Sponser


Saturday, April 29, 2017

रात के संतरी तथा स्काउट की ड्यूटी क्या होता है

पिछले पोस्ट में हमने आतंकवाद प्रभावित इलाके में सिक्यूरिटी पोस्ट लगाने के बारे में जानकारी शेयर किया था इस पोस्ट में हम रात के संतरी की ड्यूटी तथा स्काउट्स की ड्यूटी (Night sentry ka duty ttha scounts ki duties)के बारे में जानकारी प्राप्त करे गे !


चाहे ओ नार्मल ड्यूटी एरिया एरिया हो या आतंवाद प्रभावित एरिया हो सभी जगहों पे सन्तरी ड्यूटी और स्काउट्स ड्यूटी का अपना बहुत ही अहमियत रहता है ! इसीलिए ये हर एक जवान को मालूम होना चाहिए की संतरी या स्काउट की ड्यूटी क्या होती है !

जरुर पढ़े : सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान

इस दोनों ड्यूटी का अहमियत इस लिए ज्यादा रहता है की किसी भी चनसे एन्कौतेर में सबसे पहले जो दुश्मन या आतंकवादी से सामना किसी पोस्ट पे होतो संतरी से और यदि पेत्रोल्लिंग में हो तो स्काउट्स से ही पहला सामना होता है और यदि ये दोनों जवान अपनी ड्यूटी अच्छी तरह से जानते है हो इसमें कोई शक  नहीं है  की हम अपने दुश्मन को मार गिराए बिना अपना नुकशान किये!

इस पोस्ट में हम इन विषयों के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे :
Scout
Scout(Pratikatmak)

  1. रात के संतरी को ड्यूटी के दौरान ध्यान में रखने वाली बाते (Night santry ko duty ke dauran dhyan me rakhne wali bate)
  2. एक अच्छे स्काउट में कौन कौन से सिफते होनी चाहिए ?(Ek achchhe scount me kaun kaun sa shifte honi chahiye)





जरुर पढ़े : टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II

1. रात के संतरी को ड्यूटी के दौरान ध्यान में रखने वाली बाते (Night santry ko duty ke dauran dhyan me rakhne wali bate): एक संतरी की ड्यूटी को सूची बद्ध नहीं किया जा सकता है क्यों की आज के बदले माहौल में पता नहीं दुश्मन की रूप में आजाये लेकिंग अगर संतरी चौकस है और अच्छी सिखलाई पाए हुए है तो ओ किसी भी परिस्थिति का सामना सक्षम पूर्व कर सकता है : कुछ मोटीटी बाते जो की एकअत केन्त्री को अपने ड्यूटीनe जैसे की :
  • अपनी देखभाल का इलाका मालूम हो 
  • आने वाले के साथ क्या करवाई करनी है यह मालूम हो 
  • दुश्मन किस तरफ है और किस तरफ से आ सकता है ये मालूम होना चाहिए 
  • आप-पास अपनी पोस्ट किस तरफ है या कोई और सिक्यूरिटी फ़ोर्स का पोस्ट की तरफ है !
  • इलाके के मशहूर निशान कौन कौन से है 
  • अपनी पट्रोल की पूरी जानकारी होनी चाहिए 
  • अगर रात के लिए कोई पासवर्ड मुकरर किया गया हो तो उसे मालूम होना चाहिए 
  • रात में आने वाले व्यक्तिओ को सर्च कैसे किया जायेगा या थम कैसे पूरा जायेगा सब मालूम होना चाहिए 
  • डिफेंसिव फायर खोलने का सिग्नल क्या है !
  • संतरी बदली के समय नए संतरी को पूरी बाते बता देनी चाहिए !

2. एक अच्छे स्काउट में कौन कौन से सिफ्ते होनी चाहिए ?(Ek achchhe scount me kaun kaun sa shifte honi chahiye): एक पेट्रोलिंग पार्टी में  स्काउट का ड्यूटी करने वाले जवान की एक अपनी अहमियत होती है वह एक अर्ली वार्नि का काम करता है और दुश्मन से पहला मिलाप उसी का होना का संभावना रहता है ! इसलिए किसी जवान को स्काउट ड्यूटी के लिए डिटेल करते समय कमांडर को ये देखलेना चाहिए की क्या उस जवान जिसे स्काउट बनाया जा रहा है उनसे निम्न सिफ्ते है :
  • पहल करने वाला  हो 
  • जमीन का सही इस्तेमाल करना जनता हो 
  • अच्छी फायरिंग पोजीशन चुनना जनता हो 
  • फील्ड सिग्नल के बारे में जानकारी रखता हो 
  • अच्छा निशाने बाज  हो 
  • अच्छी याददास्त वाला हो ! यदि 

इस प्रकार  से यहाँ नाईट संतरी का ड्यूटी के समय ध्यान में रखने वाली बाते तथा स्कोउन्ट्स की सिफ्ते से सम्बंधित संक्षिप्त  पोस्ट समाप्त हुई! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट में तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे !
इन्हें भी पढ़े :
  1. सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान
  2. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II
  3. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -I
  4. कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी
  5. पेट्रोलिंग के परिभाषा और पेट्रोलिंग के प्रकार
  6. पेट्रोलिंग पार्टी को ब्रीफिंग देने का तरीका ?
  7. अम्बुश का परिभाषा और अम्बुश की पार्टिया
  8. अम्बुश  की पार्टियो को ब्रीफिंग देने के तरीका
  9. फायर कण्ट्रोल आर्डर और फायर डिसिप्लिन क्या है ?

