Sponser


Wednesday, March 30, 2016

कामोफ्लाज और कांसिल्मेंट तथा फायर कण्ट्रोल आर्डर की जानकारी

इस पोस्ट में बात करेंगे Fire Control order, Camouflage & Concealment, Camouflage pattern, फायर कण्ट्रोल आर्डर  के उसूल, फायर कण्ट्रोल आर्डर  के किस्म ,और फायर कण्ट्रोल आर्डर देने का तरतीब.


ऐसे तो हम आज कल जहा कही भी आर्म्ड फ़ोर्स के जवान  को ड्यूटी या किसी मूव के दौरान देखते है वह उनका ड्रेस अलग अलग तरह के camouflage pattern और  रंग के ड्रेस पहने हुवे होते है ! ये सब कामोफ्लाज का ही हिस्सा है जो एरिया और वर्क के अनुसार camouflage pattern के ड्रेस पहने होते है  !

फील्ड क्राफ्ट में camouflage का बहुत ही खास रोल  है हम फील्ड क्राफ्ट के ट्रेनिंग में सीखते है की आप अपने आप को कैसे कैमोफ्लाज  और कांसिल्मेंट  करेंगे ! ऐसे तो मै अपने पिछले पोस्ट में discuss किया हु की चीजे क्यों दिखाई देती है अगर आप ने उसे नहीं पढ़ा है तो यहाँ क्लिक कर उसे पहले पढ़ ले !


जैसे की आप जानते है चाहे ओ नक्सल ऑपरेशन छतीसगढ़ में हो या टेररिस्ट ऑपरेशन जम्मू & कश्मीर हो  उस ऑपरेशन के दौरान ये देखते है की आर्म्ड फ़ोर्स नक्सल या टेररिस्ट को ढूढती है और नक्सल आतंकवादी भी छुप के आर्म्ड फ़ोर्स के जवान को ढूढ़ते है ! कोन्वेसिनल लडाई में भी कम बेस यही हालत रहता है हम दुश्मन को ढूढ़ते है और दुश्मन हमे ढूढ़ता है ! जो पहले देख लेता है ओ एडवांटेज में रहता है !

कामोफ्लाज और कांसिल्मेंट हासिल करते हुए किन किन बातो का ध्यान रखे ?

जैसे की आ जानते है की चीजे क्यों दिखयी देती है तो जो जो कारन  एक चीज के देखने में मदद करता है उन सब को झटक संभव हो हटाने या कम करने का कोशिश करना चाहिए ! 
  • Shape(सेप): जहा तक हो हेक अपने बॉडी  और सामान का  सेप को आजूबाजू के सरउन्डिंग  से मिला देना चाहिए 
  • shadow(शैडो ):कही भी छुपते है या खड़े होते है बड़े ऑब्जेक्ट के पास छुपे और सुनिश्चित  करे की परछाई दुश्मन को न दिखाई दे !
  • Silhouette: कभी भी स्काई लाइन पे खड़ा न हो नहीं विंड से बहार झाके !
  • shine(चमक ): आपकी यूनिफार्म और इक्विपमेंट की रंग सराउन्डिंग से अलग नहीं चमकना चाहिए ! गाड़ी और तटेंट under कामोफ्लाज नेट !
  • Spacing(फासला ):कभी भी इकट्ठा  खड़ा न हो अ छुपाव हासिल करे ! एक सामान दुरी पे भी खड़ा न हो ये दुश्मन के मन में शंका पैदा करेगा और ओ एक्स्ट्रा सतर्क ओ जायेगा !
  • Movement(हरकत ): हरकत हमेशा धीरे और सावधानी पूर्वक करे ! ये ध्यन रखे की मानव आँखे फ़ास्ट हरकती  ऑब्जेक्ट को जल्दी देख लेता है सपेसिअल्ली रात को !
  • ज्यादा कामोफ्लाज न करे !
  • लोकल घास या झड़ी का इस्तेमाल कर रहे है तो देखे की जल्दी खराब होने वाला न हो !
कैमोफ्लाज
कैमोफ्लाज 
कामोफ्लाज तो हासिल कर लिया आब देखते है की फायर कण्ट्रोल आर्डर के उसूल कौन कौन से है ?
  • फायर हमेश दुश्मन को मर डालने के लिए ही खोला जाय !
  • अमुनिसन इ बचत का ख्याल रखा जाय !
  • फायर डिसिप्लिन का खासा ध्यान रखा जाय !
जरुर पढ़े : सेक्शन बैटल ड्रिल और उसे सफल बनाने वाली बातें
फायर खोलने से पहले ध्यान में राख्ने वाली कौन कौन सी बाते है ?
  • क्या रेंज और विसिबिलिटी ठीक है !
  • सरप्राइज हासिल करने के लिए या दुश्मन को अचानक फायर से ज्यादा नुकशान पहुचने  के लिए फायर थोडा लेट खोला जाय !
  • फायर की रफ़्तार क्या होगी !
  • फायर पे खुद कण्ट्रोल रखा जाय या जिम्मेवारी कमांडर की होगी !
रैपिड फायर किन मौको पे खोला जाता है ?
  • जब दुश्मन पर अचानक सरप्राइज हासिल करना हो !
  • जब ऐसा टारगेट सने आ जाय की रैपिड फायर से ज्यादा नुकशान पहुचाया जा सकता है !
  • असाल्ट में जब कवरिंग फायर डालते वक्त !
फायर कण्ट्रोल आर्डर का तरतीब क्या है ?

फायर कण्ट्रोल आर्डर देते समय जो तरतीब इस्तेमाल करते है उसे शोर्ट में GRIT कहते !
  • G- ग्रुप (group)
  • R-रेंज (Range)
  • I- इंडिकेशन ऑफ़ टारगेट 
  • T-टाइप ऑफ़ फायर 
इसको याद  रखने के लिए शोर्ट फॉर्म बनाया गया है GRIT.

जरुर पढ़े : 4 बाते शत्रु के कारगर फायर के अंदर आने पे करनी चाहिए

फायर कण्ट्रोल आर्डर और फायर डायरेक्शन आर्डर में क्या फर्क है ?

 फायर डायरेक्शन आर्डर उपरवाले कमांडर से निचे वाले कमांडर को मिलता है ! यह मौखिक , लिखित या वायरलेस में दिया जा सकता है !इसमें फायर की किस्म, समय , टारगेट या फायर प्लान शामिल होता है ! जबकि फायर कण्ट्रोल आर्डर एक फायर यूनिट कमांडर अपनी फायर यूनिट से फायर डालने और उसे कण्ट्रोल करने के लिए देता है !

फायर कण्ट्रोल आर्डर कितने प्रकार के होते है ?

फायर कण्ट्रोल आर्डर चार प्रकार के होता है :
  • फुल फायर आर्डर : जब फायर खोलने के लिए पूरी तरतीब से आर्डर दिया जाता है तो उसे फुल फायर आर्डर कहते है ! यह दो प्रकार का होता है :
  1. पॉइंटेड : for example " न एक सेक्शन ... 300 ... दरख्त ....दाहिने अकेली झाड़ी दुश्मन का स्नाइपर जोड़ा ...... एल एम् जी  ग्रुप दो ब्रस्ट फायर !
  2. फैला हुवा टारगेट : न एक सेक्शन .......300 ....... दरख्त ...... दाहिने अकेली झाड़ी से रोड जंक्शन तक फैला हुवा दुश्मन ........ सेक्शन फायर !      स्टॉप 
  • डिलेड फायर आर्डर : इसमें फायर कण्ट्रोल आर्डर की सभी बाते पहले ही बता दी जाती है लेकिन फायर खोलने का आर्डर कमांडर समय पे देता है !
  • मौके का फायर आर्डर : जब दुश्मन नजदीक टूटी फूटी ग्राउंड में छुप गया हो उस समय फायर की जिम्मेवारी तमाम जवान पर छोड़ दी जाती है ! यह फायर आर्डर flat trajectory हथियार वालो की दी जाती है लेकिंग 2" मोर्टर या राइफल ग्रनेड वालो को फुल फायर आर्डर दिया जाता है !
फायर डिसिप्लिन को कायम रखने के लिए किन किन बातो पे ध्यान रखना चाहिए ?
  • बिना हुक्म फायर नहीं खोले !
  • फायर दुश्मन को मर डालने के लिए खोला जाय !
  • अंधाधुंध फायर न किया जाय !
  • रात को फायर डिसिप्लिन उच्चे दर्जे का होना चाहिए !
  • रात को दुश्मन हमारा लोकेशन पता करने के तरह तरह के हरकते करेगा इसलिए रात को फायर तभी खोला जाय जब यकीं हो जाय की दुश्मन अब बच नहीं पायेगा !ऐसे समय पे ब्रस्ट फायर ही डालनी चाहिए !
रात को ऑपरेशनल एरिया में तैनात पोस्ट के सन्तरी को कौन कौन सी बातो पे ध्यान रखना चाहिए ?
  • अपनी देखभाल का एरिया मालूम होना चाहिए !
  • आने वे के साथ क्या करवाई करनी है मालूम होना चाहिए !
  • दुश्मन किस तरफ है ये मालूम होना चाहिए !
  • आस पास किस तरफ अपनी पोस्ट है !
  • इलाके के मशुर निशान कौन कौन से है !
  • अपनी पेट्रोलिंग पार्टी अगर बहार गयी है तो उसके बारे में जानकारी होना चाहिए !
  • डिफेंसिव फायर सिग्नल क्या है !
  • सन्तरी बदलते समय तामाम  जानकारिय दुसरे सन्तरी को बता देना चाहिए !

