बहुत ज्यादा मिला और बहुत से लोग तरह  तरह  के सवाल कर रहे है  तो मै भी सोचा की क्यों नहीं  जितने भी महामारी  बीमारी आये थे उनके बारे में जानकारी इकठ्ठा कर के तुलनात्मक विश्लेषण किया और उसमे यह पाया की मृत्यु दर और सब बिमारिओ में थे उनसे बहुत ही काम मृत्युदर कॅरोना से है !  
कुछ बिमारिओ का मृत्युदर कॅरोना  से भी ज्यादा था वह इस प्रकार से है :

  • 2003 सारस (SARS ) मोरटैलिटी  रेट (Mortality Rate)  -10 % प्रभावित कुल 26  देश 
  • 2009  स्वाइन फ्लू  मोरटैलिटी  रेट (Mortality Rate)-4. 5 % प्रभावित 5  करोड़ से ज्यादा 
  • 2014  इबोला (EBOLA ) मोरटैलिटी  रेट (Mortality Rate)-25 % जिससे 11 310  आदमी  मरे 
  • 2020  कोरोना वायरस मोरटैलिटी  रेट (Mortality Rate)-2 % अभी तक 3052  आदमी मरे !
इतना कम होने के बाद भी क्यों इतना हल्ला हो रहा है और लोगो में भय उत्पन्न हो रहे है ! इसके बहुत से कारन है जिसमे एक व्यावसायिक लाभ उठाने का भी कारन हो सकता है ! वर्ल्ड शेयर मार्किट में भारी गिरावट देखी जा रही है जो व्यावसायिक लाभ उठाने के कारन को पुख्ता कर रहा है !

 विश्व स्वास्थ्य आर्गेनाईजेशन ने भी एक डरावना नाम इसे दे दिया Covid-19.! और भी कुछ सोशल मीडिया के ऊपर सेन्सलाइजेसन किया जा रहा है  क्यों की :
  • 2003  सारस  के दौरान फेसबुक नहीं था  2009  स्वाइन फ्लू के दौरान फेसबुक १५० मिलियन लोग जुड़े थे 
  • 2014  इबोला  के दौरान व्हाट्सप्प पे केवल 45  करोड़ लोग ही जुड़े थे 
  • जबकि 2020  Covid -19  व्हाट्सप्प पे 2 बिलियन और फेसबुक पर 1.69 बिलियन  लोग जुड़े 
ये जो 3  बिलियन लोग सोशल मीडिया पे जुड़े है यह उसका कमाल है की हम हर चीज को बढ़ा चढ़ा कर  बना देते है जिससे लोगो का अपना अपना व्यू बढ़ा चढ़ा कर बता रहे है ! और वही  बाते  कॅरोना  वायरस के केस में भी हो रहा है ! ऐसा नहीं है की इस  वाली बाते नहीं है लेकिंग हमे इससे इतना भी नहीं डरना है बल्कि जो एहतियात डॉक्टर बता रहे है उसको अनुसरण करना है और स्वास्थ्य रहना है !

यह पोस्ट मुझे यहाँ इसलिए लिखना पड़ा की हमलोग पुलिस में काम करते है और इस समय जब की सरकार स्कूल कालेज और मार्किट बंद हो रहे है और लोग अपना मूवमेंट काम कर रहे है जब की पुलिस का काम है की पब्लिक से डील  करना तथा भीड़ भाड़ इलाको में ड्यूटी करते करते है तो पोलिसवाले के मन में तो नहीं पर उनके परिवार के मन में कुछ भय उत्पन्न हो रहा है उसको दूर करने के लिए यह एक तुलनात्मक  विवरण रखने का कोसिस किया हु!

 उम्मीद है की आप लोगो को  लाभदायक जानकारी होगी पढ़ने के बाद ! अगर यह पोस्ट पसंद आये तो मेरे ब्लॉग को सब्सक्राइब करे और मेरे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे !इस ब्लॉग  को सब्सक्राइब औत फेसबुक पर लाइक करे और हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित!

No comments:

Post a Comment