Sponser


Monday, February 8, 2016

आतंकवादी घटना में फंसने पे क्या करे और क्या न करे


ऐसे से तो बहुत से लोग  सोचते है की हम कभी खतरनाक आतंकवादी हमले के  स्तिथि में नहीं फंस सकते और अगर फंस भी जाये तो हम आपने आप को उसमे से बचालेंगे  और बहुत से लोग भी आप के जैसे ही सोचते है ! यह पोस्ट मै किसी  मजाक के लहजे में नहीं लिख रहा हु बल्कि ये समय की जरुरत है की आप और केवल आप नहीं बल्कि हम सब जाने की किसी खतरनाक स्तिथि जैसे की बम ब्लास्ट, स्ट्रीट शूटिंग  या किसी पब्लिक प्लेस के शूटिंग या आतंकवाद के हमले  में जहा कुछ गनमैन या आतंकवादियों लोगो को मार रहे है! यानि मेरा कहना है की आतंकवादी हमला हो रहा है वह से कैसे बचे !
      ये विषय आज के समय के लिए बहुत तार्तिक   है किसी खास के लिए नहीं बल्कि सबके लिए क्यों की आज कल ऐसी स्तिथि दिन पे दिन बढ़ रही है इसलिए हमारी थोड़ी सी सजगता हमे उस स्तिथि से सुरक्षित बहार निकलने में मदत करेगी या समय राहते उस जगह से निकल जाने में सहायक होगी.
      (a)    ऐसी स्तिथि में कुछ चीजे तो हमारे खिलाफ जाता है :
(i)       समान्यतौर  कि सोच रखना(General perception) :शुरु शुरू में मानव दिमाग हर चीज को सामान्य तौर पे ही लेता है ओ चाहे बम फाटे या आतंकवादी गोलीबारी कर रहे हो. येही करण होता है की ऐसे स्तिथियों में जो लोग आपके आजू बाजु खड़े होते है ओ मूक दर्शक बन के रह जाते है और ओ उस सिचुएशन में मदद करने के जगह वो फ्रीज हो के रह जाते है क्यों की मानव दिमाग स्तिथि को एडजस्ट करने में कुछ समय लेता है और जब तक ओ कुछ समझ पाए तब तक या तो ओ मरे जाते है या मरनेवाला वहा  से बच के निकल जाता है! हम पब्लिक प्लेस पे है और gunfire की आवाज़ आये तब भी हमारा दिमाग येही बोलता है की कही कोई क्रैकर्स फाटे होने या किसी गाड़ी का टायर फट गया होगा. क्यों की उसकी सम्भावनाये ज्यादा रहती है. यानि मेरा कहने का मतलब ये है की हम कितनी भी खतरनाक एरिया में रह राहे हो या समय में लेकिन हमारा दिमाग में  सबसे पहले एक सामान सोच ही आती है लेकिन अब समय बदल गया है हमे आपनी सोच भी समय और माहौल देख कर बदलनी चाहिए.
(ii)      समय पे सहायता नहीं(No timely help) : अमेरिका की FBI की रिपोर्ट के अनुसार 60% शूटर इंसिडेंट 2 मिनट के अन्दर ख़त्म हो जाता है! जब तक की पुलिस आये तब तक सब कुछ ख़त्म हो जाता है इसलिए हमलोगों  को जानना चाहिये की ऐसे सिचुएशन में अगर फंस जाये तो क्या करना चाहिए और क्या नहीं! ऐसे सिचुएशन में केवल आप और आप ही अपने आप को या अपने परिवार के लोगो को  बचा सकते है और कोई नहीं !
(iii)      निर्णय न लेना(Lack of quick decision) : बहुत से लोग ऐसे सिचुएशन में फ्रीज होजाते है निर्णय नहीं कर पते है ! ऐसे नहीं है की ओ लोग डरपोक है या लचर है बल्कि वो लोग ऐसे सिचुएशन के लिए मेंटली प्रेपरेड ही नहीं थे!
(iv)      Mob Mentality : शोध से यह सिद्ध हो चूका है की जब भी हम ऐसे सिचुएशन में फंसते है हम आपना खुद का दिमाग इस्तेमाल नहीं करते है हम दुसरे के कहने पे बहुत विश्वास रखते है हमे लगता है की ओ सब कुछ कर रहा है या बता रहा है वही सही है. लेकिन ये आतंकवादी घटनावो या सिचुएशन में सही नहीं है क्यों की ये हम जानते है की ऐसे घटनो में शुरू शुरू में सब काठ बन जाते है ! इस लिए ऐसे सिचुएशन में सबसे अच्चा है जो भी हम करे त्वारिती (QUICK)करे.  