जरुर पढ़े : अम्बुश और काउंटर अम्बुश, अम्बुश का उद्देश्य , अम्बुश का पार्टिया , अम्बुश का टारगेट

ऑपरेशन एरिया में एक स्काउट के अन्दर क्या क्या गुण होना चाहिए ?

किसी पेट्रोलिंग पार्टी के आगे चलने वाले जवानो को स्काउट कहते है ! इसलिए वह एक बहुत अहम आदमी होता है जिसके ऊपर पूरा प्त्रोल्लिंग पार्टी का दारोमदार  रहता है ! दुश्मन से सामान होने का सबसे पहला चांस स्काउट का ही होता है क्यों की ओ आगे आगे चलता है  !इसलिए स्काउट बनने वाले जवान में निम्न गुण तो होना ही चाहिए !
  • पहल  करने वाला होना चाहिए !
  • जमीन  का सही इस्तेमाल जाननेवाला होना चाहिए !
  • अच्छी फायर पोजीशन चुनना जाता हो !
  • फील्ड सिग्नल के बारे मेजनकारी रखता हो !
  • अच्छा निशाने वाज होना चाहिए !
  • अच्छी यदास्त वाला होने चाहिए !
जरुर पढ़े : सेक्शन फार्मेशन एंड प्लाटून फार्मेशन के फायदे और नुकशान
अगर ये पोस्ट आपको पसंद आया तो जरुर सब्सक्राइब करे और अपना कमेंट भी कमेंट बॉक्स में लिखे !

चीजे क्यों दिखाई देती है टारगेट को कैसे बयान करते है ?

इस  ब्लॉग  पोस्ट में  जो टॉपिक discuss करेंगे वो है "चीजे क्यों नजर आती है", टारगेट का बयान करना और बयान करने के तरीके और हथियार व बिना हथियार के साथ चलने वाले चले !

ऐसे तो ऑपरेशनल एरिया में हम दुश्मन को ढूढ़ने के कोशिश करते है और दुश्मन हमे ढूढ़ रहा होता है और सफल वही होता है जिसके अन्दर सेल्फ डिसिप्लिन और फील्ड क्राफ्ट की अच्छी समझ हो और कुदरती तथा बनावटी चीजो को कैसे अपने फायदे के लिए सही तरीका से इस्तेमाल  और दुश्मन को कैसे धोखा देकर बर्बाद किया जा सके !

इसको समझने के लिए सब से पहले जो बात आती है वो की चीजे क्यों दिखाई देता है अगर ये हम जानते है तो छुपाव हासिल करना बहुत ही आसान है !

चीजे क्यों दिखाई देती है ?

किसी चीज को दिखाई देने के लिए ये गन उसके अन्दर होना चाहिए. जिसे ट्रेनिंग के दौरान 6 S और 1 M कह केबुलाया जाता है ! और ये 6 स और 1 M है !

  • Shadow(साया )
  • Shine(चमक )
  • Surface(धरातल)
  • Silhouette(खाका )
  • Shape (आकृति )
  • Spacing (फासला)
  • Movement(हरकत)
इन उपरोक्त 7 कारणों से कोई  चीज हमे दिखाई देता है !

ठीक है हमने ये तो जन लिया की चीजे क्यों दिखाई देती है तो हम कैसे किदिये हुवे इलाके को देख-भाल करे की चीजे आसानी से दिखाई दे दे !

जमींन को देख-भाल करने का क्या तरीका है ?
  • दिए हुए इलाके को सबसे पहले हदबंदी की जाय !
  • पुरे इलाके को 30 सेकंड तक  फौरी  खोज और 2 मिनट्स तक पूरी खोज की जाय !
  • नजदीक के इलाके को पहले देखा जाय !
  • बाये से दाहिने की सिल्सिल्वर तलाशी की जाय !
  • इलाके के 50-50- गज के टुकड़े में बाँट ले !
  • एक टुकड़े से दुसरे टुकड़े की देखभाल करते वक्त 10 गज का ओवर लैप किया जाय !
इलाके को देखभाल करे से पहले इलाके को कई हिंस बाँट लेना चाहिए !

Ground Observation,
Ground Observation,
                            Image Source: Google

देख-भाल के हिसाब से इलाके को कितने हिस्सों में बनता जाता है ?

देख-भाल के हिसाब से इलाके को 3 हिस्सों में बनता जाता है !
  1. नजदीक इलाका (Fore Ground): 300 गज तक का एरिया (राइफल के कारगर रेंज )
  2. बिच का इलाका (Middle Gorund): 300 गज से 500 गज तक का इलाका !
  3. दूर का इलाका (Distant Ground): 500 गज तक से ऊपर का इलाका !
टारगेट बयान करने का भी अपना एक तरीका है लेकिंग ओ जानने से पहले कुछ टारगेट व्यान करने सम्बंधित शब्द है उनका मीनिंग समझ लेना बहुत जरुरी है ! और ओ शब्द है :
  • आम रुख : आब्जर्वर से स्काई लाइन तक वह फर्जी लेने जो जिमीवारी के इलाके को तक़रीबन दो बराबर हिस्सों में बताती है और उसे कायम रखनेके लिए जो निशान चुना जाता है उसे आम रुख कहते है !
  • जमीनी निशान : जमीन के वे कुदरती और बनावती निशान जो किशी भी ऑपरेशन के जुबानी हुक्म में इस्तेमाल किये जाते है ! यह जरुरी नहीं की जमीनी निशान दिखाई दे !
  • मदद  के निशान : ऐसी कुदरती निशान या बनावटी निशान जिसकी सहयता से किसी दुसरे जमिनी निशान या टारगेट  को बयान करते है ! अगर निशान फैलाव में 1 डिग्री से ज्यादा हो तो उसका किनारा लिया जाय !
  • टारगेट : वह निशान या जगह जिसके ऊपर फायर गिराने या बर्बाद करने के लिए मुकरर किया जाता है उसे टारगेट कहते है !
जमीनी निशान, मदद का निशान और टारगेट में क्या फर्क है?

  • जमीनी निशान और टारगेट फैले हुवे हो सकते है लेकिन मदद का निशान अगर फैला हो तो उसका एक किनारा लिया जाता है !
  • यह जरुरी नहीं की जमीनी निशान और टारगेट दिखाई दे लेकिंग मदद का निशान नजर जरुर आना चाहिए !
  • मदद के निशान की सहायता से दुसरे जमीनी निशान या टारगेट का बयान करते है लेकिंग जमीनी निशान सिर्फ ऑपरेशन के जुबानी हुक्म में ही इस्तेमाल किये जाता है !
टारगेट को बयान करने के क्या उसूल है ?
  • सदा और आसान तरीका अपनाया जाय !
  • मुश्किल टारगेट का बयान करने के लिए जितनी जरुरत हो उतनी ही मदद की जाय !
  • फौजी शब्दों का इस्तेमाल किया जाय !
टारगेट को कभी भी बयान किया जय तो उसे सिखलाई दी गयी तरितिब से ही बयान दे जिसे की ट्रूप्स आसानी से समझ सके !

टारगेट बयान करने की क्या तरतीब है ?