आतंक प्रभावित इलाके में सिक्यूरिटी पोस्ट लगान

पिछले पोस्ट में  हमने सेक्शन फार्मेशन की बनावट के बारे में जानकारी शेयर किए इस पोस्ट में हम आतंक प्रभावित इलाको में सिक्यूरिटी पोस्ट स्थापित(Atank prabhawit ilake me security post sthapit karna) कैसे किया जाय इस के बारे में जानकारी शेयर करेंगे


ये हर राज्य की जिम्मेवारी है की ओ अपने राज्य में सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखे जिसके लिए ओ पाने पुलिस बल का उपयोग शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रो में पुलिस स्टेशन था सिक्यूरिटी पोस्ट को स्थापित कर के करती है  लेकिंन कभी कभी हालत बिगड़ने  पर या आतंकवाद पनपने पे आर्म्ड फ़ोर्स के जवानों को भी आतंक प्रभावित क्षेत्रो में तैनाती की जाती है  जिसके लिए सुरक्षा बल के उस एरिया में अपना सिक्यूरिटी पोस्ट स्थापित करना पड़ता है !
जरुर पढ़े : सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान

सुरक्षा बल आतंकवाद का स्तर , आतंकवादियो की इलाके में संख्या व सुरक्षा बालो की उपलब्धता को ध्यान में रखते हुए सिक्यूरिटी  पोस्ट को स्थापित करते है

इस पोस्ट में आप निम्न विषयों के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे :
Security post
Security post (Pratikatmk)

  1. आतंक प्रभावित इलाको में सिक्यूरिटी पोस्ट स्थापित क्यों किया जाता है ?(Aatank prabhawit ilake me security post kyo sthapit kiya jata hai)
  2. सिक्यूरिटी पोस्ट के कार्य (Aatank prabhawit ilake  Security post ka kya kary rahta hai)
  3. सिक्यूरिटी पोस्ट के लिए जगह का चुनाव में सावधानिया (Aatank prabhawit ilake me security post jagah chunte samay kya sawdhaniya bartni chahiye)
  4. सिक्यूरिटी पोस्ट को स्थापित करते समय ध्यान में रखने वाली बाते(Aatank prabhawit ilake me security post sthapir karte samy dhyan me rakhne wali bate) 
  5. सिक्यूरिटी पोस्ट को पकड़ने का तरीका (Aatank prabhawit ilake me security post pakdne ke tarike)
  6. सिक्यूरिटी पोस्ट की सुरक्षा के लिए ध्यान में रखने वाली बाते (Aatank prabhawit ilake me security post ki suraksha ke liye dhyan me rakhne wali bate)
  7. सिक्यूरिटी पोस्ट के खतरे (Aatank prabhawit ilake  me security post ke liye khatre)
  8. सिक्यूरिटी पोस्ट के खतरे को कम करने के उपाय (Aatank prabhawit ilake  me security post ke khatre ko kam karne ka tarika)
  9. सिक्यूरिटी पोस्ट के दिन चर्या (Aatank prabhawit ilake  me security post ke daily routine)

1. आतंक प्रभावित इलाको में सिक्यूरिटी पोस्ट स्थापित क्यों किया जाता है ?(Aatank prabhawit ilake me security post kyo sthapit kiya jata hai):कुछ एक निम्न कारन है :
  • आतंकवादियो का आम लोगो तक पहुच को रोकना 
  • आतंकियो के स्वतंत्र हरकत को रोकना 
  • आम जनता में सुरक्षा का भावना पैदा करना 
  • सरकारी सम्पति का रक्षा करना 
  • आतंकवादियो को पकड़ना तथा उनको खत्म करना 
  • कानून की शासन को स्थापित करना यदि 
2.सिक्यूरिटी पोस्ट के कार्य (Aatank prabhawit ilake  Security post ka kya kary rahta hai): निम्न कार्य है 
  • एरिया को डोमिनेट करना 
  • जिम्मेवारी के इलाके में प्रभावी तरीके से ऑपरेशन चालना 
  • किसी खास इलाके , घर , क़स्बा या गाँव पर नजर रखना या देखभाल करना 
  • आतंवादियो पर दबाव बनाना 
  • आम जनता में सुरक्षा की भावना पैदा करना 
  • आतंकवादियो का आम जनता से मेल मिलाप को रोकना 
  • कानून व्यवस्था को बनाये रखने के लिए सरकारी एजेंसी की सहायता करना 
  • देखभाल व फायर से इलाके में गस्त करने वाली पार्टियो को मदद करना 
  • आम लोगोके दिलो दिमाग को जितना !

3. सिक्यूरिटी पोस्ट के लिए जगह का चुनाव में सावधानिया (Aatank prabhawit ilake me security post jagah chunte samay kya sawdhaniya bartni chahiye)सिक्यूरिटी पोस्ट की जगह का चुनाव बहुत ही सावधानी पूर्वक करनी चाहिए ! यह कमांडर की सुझबुझ पर निर्भर करता है की जगह ऐसी चीनी जाय की चारो और से सुरक्षित हो तथा देखभाल किया जा सके ! सिक्यूरिटी पोस्ट को टास्क को ध्यान में रखते हुए की खली माकन, बंद स्कूल भवन या किसी अन्य सार्वजनिक भवन में स्थापित किया जा सकता है लेकिंग स्थापित करते समय इन बातो का ध्यान रखना चाहिए!:
  • ग्रामीण इलाको में गाँव के बहार पर गाँव से नजदीक हो 
  • शहरी इलाको में जहा आतंकी प्रवृति के लोग हो तो आबादी के बीच हो 
  • आम तौर पे ऐसी जगह पे हो तो एरिया को डोमिनेट करता हो !
  • पानी और रोड हेड के नजदीक हो 
  • जिमेवारी के इलाके के बीच हो और दूसरी पोस्टो के नजदीक सपोर्ट में हो !
4. सिक्यूरिटी पोस्ट को स्थापित करते समय ध्यान में रखने वाली बाते(Aatank prabhawit ilake me security post sthapir karte samy dhyan me rakhne wali bate) : सिक्यूरिटी पोस्ट ऐसा जगह पर हो 
  • टास्क पूरा किया जा सके 
  • फील्ड ऑफ़ फायर साफ हो 
  • आसपास के इलाके में कोई उची ईमारत या हाई ग्राउंड नही होना चाहिए अगर है तो उसे डोमिनेट किया जाय !
  • सिक्यूरिटी पोस्ट के आस पास 300 गज तक पूरी तरह चेक किया जाये 
  • आदमियो व गाडियो के लिए प्राप्त जगह हो 
  • पोस्ट में आने जाने का रास्ता एक ही होना चाहिए 
  • आतंकवादियो के मौजूदा खतरे से बचाव हो 
  • इलाके में सक्रीय आतंकवादियो के काबलियत व उनके काम करने का तरीका 
  • आसपास के लोगो का दृष्टिकोण 
  • संत्री लगाने का समुचित जगह 