     (b)    चीजे जो आप को बचा सकती है ऐसे सिचुएशन में(Acts which can help in during terrorist attack) : यह नहीं की आप कितनी  जल्दी दरवाजा बंद कर लेते है , या जगह  छोड़ देते है या कितनी तेज दौड़ लगते  बल्कि ये सब आपका हेल्प कर सकते है लेकिंन बचाव हासिल करने के लिए हमे आपने आप को हमेशा मानसिक रूप से तैयार रहना पड़ेगा. हम कभी भी इमरजेंसी सिचुएशन  में सही तरह से कम नहीं कर सकते जब तक की है उसका पहले से तयारी नहीं किये हो! यही कारन है की मिलिट्री या पुलिस इतनी डमी प्रैक्टिसेज करती है की ओ मेंटली ऐसे सिचुएशन  में रियेक्ट करने के लिए पूरी तरह से तैयार रहे.यानि की  उनको इस काबिल बनता है की ऐसे सिचुएशन में ओ राईट डिसिशन  त्वरित ले सके ! प्रैक्टिस का  एक जीता जगता उदाहरण जापान में स्कूल के बच्चो और लोगो को  भूकंप से कैसे बचा जाये उसी ट्रेनिंग से देखा जा सकता है , अब जापान के लोग भूकम से बचने में इतना ट्रेन हो गए है की जैसे ही भूकंप आता है सब अपने आप ही आजू बाजू में उपलब्ध सामान का उपयोग करते हुए छुपाव हासिल कर लेते है ऐसे ही तयारी हमे आतंकवाद से बचाओ केलिए भी आम आदमी को देना पड़ेगा.
      (c)    कुछ बाते जो आपको  करना चाहिए:
(i)                  शंका होने पे जल्द से जल्द जगह को छोड़ दे(if doubt leave the space) : जैसे की आप किसी मॉल या पब्लिक प्लेस में गयी और वह जाने पे ये आपको लगा की यहाँ कुछ ना कुछ गलत हुवा है या होनेवाला है उस जगह यहाँ वह घुमने से अच्छा है जल्द से जल्द उस स्थान को छोड़ दे.
(ii)                अगर ऐसे जगह पे आप अपने बच्चे या परिवार के साथ गए है तो निश्चित  करे की आपके बच्चे और परिवार वाले आपकी बात को माने अगर नहीं मानते है तो उनको ट्रेन करे !
(iii)               हो सके तो कोई इशार या कोड वर्ड फिक्स करले और आपने बच्चे और परिवार वालो को बताये की इमरजेंसी सिचुएशन में इस का क्या मतलब है और क्या करे!
(iv)              यह आसन नहीं है लेकिंग हो सके ते जितनी जल्द हो सके आपने परिवार के सभी सदस्यों को एक साथ वह से जल्द से जल्द से निकले.
(v)                हमेश खतरा और अपने परिवार के बिच में रहे ! इधर उधारे देखने  में ज्यादा समय जाया ना करे हो सके तो अपने और अपने परिवार को दिवार के पास या ऐसे जगह पे पोजीशन करले जहा पे पीछे से खतरा आने की की सम्भावनाये न की बराबर हो.
      (d)   ऐसे सिचुएशन में करने वाले सर्व श्रेष्ठ कार्य (Best practice ): अगर ऐसे इमरजेंसी सिचुएशन में आप अकेले है और आपके साथ कोई परिवार के लोग नहीं है तो आपको बचाव  करने में थोडा ज्यादा सहूलित मिलेगी और आपकी मोबिलिटी बढ़ जाएगी  क्यों की यहाँ आप अपने आप को  बचा रहे है ! फिरभी ऊपर बताई बाते उस पर भी लागू होती है! ऐसे जब मै पुलिस अकादमी में ट्रेनिंग कर रहा था उस दौरान भी हमारे जो एक्सपर्ट ट्रेनर थे वो हमें हथियार चलने के साथ साथ ये भी बताते थे की कोई आम आदमी अगर ऐसे सिचुएशन में फंस गया है तो उसके लिए बचाव का  बेस्ट आप्शन क्या है और ओ क्या करे. तो आम आदमी के लिए बेस्ट तिन आप्शन है ! भागे – छुपे – और सामना करे (Run – Hide- Fight )
(i)                 भागे (Run): सबसे अच्छा तरीका है की उस जगा से अपने आप और अपने परिवार के लोगो को लेकर जितना दूर भाग सकते है भाग जाये! साधारणतः एक राइफल की मारक दुरी 600-700 यार्ड होता है इसलिए आपने आपको इतना दुरी तो जरुर बनाले !अगर ऐसे स्थिति में फंस गए है तो वह से भाग निकालें का कोई भी रास्ता  हो उसका उपयोग करते हुवे जल्द से जल्द वहा से हो सके तो निकल ले! ये तो कॉमन सेंन्स की बात है फिरभी ये देखा गया है की लोगो दौड़ते नहीं है ऐसे सिचुएशन में.
अगर आप किसी बड़े होटल , बैंक, या ट्रांसपोर्ट में  तो आपको इसबात की जानकारी रखनी चैये की इमरजेंसी एग्जिट कहा कहा है ! अगर आप किसी बड़े होटल या बैंक में है तो इमरजेंसी एग्जिट के अलावा भी बहुत सारे सरे एग्जिट होते है जहा से उस होटल या बैंक के एम्प्लोयी केवल आते जाते रहते है उसका भी इस्तेमाल करे और जल्द से जल्द वहा से निकल ले.
