Sponser


Thursday, June 2, 2016

INSAS LMG को फिक्स्ड लाइन पे लगाने का तरीका तथा एलेमजी के साथ आने वाले सामान

हम पिछले पोस्ट में इंसास एलएमजी के खोलना, जोड़ना तथा इसके पार्ट्स के बारे में जानकारी हासिल किये है ! इस पोस्ट में हम इंसास एलेमजी के साथ आने वाले  एक्सेसरीज  तथा   इंसास एलेमजी के फिक्स्ड लाइन पे लगाने के तरीका जानेगे  !




                      जरुर पढ़े : ओब्जेक्टी प्रस्नोतर एलेमजी के बारे में 
एलेमजी एक सेक्शन का बहुत ही अहम् हथियार होता है  और इसका फायर पॉवर इतना होता है की अगर तीन एलेमजी को सही जगह पे लगा दिया जाय य और अमुनिसन की सप्लाई ठीक रहे तो तीन एलेमजी एक कंपनी की एडवांस को आगे बढ़ने  से रुकने पे मजबूर कर सकता है !
5.56 mm INSAS LMG
INSAS LMG 
 इसी लिए इसकी अहमियत को देख  कर ,ये जरुरी है एक आर्म्ड फ़ोर्स के सभी जवान इसके चलने और इसके फिक्स्ड लाइन में लगाने के बारे में जानते हो ! इसलिए इसकी कंपनी, प्लाटून और सेक्शन के स्तर पर हमेशाहैंडलिंग प्रैक्टिस कराया जाता है !


7.62 mm एलेमजी को रिप्लेस करने के लिए 5.56 mm इंसास एलेमजी  लोकल पुलिस में भी अपनाया जारह है और भारतीय आर्म्ड फ़ोर्स तो इसे बहुत पहले ही अपना लिए है ! इस एलेमजी के साथ आने वाली एक्सेसरीज इस प्रकार से है :

  • मजल कवर 
  • बी ऍफ़  ए(Blank firing adaptor)
  • स्लिंग 
  • डे लाइट टेलीस्कोपिक साईट (day light telescopic sight )
  • पैसिव नाईट साईट (Passive night sight )
  • बीएलएस 
  • मोनोपोड़(Mono pod)

मोनोपोड़  एलेमजी के एक्सेसरीज  के साथ आता है जीसके मदद से इंसास एलेमजी को फिक्स्ड लाइन पर लगाया जाता है ! मोनोपोड़ के पार्ट्स इस प्रकार से होते है :
  • एलिवेशन ड्रम 
  • लीफ स्प्रिंग 
  • स्लीव और पिन 
  • शू 
  • स्पाइक 
  • प्लास्टिक ग्रिप 
जैसे की हम जानते है की एलेमजी के हैंडल करने के लिए दो जवान होते है जिन्हें एलेमजी नॉ -एक और         एल एल जी  नॉ -दो  बोला जाता है ! मोनोपोड़ के लगाने की जिम्मेवारी एलेमजी नॉ-एक की होती है !

      जरुर पढ़े : इंसास राइफल के  डे लाइट टेलीस्कोपिक और पैसिव साईट के बारे में जानकारी

मोनोपोड़ लगाने का तरीका 

  • सबसे पहले एलेमजी को फिक्स्ड लाइन के दिशा में करें !
  • मोनोपोड़ का स्लीव से पिन को निकाले !
  • स्लीव को रियर लग में फिक्स करें और पिन को लगायें !
  • मोनोपोड़ की वजन के वजह से एलेमजी स्थिर रहेगी !
  • मोनोपोड़ के एलिवेशन ड्रम की मदद से एलेमजी को ऊपर निचे की  80 mm तक की हरकत दी जा सकती है !
फिक्स्ड लाइन क्या है : फिक्स्ड लाइन किसी भी ऑटोमाटिक हथियार को फिक्स्ड लाइन पर ले तब मन जाता है जब वोह ख़राब मौसम, रात , कम रोशनी, धुंध या धुएं की स्तिथि में पहले से निर्धारित दिशा में फायर करने की काबिलियत रखता हो !

                             जरुर पढ़े :  इंसास राइफल के चाल


इंसास एलेमजी का फिक्स्ड लाइन का चुनाव कैसे करे : डिफेन्स में एलेमजी का प्रिमारी टास्क पड़ोसी सेक्शन के दिफेंडेड पोस्ट की सुरक्षा करना होता है ! इस लिए एलेमजी को इसप्रकार से ले किया जाय की दोनों सेक्शन म्यूच्यूअल सपोर्ट में हो जिससे की दुश्मन को किसी भी पोस्ट पे जाने से पहले दो एलेमजी के फायर से गुजरना पड़े !

फिक्स्ड लाइन का फायर पडोसी सेक्शन के जितने नजदीकसे गुजरेगा उतना ही कारगर होगा ! लेकिंन इसमें कम से कम 5 डिग्री का सेफ्टी एंगल रखना जरुरी है ! 700 मीटर से ज्यादा की दुरी के टारगेट के ऊपर एलेमजी को फिक्स्ड लाइन पे ले नहीं करना चाहिए क्यों की 700 मीटर के बाद गोलियों की त्रजेक्टोरी 4.5 फीट से ज्यादा बनता है इसलिए इस दुरी  पे दुश्मन हल्का सा झुक कर भी गोली के मार से बच सकता है


अगर मोनोपोड़ नहीं है तो इंसास एलेमजी को कैसे फिक्स्ड लाइन पे लगाया जा सकता है ? अगर मोनो पद नहीं है तो भी सैंड बैग या किशी और बस्तु को एलेमजी की बुत पे लगर कर उचित स्थिरता और एलिवेशन प्रदान  कर एलेमजी को फिक्स्ड लाइन पे लगाया जा सकता है !

इसप्रकार से इंसास एलेमजी को हम फिक्स्ड लाइन पे लगा सकते है ओ मोनोपोड़  के सहायता से या बिना मोनोपोड़ !

Download pdf version of "INSAS LMG ko fixed line par lagana ttha iske sath aane wali accessories "

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...