5.सिक्यूरिटी पोस्ट को पकड़ने का तरीका (Aatank prabhawit ilake me security post pakdne ke tarike):
  • आतंकवाद ग्रस्त इलाके में जाने से पहले उस इलाके की जानकारी ले ली जाये 
  • सिक्यूरिटी पोस्ट को पकड़ने के सिद्धांत आमतौर पर डिफेंस की तरह ही है ! सिवाय कुछ फर्क इलाके तथा तैनाती के स्थान पर निर्भर करता है !
  • आमतौर पर सिक्यूरिटी पोस्ट को दिन के वक्त पकड़ना चाहिए लेकिंग पोस्ट को पकड़ने का समय इस बात पर निर्भर करेगा की जनता का व्यवहार , हालत, असामाजिक तत्वों  के काम करने का तरीका और आमतौर पर इलाके के हालत कैसे है !
  • पोस्ट पकड़ने से पहले अच्छी तरह से चेक किया जाये तथा धोखा देने का योजना भी बने जाये ! 
  • पोस्ट उसी समय पकड़ा जाय जब सुरक्षा का पूरा प्रबंध हो !

6. सिक्यूरिटी पोस्ट की सुरक्षा के लिए ध्यान में रखने वाली बाते (Aatank prabhawit ilake me security post ki suraksha ke liye dhyan me rakhne wali bate): सिक्यूरिटी पोस्ट की सुरक्षा केलिए कुछेक सुझाव इस प्रकार है:
  • सभी आने जाने वाले रास्तो पे संतरी लगाये जाय 
  • पोस्ट के चारो ओर पैरामीटर फेंसिंग लगायी जाये 
  • पैरा मीटर पेट्रोलिंग की जाये 
  • अलार्म सिस्टम हो 
  • आस पास तथा बिल्डिंग के साथ वाला इलाका जहा से किसी प्रकार का अटैक का संभावना हो वह समुचित लाइट का प्रबंध हो और साथ ही वह संत्री हो 
  • कम से कम एक एलेमजी पोस्ट किसी ऊँची जगह या छत पर बनायीं जाय जो जरुरत पड़ने पर फायर डाल सके तथा अतंकवादियो के  फायर को  बेअसर कर सके !
  • अनधिकृत व्यक्तिओ के प्रवेश पर पाबन्दी हो 
  • गेट पर प्रभावी व्यवस्था हो 
  • गेट पर चेच्की की व्यवस्था हो 
  • किसी भी ब्यक्ति  को बिना ड्रेस, हथियार तथा बिना सुरक्षा के पोस्ट से बहार न जाने दिया जाये 
  • वाटर पॉइंट , कुक हाउस गाडियो की पार्किंग सुरक्षित इलाको में होनाचाहिए 
  • किसी भी हालत से निपटने के लिए पर्याप्त मात्र में बंकर व फायर ट्रेंच का निर्माण किया जाये 
  • किसी भी अचानक होने वाले खतरे से बचने के लिए समय समय पर स्टैंड टू की कारवाही की जाय !
  • पोस्ट के आस पास वर्दी में हरकत करने वाले व्यक्तिओ को चेक किया जाए तथ पहचान की जाए !
  • सिक्यूरिटी पोस्ट किसी ईमारत में लगाया गया हो तो किसी दूसरी संस्था के साथ बनता न जाये ऐसा करने से सिक्यूरिटी पोस्ट को खतरा हो सकता है !
  • कंटीजेंसी प्लान बनाया जाय !यदि 

7. सिक्यूरिटी पोस्ट के खतरे (Aatank prabhawit ilake  me security post ke liye khatre): एक सेकुरिति पोस्ट को निम्न कुछ खतरे हो सकते है :
  • आतंकवादियो द्वारा की जाने वाली रेड तथा हमले 
  • राकेट अटैक 
  • ग्रेनेड फेकना तथा अंधाधुंध फायरिंग 
  • आत्मघाती हमले तथा बारूद से भरे बहन 
  • पोस्ट को विस्फोटक द्वारा उड़ा देना 
8.सिक्यूरिटी पोस्ट के खतरे को कम करने के उपाय (Aatank prabhawit ilake  me security post ke khatre ko kam karne ka tarika): कुछ एक निम्न उपाय है ! जैसे :
  • जिम्मेवारी के इलाके का गहन पेट्रोलिंग 
  • पोस्ट के चारो तरफ से ओफेंसिव तथा मजबूत डिफेन्स 
  • अर्ली वार्निंग सिस्टम 
  • पकडे गए आतंकवादियो के खिलाफ सही कारवाही 
  • आक्रामक एवं योजना बद्ध अभियान 
  • आतंकवादियो के गतिबिधियो पर दबाव बनाये रखना 
  • प्रभावी तथा मजबूत ख़ुफ़िया तंत्र 
  • प्रभावी संचार  व्यवस्था 
  • जवानों के उच्च  मनोबल व उच्च  सिखलाई का दर्जा 

9. सिक्यूरिटी पोस्ट के दिन चर्या (Aatank prabhawit ilake  me security post ke daily routine): सिक्यूरिटी पोस्ट की दिनचर्या इस प्रकार हो की जवान लम्बे समय तक एक ही इलाके में सुस्त न हो जिससे आतंकवादी इसका फायदा न उठा सके ! इसके लिए कुछ निम्न सुझाव दिए गए है :
  • स्टैंड टू 
  • इलाके की लगतार देखभाल 
  • संत्री की बदली पर जाने का समय व इलाका 
  • पोस्ट की सुरक्षा के प्रबंध 
  • रेडियो कम्युनिकेशन का कण्ट्रोल तथा जो ट्रूप्स ऑपरेशन में है उनके साथ मिलाप बनाये रखना 
  • जवानों की समय समय पे ब्रीफिंग 
  • हथियार , अम्मुनिसन तथा इक्विपमेंट का रख रखाव 
  • आराम का तरीका 

एक सिक्यूरिटी  पोस्ट की उपयोगिता तभी मानी जाएगी जब वह आम लोगो में सुरक्षा की भावना पैदा कर सके और दिए टास्क को सफलता पूर्वक पूरा कर सके !इस प्रकार से आतंकवाद प्रभावित अरे में सिक्यूरिटी पोस्ट स्थापित करसे से सम्बंधित एक संक्षिप्त पोस्ट समाप्त हुई !