टारगेट बयान करने की तरतीब को शोर्ट में GRAD कहते है जिसका मतलब लैटर वाइज ये है :
  • G=ग्रुप (Group)
  • R= रेंज (Range)
  • A= एड (Aid)
  • d= टारगेट का बयान (Discription of target)
मदद के निशान बाटते समय ध्यान में रखने वाली बाते क्या है ?
  • मदद का निशान हमेश बाये से दाहिने की तरफ बाते जाय !
  • एक निशान से दुसरे निशान के बिच कम से कम 19 डिग्री और ज्यादा से ज्यादा 30 डिग्री का फर्क होना चाहिए !
  • अगर  निशान फैलाव में 1 डिग्री से ज्यादा हो तो उसका किनारा लिया जाय !
  • रेंज और नाम दिया जाय 
  • निशान अलग अलग रेंज और नाम से होना चाहिए !
  • निशान हरकती न हो !
  • निशान मशुर हो !
मुश्किल टारगेट को बयान करने के कौन कौन से तरीके है ?
  • मदद के निशान से,
  • घडी का तरीका ,
  • डिग्री 
  • अंगुली द्वरा बता के 
  • अन्य तरीका जैसे हरकती चीजे, आखरी टारगेट से  ट्रेसर राउंड से ,
ऑब्जरवेशन से ऑब्जेक्टिव की चौडाई मालूम करने का क्या तरीका है ?

  • ओब्जेक्टिवे का चौडाई = रेंज  x डिग्री /60 
for example मन लो की ऑब्जेक्टिव का फासला 600 गज है और ऑब्जेक्टिव का चौडाई 10 डिग्री है तो ऑब्जेक्टिव का चौडाई गजो में होगा :
 600 x 10/60=100 गज 

ऑपरेशन के दौरान दुश्मन के अजरो से बचने और उसके नजदीक से नजदीक पहुचने के लिए हमे जमीन की बनावट और माहौल के देखते हुवे बहुत से चले अपनाना पड़ता है  जिससे की दुश्मन हमे देख न सके और हम उसके पास पहुच कर अपना दिया हुवा टास्क पूरा कर सके !

हथियार और हथियार के साथ एक जवान कौन कौन से चल चलता है ?

निम्नलिखित चले चलता है :
  • बंदर चाल,
  • चीता चाल नॉ-1,
  • चीता चाल नॉ-2
  • लुढकन चाल,
  • भुत चाल
ऑपरेशनल एरिया जहा रिसोर्स लिमिटेड होते है इसलिए हमे बहुत से एम्प्रोवईज तरीके अपनाना पड़ता है जैसे  के डिग्री का नापना , judging distance इत्यादि !

हाथ से डिग्री नापने का तरीका क्या है ?

मुठी और हाथ की अंगुली की मदद से हम 3, 5 ,8, 12, और 19 डिग्री तक का नाप ले सकते है !

Indication of Target by Hand(fist)
Indication of Target by Hand(fist)

Indication of Target by finger
Indication of Target by finger
इस तरह से हम  जानकारी हासिल किये की चीजे क्यों दिकह्यी देता है और डिग्री का अनुमान कैसे लगते है 




Tuesday, March 29, 2016

फासले का अनुमान लगाना और अनुमान लगाने का तरीका

इस पोस्ट में  दुरी असल से कम कब नजर आती है और असल से ज्यादा कब नजर आती है! फासले का अनुमान लगाने के क्या तरीके है! फील्डक्राफ्ट के इन सब विषयों को डिटेल में देखेंगे  !

ऐसे तो आप जानते है की फील्ड क्राफ्ट की सिखलाई एक यूनिफार्म फ़ोर्स के जवान के लिए काफी अहमियत रखती है! ये अहमियत इस लिए रखती है की जरुरत नहीं है की यूनिफार्म फ़ोर्स के जवान को हमेश ग्रुप में ही ऑपरेशन करना पड़े! बहुत बार ऐसा होता है की जवान ऑपरेशन में तो ग्रुप में गया लेकिन एक्चुअल ऑपरेशन के समय उसे बहुत कुछ अपनी सुझबुझ और सिखलाई के अनुसार करना पड़ता है !


Judging Distance की अहमियत

फील्ड क्राफ्ट की सिखलाई में judging distance एक बहुत ही आहम विषय होता है ! judging distance की अहमियत इस लिए होती है की अगर क जवान को judging distance  सही तरीके से आ रहा है तो वो सही distance पे अपने जातीय  हथियार से फायर कर के दुश्मन को बर्बाद कर सकता है ! जैसे की अगर ओ एसएलआर राइफल के साथ छुपाव में  पोजीशन लिया  और ओ जनता है की उसकी हथियार का कारगर रेंज 300 मीटर है! तो judging distance के अप्लाई करते हुवे जब उसे लगेगा की दुश्मन 300 मीटर् के अन्दर आ गया है तो  अपने  हथियार से कारगर फायर कर उसे मार सकता है!  अगर judging distance  नहीं मालूम तो हो सकता है की अभी दुशमन दूर ही हो और ये अपने हथियार से फायर खोल दे जिससे दुश्मन मरेगा भी नहीं और जवान अपना और आपने ट्रूप्स का पोजीशन  दुश्मन को एक्स्पोज  कर दिया ! judging distance  का और भी बहुत उपयोग है ऑपरेशन के दौरान !

फासला असल से कम कब नजर आता है ? 

  • अगर रौशनी तेज हो और सूरज देखने वाले के पीछे हो !
  • निशान आस पास के निशानों से बड़ा हो !
  • देखने वाले और निशान के बिच दबी हवी जमीं हो !
  • निचे से ऊपर देखा जाय !
फासला असल से ज्यादा  कब नजर आता है ? 
  • अगर रोशनी कम हो और सूरज  देखने वाले के  सामने हो !
  • निशान  आसपास के निशानों से छोटा हो !
  • किसी तंग घटी या रस्ते से देखा जाय !
  • लेट कर पोजीशन से देखा जाय !
  • ऊपर से निचे को देखा जाय !
फासले को अनुमान लगाने के कौन कौन से तरीके है ?
 6 तरीके है :
  • इकाई का तरीका : यह जरुरी है की जवान को 100 गज तक फासले का अनुमान लगाना आता हो ! इस तरीके से 100 गज तक की निशानों की दुरी को 100 - 100 गज के हिस्सों में बटकर सही अनुमान लगा सकते है !
  •  दिखाई का तरीका : टारगेट का आकार तथा खाका देखकर फासले का अनुमान निम्न तरीके से लगा सकते है :
  1. 100 गज : एकदम साफ दिखाई देता है 

  1. 200 गज : आदमी बिलकुल साफ नजर आता है !

  1. 250 गज : राइफल की फोरे साईट का ब्लेड/पोल एक निलिंग पोजीशन में बैठे जवान को कवर करता है 
  2. 300 गज : चेहरा धुधला नजर आता है लेकिन पहचाना जा सकता है !

  1. 400 गज : चेहरा पहचानना मुश्किल होता है ! लेकिन ढांचा साफ नजर आता है ! राइफल का फोरे साईट का ब्लेड /पोल खड़े जवान को कवर कर लेता है !
  2. 500 गज : बदन कंधे से निचे पतला नजर आता है लेकिन हाथ पव का हरकत नजर आती है !
  3. 600 गज : सिर एक नुक्ता नजर आता है !
  • ब्रकेटिंग का तरीका : 600 गज से अधिक का फासले का अनुमान लगाने के लिए किया जाता है ! देखने वाला एक निशान को अधिक से अधिक और कम से कम फासले का अनुमान लगता है फिर दोनों का औसत निकल ली जाती है ! अधिक से अधिक और काम से कम अनुमान लगायी गयी दूरी के बिच में 300 गज या उससे ज्यादा का फर्क होना चाहिए !
  • की रेंज का तरीका : लम्बे फासले का अनुमान लगाने में बहुत मददगार होता है ! बिजली के खम्भे , टेलेफोन के खम्भे या मईल स्टोन की मदद से इसका अंदाजा लगाया जाता है !
  • सेक्शन एवरेज : इसमें सेक्शन के पुरे जवानों को टारगेट का फासला का अनुमान लगाने को बोला जाता है  और अभी जवानों द्वारा लगाये गए अंदाज को एक साथ जोड़ कर फिर उसका एवरेज निकल दिया जाता है ! असल से बहुत ज्यादा और बहुत कम बताने वाले जवानों का बताया हुवा दूरी इसमें सामिल नहीं करते है !
  • आवाज़ का तरीका : हवा में आवाज का रफ़्तार ११२० फीट प्रति सेकंड है जबकि रौशनी का रफ्तार 1,86,000 मिल प्रति सेकंड है ! इसलिए लिएदुश्मन का हथियार का फ़्लैश  को देखते है यदि देखने वाला एक सेकंड में चार तक गिनती की रफ़्तार से गिनती गिने उस फ़्लैश की आवाज़ सुनाई देने तक जितनी गिनती करता है उतने ही सौ गज पर टारगेट है !
फासले का अनुमान लगाने में कितनी माफ़ी गलती दी जाती है ?
  • 300 गज तक 10% यानि अगर फासला 300 गज है तो 270 गज या 330 तक सही मन जाता है !
  • 400 गज से 15% 
ऐसे तो judging distance एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है लेकिंन इसमें महारत हासिल करने के लिए प्रैक्टिस की बहुत जरुरी होती है ! एक कमांडर को चाहिए की कुछ कुछ अन्तराल पर सेक्शन या पलटन स्तर पर  judging distance अ ओने मिनट्स ड्रिल रखना चाहिए !