अगर आप ऐसे सिचुएशन में भाग रहे है और ओपन एरिया है तो जिग जाग फैशन में दौड़ लगाये जिससे की एक अच्छे शूटर भी सही निशाना नहीं लगा सकता है! ऐसे आप ये जन ले की जो आतंकवादी शूटर है वो कोई अच्छे निशाने बाज नहीं होते है इसलिए जिग-जाग फैशन में निशान एक अच्छा  निशाचि भी नहीं लगा सकता आसानी से !भागेते समय  अपनी सामान का फ़िक्र न करे और सामान लेके न दौड़े. होसके तो दुसरो को भी भागने और ऐसे करने के लिए लिए कहे. और अगर भागते समय आपको लगता है की आप किसी को भागने में हेल्प कर सकते है तो करे.
(ii)               छुपना (Hide): अगर दौड़ते में आपको लगता है की आप काफी समय तक खुले एरिया में है और जहा शूटर आपके ऊपर आसानी से  निशाना लगा सकता है तो आपको छुपने की कोशिश करना चाहिए लेकिन आपके पास आप्शन स्थिर खड़ा रहना और दौड़ लगाने की ह तो आपको दौड़ लगाने वाला आप्शन चुनना चाहिए. यही दौड़ लगा और छुपाव हासिल करेने की आप्शन में से चुनाव करना हो तो आपको हालत और जगह के अनुसार खुद निर्णय लेना चाहिए.
अगर रनिंग आप्शन नहीं है क्यों की शूटर दरवाजे पे खड़ा है तो इस स्तिथि में आपने आप को हाईड करने का कोशी करना चाहिए जिससे की शूटर की नजर से ओझल हो जाये.
छुपाव हासिल करते समय ये ध्यान दे की छुपाव हासिल करने वाली चीज ऐसी हो जो गोली के मर से आप को बचा सके ! कार्ड बोर्ड या पतले प्लाईवुड  या गलास के पीछे छुपाव हासिल न करे.
किसी सख्त चीज के पीछे छुपा हासिल करे ! अगर कोई रूम में आपने आप को बंद कर सकते है तो रूम के अन्दर  घुस के बंद करे ले और रूम के अन्दर जो बी भरी सामान मिले उसे दरवाजे के पास लगे के बल्क कर दे! ये सब कने के बाद अपना पोजीशन कभी दरवाजे के सामने न रखे क्यों की ज्यादातर देखा गया है की हमलावर दरवाजे पे फायर करते है इसलिए रूम के ऐसे कोने मी आपना पोजीशन  रखे जो दरवाजे का सामने ना हो और हमलावर से दूर हो. लाइट बंद करदे, मोबाइल आगर पास में है तो बंद करदे और एकदम शांत हो के पड़े रहे! अगर कोई खाशी का मर्ज है तो उसके मुह पे कपडा रखे जब ओ खाशी करता है उस समय जिससे की आवाज बहार ना जा सके . क्यों की देखा गया है की ऐसे हमले में हमलावर कम से में ज्यादा से ज्याद नुकशान पहुचने की कोशिश करते है इसलिए ओ दरवाज खोलने की ज्यादा कोशिश नहीं करेगे ओ अपना आसान टारगेट को खोजते है. अगर हमलावर दरवाजा नौक करता है या आवाज देता है उसका जवाब ना दे. आवाज का जवाब उसी समय दे जब आप क पूरी तरह एकिन है की आवाज़ देने वाला कोई अपना आदमी है या सरकारी ऑफिसर है.
(iii)             फाइट(Fight): यह देखा गया  निहथे लोग भी अगर एक ग्रुप बना के किसी अच्छे शूटर को भी चारो और से चैलेंज कर दे तो ओ शूटर कितना भी प्रशिक्षित  क्यों न हो ओ लास्ट में वह से भाग ने की कोशिश करता है इसलिए अगर भागना और छुपने का आप्शन नहीं हो आपके पास और आपके साथ वाले भी लगता है की आपके साथ देंगे तो एक साथ उस हमलवार से अटैक कर देना चाहिए हो सकता है की इसमें किसी की जन भी जाये लेकिंग ऐसे करने से बहुतो को बचाया जा सकता है.
अभी का जो माहौल पूरी दुनिया में बन रहा है उसको देखते हुवे कुछ भी निश्चित तौर  पे नहीं कहा जा सकता है की कहा क्या हो सकता है इसलिए हमे बुरे से बुरे समस्या के लिए तैयार रहना चाहिए  क्यों  की  जानकारी ही बचाव है ! अगर आपको लगता है की इसमें कुछ और भी जोड़ा जाना चाहिए तो कमेंट बॉक्स में में सलाह लिखे जिससे की दुसरे लोग पढ़ कर जानकारी हासिल कर सके और इस तरह से आप दुसरे को मदद कर सकते है.और अगर आप इस पोस्ट को लाइक करते है तो कृपया शेयर करे www.twitter.com या google plus पे जिससे की दुसरे भी इसे पढ़ सके.

No comments:

Post a Comment

Addwith

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...