उम्मीद  है की ये पोस्ट पसंद आएगा  अगर कोई सुझाव होतो निचे के कमेंट बॉक्स में पोस्ट करे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को प्रोतोसाहित करे !
इन्हें भी पढ़े :
  1. सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान
  2. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II
  3. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -I
  4. कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी
  5. पेट्रोलिंग के परिभाषा और पेट्रोलिंग के प्रकार
  6. पेट्रोलिंग पार्टी को ब्रीफिंग देने का तरीका ?
  7. अम्बुश का परिभाषा और अम्बुश की पार्टिया
  8. अम्बुश  की पार्टियो को ब्रीफिंग देने के तरीका
  9. फायर कण्ट्रोल आर्डर और फायर डिसिप्लिन क्या है ?

सेक्शन फार्मेशन और सेक्शन फार्मेशन का बनावट

पिछले पोस्ट में हमने आतंकवादियो की क्रिया कलाप के बारे में जानकरी हासिल की इस पोस्ट में हम सेक्शन फार्मेशन के बनावट(Section formation aur section formation ka banawat) के बारे में जानकारी शेयर कर्रेंगे :


जैसे की हम जानते है की के कमांडर को इस काबिल होना चाहिए की अपनी सेक्शन को जमीन तथा हालत या दुश्मन के फायर के निचे आने पर ऐसी फार्मेशन अख्तियार करवाए जिससे हमारा कम से कम नुकशान हो तथा हम दुसमन पर असरदार फायर डालकर उसे बर्बाद कर सके !

जरुर पढ़े : सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान

सेक्शन को लचकदारहोना चाहिए एवं जमीन तथा हालत के मुताबिक फार्मेशन बदली करने में माहिर होना चाहिए ! इस कम में काबिलियत हासिल करने  उत्तम सिखलाई तथा अभ्यास की जरुरत पड़ती है

इस पोस्ट में हम इन विषयों की जानकारी प्राप्त कर्नेगे
  1. सेक्शन या प्लाटून फार्मेशन किसे कहते है ?(Section ya platoon formation kise kahte hai)
  2. सेक्शन और पलटन फार्मेशन की बनावट (Section aur platoon formation ka banawat)
1. सेक्शन या प्लाटून फार्मेशन किसे कहते है ?(Section ya platoon formation kise kahte hai)लड़ाई के मैदान में या किसी शाकिया इस्लाके की छान बिन करते समय या दुशमन से लगाव का अंदेशा होने पर मौके के अनुसार  सेक्शन या पलटन के हिट के लिए जो फार्मेशन अख्तियार की जाती है उसे सेक्शन या प्लाटून फार्मेशन कहते है

जरुर पढ़े : टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II

2.सेक्शन और पलटन फार्मेशन की बनावट (Section aur platoon formation ka banawat)सेक्शन फार्मेशन 6 तथा प्लाटून फार्मेशन 3 प्रकार के होते है और उनका  बनावट  इस प्रकार से होता है !
(i) सेक्शन फार्मेशन 
(a) सिंगल फाइल  फार्मेशन (Single file foramtion)
सिंगल फाइल फार्मेशन
सिंगल फाइल फार्मेशन 
जरुर पढ़े :3 तरीके दुश्मन के फायर पोजीशन को पता लगने के

(b) फाइल फार्मेशन (File formation)
फाइल फार्मेशन
फाइल फार्मेशन 

जरुर पढ़े :4 बाते शत्रु के कारगर फायर के अंदर आने पे करनी चाहिए
(c) एरो हेड फार्मेशन (Arrow head formation)
एरो हेड फार्मेशन
एरो हेड फार्मेशन 

जरुर पढ़े :सेक्शन बैटल ड्रिल और उसे सफल बनाने वाली बातें
(d)डायमंड फार्मेशन (Diamond formation)
डायमंड फार्मेशन
डायमंड फार्मेशन 

जरुर पढ़े :फायर कण्ट्रोल आर्डर और फायर डिसिप्लिन क्या है ?
(e) स्पीयर हेड फार्मेशन (Spear head Formation)
स्पीयर हेड फार्मेशन
स्पीयर हेड फार्मेशन 

जरुर पढ़े :अम्बुश  की पार्टियो को ब्रीफिंग देने के तरीका
(f) एक्सटेंडेड लाइन फार्मेशन (Extended line formation)
एक्सटेंडेड लाइन फार्मेशन
एक्सटेंडेड लाइन फार्मेशन 


जरुर पढ़े :अम्बुश का परिभाषा और अम्बुश की पार्टिया
(ii) प्लाटून फार्मेशन 
(a) ऑन अप (One up formation)
ऑन उप फार्मेशन
ऑन उप फार्मेशन 

जरुर पढ़े :पेट्रोलिंग पार्टी को ब्रीफिंग देने का तरीका ?
(b) टू अप (Two up formation)
टू-उप- फार्मेशन
टू-उप- फार्मेशन 

जरुर पढ़े :पेट्रोलिंग के परिभाषा और पेट्रोलिंग के प्रकार
(c) थ्री अप (Three up formation)
थ्री अप फार्मेशन
थ्री अप फार्मेशन 

जरुर पढ़े : कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी

इस पोस्ट में RFN-राइफल मेन , sec-commander-सेक्शन कमांडर , LMG-1 - एलेमजी नॉ  -1 ,LMG-2  - एलेमजी नॉ  -2, sec 2 i/c - सेक्शन - टू-आइ-सि 1 यह सेक्शन फार्मेशन एक सेक्शन में 11 की नफरी  तथा एक कंपनी में 3 प्लाटून के ध्यान में रखते हुए बनाया गया है !