फिल्डक्राफ्ट और उसके फायदे

यह पोस्ट में fieldcraft  ,Importance of fieldcraft , the purpose of  fieldcraft ,  इत्यादि के बारे में है !

फिल्डक्राफ्ट क्या है ?
फिल्डक्राफ्ट एक कला है जिसमे  एक जवान को नेचुरल और बनावटी सामानों का उपयोग सीखता है की इस नेचुरल और बनावटी चीजो के उपयोग से कैसे ऑपरेशन एरिया में वह अपने आप को दुश्मन के नजरो या उनके और किसी इंस्ट्रूमेंट के ऑब्जरवेशन  से छुपाव हासिल कर सकता है  ! और दुश्मन के नजदीक से नजदीक जा के बर्बाद कर सकता ! इसलिए ग्राउंड और आस पास के के नेचुरल और बनावटी चीजो का सही से सही इस्तेमाल फील्ड क्राफ्ट सिखाता है !


फिल्डक्राफ्ट सिखने का उद्देश्य  क्या होता  है ?
फिल्डक्राफ्ट  की ट्रेनिंग का उद्देश्य एक जवान के अन्दर निम्लिखित चीजो से अवगत करना होता है :

  •  सेन्स का इस्तेमाल करना सिखता  है !
  • हमेशा ग्राउंड का सही इस्तेमाल करना सीखता  है !
  • सामान और इक्विपमेंट के साथ कैसे चलते है वो सीखता है !
  • सही सही दुरी का अनुमान कैसे लगाया जाय सीखता है !
  • टारगेट पहचानना और उसका बयान करना सीखता है !
  • किसी भी सिचुएशन में सतर्क रहते हुवे कैसे एक्ट किया जाय ये सीखता है !
Camouflage
Camouflage


फिल्डक्राफ्ट की आवश्यकता :

फिल्डक्राफ्ट के ट्रेनिंग  एक जवान को  आत्म निर्भर , मेंटल टौफ़नेस और अपने आप में एक कॉन्फिडेंस पैदा करती है जिससे एक जवान  अपने और अपने साथियों के फायदे के लिए ऑपरेशन एरिया के जमीनी हालत को बहुत ही सही तरके से इस्तेमाल करता है  और दुशमन के नजरो को धोखा देते हुवे उसे बर्बाद करता है ! 

फिल्डक्राफ्ट में इस्तेमाल होने वाले कुछ वर्ड्स और उनका मतलब : ये कुछ वर्ड्स है जो फिल्डक्राफ्टमें ज्यादतर इस्तेमाल होते है:

  • कवर(Cover) : ये नेचुरल और बनावती दोनों तरह का हो सकता है ! नेचुरल कवर जैसे खायी, पेड़ ,  वही बनावटी कवर जैसे की दीवाल ,बिल्डिंग,खोदा हुवा  गड्ढा !  ये कवर से कितना बचाव मिल सकता  है वो  कवर के बनावट और मोटाई पे निर्भर करता है! 
  • कांसिल्मेंट(Concealment):   ऑब्जरवेशन और सर्वेलेंस से बचाव को कांसिल्मेंट उसे कहते है! छुपाव/कांसिल्मेंट हम नेचुरली या बनावटी  सामान से हासिल कर सकते है ! नेचुरल छुपाव जंगल ,घास , पेड़ के पत्ते से हसिल कर सकते है वैसे ही हम कुछ बनावती सामान जैसे की कैमोफ्लैज नेट्स , कैमोफ्लैज क्रीम और उसी तरह के बनावटी सामानों से हासिल कर सकते है! जाहे नेचुरल या बनावटी सामानों से हासिल कान्सिल्मेंट एक जवान का पोजीशन, गाड़ी या उसका रूट को छुपता है ! कान्सिल्मेंट को उतम दर्जे को बनाया जा सकता है जब लाइट, आवाज़, हरकत या किसी तरह का स्मेल नहीं किया जाय तो ! कान्सिल्मेंट से पूरी तरह छुपाव हासिल नहीं किया जा सकता है क्यों की आज कल बहुत उम्दा टेक्नोलॉजी आ गया है ओ कैसे भी हरकत को ढूढ़ निकलता फिर भी हम काफी हदतक दुश्मन को धोका दे सकते है  !
  • डिटेक्शन (Detection) : किसी चीज का उसके लोकेशन के साथ पता लगाना ही खोज (detection) कहलाता है ! यह गहन खोज , धुल, लाइट आवाज या हरकत को देख कर प्राप्त किया जाता है !
  • देखभाल(Observation): सावधानी पूर्वक और ध्यान से जमीनी बनावट  और घास पूस की बनावट को अध्यन करने अच्छा ऑब्जरवेशन हासिल किया जा सकता है! इसको हासिल करें के लिए थोडा एक्स्पेरिंस और कुछ तकनीक की इस्तेमाल करने से हासिल किया जा सकता है !

 फिल्डक्राफ्ट के ट्रेनिंग के बाद एक जवान में ये गुण हासिल हो जाते है : 
फिल्डक्राफ्ट की ट्रेनिंग एक जवान  को ऑपरेशन में होमेली फीलिंग देता है और उसके अन्दर सेंस ऑफ़ कॉन्फिडेंस को नेचुरल तरीके से बढ़ा देता है!एक जवान ये गुणबढ़ जाते है :
  •  पॉवर ऑफ़ ऑब्जरवेशन (Power of Observation) 
  • ऑपरेशनल एरिया में आत्म अनुशाषित रहना (self discipline in operational area)
  • सतर्क रहन (alertness)
  • सिचुएशन के अनुसार एक्ट करना ( adaptability)
फिल्डक्राफ्ट एक जवान वो जाहे सिविल पुलिस का हो या आर्म्ड फ़ोर्स सभी एक जमीनी के बनावट और सिचुएशन के साथ कैसे करने का कला सिखाता है!
:


Sunday, March 27, 2016

फोन से रेल टिकेट कैंसेल कैसे कराये ?

How to get rail ticket cancelled through telephone, ऐसे तो देखा जाय तो  आर्म्ड फोर्सेज के जवान को बहुत  कम ही rail ticket  reaserve कर के जाने को मिलता है लेकिन आज कल टेक्नोलॉजी के बढ़ जाने से रेल का ticket काउंटर काफी रिमोट लोकेशन पर भी खुल गया है और जवान अब पहले के मुकाबले ज्यादा रिज़र्व रेल ticket का फायदा उठाने लगे है ! क्योकि अब रेल टिकेट अब मोबाइल से भी रिज़र्व किये जा सकते है !


टेक्नोलॉजी तो बढ़ गयी है लेकिन उसके साथ ड्यूटी भी बढ़ गयी है आर्म्ड फ़ोर्स के जवानों का किसी न किसी करान से साल दो 2-4 महीनो के लिए छुटी जरुर बंद रहती है या तो इलेक्शन ड्यूटी है या कही लॉ & आर्डर का इशू आ गया ! रिजर्वेशन 4 महीने पहले कराना है अगर रिजर्वेशन मिलगयी तो आराम से जा सकते है !

ये जो रेल  टिकेट कैंसलेशन फोन के द्वारा जो सुबिधा आई है उससे ज्यादा फायदा जो आर्म्ड फ़ोर्स के लोग रिमोट एरिया में रहते है और उन्हें किसी और साधन के द्वारा चल के आने के बाद  ट्रेन पकड़नी है ! जैसे की जो लोग अंडमान निकोबार में ड्यूटी करते है उन्हें ट्रेन पकड़ने के लिए पानी जहाज से आ तो कालकोता, चेन्नई या विशाखापतनम आना पड़ता है ट्रेन पकड़ें के लिए और जो लक्षद्वीप में है उन्हें कोच्ची, कालीकट, या मंगलौर पानी जहाज से आना पड़ता है उसके बाद ट्रेन पकडनी पड़ती , या जो नार्थ ईस्ट पे है उन्हें गुवाहाटी या दीमापुर में कॉन्वॉय से आना पड़ता है तब ट्रेन पकडनी पड़ती है और अगर पानी जहाज या कॉन्वॉय किसी कारन बस लेट हो गया तो ओ अपना ticket कैंसिल नहीं करा पता है  लेकिंन अब इस सुबिधा के आने के बाद ओ अपना ticket बहुत ही आसानी से कैंसिल करा सकेंगे  क्यों की ये देखा जाता है की पानी जहाज के पोर्ट पे पहुचने से करीब 2-3 घंटे पहले से ही मोबाइल की नेटवर्क  जहाज में मिलने लगती है तो जो लोग समझेंगे की जहाज लेट है और नहीं पहुच सकते तो ओ जहाज  में या कॉन्वॉय में रहते हुवे भी अपने ticket कैंसिल करा सकते है !


क्या करनी पड़ेगी फ़ोन के द्वारा ticket कैंसिल करने के लिए यानि कैसे हम रेल टिकेट फ़ोन के द्वारा कर सटे है ? 
ये सुविधा  अप्रैल 2016 से शुरु होने वाली है इसमें टिकेट धारक को  टेलीफोन नॉ-139 पर फोन करनी होगी और वहा पर अपने कनफर्म्ड टिकेट का डिटेल इंटर करना होगा जिसके बाद उनको एक सुरक्षित एक बार इस्तेमाल होने वाली कोड मिलेगा उस कोड को ले कर उसी दिन नजदीकी रेलवे स्टेशन पे जाकर टिक्के खिड़की से अपना  रिफंड लेना होगा !

लगता है की टिकेट के कैंसलेशन से भी रेलवे एक कमाई का जरिया बना ली है :
ऐसे तो सरकार बिचौलिओ को रोकने के लिए ticket का कैंसलेशन चार्ज भी बहुत बढ़ा दी है जो की आम पैसेंजर को भी बहुत तकलीफ दायक हो गया है ! एक तो रिजर्वेशन 4 महीने पहले कर दिया और उसपे से कैंसलेशन चार्ज बढ़ा दिया है आज कल कौन आदमी है जो अपना यात्रा 4 महीने पहले निश्चित करता है कोई नहीं करसकता लेकिंन सरकार है की मानती ही नहीं  कोई की उनको तो लोगो की परेशानियों में भी एक कमाई का जरिया मिल गया है ! इसी को कहते है किसी की परेशानी में फ़ायदा उठाना ! 

रोगटे खड़ा करने वाले अभी के  रेल टिकेट कैंसलेशन चार्जेज इस प्रकार है :

कैंसलेशन चार्ज टेबल
कैंसलेशन चार्ज टेबल 

Saturday, March 26, 2016

टेक्टिकल वर्ड्स और उसका मतलब हिंदी में -II

  1. कोऑर्डिनेटेड लाइन Coordinated Line : जमीनी निशानों से जाहिर की गयी वह फर्जी लाइन , से रत को रियर पार्टिया विथ्द्रावल में दिए हुवे वक्त के अन्दर पर करती है !
  2. काउंटर अटैक  Counter Attack: अपने डिफेंस में अटैक करने के बाद घुसे हुए शत्रु को बहार निकलने की जो करवाई की जाये उसे काउंटर अटैक कहते है !
  3. लोकल काउंटर अटैक Local Counter Attack : यूनिट/सब यूनिट के यूनिट कमांडर  डिफेंडेड एरिया /डिफे डेड  लोकेलिटी इ घुसे हुए या घुसने की कोशिश करने वाले शत्रु को बर्बाद करने के लिए जो जबाबी हमला करते है उसे लोकल काउंटर अटैक कहते है ! लोकल काउंटर अटैक के लिए अलग से कोई रिज़र्व नहीं होते है !
  4. डेलीवेरेट काउंटर अटैक Deliberate Counter Attack : एक तजबीज और तरतीब शुदा जवाबी हमला जो फार्मेशन कमांडर डिफेंडेड  सेक्टर में घुसे हुवे शत्रु को बर्बाद करने के लिए रिज़र्व का इस्तेमाल करते हुवे, करताहै  उसे डेलीवेरेट  काउंटर अटैक कहते है ! डेलीवेरेट काउंटर अटैक कोर/डिवीज़न के निचे वाले फार्मेशन पर नहीं करते  है!


  5. कवरिंग फायर Covering Fire : असाल्ट या काउंटर अटैक करने वाले ट्रूप्स की हरकत को कवर करने के लिए जो सपोर्ट हथियार फायर  मिलती है उसे कवरिंग फायर कहते है !
  6. कवरिंग ट्रूप्स  Covering troops: वह फौजी दस्त, जिसमे आमतौर पर तमाम आर्म्स शामिल होते है जिसको अपने डिफेन्स का पोजीशन से आगे देखभाल करने, दुश्मन को तंग  करने और उसके एडवांस इ देरी पैदा करने के लिए लगाया जाता है ताकि दुश्मन हमारे डिफेन्स की तयारी या विथ्द्र्वाल में कोई दखलंदाजी ना करे सके !
  7. "डी" डे "D" Day: किसी ऑपरेशन को शुरू करने के लिए जो दिन मुकर्ररकिया गया हो उसे डी डे कहते है ! डी डे से पहले के दिनों को माइनस और डी डे के बाद के दिनों को प्लस से जाहिर करते है !
  8. पोजीशन डिफेन्स Position Defence : डिफेंस की वह किस्म जिसमे डिफेन्स अख्तियार करने वाली फ़ौज की चुनी हवी टुकरी जरुरी  जमीं पे लगा दी जाती है  ताकि वह अपने इलाके की खास निगरानी का सके !
  9. लीनियर डिफेन्स Linear Defence : यह एक पोसिस्तिओनल डिफेन्स की किस्म है जिसमे कम गहराई और कम रिज़र्व होते है ! यह आमतौर से नहर या उचे बांध पर लगाया जाता है !
  10. डेलीवेरेट डिफेन्स Deliberate Defence :जब वक्त काफी हो और दुश्मन से मिलाप न हो तो अपनी चुनी हुवी जमीं पे जो डिफेन्स लिया जाता है उसे डेलीवेरेट डिफेन्स कहते है !
  11. मोबाइल डिफेन्स Mobile Defence : डिफेन्स i वह किस्म जिसमे फौजी दस्ते अच्छे कम्युनिकेशन वाले वाले हथिया और गाडियो का दुरुस्त उपयोग करते हुए डिफेन्स अख्तियार करते है !
  12. हेस्टी डिफेन्स Hasty Defence : जब वक्त कम हो और दुसमन से लगाव हो जाये तो एसी हालत में जो जल्दिवाजी का डिफेन्स लिया जाता है उसे हेस्टि डिफेन्स कहते है !
  13. डिफेंडेड एरिया Defended Area :  ऑपरेशन की जिमेवारी का वह इलाका जिसमे डिफें डेड लोकेलिटी ऐसे लगायी गयी हो जो आपस में मदद कर सकती हो और गहराई में लगायी गयी हो ! डिफेन्स में जो जगह बटालियन पकडती है उसे डिफे डेड  एरिया कहते है !
  14. डिफेनडेड लोकेलिटी Defended Locality :वह जमीन जिस पर एक प्लाटून या कंपनी का सब तरफ से बचाव करने के लिए ट्रूप्स की तरतीब दी गयी हो  उसे डिफेंडेड लोकेलिटी कहते है !इसमें छोटी टुकडिया या सुब यूनिट और डेप्थ और म्यूच्यूअल सपोर्ट लिए हुए होते है !
  15. फॉरवर्ड डिफेंडेड लोकेलिटी Forward Defended Locality : वो डिफेंडेड लोकेलिटी जिनका दुश्मन से पहले सामना होता है उसे फॉरवर्ड डिफेंडेड लोकेलिटी कहते है !
  16. डिफेंडेड पोस्ट  Defended Post: वह जगह जहा पर एक छोटी सब-यूनिट (जैसे की सेक्शन ) कब्ज़ा लिए हुए रहती है उसे डिफेंडेड पोस्ट कहते है ! डिफेंडेड लोकेलिटी के अन्दर डिफेंडेड पोस्ट म्यूच्यूअल सपोर्ट में पोजीशन लिए हुए रहते है !
  17.  डिफेंसिव फायर Defensive Fire(DF)  :पहले से मुकरर किया हुवा फायर , जो दुश्मन का हमला या हमले के शक पर फौरन किया जा सके उसे डिफेंसिव फायर कहते है !
  18. क्लोज डीऍफ़ Close DF: डिफेंडेड लोकेलिटी के नजदीक मुकरर किया गया वह टास्क जो दुश्मन के हमले  को फोर्मिंग अप प्लेस पर, स्टार्ट लाइन पर ,या असली असाल्ट के दौरान रद्द करने के लिए गिराया जाता है  उसे क्लोज डीऍफ़ या नजदीक डी ऍफ़ कहा जाता है !
  19. डी ऍफ़ इन डेप्थ DF in Depth : ज्यादा गहराई में मुकरर किये गए वो टास्क जो दुश्मन के हमले की तयारी को बिगाड़ दे उसे दी ऍफ़ इन डेप्थ कहते है !
  20. डी ऍफ़ एस ओ एस DF SOS: पहले से मुकरर वो टास्क  जिन पर गने , मोर्टार, और जहा तक मुमकिन हो मेडियम मचिन गन (अगर दूसरी जगह पे नहीं लगी हो तो )ले कर के रखा जाता है ! यह आम तौर पर अपने डिफेन्स के नजदीक दुश्मन के हमले को तोड़ने के लिए मुकरर किये जाते है ! फील्ड आर्टिलरी को आम तौर पे एक ही दी ऍफ़ एस ओ एस एक बैटरी के हिसाब से दिया जाता है !
  21. डेफिलाडेड  पोजीशन Defiladed Position : एसी पोजीशन जो की कुदरती तौर पे नजर और फ्लैट ट्रेजेक्टोरी वाले हथियारों के फायर से बचाव में हो !
  22. डायरेक्ट सपोर्ट Direct Support : आर्टिलरी यूनिट/सब यूनिट जिसका फायर बैगर ऊपर वाले हेड क्वार्टर को बताये अमुनिसन की कैफियत का ख्याल रखे हुए कोई फार्मेशन /सब यूनिट ले सके !एसी आर्टिलरी यूनिट/सब यूनिट जो की डायरेक्ट सपोर्ट में हो , वह मदद देने वाली उनितो की देख-भाल उसे मुहैया करने की जिमेवारी है !
  23. ड्रोपिंग जोन Droping Zone : वह निशान लगायी हवी जगह जहा पर हवाई जहाज से सप्लाई और परा ट्रूप्स को उतरा जाता है उसे ड्रोपिंग जोन कहते है !
  24. इफेक्टिव रेंज /कारगर रेंज Effective Range : वह ज्यादा से ज्यादा रेंज होता है जहा तक किसी हथियार का फायर दुरुस्त उर कारगर हो कासुअलिटी या नुकशान पहुचने का काबिलियत रखता हो !
  25. एन्फिलेड फायर  Enfiladed Fire: किसी हथियार का फ्लेंक से किया गया फायर जो की टारगेट की लम्बाई के रुख एक सिरे से दुसरे सिरे तक फायर गिरा सके !