यहाँ पे सेक्शन फार्मेशन और उसका बनावट से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुई !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई सुझाव हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इसद ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक कर हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित करे !


इन्हें भी पढ़े :
  1. सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान
  2. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II
  3. टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -I
  4. कामौफ्लाज और कांसिल्मेंट के ऊपर एक संक्षिप्त जानकारी
  5. पेट्रोलिंग के परिभाषा और पेट्रोलिंग के प्रकार
  6. पेट्रोलिंग पार्टी को ब्रीफिंग देने का तरीका ?
  7. अम्बुश का परिभाषा और अम्बुश की पार्टिया
  8. अम्बुश  की पार्टियो को ब्रीफिंग देने के तरीका
  9. फायर कण्ट्रोल आर्डर और फायर डिसिप्लिन क्या है ?

Monday, April 24, 2017

आतंकवाद और आतंकवादियो के विशेषताए

पिछले पोस्ट में हमने आतंकवाद, आतंकवाद के कारन और उसका लक्ष्य के बारे में जानकारी प्राप्त किये ! यह पोस्ट उसी की अगली कड़ी है जिसमे हम जानेगे आतंकवाद और आतंकवादियो की विशेषताए(Characterstics of terrorists and terrorism) !


आतंकवाद में क्या होता है इसकी क्या पहचान है इसे जानने के लिए हमे आतंकवाद की विशेषताओ के बारे जानकारी होनी चाहिए ! ये सब जानकारिया उस समय बहुत काम आती है जब एक जवान आतंकवाद प्रभावित एरिया में तैनात रहता है या होता है ! इस प्रकार की जानकारियो के द्वारा वह अपने आप को मेंटली तैयार करता है की इस एरिया में क्या क्या खतरा हो सकता है !

इस पोस्ट में हम निम्न विषयों के बारे में जानकारी हासिल करेंगे :
Terrorist(प्रतीकात्मक)
  1. आतंकवादी कौन कहलाता है ?(Define Terrorist)
  2. आतंकवाद की विशेषताए (aatankwad ki visheshtaye kya hai)
  3. आतंकवादियो की विशेषताए  (aatankwadio ki visheshtaye kya hai)
  4. आतंकवादियो की कार्वाहिया (Aatankwadio ki karwahiya kya hai)
  5. आतंकवादियो के टारगेट (aatankwadio ke target kya hota hai)





1.आतंकवादी कौन कहलाता है ?(Define Terrorist):एक आतंकवादी को परिभाषित इस प्रकार से किया जा सकता है " ऐसा व्यक्ति जो मनमाने या बेरोकटोक लोगो का हत्याए करताi या हिंसा अथवा आतंक फैलता है या फिरm आदमी के लिए जरुरी सेवाओ को नष्ट करने की कोशिश करता है आतंकवादी कहलाता है !" इनका उद्देश्य जनता में भय पैदा करना और विभिन्न धर्मोर जातियो के बीच भाई चारे को ख़त्म करना होताi ! यह सरकार की नीतियो का विरोध करता है !

जरुर पढ़े : 51mm मोर्टार के हाई एक्सप्लोसिव बम की चाल और पहचान

2. आतंकवाद की विशेषताए (aatankwad ki visheshtaye kya hai):इसकी निम्न गुण होते है :
  • सिलसिलेवार तरीके से हिंसा को फैलाना 
  • कोई भी इनका टारगेट बन सकता है 
  • इनका कोई धर्म या सिद्धांत नहीं होता है 
  • किसी भी कानून को नहीं मानता है 
  • जनता में भय की भावना पैदा होना 
  • स्वेक्षचारी होता है इसके बारे में अनुमान लगाना बहुत मुस्किल होता है 
  • इसका तरीका और प्रभाव स्वाभाविक तौर पर अत्य्वस्तित होता है ! इसके लिए कुछ भी पवित्र नहीं होता है !
  • पहल सदा आतंकवाद के हाथ में होता है !
  • यह अपने हर कार्य को समर्थन करता है !
  • तेजी से अफवाह फैलता है 
  • यह कैंसर की तरह फैलता है !

3. आतंकवादियो की विशेषताए  (aatankwadio ki visheshtaye kya hai): इनकी विश्श्ताये निम्न है :
  • अदृश्य होते है या दिखाई नहीं देते है ! इन्हें आसानी से पहचाना नहीं जाता है !
  • लगता है हर जगह मौजूद है 
  • बगैर दिखे दुसरो को देखते है 
  • इनका अगला टारगेट कौन होगा इसका पता नहीं होता है !
  • अपनी मांग मनवाने के लिए हिंसा का इस्तेमाल करते है !
  • सरकार के खिलाफ होते है !
  • छोटे छोटे ग्रुपो के करवाई करते है 
  • चतुर , चालक, अच्छी सिखाली पाए हुए तथा जमीन की अच्छी जानकारी रखते है !
  • अपनी छोटी छोटी कामयाबियो को बढ़ा चढ़ाकर बताते है !
  • अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए किसी सीमा तक जा सकते है 
  • अपने इरादे के पक्के होते है 
  • जनता में भय पैदा करते है !

4. आतंकवादियो की कार्वाहिया (Aatankwadio ki karwahiya kya hai): आतंकवादी निम्न करवाई करते है 
  • बॉम्बिंग
  • आगजनी 
  • अपहरण 
  • हिजैकिंग 
  • हत्याए करना 
  • महत्वपूर्ण व्यक्तिओ की हत्या 
  • अम्बुश करना 
  • ग्रेनेड फेकना 
  • निर्दोष व्यक्तिओ को धमकी देना एवं यातनाये देना 
  • बैंक डकैती और जबरदस्ती पैसा छिनना 
  • माइन तथा आई डी ब्लास्ट करना 
  • फायरिंग करना यदि 

5.आतंकवादियो के टारगेट (aatankwadio ke target kya hota hai): आतंकवदियो जो टारगेट चुनते है उसे हम 4 ग्रुप में बाँट सकते है :
(a)हिंसा फ़ैलाने वाले टारगेट : जब अतावादी हिंसा फैलाना चाहते है तो ऐसा टारगेट चुनते है ! जिसको बर्बाद करने से जनता भड़क जाये और जुलुश और तोड़ फोड़ करने को तैय हो जाये  जैसे की 
  • महत्वपूर्ण धार्मिक नेता 
  • सताधारी पार्टी के नेता या मददगार 
  • आतंकवादियो का कोई नेता जिसे जनताका समर्थन हासिल हो 
  • स्कूल अथवा कॉलेज या किसी संस्था के प्रधान 

(b) जनता को भयभीत करने वाले टारगेट : जनता अतंकवादियो के खिलाफ मुह न खोले और उसे जरुरी मदद देती रहे ! इसके लिए जनता में भय की भावना पैदा करना तथा बनाये रखने के लिए आतंकवादी ऐसे टारगेट चुनकर बर्बाद करते है जिससे जनता भयभीत हो उठे ! उसके लिए निम्न टारगेट चुनते है जैसे की 
  • सरकारी कर्मचारी/ अधिकारी 
  • सरकारी के मुखबिर /सोर्स 
  • सरकार के मददगार 
  • लोकप्रिय नेता 
  • बड़े उद्योगपति 
  • इमाम या पुजारी 
  • बसे, रेलवे लाइन , रेल यदि 
  • बड़े संसथान 

(c) अपनी मांग मनवाने वाले टारगेट : आतंकवादी सरकार को मजबूर कर अपनी मांग मनवाने के लिए निम्न टारगेट चुनते है जैसे 
  • महत्वपूर्ण धार्मिक नेता , उनके परिवार के सदस्य 
  • सुरक्षा बल के उच्च अधिकारी 
  • अति महत्वपूर्ण व्यक्ति 
  • संस्थानों के प्रधान 
  • महत्वपूर्ण प्रशाशनिक अधिकारी 
  • जज 
(d) ध्यान आकर्षित करने वाले टारगेट : दुनिया के दुसरे देशो का ध्यान अपने ओर आकर्षित करने के लिए तथा अपने संगठन का नाम और लक्ष्य को अन्तराष्ट्रीय मुद्दा बनाने के लिए आतंकवादी जिस प्रकार के टारगेट चुनते है वे इस प्रकार से है !
  • दुसरे देश के राजनयिक 
  • दुस्रेदेश के टूरिस्ट 
  • दुसरे देश के कर्मचारी 
  • मीडिया के लोग जैसे प्रेस, रेडिओ टीवी 
  • अति विशिष्ट व्यक्ति 
  • विशिष्ट राजनेता  यदि 

आतंकवाद और आतंकवादियो के बारे में जितने ज्यादा से ज्यादा जानकारी ट्रूप्स को बताई जाएगी वह उतने ही आत्मबल के साथ आतंक प्रभावित इलाको में प्रभाकरी टेक्टिस बनके उच्चे मनोबल के साथ काम करेंगे ! और अतंकवादियो के द्वारा उठाये जाने वाले हथकंडो को अच्छी तरह से समझ सके गे और उचित करवाई कर सकते है जो की अतंकवादियो को पराजित करने में सहयोगी होगी !

इस प्रकार से आतंकवाद की विश्श्ताये, आतंकवादी की विशेषताओ से सम्बंधित पोस्ट समाप्त हुई ! उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब तथा फेसबुक पेज को लाइक करके हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित करे !

इसे भी पढ़े :
  1. स्मोक और इल्लू बम का चाल और बेसिक डाटा
  2. 2" मोर्टार का परिचय,और खुबिया तथा इसकी खामिया
  3. 51 mm मोर्टार छोटी छोटी बाते
  4. 51 mm मोर्टार डिटैचमेंट का काम, बनावट और फायर कण्ट्रोल करने का तरीका
  5. 51 mm मोर्टार के भरना और खली करने का तरीका तथा बम को तैयार करना
  6. 51 mm मोर्टार का ले और फायर तथा मिस फायर पे करवाई
  7. 7.62 mm MMG के प्रकार तथा टेक्निकल डाटा 7.62 mm MMG के ?
  8. 7.62 mm MMG को खोलना और जोड़ने का तरीका
  9. 7.62 mm MMG को भरना और खाली करने का तरीका

आतंकवाद, आतंकवाद के कारन और उसका लक्ष्य

पिछले पोस्ट में हमने 84 mm राकेट लांचर के विशेषताए के बारे में जानकारी हासिल किये लेकिंग इस पोस्ट से मै एक नया टॉपिक शुरू कर रहा है "आतंकवाद , आतंकवाद का परिभाषा(Definition of terrorism) , आतंकवाद का कारन(Cause of terrorism) और आतंकवाद का लक्ष्य(Target of terrorism)"


आतंकवाद एक ऐसा कैंसर है जिसका की समय रहते इलाज नहीं किया जाये यानि समय रहते दबाया नहीं जाय तो ओ धीरे धीरे सम्पूर्ण देश को अपने गिरफ्त में ले लेता है ! आज भारत के कई राज्यों में आतंकवाद अपनी पव पसार चूका है !

आतंकवाद को दबाने केलिए , सुरक्षा बालो को आतंकवादियो के काम करने के तौर तरीको के बारे में ध्यान रख कर खास प्रकार के अभियान चलाने होगे जो की परम्परिक करवाई से अलग होंगे !

इस लिए ये जरुरी होता है की आतंकवाद के ऑपरेशन में सामिल होने वाले सुरक्षा बालो को विशेष ट्रेनिंग दी जाय जिससे की ओ आतंकवाद का परिभाषा, आतंकवाद  के कारन  और आतंकवाद के लक्ष्य के बारे में जाने  यदि जो की उसे आतंकवाद की लड़ाई लड़ने में सहायक हो !