क्राइम सीन पे सबसे पहले करनेवाले काम एक पुलिस ऑफिसर के द्वारा

सिन ऑफ़ क्राइम पे पहुचने के बाद सबसे इम्पोर्टेन्ट कार्य रहता है, क्राइम सिन को सुरक्षित रखने का, वह है की क्राइम सिन कम से कम दूषित और जहा तक संभव हो फिजिकल एविडेंस को किसी भी स्तिथि में डिस्टर्ब होने से बचाया जाय !क्राइम का खबर मिलने के बाद एक पुलिस अधिकारी को तत्परता और एक प्रोफेशनल वे से काम करना चाहिए ! घटना के जगह पे पहुचने के उपरान्त उन्हें घटना को अस्सेस करना चाहिए और घटना स्थल को एक क्राइम सिन मान के काम करना चाहिए !



घटना स्थल पे पहुचने वाले पुलिस अधिकारी को तत्परता के साथ साथ सावधानी पूर्वक सिन ऑफ़ क्राइम के पास जाना या इंटर करना चाहिए! उन्हें चौकना और ध्यान रखना चाहिए सिन ऑफ़ क्राइम के पास अगर कोई व्यक्ति, वाहन , कोई और घटना वह हो रहा हो, मेन एविडेंस और घटना स्थल के पास के वातावरण के ऊपर  !  

इनिशियल रेस्पोंडिंग पुलिस ऑफिसर  को करना चाहिए :
  •  घटना स्थल का विबरण जैसे की पता , लोकेशन , टाइम , तारीख , टाइप ऑफ़ कॉल , पार्टीज इन्वोल्व.
  • चौकना रहे अगर कोई व्यक्ति या वाहन घटना स्थल से भाग रहा  है तो रोके!
  • सावधानीपूर्वक सिन ऑफ़ क्राइम पे जाये , पूरी एरिया को गहन तरीके से मुयैना(स्कैन) करे!
  • क्राइम सिन का अवलोकन करे!
  • कोई वहान या व्यक्ति क्राइम सिन के पास मिले तो सावधानी पूर्वक जाँच करे कही हो सकता है वो व्यक्ति या वाहान क्राइम में समिल्लित हो !
  •  प्राम्भिक आवलोकन में देखना, सुनना, और स्मेल लेने का सेन्स का इस्तेमाल करे और अपनी और दुसरे व्यक्तियों की सुरक्षा को सुनिश्चित कर के ही सिन ऑफ़ क्राइम के नजदीक जाये !
  •  सवधान और सतर्क रहे ये समझे  की क्राइम अभी भी जरी है !

दुसरे शब्दों में कहे तो क्राइम सिन पे पहले पहुचने वाली पुलिस ऑफिसर को बहुत ही observant होना चाहिए क्राइम सिन के एंट्री , एग्जिट और एप्रोच करते हुवे.

सुरक्षा प्रोसीजर

 फर्स्ट रेपोंडिंग पुलिस ऑफिसर  की पहली प्राथमिकता अपनी,अपनी साथियों और क्राइम सिन पे मौजूद दुसरे लोगो का सुरक्षा होनी चाहिए! फर्स्ट रेपोंडिंग पुलिस ऑफिसर  को घटना स्थल पे पहुचते ही खतरा को पहचाना और सिचुएशन को कण्ट्रोल करना चाहिये.

फर्स्ट रेपोंडिंग पुलिस ऑफिसर  को सेफ्टी के लिए करना चाहिए:

  • अपनी और अपने साथियों की सुरक्षा को सुनिश्चित करना चाहिए!
  • क्राइम सिन के मुयाने के दौरान किसी लाइट , साउंड या स्मेल जो की वहा पे मौजूद व्यक्ति को नुकशान पंहुचा सकता है को विशेष ध्यान देना चाहिए.खतरनाक पदार्थ जैसे, केरोसिन तेल, डीसेल, पेट्रोल या कोई ऐसा केमिकल जो  ख़तरना हो सकता है उसके सावधानी पूर्वक वह से अलग करा देना चाहिए!
  • कोई ऐसा केमिकल पदार्थ  जिसे केवल प्रशिक्षित व्यक्ति ही हटा सकता है तो उसे कंसर्न डिपार्टमेंट को सूचित करना चाहिए. अपने  द्वारा उठाने का कोशिश नहीं करना चाहिए!
  • घटना स्थल को अप्रोच करते हुवे अपने सुरक्षा के साथ विक्टिम, विटनेस, और अन्य लोगो का ध्यान रखे!
  • सिन ऑफ़ क्राइम को सुर्वे करे और कोई dangerous व्यक्ति वहा है तो उसे कण्ट्रोल करे!
  • अगर सिचुएशन कण्ट्रोल में नहीं आ रहा है तो अपने से सेनियर अधिकारी को सूचित करे और बैकअप मांगे!
Emergency Care

सिचुएशन को अंडर कण्ट्रोल  में लाने के बाद फर्स्ट रेस्पोंडिंग ऑफिसर का काम है की  निश्चित करे के घायल लोगो को मेडिकल सुबिधा मिले और उस दौरन ये भी ध्यान रखे की कोई वाइटल एविडेंस को नुकशान ना पहुचे और दूषितट न हो पाए!