जरुर पढ़े :हरकती टारगेट पर पॉइंट ऑफ़ एम सेट करना !

इस पोस्ट में हम निम्न विषयों के बारे में जानेगे :
  1. आतंकवाद का परिभाषा(Terrorism ka paribhasha ) 
  2. आतंकवाद के कारण(Terrorism ka karan)
  3. आतंकवाद का लक्ष्य(Terrorism ka target) 
1.आतंकवाद का परिभाषा(Terrorism ka paribhasha ) : जब देश के कुछ गुमराह लोग दुसरे देश की मदद लेकर अपने तथा दुसरे देशो के नापाक इरादों को पूरा करने के लिए हिंसात्मक कार्वाहिया जैसे की तोड़ फोड़ , लूट पात विशिष्ट व्यक्तिओ का अपहरण अथवा जान से मार कर जनता में भयष में अराजकता तथा अशांति का माहौल पैदा करते है तो उसे आतंकवाद  कहते है ! अथवा दुसरे शब्दों में कहे तो 

"आतंकवाद किसी देश के हाथ में एक ऐसा हथियार है जो दुसरे देशो में बगैर लड़ाई छेड़े उसको आर्थिक तथा सैनिक रूप  से कमजोर बना सकता है "

जरुर पढ़े :AK-47 और INSAS Rifle में कौन बेहतर ?

2.आतंकवाद के कारण(Terrorism ka karan): आतंकवाद का पहले एक लिखित कारन के द्वारा विवरण किया जा सकता तथा लेकिंग आजकल छोटे छोटे उद्देश्यों के लिए या आर्थिक उगाही के लिए भी आतंकवाद को एक टूल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है ! लेकिंग फिर भी उसके लिए कुछ एक कारन होते है जो की निम्न है 
  • किसी वर्ग में अन्याय होने की भवन पैदा होना तथा उन्हें उनके हक़ से बंचित रखने की भावना पैदा होना 
  • राजनैतिक, आर्थिक एवं अर्थ व्यवस्था से जुड़े कारन 
  • जातीय कुंठाए 
  • घरेलु तानाशाही/दमनात्मक शासन 
  • अप्रभावी लोकतान्त्रिक सरकार का तख्ता पलटने के लिए आदि 

3.आतंकवाद का लक्ष्य(Terrorism ka target) : जैसे की परिभाषा से ही ज्ञात होता है की यह एक  गुमराह लोगो का हुजूम है और हुजूम का कोई नियत उदेश्य नहीं होता है और उनके उदेश्य बहुत बार बदलते रहते है ! लेकिन कुछ निम्न उदेश्य होते है जिसके लिए आतंवादी अपनी कार्वाहिया करते है :
  • अपने समूह एवं अपनी  मांगो को पूरा करवाना और उसका प्रचार करना !
  • जनता में सरकार के विरुद्ध अविश्वास पैदा करना !
  • पुरे विश्व का ध्यान आकर्षित करना और अपने उदेश्य का प्रचार करना तथा उस उदेश्य की पूर्ति के लिए जनता का सहानुभूति प्राप्त करना !
  • अपने आतंकवादी साथियो को छुड़वाना !
  • जनता के दिल में डर पैदा करना 
  • जनता के दिलो में धर्म, जाती आदि के नाम पर आपस में घृणा पैदा करना और आक्रोश फैलाना 
  • अपने संगठन को चलने के लिए एवं हथियार आदि  खरीदने के लिए पैसा छिनना !
  • सरकार की आर्थिक एवं सैन्य  शक्ति को कमजोर करने की कोशिश करना 
  • आतंकवाद विरुद्ध उठाये गए कदमो की खिलाफ करवाई करना 
  • सुरक्षा बालो को नुकशान पहुचना 
  • सुरक्षा बालो को मदद करने वालो को मरना था आतंकवाद के दुश्मनों को मरना !

इस प्रकार से आतंकवाद के कारन और लक्ष्य से सम्बंधित एक संक्षिप्त पोस्ट समाप्त हुई ! उम्मीद है की पोस्ट पसन् आएगा अगर कोई  निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब  और फेसबुक पे लाइक कर के हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित करे !

इसे भी पढ़े :
  1. इंसास राइफल से स्टैंडिंग पोजीशन से फायर करने के तरीके और देखने वाली बातें !
  2. 7.62mm SLR का निरिक्षण के लिए जाँच शाश्त्र की करवाई और अहमियत
  3. 7.62 mm एसएलआर को खोलना , जोड़ना और मग्जिन को खोलना जोड़ना !
  4. 7.62mm SLR सफाई करने का सामान और सफाई करने का तरीके
  5. 9mm कार्बाइन मशीन को खोलना जोड़ना और टेस्ट ?
  6. 9 mm कार्बाइन की सफाई और रख रखाव का तरीका
  7. 9mm कार्बाइन के मगज़ीन को भरना खाली करना , 
  8. कार्बाइन को भरना खाली और फायर करने का तरीका
  9. 5.56 mm INSAS Rifle के सिंगल शॉट ट्रिगर मेचानिज्म और पार्ट्स के नाम
  10. इंसास राइफल से दुरुस्त शिस्त लेने का तरीका और शिस्त लेते समय होने वाले कुछ कॉमन गलतिया

Sunday, April 23, 2017

पान कार्ड नम्बर को स्टेट बैंक अकाउंट से लिंक करने का तरीका

पिछले पोस्ट में हमने आधार कार्ड को पान कार्ड से कैसे लिंक करे इस बारे में जानकारी शेयर किये थे इस पोस्ट में हम जानेगे की स्टेट बैंक के अकाउंट को पान नम्बर(PAN Card)  से कैसे लिंक((PAN Card ko SBI Account se kaise link kare)  करे !