फर्स्ट रेस्पोंडिंग ऑफिसर का काम है :
  •  अगर कोई घायल है उसे देखे और जल्द से जल्द मेडिकल हेल्प की व्यस्था करे !
  • मेडिकल टीम और एम्बुलेंस को बुलाये
  • मेडिकल टीम को बताये की मेडिकल हेल्प देते समय ध्यान रखे की क्राइम सिन में कोई अल्टरेशन न हो .
  • मेडिकल टीम को मुख्य एविडेंस के बारे में बताये और बोले की उसको कम से कम छुए !
  • सुनिश्चित करे की मेडिकल टीम विक्टिम का वस्त्र और पर्सनल इफ़ेक्ट को यथा स्तिथि बनाये रखे कपडे के बुलेट होल या कोई कट मार्क को फाडे नहीं !
  • मेडिकल टीम को आगाह करे की सिन ऑफ़ क्राइम को साफ ना करे और कोई सामान यहाँ से न ले जाये !
  • अगर आप के आने से पहले मेडिकल टीम आ गयी है तो उनका नाम और पता , कांटेक्ट नंबर सब लेले.
  •  अगर आप को लगता है की घायल विक्टिम मर सकता है तो उसका डाईंग डिक्लेरेशन लेने का कोशिश करे !
  • सिन ऑफ़ क्राइम पे विक्टिम, सस्पेक्ट, या विटनेस के द्वारा कोई भी बयान दिया गया है तो उसे डॉक्यूमेंट करे !
  • अगर विक्टिम को किसी हॉस्पिटल में रेफेर किया है तो उसके साथ एक पुलिसवाले को भेजे !

सिन ऑफ़ क्राइम पर इकठ्ठा हुए लोगो को सिक्योर और कण्ट्रोल

कण्ट्रोल करना , पहचान करना और ओगो को सिन ऑफ़ क्राइम से हटाना और सिन ऑफ़ क्राइम को सुरक्षित रखने के लिए कम से कम लोगो का मूवमेंट सिन ऑफ़ क्राइम के पास होना चाहिए.इसलिए फर्स्ट रेस्पोंडिंग ऑफिसर को चाहिए की:
  • सिन ऑफ़ क्राइम के पास जो लोग है उन्हें कण्ट्रोल करे और उन्हें सिन ऑफ़ क्राइम को डिस्टर्ब करने या डिस्ट्रॉय करने से रोके!
  • सिन ऑफ़ क्राइम के पे मौजूद लोगो को पहचाने और सस्पेक्ट और वीनस को सिक्योर और सेपरेट करे !
  • आजू बाजु खड़े लोगो को देखे और पहचाने की क्या ये विटनेस हो सकता है यदि हा तो उसे सिक्योर और सेपरेट करे और बाकि लोगो को वह से हटाने का कोशिश करे !
  • हटाने का एक कारगर तरीका जो आम तौर पर पुलिस इस्तेमाल करती है वो है की आजू बाजु खड़े लोगो का विडियोग्राफी /फोटोग्राफी करना और उनका नाम और एड्रेस लिखने से बहुत बार देखा गया है की भीड़ सिन ऑफ़ क्राइम से भाग जाती है !

बरिकाडिंग/ सेकुरिंग सिन ऑफ़ क्राइम

बाउंडरी बनाते समय मेन पॉइंट से शुरु करते हुवे आउटवर्ड जाना चाहिए जिसमे की ये सब कवर हो जाय :
  •  जगह जहा पे क्राइम हुवा है
  •  सस्पेक्ट और विटनेस  का एंट्री और एग्जिट का रास्ता !
  •  वो जगह जहा विक्टिम/एविडेंस को मूव कर के रखा है !इसमें कही कोई ट्रेस और इम्प्रैशन हो उसे भी कवर करे !
  • फिजिकल बैरियर यानि टेप या रस्सी से लगाये जिससे की कोई अनावश्यक लोग वह न जा सके अगर सिन ऑफ़ क्राइम कोई मकान है तो उसे लॉक और सिल करे !
  •  फुटस्टेप, टायर मार्क और ऐसी कोई मार्क जो धुप, वरिश या हवा से नस्त हो सकती है उसे बचाना का वेवस्था करे! 

 सिन ऑफ़ क्राइम पे एविडेंस को बचाना का बरिकडिंग एक अहम् काम करता है 

डाउनलोड पीडीऍफ़ वर्शन ऑफ़ ड्यूटी ऑफ़ फर्स्ट रेस्पोंडिंग पुलिस ऑफिसर अट सिन ऑफ़ क्राइम 


Thursday, March 24, 2016

2" मोर्टार का पार्ट्स और टेक्निकल डाटा

इस पोस्ट में 2" मोर्टार  के पार्ट्स का नाम उसका काम ! उससे कैसे फायर किया जाता है!  2" मोर्टर में पड़ने वाले रोको ! 2" मोर्टार से फायर होने वाले अमुनिसन  इत्यादि के बारे में बताएँगे ! 2" मोर्टार  का इतिहास !


2" मोर्टार  को ब्रिटिश आर्मी और कामनवेल्थ के आर्मी ने सेकंड वर्ल्ड वार से दौरान इस्तेमाल कारन शुरु किया इससे पहले जो भी मोर्टार थे ओ लम्बे बैरेल के थे उनको लाना और छुपा आसन अनहि था इसकी को ध्यान में रखते हुवे वर्ल्ड वार -2 के दौरान ब्रिटिश आर्मी ने 2" मोर्टार  को अपनाया ! इसका सबसेपहले खासियत था की ये इसका बैरेल छोया होने के कारन ये कॉम्पैक्ट था इसमें मोबिलिटी ज्यादा थी ! आबी तक 14 मार्क तक 2" मोर्टार  आ गए है लेकिंग इनमे से बहुत से उतना सफल नहीं हुवे इस लिए अच्छे से अच्छा बनानेके लिए अभी तक इतने मार्क वाले 2" मोर्टार  आगये है ! शुरुवात 2" मोर्टार  मार्क -I आते आते मार्क -VIII तक .

 2" मोर्टार के पार्ट्स का नाम :
forpoliceman-2" mortar parts name
2" मोर्टार 


ऐसे तो 2" मोर्टार को एक प्लाटून का तोप खाना कहते  है और ये बहुत इफेक्टिव वेपन है विशेषकर अम्बुश को तोड़ने के लिए और जंगले वाले एरिया में ऑपरेशन करते समय !

2" मोर्टार  के कुछ बेसिक जानकारी इस प्रकार से है जो की मै Q & A फॉर्मेट में इस प्रकार से है !

S.N
Details
1
2” मोर्टार का वजन ब्रीच पिस के साथ (बेस प्लेट छोड़कर ) कितना होता है ?
A
मार्क –II का 9 पौंड और मार्क-III का 9 पौंड 2 औंस
2
2” मोर्टार का बैरेल का वजन कितना होता है ?
A
5 पौंड
3
2” मोर्टार की लम्बाई कितनी होती है ?
A
मार्क –II का 22.27 इंचेस और मार्क-III का 26.44 इंचेस
4
2” मोर्टार की बैरेल की लम्बाई कितनी होती है ?
A
मार्क –II का 21 इंचेस और मार्क-III का 21.37 इंचेस
5
2” मोर्टार बैरेल की कुतर कितना होता है ?
A
2.015” होता है जब ज्यादा फायर करते है तो इसका कुतर बढ़ कर 2.045” हो जाता है तब इसे इस्तेमाल नहीं करते है !
6
2” मोर्टार का मजल वेलोसिटी कितना होता है ?
A
240 फीट प्रति सेकंड (73.2 मीटर प्रति सेकंड )
7
2” मोर्टार का फायर कण्ट्रोल कौन करता है ?
A
मोर्टार detachment कमांडर
8
2” मोर्टार का रेट ऑफ़ फायर कितना होता है ?
A
3 से 5 बम
9
2” मोर्टार का अधिकतम और न्यूनतम रेंज क्या है ?
A
ज्यादा 525(480 मीटर ) गज और कम से कम 200 गज (180 मीटर ) 
10
HE का मार डालने का इलाका कितना होता है ?
A
फटने की जगह से 8 गज चारो ओर
11
HE का खतरनाक और जख्मी करने का इलाका कितना होता है ?
A
खतरनाक – 250 गज चारो ओर
जख्मी – 150 गज चारो ओर
12
2” मोर्टार से कितने किस्म का बम फायर किया जाता है ?
A
5 किस्म का
i.                    HE
ii.                  स्मोक
iii.                सैंड फिल्ड
iv.                 पैरा
v.                   सिग्नल
13
स्मोक बम कितने देर तक धुवा देता है ?
A
2 मिनट
14
स्मोक बम 6 सेकंड के बाद क्यों धुवा देना शुरू करता है ?
A
डिले प्लेट के कारन
15
एक कैरियर में कितने बम आते है ?
A
6
16
एक बॉक्स में कितने कैरियर होते है ?
A
3
17
HE को किन किन टारगेट के खिलाफ इस्तेमाल करते है ?
A
जब दुश्मन खुले या आड़ के पीछे हो
18
सेफ्टी पिन निकलने के बाद अगर HE को ब्लास्ट नहीं किया गया तो हे को क्या करे ?
A
ब्लाइंड बम की तरह बर्बाद कर देना चाहिए
19
पैरा और सिग्नल बम का रौशनी देने का समय क्या है ?
A
पैरा -30 सेकंड
सिग्नल – 9-14 सेकंड तक
20
2” ओरोर को कौन कौन से कोण से फायर किया जाता है ?
A
दो कोण से – हाई एंगल और लो एंगल
21
HE बम का वजन कितना होता है ?
A
2.5 पौंड (1.13 किलोग्राम )
22
2” मोर्टार से कितने किस्म के फायर करते है ?
A
(i)                 डायरेक्ट(टारगेट देख कर )  ii. इन डायरेक्ट(टारगेट बिना एखे हुवे )
23
टारगेट को बिना देखे फायर किन किन मौको पे किया जाता है ?
A
(i)                 जब किसी बांध या आड़ के पीछे से फायर किया जाता हो
(ii)               जब टारगेट दिखाई न देता हो
(iii)             जब बम को टारगेट पे खड़े रूप में गिरना हो !
24
2” मोर्टार ditachment के पास कितना बम होता है ?
A
HE-18  स्मोक -12
25
स्मोक बम को किस कोण से फायर करना चाहिए ?
A
लो एंगल से
26
2” मोर्टार के मिस फायर का कारन क्या क्या हो सकता है
A
(i)                 फायरिंग पिन का जाम हो जाना
(ii)               किसी हिस्से पुर्जे का टूट जाना
(iii)             कार्टिज में खराबी होना
(iv)              स्टील पेड पर धातु का जम जाना
(v)                बम को स्टील पैड पर ठीक से न बैठना
(vi)              रिटेनिंग कैप का ढिल्ला होना
(vii)             
27
2” मोर्टार का HE बम की चीज में सुराख़ क्यों नहीं बना सकता ?
A
क्यों की ओ गिरते ही फट जाता है
28
ब्लाइंड बम और मिस फायर में क्या अंतर है ?
A
फायरिंग पिन पे चोट मरने के बाद कोई बम फायर न हो उसे मिस फायर कहते है जब की ब्लाइंड बम ओ होता है जो फायर होने के बाद न फटे!
29
400 गज पे टारगेट को बर्बाद करने के किये कौन कौन सा एंगल सही होगा ?
A
67.5  और 22 .5 डिग्री
30
2” मोर्टार से कम से कम और ज्यदा से ज्यादा कितने डिग्री तक फायर किया जा सकता है ?
A
कम से कम 5 डिग्री और ज्यदा से ज्याद 85 डिग्री
31
पैरा और सिग्नल बम किस एंगल से फायर करते है ?
A
80 डिग्री
32
पैरा बम की त्रेजेक्ट्री कितनी उचाई पे बनती है ?
A
600 फीट
33
सैंड फिल्ड बम कब इस्तेमाल किया जाता है ?
A
ट्रेनिंग देने केलिए
34
टेल यूनिट का क्या काम है ?
A
बम को हवा में सिधाई देना और उसे नोज के बल गिरने देना
35
2” मोर्टार को कितने पोजीसन से फायर क्या जा सकता है ?
A
दो पोजीसन – लेट कर और घुटना टेक कर
36
निलिंग पोजीसन में नॉ-2  का पोजीसन कहा होता है ?
A
नॉ-1  के दाहिने
37
निलिंग पोजीसन में नॉ-2 का कौन सा घुटना जमीं पे होता है ?
A
दाहिना
38
2” मोर्टार को फायर करने से पहले एंगल निर्धारित करते समय किन किन बातो को ध्यान में रखना चाहिए ?
A
हवा , जमीन, टैक्टिकल हालत
39
2” मोर्टार का सही एंगल हासिल करने का तरीका क्या है ?
A
स्पेड बेस से न लेकर कोण जमीन की सतह से ली जाय
40
2” मोर्टार को माउंट करते समय ध्यान में रखने वाली बाते
A
बम का उड़न का रास्ता साफ हो और स्पेड बसे के लिए जगह बनायीं जाय
41
2” मोर्टार ले करते समय देखने वाली बाते
A
टारगेट , मोर्टार का सफ़ेद लाइन और फायरर का सर एक सीध में होनी चाहिए
42
स्मोक बम का डिले प्लेट का क्या काम है
A
हुए को 5 सेकंड के लिए डिले करना
43
2” मोर्टार से बिना टारगेट देखे फायर के लिए किस प्रकार का ऐमिंग मार्क क जरुरत पड़ती है !
A
सब्सिडरी और अक्स्जुलारी ऐमिंग मार्क का
44
ऐमिंग मार्क लगते समय ध्यान में रखने वाली बाते ?
A
(i)                 इलाके से बैक ग्राउंड मिलता जूता हो
(ii)               स्काई लाइन पे न लगाके थोडा अपने तरफ ढलान पे लगायी जनि चाहिए !
(iii)             मजबूती से गाडा जाय
(iv)              लगते समय शत्रु को न दिखाई दे
(v)                जरुरत के मुताबिक दुरी पे लगाया जाय
45
ऐमिन्ग्मार्क लगाने की जिम्मेवारी किसकी ई ?
A
नॉ-2 का
46
बम को रात में पहचाने का क्या तरीका है ?
A
उसके ऊपर बने निशान देख कर  या टटोलकर
47
2” मोर्टार के बोम्बो को रत में पहचानने के निशान बताओ !

(i)                 HE- बेस कैप चपता होता है सेफ्टी कैप के पास टेप लगा हुवा होता
(ii)               स्मोक – टेल यूनिट की तरफ बॉडी अन्दर दबी हवी होती है !
(iii)             पैरा – कैप पर उभरा “P” लिख रहता है
(iv)              सिग्नल लाल – कैप पे + का निशान बना होता है
(v)                सिग्नल हरा – कैप पे ^ का निशान बना होता है
(vi)              मल्टी स्टार – कैप पे +^ का निशान बना होता है
(vii)            सिग्नल- कैप पे S का निशान बना होता है
48
बोम्ब्स का वजन बताये
A
HE- 2.5 पौंड लगभग  बाकि सभी 2 पौंड के होते है
49
2” मोर्टार की सफाई कितने प्रकार की होती है ?
A
(i)                 आम सफाई
(ii)               फायर से पहले की सफाई
(iii)             फायर के दौरान की सफाई
(iv)              फायर के बाद की सफाई
50
HE बम में लगे 151 और 161 नम्बर की फुज में क्या फर्क है ?
A
151 फ्यूज वाले बम में सेफ्टी पिन नहीं होता है जबकि 161 वाले में सेफ्टी पिन होता है
51
सेफ्टी पिन का क्या फायदा है ?
A
ये बम को आर्म्स होने से बचाता है ! और पैरासूट से बम को उतरा जा सकता है
52
HE बम की सेफ्टी पिन कब उतरा जाता है ?
A
भरते समय
53
2” मोर्टार से हाई एंगल फायर कब किया जाता है ?
A
जब टारगेट किशी माकन, पहाड़ी , या दरख्त के पीछे छुपा हो या बम को टारगेट पे खड़े रुख में गिरना हो
54
फायर के दौरान कितना कैरेक्सं देना चाहिए ?
A
ऊपर नीच 50 गज और दाहिने बाये 5 डिग्री
55
डायरेक्ट फायर से क्या समझते है ?
A
जब टारगेट दिखाई दे रहा हो और उसपे ले का के फायर किया जा रहा हो उसे हम डायरेक्ट फायर कहते है !
56
2” मोर्टार का वजन पुरे इक्विपमेंट के साथ कितना होता है ?
A
लगभग 12 पौंड
इसके अलावा भी कुछ पॉइंट ऐड किया जा सकता है तो प्लीज कमेंट बॉक्स में ऐड करे और ये पोस्ट पसंद आया तो प्लीज सब्सक्राइब करे !
इन्हें भी पढ़े :
  1. 7.62 mm एसएलआर का बेसिक डाटा -I
  2. 7.62 Self Loading Rifle basic data-II?
  3. 7.62 Self Loading Rifle basic data-III?
  4. अच्छे राइफल फायर कैसे बने ? 
  5. फायरिंग के दौरान फायरर द्वारा की जानेवाली कुछ गलतिया ? 
  6. 7. 62 mm राइफल में पड़ने वाले रोके कौन कौन से है ?
  7. 7.62mm LMG के बारे में कुछ जानकारिय
  8. 7.62mm ki chal. एस एल आर कैसे काम करता हा(एसएलआर की चाल). 
  9. Basic data of 5.56mm INSAS and It characteristics.

Addwith