आज कल किसी भी बैंक या फाइनेंसियाल संसथान में जाये और अकाउंट खोलने के लिए पूछे तो आपसे ओ पान नम्बर मागते है और किसी कारन बस आपने पहले अकाउंट ओपन किये है और पान नम्बर नहीं दिए है तो ओ आपको बार बार मेसेज भेजते है की आप अपना KYC अपडेट करे !

जरुर पढ़े :आधार कार्ड को पान कार्ड से कैसे लिंक करे ?

अभी  पिछले दिनों बहुत से न्यूज़ पेपर में भी आया हुवा था की अगर की जिन लोगो ने अपना पान नम्बर अपडेट नहीं किया है उनको कुछ लिमिट के बाद बैंक ट्रांसजेकसन  करना बंद कर देंगे !

इस पोस्ट में हम जानेगे की कैसे:
Image result for pan card
PAN CARD 

  1. कैसे बैंक ब्रांच में जाके पान नम्बर अपडेट  करे?(Bank Branch me jake PAN number ko bank account se link karne ka tarika)
  2. कैसे फ़ोन के द्वारा बैंक अकाउंट को पान नम्बर अपडेट करे (Phone ke dwara  PAN number ko bank account se link karne ka tarika)
  3. और कैसे इंटर नेट बैंकिंग के द्वारा पान नम्बर को बैंक अकाउंट से लिंक करे  (Internet banking ke dwara  PAN number ko bank account se link karne ka tarika)!
1. कैसे बैंक ब्रांच में जाके पान नम्बर(PAN Card)  अपडेट  करे?(Bank Branch me jake PAN number ko bank account se link karne ka tarika):इस प्रकार से बैंक जाके आप पान को बैंक अकाउंट से लिंक कर सकते है 
  • जहा आप का अकाउंट है उस बैंक ब्रांच में जाये 
  • बैंक अनच में जनके के बाद PAN कार्ड(PAN Card)  अपडेट करने के लिए फॉर्म (KYC Form) मांगे 
  • KYC फॉर्म को पूरी तरह से भरने के बाद री-चेक करे और इन डाक्यूमेंट्स (PAN कार्ड अपडेट KYC फॉर्म , ज़ेरॉक्स कॉपी पान कार्ड का और एक एप्लीकेशन  ब्रांच मेनेजर के नाम अनुरोध करते हुए की मेरा पान कार्ड को मेरे अकाउंट से लिंक करे ) सेल्फ अटेस्टेड कॉपी के साथ जमा करे 
2.कैसे फ़ोन के द्वारा बैंक अकाउंट को पान नम्बर अपडेट करे (Phone ke dwara  PAN number ko bank account se link karne ka tarika): अगर आप ब्रांच जाके पान कार्ड(PAN Card)  अपडेट नहीं करना चाहते तो आप फ़ोन के द्वारा भी कर सकते है !निम्न विधि अपनाये :
  • पहले बैंक के कस्टमर केयर नम्बर 
  • उसके बाद उनके IVR के उदघोषण को सुने 
  • इसके बाद आप कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव का आप्शन चुने 
  • कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव को बताये की हमे अपना पान(PAN Card)  नम्बर अपडेट करना है 
  • वो आप से कुछ सिंपल सवाल पूछेगे जैसे की बैंक अकाउंट नम्बर, एटीएम नम्बर आपका जन्मतिथि इतियादी ये केवल आपको सत्यापित करने के लिए !
  • एक बार सत्यापित हो गया की आप ही इस अकाउंट के रियल ओनर है तो आप से आपका पान(PAN Card)  नम्बर मांग कर अपडेट कर देंगे !
3.और कैसे इंटर नेट बैंकिंग के द्वारा पान नम्बर को बैंक अकाउंट से लिंक करे  (Internet banking ke dwara  PAN number ko bank account se link karne ka tarika)!:-अगर आप ब्रांच जाके पान कार्ड अपडेट नहीं करना चाहते तो आप इन्टरनेट बैंकिंग के द्वारा भी  पान नम्बर अपडेट कर सकते है  उसके लिए निम्न विधि अपनाये :
  • सबसे  पहले अपने यूजर आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल करते हुए अपना इन्टरनेट बैंक अकाउंट को ओपन करे 
  • लॉग इन करने के बाद आप ऊपर एक लिंक पाए गे "Service Request" उस आप्शन को क्लिक करे 
  • Service Request को क्लिक करेंगे तो उसमे बहुत से लिंक आएगा लेकिंग आप पान कार्ड अपडेट आप्शन को चुने !
  • पान कार्ड(PAN Card) अपडेट आप्शन को चुनने के बाद आपसे पान कार्ड नम्बर , आपका जन्मतिथि और रजिस्टर्ड ईमेल आईडी को फिल करे और सबमिट बटन दबाये !
  • इस प्रकार से आप कर पान(PAN Card)  नम्बर 2 दिनों के अन्दर  अपडेट हो जायेगा !
इस प्रकार से पान कार्ड को लिंक करने से सम्बंधित पोस्ट संपत हुवा !उम्मीद है की पोस्ट पसंद आएगा ! अगर कोई कमेंट हो तो निचे के कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे ! इस ब्लॉग को सब्सक्राइब और फेसबुक पेज लाइक करके हमलोगों को और अच्छा करने के लिए प्रोतोसाहित करे !
इसे भी पढ़े :

  1. स्मोक और इल्लू बम का चाल और बेसिक डाटा
  2. 2" मोर्टार का परिचय,और खुबिया तथा इसकी खामिया
  3. 51 mm मोर्टार छोटी छोटी बाते
  4. 51 mm मोर्टार डिटैचमेंट का काम, बनावट और फायर कण्ट्रोल करने का तरीका
  5. 51 mm मोर्टार के भरना और खली करने का तरीका तथा बम को तैयार करना
  6. 51 mm मोर्टार का ले और फायर तथा मिस फायर पे करवाई
  7. 7.62 mm MMG के प्रकार तथा टेक्निकल डाटा 7.62 mm MMG के ?
  8. 7.62 mm MMG को खोलना और जोड़ने का तरीका
  9. 7.62 mm MMG को भरना और खाली करने का तरीका

.